धनबाद : प्रशासन ने उम्मीदों को रौंदा, ग्रामीणों ने पहाड़ चीरकर बना दी सड़क

newscode-image

गांववालों के जज्बे से पूरा परिदृश्य बदला

धनबाद। बार- बार गुहार… बार-बार आश्वासन… लेकिन परिणाम सिफर। जब प्रशासन ने ग्रामीणों की उम्मीदों को तोड़ दिया तो वे उठ खड़े हुए। तय किया कि खुद पहाड़ से टकरायेंगे और उसका सीना चीरकर रास्ता निकालेंगे। ये आसान नहीं था। लेकिन जब जज्बा हिलोरें मारने लगे तो असंभव सा काम भी संभव हो जाता है। ऐसा कर दिखाया है भेलवाबेड़ा टोला के लोगों ने।

हाथों में टोकरी, बेलचा, डलिया लिए क्या बच्चे क्या बुजुर्ग सब रास्ते बनाने के लिए निकल पड़े। मन में एक ही लगन, पहाड़ का सीना चीरकर सड़क बनानी है। तभी तो गांव में विकास की बयार आएगी। उनको घर नसीब होगा। गांव में बीमारी से अब कोई नहीं मरेगा। उसे इलाज मिल जाएगा। जी हां, भेलवाबेड़ा टोला के ग्रामीण इन दिनों सड़क बनाने में जुटे हैं।

पहाड़ी इलाके से गुजरती है सड़क

 

पश्चिमी टुंडी के पहाड़ों के बीच नक्सल प्रभावित मछियारा पंचायत के बाघमारा गांव से टोला तक सड़क बन रही है। प्रशासन तंत्र ने जब टोले की उम्मीदों को रौंद दिया तो गांववालों ने अपना हाथ, जय जगन्नाथ की तर्ज पर खुद ही सड़क बनाने की ठान ली। ग्रामीणों ने हिम्मत और जज्बे से करीब नब्बे प्रतिशत सड़क बना ली है। कुछ दिनों में इस पर गाड़ियां भी दौड़ने लगेगी।

जमशेदपुर : स्कूल विलय के विरोध में ग्रामीणों ने जताया आक्रोश, बच्चे नहीं जाएंगे स्कूल

43 जनजातीय परिवार रहते हैं यहां

दरअसल भेलवाबेड़ा टोला के ग्रामीण बेहद परेशान थे। सड़क न होने से गांव का विकास अवरुद्ध था। टोले के शिवलाल मुर्मू, रवींद्र मरांडी, करम चंद मुर्मू, सुकुरमनी मंझियाइन, प्रमिला ने बताया कि बाघमारा गांव का भेलवाबेड़ा टोला प्रखंड मुख्यालय से आठ किलोमीटर दूर है। बाघमारा गांव से भेलवाबेड़ा टोला करीब दो किलोमीटर है। दो किलोमीटर का यह इलाका पहाड़ी क्षेत्र है। इस बीहड़ में केवल आदिवासी जनजाति समुदाय के लोग रहते हैं। आबादी करीब 300 के आसपास है। कुल 43 जनजातीय परिवार यहां रहते हैं। पर इलाके में सड़क नहीं होने के कारण ग्रामीण हमेशा से पगडंडी से आवाजाही करते हैं।

इलाज के अभाव में मरा, सड़क बनाने की ठानी

गत माह गांव के छुटूलाल हांसदा की मौत हो गई। उसे एंबुलेंस की जगह खाट पर इलाज के लिए ले जाया जा रहा था। पर वक्त रहते वह अस्पताल नहीं पहुंच सका। उसकी मौत रास्ते में हो गई। तब गांव के लोगों ने सड़क बनाने की ठान ली। ग्रामीणों के जज्बे का अंदाज इस बात से लग सकता है कि गांव के प्रकाश और राहुल समेत कई बच्चे भी पूरी शिद्दत से इस काम में जुटे हैं।

सड़क नहीं होने की वजह से घर नहीं बन रहा

घरौंदा टुंडी प्रखंड में देश की आजादी के पहली बार एक साथ 24 ग्रामीणों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास निर्माण की स्वीकृति मिली है। आवास निर्माण के लिए जरूरी सामग्री लाने में परेशानी हो रही थी। प्रखंड कार्यालय से लाभुकों को बार.बार नोटिस मिल रहा था। जल्द मकान बनवाएं। तब ग्रामीणों ने जिद ठान ली।

सड़क बनाकर रहेंगे। मेहनत रंग लाई। अब सड़क आकार ले रही है। ग्रामीणों ने बताया कि यह इलाका वन क्षेत्र में आता है। वहां के अधिकारियों ने भी सड़क निर्माण पर ध्यान नहीं दिया। वही जिप सदस्य रायमुनी देवी ने कहा की ग्रामीणों के श्रम दान से सड़क का निर्माण हो रहा है । उनका ये जज्बा सराहनीय है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी होंगे मुख्य अतिथि

newscode-image

राज्य में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर गैर सरकारी संगठनों और योग संस्थानों द्वारा विशेष आयोजन

रांची। 21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर राजधानी रांची समेत राज्यभर में विशेष आयोजन का फैसला किया गया है। राजधानी रांची के धुर्वा स्थित प्रभात तारा मैदान में योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय अल्पसंख्यक मामले के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी मुख्य अतिथि हांगे। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी करेंगे। जबकि विशिष्ट अतिथि के रुप में मंत्री सीपी सिंह और सांसद रामटहल चौधरी उपस्थित रहेंगे।

रांची समेत राज्य भर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर योग के बारे में जागरुकता लाने के लिए गैर सरकारी संगठनों और योग संस्थानों द्वारा विशेष आयोजन किये जा रहे हैं। पूर्वी सिंहभूम जिले के उपायुक्त अमित कुमार ने कहा कि जिला स्तरीय मुख्य समारोह का आयोजन गोपाल मैदान बिष्टुपुर में प्रातः 6:30 बजे से 7:30 बजे तक निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार किया जाएगा, जिसमें 4000 से अधिक लोगों के शामिल होंगे।

रांची : अब से ऑनलाइन चेक पोस्ट के जरिये कटेंगे चालान

उन्होंने कहा कि अनुमंडल स्तर तथा प्रखंड और पंचायत स्तर पर अलग से आयोजन करने का निर्देश दिया गया है। विभिन्न औद्योगिक घरानों द्वारा अपने अपने प्रतिष्ठानों में योग दिवस का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिला स्तरीय मुख्य आयोजन में चार हजार से अधिक छात्र-छात्राएं, एनएसएस, नेहरु युवा केंद्र, सिविल डिफेंस, रेडक्रॉस तथा समाज के सभी वर्गों के लोग शामिल होंगे। 50 मिनट के योगाभ्यास प्रोटोकॉल के तहत किए जाएंगे।

उपायुक्त ने कहा कि चेंबर ऑफ कॉमर्स भवन में लोगों को योगासन की सही मुद्राओं की जानकारी देने के लिए योग प्रशिक्षकों की सहायता प्राप्त करते हुए योग दिवस के पूर्व प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है। व्यवस्थाओं के सफल कार्यान्वयन के लिए जिले के उप विकास आयुक्त की अध्यक्षता में जिला स्तरीय समिति का गठन किया गया है। जबकि व्यापक प्रचार-प्रसार के होर्डिंग, पोस्टर, एलईडी वैन और वीडियो क्लिप तथा माइकिंग के माध्यम से जन जागरुकता का कार्यक्रम लगातार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के संबोधन को गोपाल मैदान में टेलीकास्ट करने की व्यवस्था की जाएगी ताकि उनके संबोधन को आम जन-जन तक पहुंचाने का कार्य हो सके।

रांची : बालू निकालने का काम ट्राइबल ड्रीम व अन्य सोसायटी को मिलेगा- सीएम

उपराजधानी दुमका, धनबाद, बोकारो, हजारीबाग, देवघर, गुमला, लोहरदगा, पलामू, चतरा, चाईबासा, खूंटी, सिमडेगा समेत अन्य जिलों में भी योग दिवस को लेकर व्यापक तैयारियां की गयी है। सिमडेगा के उपायुक्त जटाशंकर चौधरी ने बताया कि योग दिवस पर जिले में एक लाख लोग एक साथ योग कर रिकॉर्ड बनाएंगे।

गौरतलब है कि 11दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 177 देशों ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि हमारी बदलती जीवन शैली में योग चेतना बनकर जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद कर सकता है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

तमिलनाडु की अनुकृति वास बनीं मिस इंडिया 2018, फाइनल में पूछे गए थे ये सवाल

newscode-image

नई दिल्ली। तमिलनाडु की रहने वाली 19 वर्षीय अनुकृति वास ने ‘फेमिना मिस इंडिया 2018’ का खिताब अपने नाम कर लिया है। कॉलेज में पढ़ाई कर रहीं अनुकृति वास ने 29 प्रतिभागियों को हराकर मिस इंडिया का ताज अपने नाम किया है।

मुंबई में हुए इस प्रतियोगिता को करण जौहर और आयुष्मान खुराना ने होस्ट किया। इस इवेंट के जज पैनल में बॉलीवुड एक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा, अभिनेता बॉबी देओल, कुनाल कपूर, क्रिकेटर इरफान पठान और के.एल राहुल शामिल थे। इनके अलावा साल 2017 में मिस वर्ल्ड रहीं मानुषी छिल्लर भी यहां मौजूद थीं। मानुषी ने ही अनुकृति को ताज पहनाया।

विश्व सुंदरी के लिए ‘चिल्लर’ लिखकर बुरे फंसे शशि थरूर 

मिस इंडिया दिल्ली गायत्री भारद्वाज, मिस इंडिया हरियाणा मीनाक्षी चौधरी, मिस इंडिया झारखंड स्टेफी पटेल, मिस इंडिया तमिलनाडु अनुकृति वास और मिस इंडिया आंध्र प्रदेश श्रेया राव इस प्रतियोगिता के टॉप-5 कंटेस्टेंट बने। दिल्ली, हरियाणा, झारखंड और आंध्र प्रदेश की कंटेस्टेंट को हराकर तमिलनाडु की अनुकृति के सिर मिस इंडिया का ताज सजा। बता दें, मीनाक्षी चौधरी फर्स्ट रनर-अप और आंध्र प्रदेश की रहने वाली श्रेया राव सेंकड रनर-अप रहीं।

TOP 5 of @fbb_india @ColorsTV @feminamissindia 2018 finale

Gayatri Bhardwaj – Miss India Delhi
Meenakshi Chaudhary – Miss India Haryana
Stefy Patel – Miss India Jharkhand
Anukreethy Vas – Miss India Tamil Nadu
Shreya Rao Kamavarapu – Miss India Andhra Pradesh #MissIndiaFinale pic.twitter.com/BaN0pbshzH

— Miss India (@feminamissindia) June 19, 2018

अनुकृति ने उस सवाल का सबसे स्‍मार्ट जवाब दिया, जिसने उन्‍हें देश की सबसे खूबसूरत युवती बना दिया। अनुकृति से फाइनल राउंड में पूछा गया था, “कौन बेहतर टीचर है? सफलता या असफलता?” अनुकृति ने जवाब में कहा- “मैं असफलता को बेहतर टीचर मानती हूं। क्‍योंकि जब आपको जिंदगी में लगातार सफलता मिलती है तो आप उसे पर्याप्‍त मान लेते हैं और आपकी तरक्‍की वहीं रुक जाती है।” लेकिन जब आप असफल होते हो तो तो आपको प्रेरणा मिलती है कि आप सफलता मिलने तक लगातार मेहनत करते रहें।”

अनुकृति ने कहा, “मेरी मां के अलावा कोई नहीं था, जो मेरे समर्थन में खड़ा हो, आलोचना और असफलता, जिसने मुझे इस समाज आत्‍मविश्‍वासी और स्‍वतंत्र बनाया।”

कौन हैं और क्या करती हैं अनुकृति ?

चेन्नई के लोयोला कॉलेज में पढ़ने वाली 19 साल की अनुकृति वास ख़ुद को एक सामान्य लड़की बताती हैं जिसे घूमना और डांस करना पसंद है।

अनुकृति अपने एक वीडियो में कहती हैं, “मैं तमिलनाडु के शहर त्रिची में पली-बढ़ी हूं जहां पर लड़कियों की ज़िंदगी बंधी हुई होती है। आप छह बजे के बाद घर से बाहर नहीं जा सकते। मैं इस माहौल के पूरी तरह ख़िलाफ़ हूं। मैं ये स्टीरियोटाइप तोड़ना चाहती थी। इसीलिए, मैंने मिस इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा लेने का फ़ैसला किया। अब मैं जब यहां पहुंच चुकी हूं तो मैं कहना चाहती हूं कि आप लोग भी उस क़ैद को तोड़कर बाहर निकल आएं और वहां पहुंचें जहां पर आप पहुंचना चाहते हैं।”

हिमाचल प्रदेश घूमने का सपना

अनुकृति इस समय लोयोला कॉलेज से बीए सेकेंड ईयर में हैं और फ्रेंच साहित्य की पढ़ाई कर रही हैं। ख़ुद को एथलीट बताते हुए अनुकृति कहती हैं, “मुझे कभी भी दुनिया घूमने और उसे देखने का मौका नहीं मिला। लेकिन अगर मुझे ऐसा मौका मिला तो आप निश्चित रूप से मुझे घर में नहीं देखेंगे क्योंकि मैं एडवेंचर और घूमना इतना पसंद करती हूं।”

फैमिना मिस इंडिया 2018 के फिनाले में माधुरी दीक्षित, करीना कपूर खान और जैकलीन फर्नांडिस ने अपनी शानदार डांस परफॉर्मेंस दी। बता दें कि अनुकृति वास इस साल मिस यूनिवर्स कम्पिटिशन में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी।

अभी बॉलीवुड नहीं बल्कि इस काम पर फोकस करना चाहती हैं मानुषी

‘धड़क’ का टाइटल ट्रैक हुआ रिलीज़, जाह्नवी और ईशान के इस गाने में प्यार के कई रंग

‘धड़क’ का टाइटल ट्रैक हुआ रिलीज़, जाह्नवी और ईशान के इस गाने में प्यार के कई रंग

newscode-image

नई दिल्ली। श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी कपूर और ईशान खट्टर की फिल्म धड़क का टाइटल ट्रैक रिलीज़ कर दिया गया है, जिसमें बॉलीवुड की क्यारी में उग रही नई पौध का ये इश्क इस गाने में परवान चढ़ रहा है। फिल्‍म के ट्रेलर में जाह्नवी कूपर और ईशान खट्टर एक फ्रेश जोड़ी हैं और ट्रेलर के बाद लोगों को इस फिल्‍म से खासी उम्‍मीद बढ़ गई है।

इस गाने का संगीत अजय-अतुल ने कंपोज किया है। इस संगीतकार जोड़ी ने ही मराठी फिल्‍म सैराट के गानों को कंपोज किया था। इस गाने को गाया है श्रेया घोषाल और अजय गोगावाले ने और इसे गाया है अमिताभ भट्टाचार्य ने। ‘धड़क’ का यह नया गाना पूरी तरह नई कंपोजीशन है और एक रोमांटिक गाना है। यह गाना जाह्नवी और ईशान के बीच मासूम प्‍यार को दर्शाता है। आप भी देखें फिल्‍म ‘धड़क’ का यह टाइटल ट्रैक।

कैंसर से जंग लड़ रहे इरफान खान ने बयान किया अपना दर्द, लिखा- ‘मुझे नहीं पता मेरे पास कितना समय है, लेकिन…’

बता दें कि ‘धड़क’ का निर्देशन शशांक खेतान ने किया है। इस फिल्‍म के ट्रेलर के रिलीज के मौके पर जाह्नवी ने बताया कि खुद श्रीदेवी भी ‘सैराट’ जैसी फिल्‍म करना चाहती थी। यह फिल्‍म 20 जुलाई को रिलीज होने वाली है।

देखें वीडियो:

झांसी की रानी को कंगना का सलाम, सामने आया ‘मणिकर्णिका’ का फर्स्ट लुक

More Story

more-story-image

बोकारो : नावाडीह में योग दिवस मनाने को लेकर की...

more-story-image

बेरमो : बाहरी की उपेक्षा स्‍थानीय बेरोजगारों के लिए रोजगार...