देवघर : छात्रों ने एसकेएमयू के खिलाफ लगाये नारे, परीक्षाफल में देरी होने से आक्रोशित

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2017 12:30 PM
newscode-image

देवघर। सत्संग साइंस कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने आज सुबह एसकेएमयू यूनिवर्सिटी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। छात्र-छात्राओं ने यूनिवर्सिटी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। विद्यार्थी विश्वविद्यालय के रवैये से नाराज है।

उनका कहना है कि डिग्री 2 ओर डिग्री 3 की परीक्षा पहले ही हो चुकी है जिसका रिजल्ट अभी तक नहीं आया है। तो वहीं दूसरे सेशन की पढ़ाई शुरू हो गई है। छात्रों ने जल्‍द परीक्षा परीणाम की घोषणा करने की मांग की है। छात्रों ने कहा कि उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा जिसके कारण आज एक जुट होकर यूनिवर्सिटी के खिलाफ यह विरोध प्रदर्शन किया गया।

महाराष्ट्र में आज से प्लास्टिक बंदी, पकड़े जाने पर लग सकता है 25 हजार तक का जुर्माना

NewsCode | 23 June, 2018 12:41 PM
newscode-image

मुंबई। महाराष्ट्र में एक बार इस्तेमाल कर फेंक दिए जाने वाली प्लास्टिक पर 23 जून की मध्य रात्रि से पाबंदी लागू हो रही है। बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी शुक्रवार को प्लास्टिक बंदी विरोधी याचिका पर सुनवाई स्थगित कर दी।

सूबे के पर्यावरण मंत्री रामदास कदम ने हाईकोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए शनिवार से राज्य में प्लास्टिक बंदी लागू करने की घोषणा की है। इससे महाराष्ट्र में प्लास्टिक एवं थर्माकोल उत्पाद (निर्माण, उपयोग, बिक्री, परिवहन, हैंडलिंग और भंडारण) पर पूरी तरह से रोक लग जाएगी।

आज के बाद अगर कोई दुकानदार या आम नागरिक पॉलिथीन इस्तेमाल करता पकड़ा गया तो उसपर पांच हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। जबकि दूसरी बार में दस और तीसरी बार पकड़े जाने पर 25 हजार का जुर्माना लगेगा। साथ ही तीन महीने की जेल भी हो सकती है।

प्रतिबंधित प्लास्टिक के साथ पाये जाने वालों पर कार्रवाई करने के लिए 250 इंस्पेक्टरों का विशेष दस्ता बनाया गया है। इसके अलावा वैकल्पिक सामानों की प्रदर्शनी भी लगाई गई है।

इन पर है प्रतिबंध:

  • प्लास्टिक से बने हैंडल/बिना हैंडल की थैलियां, स्ट्रॉ
  • एक बार उपयोग वाली प्लास्टिक की थाली, कटोरी, गिलास, कांटे, छुरी-चम्मच, बर्तन, डिब्बे
  • होटेल्स, रेस्तरां और सभी किस्म के फूड स्टॉलों के खाद्य वस्तुओं के पार्सल देने के बर्तन
  • नॉन ओवन पॉलीप्रॉपिलीन बैग
  • चाय आदि ले जाने के पाउच व कप
  • थर्माकोल से बनी वस्तुएं

कहां-कहां होगी प्लास्टिक बंदी, किसपर होगी कारवाई?

  • सार्वजनिक ठिकानों पर
  • समुद्र किनारों पर
  • बस, रेल्वे स्टेशन
  • वन, संरक्षित वन
  • इको सेन्सेटिव्ह क्षेत्र
  • शासकिय, अशासकिय संस्था
  • शिक्षण संस्था
  • औद्योगिक संस्था
  • सिनेमा थिएटर्स, नाट्यगृह
  • मॉल्स
  • सब्जी बाजार, मंडी
  • दुकानदार
  • केटरर्स
  • हॉकर्स
  • होलसेल, रिटेलर

ये भी पढ़ें-

मध्य प्रदेश में जमीन की लालच में दबंगों ने किसान को जिंदा जलाया, 4 आरोपी गिरफ्तार

शिवपाल ने साधा अखिलेश पर निशाना, कहा- बड़ों की बात मानी होती तो दोबारा बनते यूपी के सीएम

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

कोडरमा : कला की धरा पर कलाकृतियों की बारीकियां बच्चों को सिखा रहे हैं अमर घोष

NewsCode Jharkhand | 24 June, 2018 5:47 PM
newscode-image

कोडरमा। कला की धरा पर कलाकृतियां बिखेरना 68 वर्षीय अमर घोष की खासियत है। अब तक कोडरमा जिले के तकरीबन 500 बच्चों (छात्र-छात्राओं) को ये पेंटिंग, ड्राइंग, मूर्तिकला, पेपरमसवर्क, थर्मोकोल वर्क, पलास्टर ऑफ़ पेरिस, हैंडीक्राफ्ट के क्षेत्र में सभी स्तर की बारिकियों से परिपूर्ण बना उस क्षेत्र में दक्ष बना चुके है। इनका यह अभियान अनवरत जारी है।

कोडरमा : प्रतिदिन सड़क दुर्घटना में जा रही है लोगों की जान, यह है कारण

मौजूदा समय में कला क्षेत्र के धनी अमर घोष तिलैया शहर में रेलवे क्रांसिग के निकट मधुबन काप्लेक्स परिसर में चित्रलिपि के नाम से एक प्रशिक्षण संस्थान चला रहे है। जहाँ सप्ताह में तीन दिन बच्चों को आर्ट क्लास के दौरान उन्हें जानकारियां देकर गढने का काम करते हैं। जिले के कई निजी स्कूलों में भी वे बतौर आर्ट शिक्षक बच्चों को जानकारी देते हैं। ये छात्रों को रिजेक्टेड वाटर बोतल से घर सजाने के हैंडीक्राफ्ट की जानकारी भी देते हैं।

बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि बचपन से ही उनके भीतर आर्ट की बारिकियों को समझने की ललत थी। इस सफर के दौरान उन्होंने इंडियन आर्ट कालेज पश्चिम बंगाल के गोल्ड मेडल प्राप्त प्रध्यापक अजय दास से भी इसके गुर सीखे, बाद के दिनों में 1974-75 में रविन्द्र भारती बंगीय संगीत परिषद धनबाद से उन्होंने आर्ट में डिप्लोमा भी प्राप्त किया है।

मौजूदा समय में उनकी इच्छा है वे ज्यादा से ज्यादा बच्चों को आर्ट की बारिकियां सिखा सके। वे कहते है खासतौर पर छोटे-छोटे नौनिहालों की प्रतिभा निखारने में उन्हें ज्यादा खुशी मिलती है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

धनबाद : पानी-बिजली की किल्‍ल्‍त से परेशान ग्रामीण उतरे सड़क पर

Baidyanath Jha | 24 June, 2018 5:45 PM
newscode-image

धनबाद। जिले में पानी व बिजली की समस्या से परेशान आम लोग अब सड़क पर उतरकर प्रशासन का विरोध करने लगे हैं। ताजा मामला धनबाद केंदुआ का है जहां लोगों ने आज एनएच 32 को घंटों जाम कर पानी व बिजली की मांग की।

मिली जानकारी के अुनसार एनएच 32 सड़क का निर्माण कार्य चल रहा है, जिसके कारण रोड निर्माण कंपनी द्वारा पाईप लाइन क्षतिग्रस्त कर दिए जाने के कारण केंदुआ, करकेंद और कुसुंडा क्षेत्र में घोर पानी की किल्लत कई दिनों से बनी हुई है।

धनबाद : क्विक रिस्पांस टीम करेगी बिजली व पानी की समस्‍या का समाधान

पानी नहीं मिलने से परेशान स्‍थानीय महिलाओं ने हाथ में बर्तन लेकर एनएच 32 को जाम कर पानी देने की मांग करने लगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

दिल्ली : सेना के अफसर की पत्नी की हत्या, आरोपी...

more-story-image

दुमका : ताइक्‍वांडो व कुश्‍ती प्रतियोगिता आयोजित, प्रतिभागियों ने दिखाया...