देवघर : अखंड सुहाग के लिए सुहागिनों ने की वट सावित्री की पूजा

NewsCode Jharkhand | 15 May, 2018 3:26 PM

देवघर : अखंड सुहाग के लिए सुहागिनों ने की वट सावित्री की पूजा

देवघर। अपने पति के दीर्घायु और मंगल कामना के लिए वट सावित्री का महापर्व धूमधाम से मनाया गया। तड़के सुबह से ही स्थानीय आवकारी विभाग स्थित वट वृक्ष के नीचे महिलाओं ने विधि वि‍धान से पूजा करना शुरू कर दिया था। धार्मिक कथाओं के अनुसार वट सावित्री व्रत सौभाग्य प्राप्ति के लिए एक बड़ा व्रत माना जाता है। यह ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या को मनाया जाता है।

मान्यता के अनुसार सावित्री ने अपने संकल्प और श्रद्धा से यमराज से सत्यवान के प्राण वापस ले लिए थे। कहते हैं वट सावत्री पर्व के दिन महिलाएं अपने पति की प्राण रक्षा के लिए इस दिन व्रत और संकल्प लेती है। इस व्रत को करने से सुखद और संपन्न दाम्पत्य का वरदान मिलता है। वट सावित्री का पर्व सम्पूर्ण परिवार को एक सूत्र में बांधे रखता है।

रांची : पैरोल खत्‍म होने पर राजद प्रमुख लालू प्रसाद रांची पहुंचे

वट वृक्ष को एक देव वृक्ष माना जाता है। ब्रह्मा, विष्णु, महेश और सावित्री भी वट वृक्ष में ही वास करते हैं। धर्म कथा के अनुसार प्रलय के अंत में भगवान श्री कृष्ण इसी वृक्ष के पत्ते पर प्रकट हुए थे।  तुलसीदास ने वट वृक्ष को तीर्थराज का क्षत्र कहा है यह वृक्ष ना केवल पवित्र है अपितु काफी दीर्घायु भी होता है। इसकी लंबी आयु, शक्ति और धार्मिक महत्व को ध्यान में रखकर इस वृक्ष की पूजा की जाती है। पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए भी इस वृक्ष को काफी महत्व दिया गया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

चक्रधरपुर : पांच दिवसीय मां शीतला पूजा के पहले दिन निकाली गई शोभा यात्रा

NewsCode Jharkhand | 25 May, 2018 6:55 PM

चक्रधरपुर : पांच दिवसीय मां शीतला पूजा के पहले दिन निकाली गई शोभा यात्रा

सैकड़ों भक्‍त किए माता की पूजा-अर्चना

चक्रधरपुर (चाईबासा)। शहर का ऐतिहासिक मां शीतला पूजा का शुभारंभ विधिवत रूप से हुआ। बर्टन लेक तालाब के समीप नीम पेड़ के नीचे खड़गपुर  के पुजारी के द्वारा पूजा अर्चना कर माता शीतला की मूर्ति बनाई गई है।

इसके बाद घंटों पूजा अर्चना के बाद भव्य शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा में सैकड़ों की संख्या में लोग नाचते गाते झूमते नजर आए। गाजे-बाजे के साथ बर्टन लेक  तालाब से निकली शोभायात्रा कई जगहों से भ्रमण करते हुए लोको  राम मंदिर पूजा पंडाल पहुंची।

कटकमसांडी : मनोकामना शिवमंदिर धाम में पूजा अर्चना व भण्डारा का आयोजन

जहां पर सैकड़ों महिलाएं पुरुष भक्त कतार में खड़े होकर माता की पूजा-अर्चना व दर्शन किए। लोको कॉलोनी में पांच दिवसीय पूजा समारोह ऐतिहासिक रूप से प्रत्येक वर्ष होता आ रहा है।

माता शीतला की मूर्ति प्रत्येक दिन अलग-अलग रूपों में बनाई जाती है एवं उसी आधार पर पूजा-अर्चना खड़कपुर के पुजारी द्वारा किया जाता है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

जमशेदपुर : माता का होगा विशाल जागरण, कलाकार करेंगे भजन और झांकी प्रस्तुत

NewsCode Jharkhand | 25 May, 2018 3:18 PM

जमशेदपुर : माता का होगा विशाल जागरण, कलाकार करेंगे भजन और झांकी प्रस्तुत

भक्‍तों की उमड़ेगी भीड़

जमशेदपुर। हिन्द बॉयज क्लब जागरण समिति की ओर से शनिवार को कदमा न्यू रानीकुदर चौक में मां वैष्णो देवी का विशाल जागरण किया जाएगा। उक्त जानकारी आयोजन स्थल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए समिति के परमजीत सिंह पम्मे, मोनू रजक, संजय रजक तथा राकेश रजक ने दी।

उन्होंने बताया कि दिनभर चलनेवाले इस कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 9 बजे दुर्गा सप्तशती पाठ से होगी। इसके बाद 11.30 बजे पुष्पांजलि होगी। अपराह्न 12.30 बजे से माता का विशाल भंडारा लगेगा। जिसमें हजारों भक्त प्रसाद ग्रहण करेंगे।

 रांची : कैपिटोल हिल में शुरू हुई दो दिवसीय प्रदर्शनी

रात्रि 8.30 बजे से कलाकार मां दुर्गा का भजन तथा झांकी प्रस्तुत करेंगे। इसमें शहर की मिली मुखर्जी एंड पार्टी के अलावा तत्सा गुप्ता (रांची) तथा हरिश चंद्र (कानपुर) भी लोगों को झुमाएंगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:56 PM

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

फिल्ट्रेशन से शिवगंगा का पानी 70 फीसदी हुआ साफ

देवघर। देवघर देव की  नगरिया है और यहां सालों भर आस्था का संगम देखने को मिलता है। देवघर का पवित्र शिवगंगा आस्था का केंद्र के साथ-साथ लोगों के जल का मुख्य स्रोत भी है। भक्त यहीं स्नान कर बाबा भोले को जल चढ़ाने के लिए जाते हैं, लेकिन रखरखाव और पानी को शुद्ध करने में प्रशासन नाकाम रहे। जिसके वजह से यहां का पानी दूषित हो गया। कुछ ही सालों में यहां का जल अशुद्ध हो गया, साथ ही पानी में कई तरह के कीटाणु भी पनपने लगे हैं।

रघुवर सरकार ने सबसे पहले शिवगंगा को शुद्ध करने के लिए फिल्ट्रेशन प्लांट को मंजूरी दी और अब यह फिल्ट्रेशन प्लांट काम भी करने लगा है। पिछले 6 महीनों से यह फिल्ट्रेशन प्लांट दिन-रात पानी को शुद्ध करने में लगा है और आज हालात ऐसे हैं कि शिवगंगा का 70 फीसदी जल शुद्ध हो चुका है।

आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे श्रद्धालु

अधिकारी बताते हैं कि सावन आते-आते शिवगंगा का पानी 90 फीसदी से ज्यादा शुद्ध हो जाएगा। इस बार के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे। इतना ही  जानकार बताते हैं कि अगर इसी गति से पानी शुद्ध होता रहा तो सरोवर का जल पीने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

बाबा भोलेनाथ की नगरी जहां पर सुल्तानगंज से जल लेकर श्रद्धालु बाबा भोले के शिवलिंग पर जल अर्पण करते हैं। जो भक्त सुल्तानगंज से नहीं आते वह इसी पवित्र शिवगंगा में डुबकी लगाकर यहां का जल बाबा भोले को चढ़ाते हैं, लेकिन रखरखाव और सही नीति नहीं रहने के कारण जल दूषित हो गया।

छह महीनों से जल की हो रही सफाई

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

 

आगामी श्रावणी मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी है। इस बार सरोवर में स्वच्छ जल से स्नान कर सकेंगे। नगर आयुक्त संजय कुमार सिंह ने बताया कि पिछले 6 महीनों से लगातार शिवगंगा के जल को साफ करने की प्रक्रिया जारी है। फिल्ट्रेशन प्लांट 24 घंटे काम कर रहा है और 70 फीसदी से ज्यादा पानी साफ हो चुका है और उम्मीद जताई जा रही है कि 2018 के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु स्वच्छ जल में आस्था की डुबकी लगाएंगे।

देवघर : सरदार पंडा के गद्दी पर आसीन होंगे गुलाबनंद ओझा

पहले से काफी बदलाव आया : स्‍थानीय

देवघर के स्थानीय लोग भी मानते हैं कि पहले और अभी की स्थिति में काफी बदलाव आया है। पहले इसका जल शुद्ध नहीं था और लोग इसमें स्नान करने से कतराते थे। साथ ही इसका जल बदबू भी देने लगा था जिससे कई तरह के चर्म रोग होने लगे थे। फिल्ट्रेशन प्लांट के काम करने के बाद अब जल के स्तर और इसकी शुद्धता में काफी परिवर्तन आया है और अब भक्त इसमें निसंकोच स्नान कर सकते हैं।

वहीं फिल्ट्रेशन प्लांट में काम कर रहे कर्मी का कहना है कि 70 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो चुका है और सावन के मेले के समय 90 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो जाएगा। शिवगंगा का जल शुद्ध करने में 8 कर्मचारी दिन रात लगे हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

X

अपना जिला चुने