देवरी : घर से गायब हुई तीन नाबालिग युवतियां बरामद

NewsCode Jharkhand | 16 May, 2018 9:44 PM

 देवरी : घर से गायब हुई तीन नाबालिग युवतियां बरामद

देवरी (गिरिडीह)। पुलिस ने विभिन्न विगत दिनों गायब हुई तीन नाबालिग युवतियों को बहला फूसलाकर ले जाने वाली महिला एवं एक युवक को गिरफ्तार कर बुधवार को गिरिडीह जेल भेज दिया। वहीं गायब दो नाबालिगों को भी पुलिस ने बरामद कर मेडिकल जांच के लिए उसे सदर अस्पताल एवं 164 का बयान के लिए कोर्ट परिसर गिरिडीह भेजा।

थाना प्रभारी केदारनाथ प्रसाद ने बुधवार को उक्त जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कांड संख्या 84/18  के तहत मरपोका गांव की एक महिला द्वारा गांव के ही दो नाबालिग छात्राओं को कथित रूप से बहला फूसलाकर भगा ले जाने का परिजनों ने केस किया था। जिसमें पुलिसिया दवाब के बाद पुलिस ने मंडरो के पास दोनों नाबालिग बच्चियों एवं आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया।

रांची : गवर्नमेंट वीमेंस पॉलि‍टेक्निक कॉलेज और छात्रावास की हालत है बदतर

बरामद बच्चियों ने बताया कि उक्त महिला द्वारा अंधेरे में कुछ खिलाकर कोडरमा के रास्ते दिल्ली ले जाया गया। जहां एक बड़े बिजनेसमेन के घर में बतौर 3000 रूपए की मासिक सैलरी में चौका बर्तन करने की नौकरी लगवाया गया था। किसी कारणवश घरवालों को मोबाईल पर सुचना देकर मामले की जानकारी दी गई।

जहां पुलिस के दवाब के बाद मंगलवार को वे लोग देवरी थाना पहॅूच गए। बताया कि वे लोग 30 अप्रैल की रात में अपने घरों से गायब हुई थी। दुसरे मामले में इसी थाना क्षेत्र के एक व्यक्ति ने अपनी नाबालिग पुत्री को गांव के हीं विकास तिवारी द्वारा बहला फूसलाकर भगा ले जाने का केस दर्ज किया गया। हलांकि सुचना मिलने के बाद हीं पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी युवक एवं युवती को चतरो के पास से बरामद कर लिया।

बता दें कि 11 मई की रात में यह युवती के गायब होने की शिकायत उसके परिजनों ने किया था। पुलिस द्वारा आरोपी युवक को गिरिडीह जेल एवं युवती को मेडिकल टेस्ट के लिए गिरिडीह भेजने की तैयारी की जा रही थी। मौके पर महिला पुलिस की हवलदार मोनिका तिर्की सहित पुलिस के कई जवान उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

दुमका : दुष्कर्म का आरोपी 60 वर्षीय बुजुर्ग गया जेल, पुलिस ने दिखायी तत्परता

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 4:20 PM

दुमका : दुष्कर्म का आरोपी 60 वर्षीय बुजुर्ग गया जेल, पुलिस ने दिखायी तत्परता

दुमका। जिले के मुफस्सिल थाना पुलिस ने दुष्कर्म के आरोपी 60 वर्षीय बुजुर्ग को गिरफ्तार कर बुधवार को जेल भेज दिया। गिरफ्तार आरोपी शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के झुरकु गांव निवासी फुचा उर्फ प्रफुल मांझी है। आरोपी घटना को बीते 17 मई को मुफस्सिल थाना क्षेत्र में अंजाम दिया।

जानकारी के अनुसार आरोपी मुफस्सिल थाना क्षेत्र में राजमिस्त्री का काम करता था। दर्ज प्राथमिकी के अनुसार रोज की तरह आरोपी काम करने पहुंचा। जहां देर शाम अकेले देख पीड़िता को दबोच लिया। शोर मचाने पर अपने ही लुंगी से मुंह बांध पीड़िता के साथ मुंह काला किया।

दुमका : कैद कर बलात्कार का आरोपी गया जेल, पुलिस ने दिखायी तत्परता

बाद में मां के आने पर पीड़िता ने आप बीती सुनायी। किसी प्रकार लोकलाज छोड़ पीड़िता के परिजनों ने इसकी लिखित शिकायत थाना में की। पुलिस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वहीं पीड़िता का मेडिकल करवा अनुसंधान में जुट गई है। यहां बता दें कि पीड़िता शारीरिक रूप से भी अपंग है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Read Also

दुमका : संदेहास्पद स्थिति में पत्नी की मौत, हिरासत में पति

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 4:16 PM

दुमका : संदेहास्पद स्थिति में पत्नी की मौत, हिरासत में पति

दुमका। जिले के मुफसिल थाना क्षेत्र में संदेहास्पद स्थिति में एक महिला की मौत मंगलवार को देर रात हो गई। मृतक महिला धमना गांव निवासी धनमुनि किस्कू(40वर्ष) है। पुलिस हत्या के आरोप में उसके पति चंद्रा हांसदा को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। जानकारी के अनुसार मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है।

मामले में मृतका की छोटी बेटी सुनीता हांसदा ने बताया कि 20 मई को देर रात नशे की हालत में शादी समारोह में नाचने को लेकर माता-पिता में विवाद हुआ था। बिन बताये देर रात तक शादी समारोह में चले जाने और नाचने को लेकर गुस्से में आकर उसके पिता ने उसकी मां को तमाचा जड़ दिया, जिससे वह गिर गई।

बाद में दो दिनों से उसकी मां खाना छोड़ शराब का सेवन करती रही। बीते मंगलवार  को दिन में कहीं से घूमकर लौटने पर उसकी मां ने अच्छा नहीं लगने की बात सोने चली गई। बुधवार सुबह को मां मृत पायी गई।

स्थानीय लोगों ने घटना कि सूचना पुलिस को दी। जहां पास पड़ोस के लोगों ने पति चंद्रा हांसदा को आरोपी बताया। पुलिस आरोपी पति को हिरासत में लेकर मामले की सत्यता में जुट गई है। वहीं शव को बरामद कर पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंप दिया है। बता दें कि मृतक महिला के शरीर पर किसी प्रकार का निशान नहीं है।

देवघर : महिला ने की आत्महत्या, छीन गयी दो बच्चों की ममता की छांव

वहीं स्थानीय चौकीदार की माने तो दो दिन पूर्व पति-पत्नी में विवाद हुआ था। पड़ोस में रहने वाले लोगों ने पुरानी रंजिश के कारण उसके पति को आरोपी बताया है। इधर थाना प्रभारी कामेश्वर कुमार सिंह ने मामले में बताया कि मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कुछ स्पष्ट हो सकेगा। पुलिस आरोपी पति को हिरासत में लेकर पूछताछ में जुट गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

झरिया : सूदखोरों की दबंगई, कोलकर्मी के खाते से निकाले दो लाख बीस हजार रूपये

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 4:16 PM

झरिया : सूदखोरों की दबंगई, कोलकर्मी के खाते से निकाले दो लाख बीस हजार रूपये

पीड़ित ने सिटी एसपी से किया लिखित शिकायत

झरिया (धनबाद)। कोलियरी क्षेत्रों में दबंग सूदखोरों द्वारा  दलित अनपढ़ लोगों के बैंक खाते से फर्जी तरीके से अवैध निकासी का धंधा जोर शोर से चल रहा है। बस्ताकोला क्षेत्र के घनुडीह कोलियरी में कार्यरत कोल कर्मी वाल्मीकि भुइयां के के खाते से फर्जी निकासी कर ली गई है।

इस संबंध में भुक्‍तभोगी वाल्मीकि भुइयां अपने बैंक खाते से फर्जी निकासी की शिकायत धनबाद सिटी एसपी पीयूष पांडेय से किया है।

वाल्मीकि भुइयां ने अपने लिखित शिकायत में बताया है कि जोड़ाफाटक शाखा बैंक ऑफ इंडिया के खाते से बैलगाड़िया कॉलोनी निवासी दबंग सूदखोर ने फर्जी तरीके से 2 लाख 20 हजार राशि की निकासी कर ली।

टुंडी : रोजगार के क्षेत्र में आत्‍मनिर्भर बनेंगी ग्रामीण महिलाएं, मिल रहा मुफ्त प्रशिक्षण

आरोपी सुरेंद्र सिंह ने जालसाजी तरीके से उसका चेक में फर्जी हस्ताक्षर कर निकासी कर ली। भुक्‍तभोगीने बताया कि एक सप्ताह पूर्व कॉपरेटिव बैंक जेलगोड़ा से तीन लाख रुपये लोन लिया था। अस्सी हजार निजी कार्य के लिये निकाला था।

दो दिन पूर्व जब खाते को अपडेट कराने गया तब पता चला कि सुरेंद्र सिंह ने उसके खाते से फर्जी ढंग से शेष जमा राशि 2 लाख 20 हजार अपने खाते में बैंक अधिकारी की मिलीभगत से ट्रांसफर करा लिया।

जब पीड़ित ने इस संबंध में सुरेंद्र से पूछा तो उसने चुपचाप रहने को कहा साथ ही जान से मारने की धमकी भी दी। जिसके बाद से पीड़ित व उसका पूरा परिवार परेशान व भयभीत है।

जबकि आरोपी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि वाल्मीकि ने उससे तीन लाख उधार लिया था। कोलियरी क्षेत्रोंं में इस तरह का लेन देन होते रहता है। उसने खुद अपना चेक उसे दिया था।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने