धनबाद : गांव की बदहाल विद्युत-व्यवस्था जैसी शहर का हाल, ऊर्जा सचिव को लिखा गया पत्र

NewsCode Jharkhand | 11 October, 2017 9:25 PM
newscode-image

धनबाद। कोयला नगरी धनबाद में चरमराई बिजली व्यवस्था से जनता परेशान हो चुकी है। देश को रौशन करने वाले कोयला राजधानी आज खुद अंधकार के आगोश में है।

स्थिति यह है कि शहर बिजली के नाम पर किसी पिछड़े गांव की कहानी बयां करता है। संसाधन की कमी का रोना, मानव संसाधन की किल्लत, सरकारी उदासीनता आदि इस समस्या के जड़ में है। इस बाबत झारखण्ड इंडस्ट्रीज एंड ट्रेड एसोसिएशन के महासचिव, धनबाद जिला चेम्बर आफ कामर्स के भूतपूर्व अध्यक्ष राजीव शर्मा ने झारखंड सरकार के ऊर्जा सचिव को पत्र लिखा है।

डा नितिन मदन कुलकर्णी के नाम से प्रेषित पत्र में राजीश शर्मा ने लिखा है कि “धनबाद जिला को भारत की कोयला राजधानी होने का गौरव प्राप्त है तथा भारत के बड़े हिस्से को रौशन बनाये रखने में अपना अहम योगदान रखता है। परंतु दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि धनबाद जिले में विद्युतापूर्ति की स्थिति पूरी तरह से चरमरा गयी है। हालात इतने अधिक बिगड़ गए हैं कि लगभग ब्लैक-आउट की स्थिति हो गयी है। उपभोक्ताओं की स्थिति दयनीय होती जा रही है। व्यवसायिक क्षेत्रों में कार्य के समय बिजली की आंख-मिचौली चलती रहती है। औद्योगिक क्षेत्रों में लगातार शट डाउन के कारण उत्पादन के साथ-साथ उत्पादन करने वाली मशीनें भी ठप्‍प हो जा रही हैं और सम्पूर्ण भार विद्युत की वैकल्पिक व्यवस्था जनरेटर आदि पर पड़ता है। इससे उत्पादन लागत बढ़ जाती है और यहाँ के उत्पादों की गुणवत्ता एवं मूल्य भी प्रभावित होता है, जिससे उद्योगों के बंद होने की सम्भावना बढ़ जाती है। एक तरफ सम्पूर्ण झारखण्ड सरकार उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए जोर-शोर से लगी है, वहीं दूसरी ओर धनबाद में विद्युत विभाग धनबाद विद्युत वितरण में असफल साबित हो रहा है।”

पड़ोसी राज्य बिहार का उदाहरण देते हुए जीटा महासचिव ने लिखा है कि, “बिहार जैसे राज्य जहां 5 वर्षों पूर्व 2-4 घंटे बिजली रहती थी आज उस राज्य में 22-24 घंटे बिजली मिल रही है, जबकि बिहार पूरी तरह से बिजली की खरीद पर ही आधारित है। इधर, झारखण्ड में कोयला एवं ताप विद्युतघर भी उपलब्ध हैं और यहां से उत्पादित बिजली देश के अन्य हिस्सों को रोशन कर रही है।”

उन्होंने आगे लिखा है कि, “आज तो हालात और भी विकट हैं। धनबाद जिले की विद्युत व्यवस्था की स्थिति को जानने के लिए सोशल मीडिया पर सिर्फ इतना ही लिखने की देर थी कि किन-किन क्षेत्रों में बिजली नहीं है, तो कमेंट की बाढ़ सी आ गयी। ऐसा कोई इलाका नहीं जहाँ बिजली हो।”

चूंकि, नीतीन कुलकर्णी 2002-03 में धनबाद के उपायुक्त पद को सुशोभित कर चुके हैं, इसलिए पूर्व चेम्बर अध्यक्ष लिखते हैं कि, “आप धनबाद की समस्याओं से पूर्व से अवगत हैं और यहां की विद्युत समस्याओं को सुलझाने के लिए प्रयासरत हैं। इस विषय में हम आपको धनबाद की तमाम व्यावसायिक एवं औद्योगिक संस्थाओं की ओर से आमंत्रित करते हैं, जिससे यहां की विद्युत समस्याओं को जानने एवं इसके स्थाई निदान हेतु एक रूपरेखा तैयार की जा सके।

सरिया : आंगनबाड़ी केंद्रों में मिला सड़ा अंडा, अभिभावकों ने काटा बवाल

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 9:27 PM
newscode-image

सरिया (गिरिडीह)। सरिया प्रखंड के विभिन्न आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों के बीच सोमवार को सड़ा हुआ अंडा मिलने मिला इसकी सूचना मिलने पर कई अभिभावक केन्द्रों में पहुँचे और लचर व्यवस्था के विरोध में जमकर हंगामा किया।  बताया जाता है कि बाल विकास परियोजना विभाग द्वारा बच्चों के बीच पोषाहार के रूप में अण्डा परोसा जाना है।

इसके तहत सोमवार को सरिया प्रखंड के आंगनबाड़ी केंद्रों में अण्डा वितरण की व्यवस्था की गई। जहाँ उपस्थित पोषण सखी तथा आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका-सहायिका द्वारा उसे उबाला जाने लगा। इस क्रम में सड़े हुए अंडे फूट गए। वहीं दुर्गंध सी आने लगी। जिसकी सूचना पर विभिन्न केन्द्रों पर महिलाओं ने हंगामा किया। बाद में पोषण सखियों व सेविकाओं द्वारा सभी को समझा-बुझाकर उन्हें भेजा गया।

बेंगाबाद : तेज रफ्तार का टूटा कहर, बाइक सवार युवक की मौत

सरकारी व्यवस्था को जमकर कोसते हुए अभिभावकों ने कहा कि सरकार बच्चों को कुपोषण मुक्त करना चाहती है। परन्तु उनके अधिकारी-कर्मचारी कमीशन के चक्कर में सड़े-गले अंडे परोस कर उनके बच्चे को बीमार करना चाहते हैं। लोगों ने कहा कि सरकार इन गंभीर मामलों को संज्ञान में लेकर जांच पड़ताल कर दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करें अन्यथा केन्द्रों को बन्द कर दें।

इन केंद्रों में मिले सड़े अंडे

प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रखंड के नीचे टोला चंद्रमारणी, आंगनबाड़ी केंद्र मंदरामो, आंगनबाड़ी केन्द्र उर्रो सहित कई अन्य केन्द्रों में सड़े अंडे मिले है, जबकि शिकायत कर्ताओं में सेविका सीता देवी, संगीता देवी,विद्या देवी, मंजू देवी, पोषण सखियों में कंचन कुमारी, पिंकी कुमारी, संजना सिंह आदि है। इन्होंने बताया कि अभिभावकों द्वारा हंगामा किए जाने के बाद सभी खंडों को बाहर फेंक दिया गया तथा इसकी सूचना प्रखंड बाल विकास परियोजना पदाधिकारी अनिता कुमारी को दे दी गई है।

सीडीपीओ का गोल मटोल जवाब

इस बाबत प्रखंड बाल विकास परियोजना पदाधिकारी सरिया अनिता कुमारी से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कई आंगनबाड़ी केंद्रों से शिकायत मिली है कि उन्हें सड़े हुए अंडे बच्चों के बीच वितरण करने के लिए दिए गए थे। जो उबलने के समय अंडे फूट गए तथा उससे दुर्गंध आने लगी। जिन्हें फेंक दिया गया है।

उन्होंने कहा कि इस संबंध में उन्हें यह पता नहीं है कि अंडा किस एजेंसी के द्वारा दिया जा रहा है या किन-किन केंद्रों को अंडे की आपूर्ति कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि सड़े हुए अंडे की शिकायत मिलने के बाद इसकी सूचना जिला पदाधिकारी को दे दी गई है।

बगोदर विधानसभा क्षेत्र के विधायक नागेंद्र महतो ने कहा कि सरकार द्वारा आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से बच्चों के बीच पौष्टिक आहार वितरण किया जा रहा है। ताकि क्षेत्र कुपोषण से मुक्त हो। इसी के तहत अंडे वितरण करने का भी प्रावधान है परंतु दुर्भाग्य है कि कुछ स्वार्थी तत्व के लोग दो पैसे कमीशन बचाने के चक्कर में सड़े हुए अनाज-अंडे को परोस रहे है। जिससे सरकार का लक्ष्य पूरा नहीं होगा।

वहीं यदि गांव के लोग सजग नहीं रहेंगे तो बच्चों को बीमार होने में देर भी नहीं लगेगी। उन्होंने कहा कि यह बहुत संगीन मामला है इस मामले को उपायुक्त के पास रखा जाएगा तथा लापरवाही बरतने वाले अधिकारी पर कठोरतम कार्रवाई की अनुशंसा की जाएगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : पहली बारिश में नगर निगम की खुली पोल, अस्त-व्यस्त जरूरी सेवाएं

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 10:03 PM
newscode-image

रांची। झारखंड में मानसून देर से आने की सूचना थी लेकिन फिर भी नगर निगम की ओर से किसी भी प्रकार की तैयारी नहीं की गई, नतीजतन मानसून के पहले बारिश ने नगर निगम की पोल खोलकर रख दी है। ऐसे तो नगर निगम सड़क और नाली के ऊपर करोड़ों खर्च करने की बात कहती है लेकिन पहली बारिश ने नगर निगम के सारे दावों को झूठा साबित कर दिया।

रांची : बीजेपी का “पोल खोल हल्ला बोल” नाम से राज्‍यभर में धरना

बता दें 1 घंटे रांची में हुए मूसलाधार बारिश से कई जरूरी सेवाएं बाधित हो गई। तेज बारिश के कारण नाली का पानी सड़कों पर बहने लगी, कई दुकानों में नाली का पानी सड़कों के माध्यम से घुस गया, कई व्यापारी को काफी परेशानी उठानी पड़ी। वही राहगीरों का रास्ता चलना दुर्भर हो गया।

रांची का सबसे पुराना अस्पताल सेवा सदन में बारिश का पानी घुसने की वजह से मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा, वही कई मरीज पर इंफेक्शन का खतरा मंडराने लगा। वही मुसलाधार बारिश के कारण ओवर ब्रिज का रोड धंस गया, जिससे आवागमन पूरी तरह से बाधित हो गई।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

कोडरमा : निखिल भारत बंग साहित्य सम्मेलन का चुनाव सम्पन्न

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 9:58 PM
newscode-image

रविन्द्र चुने गए अध्यक्ष और संदीप सचिव

कोडरमा। निखिल भारत बंग साहित्य सम्मेलन कोडरमा शाखा सत्र 2018-20 के लिए द्विवार्षिक चुनाव सम्पन्न हो गया झुमरीतिलैया स्थित डॉ. कल्याण चैघरी के आवास पर आयोजित इस चुनावी बैठक की अध्यक्षता डॉ. ओमियो विश्वास ने की। बैठक में संस्था के सचिव अरुप मित्रा ने अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया, वहीं कोषाध्यक्ष तुषार राय चैधरी ने आय व्यय का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया।

कोडरमा : भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के खिलाफ विपक्ष का धरना-प्रदर्शन

इस चुनाव में सर्वसम्मति से अध्यक्ष पद पर रविन्द्र चन्द्र दास, सचिव पद पर संदीप मुखर्जी एवं कोषाध्यक्ष पद पर शंकर प्रसाद सिन्हा को मनोनीत किया गया। इसके अलावा डॉ. ओमियो विश्वास, डॉ. कल्याण चौधरी, काकोली मजुमदार व मंजुश्री मुखर्जी को उपाध्यक्ष बनानी नियोगी को संयुक्त सचिव, तीर्थो मुखर्जी व अरुप मित्रा को सह सचिव, विपुल गुप्ता को केन्द्रीय परिषद के सदस्य, सुनील कुमार देवनाथ को सांस्कृतिक विभाग के अध्यक्ष व सुकांत मजुमदार को सचिव तथा इन्द्रानी मुखर्जी व जया मुखर्जी को सदस्य, बुद्धेश्वर कुण्डु को अंकेक्षक के रुप में चुना गया।

कार्यकारिणी सदस्य के रुप में तुषार राय चौधरी, माया दास, प्रसेनजीत घोष, निरुपमा चौधरी व चित्रा मुखर्जी को चुना गया। संस्था की कोडरमा शाखा का मुखपत्र सृजनी पत्रिका के संपादक के रुप में कल्याण मजुमदार, सह संपादक के रुप में इन्द्रजीत गुप्ता व प्रकाशन सचिव के रुप में भूदेव मुखर्जी का मनोनयन किया गया। नव निर्वाचित सचिव संदीप मुखर्जी के धन्यवाद ज्ञापन के साथ बैठक का समापन किया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

बेंगाबाद : तेज रफ्तार का टूटा कहर, बाइक सवार युवक...

more-story-image

पाकुड़ : भाजपा की बैठक आयोजित, हुल दिवस को लेकर...