धनबाद : प्रिंसी चावला बनी रोल मॉडल, इ-रिक्‍शा से महिलाओं में भर रही हौसला

NewsCode Jharkhand | 13 March, 2018 5:21 PM
newscode-image

परिवार के साथ-साथ बाहरी जिम्‍मेदारी भी निभाती प्रिंसी

धनबाद।  इ-रिक्शा चलाने वाली पहली महिला प्रिंसी चावला आज महिलाओं के लिए मिशाल बन रही है। धनबाद की सड़कों पर इ-रिक्शा चलाने वाली प्रिंसी अपने मेहनत की बल पर घर और समाज को संभाल रही है। जी हां प्रिंसी भाड़े की इ-रिक्शा ड्राइव कर पैसेंजर को उनके गंतव्य स्थल तक पहुंचाती है। यही नहीं वह घर का सारा काम भी बखूबी निभाती है।

प्रिंसी चावला का कहना है कि आज कई क्षेत्रों में महिलायें आगे बढ़ रही है। सभी महिलाओं को अपने पैरों पर खड़ा होना चाहिए। प्रिंसी सिर्फ नौवीं तक पढ़ी है, उनके घर में पति और एक बेटी है। सुबह दस बजे घर का सारा काम निपटा कर वो घर से निकल जाती है और रात के नौ बजे तक घर भी आ जाती है। पति का भी पूरा सहयोग मिलता है।

जहां सरकार महिलाओं के सम्मान की बात करती है वहीं कई बार टाइगर जवानों के द्वारा उन्हें बेइज्जत भी किया जाता है। सड़कों पर रोक कर उन्हें टाइगर जवानों के दवारा बुरा भला भी कहा जाता है। वहीं प्रिंसी ने धनबाद के विधायक राज सिन्हा से मदद की गुहार लगाई है। अगर विधायक द्वारा उन्हें इ-रिक्शा दे दी जाती है तो वे अपने पैरों पर पूरी तरह से खड़ी हो जाएगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : तीन तलाक कानून से तीन साल सजा के प्रावधान को हटवायें केंद सरकार- आमया संगठन

NewsCode Jharkhand | 25 September, 2018 6:17 PM
newscode-image

रांची। मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक 2017 को बिना राज्यसभा से पारित कराये केन्द्रीय कैबिनेट और राष्ट्रपति के माध्यम से 20 सितंबर 2018 को अध्यादेश लाकर देश के 19 करोड़ मुसलमानों पर केन्द सरकार ने थोप दिया है। अध्यादेश में तीन तलाक को जघन्य अपराध मनाते हुए आईपीएस की धाराओं के तहत सजा देने का कानून बनाया गया है।

रांची : छात्र संघ चुनाव की अधिसूचना जारी करने की माँग को लेकर सौंपा ज्ञापन

कोई व्यक्ति एक साथ तीन तलाक बोलता है और उसकी पत्नी या परिवार के सदस्य पुलिस में शिकायत करते है तो तीन साल की सजा के साथ जेल हो जाएगा, जो कि असंवैधानिक है यह मामला सिविल कानून के तहत बननी चाहिए जिसमें ज्यादा से ज्यादा मुआवजा का प्रावधान रखा जाता।

वर्ष 2017 में  सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि तीन तलाक बोलने पर शादी नही टूटेगी, तो फिर किस आधार पर पति को तीन साल की जेल का प्रावधान रखा गया है पति के जेल जाने पर पत्नी और बच्चों का भरण-पोषण कैसे होगा क्या पत्नी पति के खिलाफ मुकदमें लड़ेगी। अध्यादेश देखकर ऐसा लगता है कि सरकार को मुस्लिम महिलाओं के प्रति दर्द कम और वोट पाने की चाहत ज्यादा है।

केन्द्र सरकार को मुस्लिम महिलाओं से हमदर्दी है तो मॉब लिंचिंग में 100 से अधिक लोगों की हत्याएँ देश में  हुई है सिर्फ झारखंड में ही 27 लोग मारे गये है उनकी विधवाएं और मां बहनों को इंसाफ नही मिल रहा है और ना ही मुआवाजा मिले, अपराधी खुलेआम घुम रहे है दोषियों को अदालतों में जमानत मिल जा रही है।

सरकार के ही मंत्री फूल माला और मिठाई नौकरी देने की बात कर रहे है, इसपर सरकार मुकदर्शक बनी हुई है जबकि मॉब लिंचिंग पर 17 जुलाई 2018 को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने केन्द्र सरकार को कानून बनाने का आदेश दिया है साथ ही कई महत्वपूर्ण निर्देश भी दिये है लेकिन केन्द्र सरकार ने मॉब लिंचिंग पर कानून बनाने की पहल अबतक नही हुई।

हम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और केन्द्र में विपक्षी दल के नेता और झारखंड के विपक्षी दल के नेता हेमंत सोरेन  से मांग करते है कि तीन तलाक़ कानून से तीन साल सजा के प्रावधान को हटवायें साथ ही धार्मिक संगठनों से मिलकर निकाहनामा फार्म में ही एक साथ तीन तलाक नही बोलने का नियम बनवाये।

यें बाते होटल केन मेन रोड रांची में आमया संगठन द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में संगठन की सचिव पूर्व छात्र नेत्री नाजिया तब्बसुम ने कहीं, प्रेस कांफ्रेंस में मॉब लिंचिंग में मारे गरे अलीमुद्दीन अंसारी की विधवा मरियम खातून, नाजनीन बानों, शमा प्रवीण, रिजवाना बेगम, कमरून निशा, उबैद खातून, आलिया, रुखसार, नरगिस , गजाला, गुलफशां, फरिदा नुसरत, अमरीन सबा थी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

चतरा : मिट्टी लदा हाईवा पल्टा, बाल-बाल बचे कई लोग

NewsCode Jharkhand | 25 September, 2018 6:53 PM
newscode-image

चतरा। ऊँटा से कान्हाचट्टी भाया तमासिन से पितिज निर्माणाधीन सड़क में मंगलवार को मिट्टी लदा हाईवा पलटने से कई लोग बाल-बाल बच गए। यह घटना मंगलवार की है। जानकारी के अनुसार निर्माणाधीन सड़क में यू एमएसएल कंपनी द्वारा लगाया गया।

हाईवा मिट्टी गिराने का कार्य कर रहा था। इस दौरान सड़क में कार्यरत मुंशी शहंशाह ने ड्राइवर से मिट्टी लदा हाईवा लेकर खुद चलाने लगा। परिणाम यह हुआ की बकचुंम्बा मोड़ स्थित इमली पेड़ के समीप अनियंत्रित होकर हाईवा पलटी हो गया।

चतरा : सिविल सर्जन ने अस्पताल में चलाया स्वच्छता अभियान

इधर जंगल में मवेशी चरा रहे तकरीबन आधे दर्जन लोग इमली पेड़ के समीप बैठे हुए थे कि अचानक हाईवा ठीक उनके समीप जाकर पलटी हो गई। हालांकि इस घटना में पशु चरवाहे बाल-बाल बच गए। जबकि दो पशुओं को गंभीर चोटे आई है। इसके अलावा हाईवा में सवार ड्राइवर व खलासी भी सुरक्षित बच गए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

धनबाद : अवैध तंबाकू दुकानों पर छापेमारी, दो हिरासत में

NewsCode Jharkhand | 25 September, 2018 6:48 PM
newscode-image

धनबाद। स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को स्टेशन रोड में चल रहे अवैध तंबाकू दुकानों पर छापेमारी की। इस दौरान सिगरेट का कश लगाते दो रेल कर्मचारी हिरासत में लिए गए।

धनबाद : रिश्वत नहीं देने पर प्रधानमंत्री आवास योजना के सर्वे पर लगी रोक

बताते चलें कि स्वास्थ्य विभाग को स्‍टेशन रोड इलाके में अवैध तंबाकू दुकानों की सूचना मिली थी। उसके बाद ही छापेमारी की गई।

छापेमारी के वक्‍त स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारी, बीडीओ व पुलिस मौजूद थी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

चतरा : सिविल सर्जन ने अस्पताल में चलाया स्वच्छता अभियान

more-story-image

सरायकेला : ऑटो क्लस्टर सीईओ के लिए दस आवेदकों से...