धनबाद : प्रशासन ने उम्मीदों को रौंदा, ग्रामीणों ने पहाड़ चीरकर बना दी सड़क

NewsCode Jharkhand | 10 May, 2018 8:05 PM
newscode-image

गांववालों के जज्बे से पूरा परिदृश्य बदला

धनबाद। बार- बार गुहार… बार-बार आश्वासन… लेकिन परिणाम सिफर। जब प्रशासन ने ग्रामीणों की उम्मीदों को तोड़ दिया तो वे उठ खड़े हुए। तय किया कि खुद पहाड़ से टकरायेंगे और उसका सीना चीरकर रास्ता निकालेंगे। ये आसान नहीं था। लेकिन जब जज्बा हिलोरें मारने लगे तो असंभव सा काम भी संभव हो जाता है। ऐसा कर दिखाया है भेलवाबेड़ा टोला के लोगों ने।

हाथों में टोकरी, बेलचा, डलिया लिए क्या बच्चे क्या बुजुर्ग सब रास्ते बनाने के लिए निकल पड़े। मन में एक ही लगन, पहाड़ का सीना चीरकर सड़क बनानी है। तभी तो गांव में विकास की बयार आएगी। उनको घर नसीब होगा। गांव में बीमारी से अब कोई नहीं मरेगा। उसे इलाज मिल जाएगा। जी हां, भेलवाबेड़ा टोला के ग्रामीण इन दिनों सड़क बनाने में जुटे हैं।

पहाड़ी इलाके से गुजरती है सड़क

 

पश्चिमी टुंडी के पहाड़ों के बीच नक्सल प्रभावित मछियारा पंचायत के बाघमारा गांव से टोला तक सड़क बन रही है। प्रशासन तंत्र ने जब टोले की उम्मीदों को रौंद दिया तो गांववालों ने अपना हाथ, जय जगन्नाथ की तर्ज पर खुद ही सड़क बनाने की ठान ली। ग्रामीणों ने हिम्मत और जज्बे से करीब नब्बे प्रतिशत सड़क बना ली है। कुछ दिनों में इस पर गाड़ियां भी दौड़ने लगेगी।

जमशेदपुर : स्कूल विलय के विरोध में ग्रामीणों ने जताया आक्रोश, बच्चे नहीं जाएंगे स्कूल

43 जनजातीय परिवार रहते हैं यहां

दरअसल भेलवाबेड़ा टोला के ग्रामीण बेहद परेशान थे। सड़क न होने से गांव का विकास अवरुद्ध था। टोले के शिवलाल मुर्मू, रवींद्र मरांडी, करम चंद मुर्मू, सुकुरमनी मंझियाइन, प्रमिला ने बताया कि बाघमारा गांव का भेलवाबेड़ा टोला प्रखंड मुख्यालय से आठ किलोमीटर दूर है। बाघमारा गांव से भेलवाबेड़ा टोला करीब दो किलोमीटर है। दो किलोमीटर का यह इलाका पहाड़ी क्षेत्र है। इस बीहड़ में केवल आदिवासी जनजाति समुदाय के लोग रहते हैं। आबादी करीब 300 के आसपास है। कुल 43 जनजातीय परिवार यहां रहते हैं। पर इलाके में सड़क नहीं होने के कारण ग्रामीण हमेशा से पगडंडी से आवाजाही करते हैं।

इलाज के अभाव में मरा, सड़क बनाने की ठानी

गत माह गांव के छुटूलाल हांसदा की मौत हो गई। उसे एंबुलेंस की जगह खाट पर इलाज के लिए ले जाया जा रहा था। पर वक्त रहते वह अस्पताल नहीं पहुंच सका। उसकी मौत रास्ते में हो गई। तब गांव के लोगों ने सड़क बनाने की ठान ली। ग्रामीणों के जज्बे का अंदाज इस बात से लग सकता है कि गांव के प्रकाश और राहुल समेत कई बच्चे भी पूरी शिद्दत से इस काम में जुटे हैं।

सड़क नहीं होने की वजह से घर नहीं बन रहा

घरौंदा टुंडी प्रखंड में देश की आजादी के पहली बार एक साथ 24 ग्रामीणों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास निर्माण की स्वीकृति मिली है। आवास निर्माण के लिए जरूरी सामग्री लाने में परेशानी हो रही थी। प्रखंड कार्यालय से लाभुकों को बार.बार नोटिस मिल रहा था। जल्द मकान बनवाएं। तब ग्रामीणों ने जिद ठान ली।

सड़क बनाकर रहेंगे। मेहनत रंग लाई। अब सड़क आकार ले रही है। ग्रामीणों ने बताया कि यह इलाका वन क्षेत्र में आता है। वहां के अधिकारियों ने भी सड़क निर्माण पर ध्यान नहीं दिया। वही जिप सदस्य रायमुनी देवी ने कहा की ग्रामीणों के श्रम दान से सड़क का निर्माण हो रहा है । उनका ये जज्बा सराहनीय है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

चांडिल : घायल को झावियुमो प्रखंड उपाध्यक्ष ने पहुँचाया अस्पताल

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 9:53 PM
newscode-image

चांडिल। ईचागढ़ प्रखंड के खीरी-बामुनडीह निवासी करमचंद महतो शुक्रवार करीब 5 बजे अपने हीरो मोटर साइकिल से अपना ससुराल दियादिह जा रहा था, उसी समय खोकरो के समीप खराब रोड के कारण जमीन पर गिर कर गम्भीर चोट लगी।

इसकी सूचना मिलते ही झावियुमो प्रखंड उपाध्यक्ष पिंटू महतो ने ईचागढ़ स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया जहाँ घायल करमचंद महतो का प्राथमिक उपचार होने के बाद एमजीएम रेफर कर दिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

राफेल सौदे पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति का सनसनीखेज खुलासा, कहा- मोदी सरकार ने दिया था रिलायंस का नाम

NewsCode | 21 September, 2018 11:08 PM
newscode-image

नई दिल्ली। देश में राफेल डील पर छिड़ी सियासी समर के बीच एक नया मोड़ आ गया है। भारत और फ्रांस सरकार के बीच हुए डील में अनिल अंबानी की कंपनी को भागीदार बनाने पर कांग्रेस लगातार सवाल उठाती रही है, और अब एक नए खुलासे ने विवाद को फिर से हवा दे दी है। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने कहा है कि राफेल सौदे के लिए भारत सरकार ने अनिल अंबानी की रिलायंस का नाम प्रस्तावित किया था और दैसॉ एविएशन कंपनी के पास दूसरा विकल्प नहीं था। फ्रांस की एक पत्रिका में छपे इंटरव्यू के मुताबिक ओलांद ने कहा कि भारत सरकार की तरफ से ही रिलायंस का नाम दिया गया था। इसे चुनने में दैसॉ एविएशन की भूमिका नहीं है।

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अनिल अंबानी को राफेल डील में शामिल किए जाने पर लगातार केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लगातार सवाल पूछते रहे हैं। एक फ्रेंच वेबसाइट ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के हवाले से लिखा है कि भारत सरकार की तरफ से ही रिलायंस का नाम दिया गया था। इसे चुनने में दसॉ की भूमिका नहीं है। पूरा विवाद फ्रेंच न्यूज वेबसाइट मीडियापार्ट में शुक्रवार को छपे लेख के बाद आया। फ्रेंच भाषा में छपे इस लेख में राफेल डील को लेकर नए खुलासा किया गया।

बढ़ते विवाद पर रक्षा मंत्रालय ने भी ट्वीट करते हुए सफाई दी है। उसकी ओर से कहा गया है कि व्यवसायिक मामले में भारत सरकार की कोई भूमिका नहीं है। पार्टनर चुनने में न भारत सरकार की कोई भूमिका है और न फ्रेंच सरकार की।

केजरीवाल ने पूछा – अनिल अंबानी से प्रधानमंत्री जी का क्या रिश्ता?

रक्षा मंत्रालय की सफाई पर दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने सवाल दागते हुए लिखा है कि प्रधान मंत्री जी सच बोलिए। देश सच जानना चाहता है। पूरा सच। रोज़ भारत सरकार के बयान झूठे साबित हो रहे हैं। लोगों को अब यक़ीन होने लगा है कि कुछ बहुत ही बड़ी गड़बड़ हुई है, वरना भारत सरकार रोज़ एक के बाद एक झूठ क्यों बोलेगी?

एक अन्य ट्वीट में केजरीवाल ने कहा है कि राफेल डील के अहम तथ्यों को छुपाकर मोदी सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में नहीं डाल रही ? फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के खुलासे से मोदी सरकार के सारे कथन विरोधाभासी साबित होते हैं। क्या देश को और भी गुमराह किया जा सकता है ?

PM ने धोखा दिया- राहुल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस खुलासे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए ट्वीट किया, ‘प्रधानमंत्री ने बंद दरवाजे के पीछे निजी तौर राफेल डील पर बात की और इसमें बदलाव कराया। फ्रांस्वा ओलांद को धन्यवाद, हम अब जानते हैं कि उन्होंने दिवालिया हो चुके अनिल अंबानी के लिए बिलियन डॉलर्स की डील कराई। प्रधानमंत्री ने देश को धोखा दिया है। उन्होंने हमारे सैनिकों की शहादत का अपमान किया है।’

दूसरी ओर, कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने इस लेख को रीट्वीट करते हुए ओलांद से डील की कीमत बताने का आग्रह करते हुए कहा, ‘आप यह भी बताएं कि राफेल की 2012 में 590 करोड़ रुपए की कीमत 2015 में 1690 करोड़ कैसे हो गई। करीब-करीब 1100 करोड़ की वृद्धि। मैं जानता हूं कि यूरो की वजह से यह कैलकुलेशन की दिक्कत नहीं है।’

वहीं फ्रेंच भाषा में लिखे लेख को पढ़ने के लिए गूगल ट्रांसलेशन का सहारा लेने के बीच नई दिल्ली में फ्रेंच अखबार ल मॉन्द के दक्षिण एशियाई पत्रकार जुलियन वोयूसो ने ट्वीट करते हुए लोगों को हिदायत दी है कि यह फ्रेंच भाषा में लिखा गया लेख है और इसे गूगल ट्रांसलेशन पर अनुवाद न किया जाए।

उन्होंने इस रिपोर्ट को ट्रांसलेट करते हुए ट्वीट किया कि फ्रांस्वा ओलांद ने भारतीय सरकार के बयान का खंडन किया है। ओलांद के मुताबिक, अनिल अंबानी (रिलायंस डिफेंस) को दसॉ ने नहीं चुना था: ‘हमारे पास विकल्प नहीं था। हमने उसी को अपना पार्टनर चुना जो हमें दिया गया।’

इससे पहले हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के पूर्व प्रमुख टी एस राजू की ओर से राफेल डील को लेकर किए गए दावों के बाद कांग्रेस ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से इस्तीफा मांगा था। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी के मुताबिक रक्षा मंत्री ने बुधवार को जो बयान दिया वो बहुत परेशान करने वाला है।

साथ ही कांग्रेस प्रवक्ता ने सरकार से सभी फाइलों को सार्वजनिक करने की मांग की। कांग्रेस राफेल मामले की संयुक्त संसदीय समिति से जांच कराने की मांग पहले ही कर चुकी है। इस मामले में कांग्रेस CAG का दरवाजा खटखटा चुकी है और अब इसे CVC तक भी ले जाने वाली है। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस संदर्भ में ट्वीट कर निर्मला पर ‘झूठ बोलने’ का आरोप लगाया था।


राफेल, एनपीए के मुद्दे पर अरुण जेटली का पलटवार, राहुल गांधी को बताया ‘मूर्ख राजकुमार’

राहुल ने रक्षा मंत्री को बताया ‘राफेल मंत्री’, बोले- झूठ आया सामने, इस्तीफा दें

राफेल सौदे पर मोदी सरकार को घेरने में जुटी कांग्रेस, CAG में शिकायत लेकर पहुंची

कांग्रेस का दावा- अडानी ने किया 29 हजार करोड़ का कोयला घोटाला, सिंगापुर में मौजूद हैं सबूत

पीएम मोदी पर फिर हमलावर हुए राहुल गांधी, कहा- अगले कुछ हफ्तों में बड़े बम गिराने वाला है राफेल

हजारीबाग : आरंभ वैक्वेंट में शराब के नशे में चाकूबाजी, एसपी का बॉडीगार्ड निलंबित

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 10:10 PM
newscode-image

हजारीबाग। नेशनल हाईवे पर स्थित आरंभ वैंंक्वेट रिसोर्ट में गुरूवार की रात आयोजित आर्केस्ट्रा पार्टी में हंगामा हो गया। पार्टी के दौरान शराब के नशे में हुई मार-पीट और चाकूबाजी की घटना में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। मार-पीट करने का आरोप एसपी कोठी के गार्ड नितेश कुमार सिंह व होटल संचालक प्रफुल्ल सिंह व उसके भाई पर लगा है। इस बाबत फर्द बयान के आधार पर लोहसिंघना थाने में प्राथमिकी दर्ज करने की कवायद की गयी थी। फर्द बयान में होटल संचालक प्रफुल्ल सिंह ने हंटरगंज चतरा के मंटू सिंह नामक व्यक्ति द्वारा होटल आर्केस्ट्रा के लिए बुक कराने की बात कही।

हजारीबाग : आरंभ वैक्वेंट में शराब के नशे में चाकूबाजी, एसपी का बॉडीगार्ड निलंबित

इस दौरान वहां बार गर्ल से डांस भी करवाया गया। डीजे बंद कराने को लेकर अहले सुबह उसके भाई और स्वयं के साथ एसपी के बॉडीगार्ड ने मारपीट की। वही एसपी कोठी का गार्ड नितेश कुमार सिंह ने अपने फर्द बयान में होटल संचालक द्वारा पार्टी के नाम पर रात करीब साढ़े नो बजे फोन कर बुलाने की बात कहीं गई। इस दौरान पार्टी में शराब पीने को लेकर उसके साथ प्रफुल्ल सिंह, उसका भाई पुष्कल सिंह व उनके कर्मियों ने चाकू, रड व छोलनी से हमला कर दिया। हजारीबाग सदर डीएसपी मंगल सिंह जामुदा के अनुसार SP के बॉडीगार्ड नितेश सिंह को निलंबित कर दिया गया है। मामले की गहन जांच की जा रही है।

कटकमसांडी : गगनचुंबी आलम और रंग-बिरंगे ताजिया ने लोगों को किया आकर्षित

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

चाईबासा : राज्य सरकार ने हाईटेक प्रखंड कार्यालय का शुरू...

more-story-image

गिरिडीह : चोरों ने किराने दुकान पर किया हाथ साफ़,...