देवघर : बाबानगरी की कैसी बुझेगी प्यास? जलस्तर जा रहा नीचे जबकि बढ़ रहे लोग

NewsCode Jharkhand | 7 March, 2018 3:09 PM
newscode-image

देवघर नगर निगम ने नहीं बनाया ठोस योजना

देवघर। कहते हैं बिन पानी सब सुन। पानी के बिना केवल मछली ही नहीं इंसान भी तड़पता है। पेयजल की स्थिति झारखंड में कितनी खराब है, ये किसी से छिपी नहीं है। फ्लोटिंग जनसंख्या का भार सहने वाले बाबानगरी में पानी की किल्लत दिखने लगी है।

देवघर नगर निगम के पास भविष्य की कोई योजना नहीं है। इसे सिस्टम की लापरवाही ही कहा जा सकता है। 2005 में 20 सालों के लिए शहरी क्षेत्र को जल आपूर्ति कराने की योजना बनाई गई थी। प्रति व्यक्ति 70 लीटर पानी रोजाना मुहैया होना चाहिए था वह गर्मी में घटकर महेज 17 लीटर ही रह गई है। नगर निगम जलापूर्ति की समस्या को स्वीकार करते हैं। उनका कहना है कि वाटर लेवल नीचे जाने की वजह से जलापूर्ति में परेशानी है। जिस शहर की आबादी 2010 से ही दुगनी हो गई हो, उसके लिए पिछले 8 सालों में कोई वृहद योजना क्यों नहीं बनाई गई।

देवघर : बाबानगरी की कैसी बुझेगी प्यास? जलस्तर जा रहा नीचे जबकि बढ़ रहे लोग

नदियां रेत में हो रहे तब्दील

देवघर की बगल से गुजरने वाली नदियों में पानी नहीं के बराबर है। नदियां अब रेत में तब्दील होती जा रही है। संप हाउस में जल स्तर लगातार घटता जा रहा है। जलस्तर घटने कि जो रफ्तार है उससे अनुमान लगाया जा सकता है कि 1 महीने में हाल बुरा हो जाएगा। जबकि गर्मी अभी परवान चढ़ने लगी है। हालांकि संप संचालक कहते हैं कि अभी 8 घंटे पानी की सप्लाई कर नंदन पहाड़ लेक को भरा जा रहा है। साथ ही फिल्ट्रेशन प्लांट को भी पानी सप्लाई की जा रही है लेकिन 1 महीने के बाद परेशानी शुरू हो जाएगी।

देवघर : रोजाना हजारों लीटर पानी की होती बर्बादी, निगम के पास नहीं है कोई जवाब

देवघर : बाबानगरी की कैसी बुझेगी प्यास? जलस्तर जा रहा नीचे जबकि बढ़ रहे लोग

शहरी क्षेत्र को दो जोन में बांटा

देवघर नगर निगम के पास योजनाएं क्या है उस पर थोड़ा गौर कर लीजिए। शहरी क्षेत्र को जोन एक और जोन 2 में बांट दिया गया है।  जोन 1 के लिए नंदन पहाड़ लेक से सप्लाई की जाती है, जबकि जोन 2 के लिए नावाडीह के अजय नदी से सप्लाई की जाती है। 2005 में 20 वर्षों के लिए जलापूर्ति योजना की शुरुआत की गई थी। तब शहर की आबादी 1,85,000 संभावित आंका गया था। साल 2010 में ही शहर की जनसंख्या दो लाख से ऊपर हो गई। आज फिलहाल 3 लाख से भी ऊपर है।

शहरी क्षेत्र में जल आपूर्ति का साधन सीमित

देवघर शहरी क्षेत्र को जल आपूर्ति करने के लिए साधन सीमित है। फिलहाल निगम के पास क्षमता 1,80,000 लोगों को पानी पिलाने की क्षमता है। लेकिन निगम की आबादी अब 3 लाख से भी ऊपर हो गई है। ऐसे में आधी आबादी को पानी की सुविधा नहीं मिल पाती है। अप्रैल महीने के बाद योजना के मुताबिक प्रति व्यक्ति को 7 लीटर से 70 लीटर पानी मुहैया कराना था, जो अब महज 17 लीटर मात्र तक ही सीमित रह गई है। ऐसे में निगम के चेहरे पर परेशानी साफ झलकती नजर आती है।

देवघर : बाबानगरी की कैसी बुझेगी प्यास? जलस्तर जा रहा नीचे जबकि बढ़ रहे लोग

नगर आयुक्त की सफाई

देवघर नगर आयुक्त संजय कुमार सिंह कहते हैं कि निगम के पास पानी के सोर्स सीमित हैं। लगातार जल स्तर नीचे गिरने से उनके पास कोई विकल्प रह भी नहीं गया है। ऐसे में जरूरी है किसी वैकल्पिक व्यवस्था की जाये। विकल्प के तौर पर सिर्फ पानी टैंकर ही एक मात्र सहारा रहेगा।

योजना बनाने में दूरदर्शिता का अभाव

कुल मिलाकर देवघर नगर निगम क्षेत्र के पास विकल्पों की कमी है। योजनाओं में दूरदर्शिता का अभाव भी दिख रहा है। ऐसे में देवघर की प्यास कैसे बुझेगी यह एक यक्ष प्रश्न बना हुआ है। देवघर झारखंड का एकमात्र ऐसा शहर है जहां फ्लोटिंग पॉपुलेशन सबसे ज्यादा है। ऐसे में तीर्थ यात्रियों को पानी पिलाना भी निगम के लिए एक मुसीबत बनती जा रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बोकारो : भाई-बहन को बंधक बनाए रखने के मामले में चिकित्सक पर मामला दर्ज

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 8:22 AM
newscode-image

बोकारो । को-ऑपरेटिव कॉलोनी के प्लांट संख्या 229 के मालिक दीपू घोष व उनकी बहन मंजूश्री घोष को कैद रखने के मामले में नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. डीके गुप्ता पर पूर्णेन्दू सिंह के बयान पर सिटी पुलिस ने हत्या के प्रयास की धारा में मामला दर्ज किया है। दीपू घोष व उसकी बहन मंजूश्री का इलाज फिलहाल बोकारो जेनरल अस्पताल में चल रहा है। दीपू की हालत में काफी सुधार है जबकि मंजूश्री शारीरिक रूप से स्वस्थ्य होने के बावजूद मानसिक यातना के कारण हालत ठीक नहीं है।

 धनबाद : डायरियां से एक व्यक्ति की मौत, दर्जनों लोग बीमार

विदित हो कि पुलिस कप्तान कार्तिक एस ने गुरूवार को स्वयं अस्पताल पहुंचकर भाई-बहन से जानकारी ली थी। मंजू श्री ने एसपी को जो बताया उससे स्पष्ट हुआ कि उसको प्रताड़ित किया गया है। इधर मुकदमा दर्ज होने के बाद डॉ. डीके गुप्ता की मुश्किलें बढ़ गई है। सरकारी चिकित्सक होते हुए किस परिस्थिति में वे बाहर के क्लिनिक में इलाज कर रहे थे ये सवाल उठ रहे हैं। डॉ. गुप्ता चास अनुमंडलीय अस्पताल में पदस्थापित हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : भारी मात्रा में अवैध शराब बरामद

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 7:59 AM
newscode-image

रांची। आयुक्त उत्पाद को गुप्त सूचना मिली थी कि कतरपा, नगड़ी में भारी मात्रा में अवैध शराब का निर्माण किया जा रहा है। जिसको होटलों और ढाबों में अवैध ढंग से खपाया जा रहा है। अनुमंडल पदाधिकारी, रांची और रांची जिला के सहायक उत्पाद आयुक्त व विभाग के अन्य पदाधिकारियों द्वारा संयुक्त रुप से छापेमारी की गई ।

छापेमारी के क्रम में पाया गया कि कतरपा में एक नया बड़ा सेड बनाकर भारी मात्रा में अवैध शराब का निर्माण किया जा रहा है।  मौके से करीब 200 लीटर स्प्रिट हजारों बोतल खाली और हजारों बोतल शराब भरी हुई मिली । यह जगह मुख्य रूप से  सुंदरा महतो, जटलू महतो और सुनीता महतो द्वारा छोटू  उर्फ देवेंद्र उराव द्वारा  अन्य  कर्मचारियों के साथ मिलकर संचालन किया जा रहा था। वहां पर भारी मात्रा में नकली स्टिकर, नकली होलोग्राम और पैकेजिंग का सामान जब्त किया गया। वहां पर टैंकर और टाटा सफारी गाड़ी के माध्यम से स्प्रिट, पानी और तैयार माल ट्रांसपोर्ट किया जाता है।

कोडरमा : पुलिस दल को देखकर अवैध शराब कारोबार हुए फरार

बताया गया कि इस प्रकार से जानबूझकर  खतरनाक शराब  तैयार कर  बाजार में बेचा जाना  घातक हो सकता है।  क्योंकि  ये सभी लोग बिना किसी विशेषज्ञ और बिना किसी रासायनिक परीक्षण के यह कार्य करते हैं। ऐसी शराब जहरीली भी हो सकती है। इन सभी व्यक्तियों और वाहन मालिकों के खिलाफ नगड़ी थाने में संबंधित उत्पाद अधिनियम और आईपीसी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई।

सूत्रों के मुताबिक नगड़ी बाजार में स्थित कोयल लाइन होटल जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है यही नकली शराब बेचे जाने की शिकायत मिली थी। वहां पर छापेमारी में भारी मात्रा में शराब की खाली बोतलें, रिसीविंग बिल, शराब बेचने के बिल और शराब बेचे जाने कि सीसीटीवी फुटेज की डीवीआर जब्त की गई।  इस प्रकार के अवैध कार्य संचालित किए जाने के क्रम में होटल को सील कर दिया गया है। होटल के संचालक बालकरन महतो व अन्य के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

रांची : मुख्यमंत्री ने अटलजी के सपनों का झारखंड बनाने का लिया संकल्प

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 7:33 AM
newscode-image

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अंत्येष्टि में हिस्सा लेने के बाद कहा-’लौट रहा हूं झारखंड…. लौट रहा हूं अपने कर्मभूमि में अटलजी आपके सपनों के झारखंड को साकार करने के संकल्प के साथ’। उन्होंने कहा कि भारत रत्न, झारखण्ड के जनक श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी अनंत में विलीन हो गए।

रांची : अटल जी का निधन भारतीय राजनीति के लिए अपूर्णनीय क्षति- शिबू सोरेन

अटल जी आप सूर्य की तरह अपना प्रकाश बिखेरते रहेंगे। आपके आदर्श और उनका व्यक्तित्व सदैव हमें प्रेरणा देते रहेंगे। झारखण्ड की जनता की ओर से आपको अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि। अटल जी, आप सदा हमारे साथ रहेंगे। अनंतकाल तक हर भारतीय के हृदय में आप अटल रहेंगे। शत-शत नमन आपको।’

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

लोहरदगा : दो नाबालिग के साथ गैंगरेप, आरोपी फरार

more-story-image

रांची : चेंबर भवन में व्यवसाय जगत ने अटल को...