खुशखबरी: इस तारीख से शुरू हो सकती है जनकपुरी से कालकाजी के बीच मजेंटा लाइन मेट्रो

NewsCode | 16 May, 2018 1:08 PM

खुशखबरी: इस तारीख से शुरू हो सकती है जनकपुरी से कालकाजी के बीच मजेंटा लाइन मेट्रो

नई दिल्ली। मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त द्वारा जनकपुरी पश्चिम और कालकाजी मंदिर के बीच बनी 25.6 किलोमीटर मेट्रो लाइन को शुरू करने की मंजूरी मिल गई है। मंजूरी मिलने के बाद इस रूट पर 24 मई से मेट्रो की सेवाएं शुरू होने की संभावना है।

मेट्रो रेल निगम के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त ने जनकपुरी पश्चिम – कालकाजी मंदिर पर यात्री सेवाएं शुरू करने की अनिवार्य मंजूरी दे दी जो कुछ नियम एवं शर्तें पूरी करने से जुड़ी थी। ’’

मेजेंटा लाइन के इस खंड में 16 स्टेशन हैं जिनमें दो इंटरचेंज – हौजखास ( यलो लाइन के साथ ) एवं जनकपुरी पश्चिम ( ब्लू लाइन के साथ ) स्टेशन शामिल हैं। पूरी मेजेंटा लाइन पर कुल 25 स्टेशन हैं, लेकिन इस समय कालकाजी मंदिर और बॉटेनिकल गार्डन (नोएडा) के बीच ही मेट्रो सेवा दी जा रही है।

नए खंड में सेवा शुरू होने पर बॉटेनिकल गार्डन और जनकपुरी पश्चिम के बीच सीधा सफर शुरू हो जाएगा। मेजेंटा लाइन से पश्चिमी एवं दक्षिणी दिल्ली और गुरुग्राम, फरीदाबाद एवं नोएडा के बीच सफर का समय कम हो जाएगा।

अभी तक हौजखास एवं जनकपुरी पश्चिम के बीच सफर के लिए इस समय राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन बदलने की जरूरत पड़ती है और सफर में करीब 55 मिनट का समय लगता है। लेकिन मेजेंटा लाइन के इस खंड पर सेवाएं शुरू होने के बाद सफर में 30 मिनट से भी कम समय लगेगा। वहीं, अब नोएडा से सीधे एयरपोर्ट तक का सफर 2 घंटे की बजाय केवल 50 मिनट में पूरा होगा।

मजेंटा लाइन पर हौज खास मेट्रो स्टेशन इंटरचेंज स्टेशन होगा। वर्तमान मे इस स्टेशन से येलो लाइन (समयपुर बादली-हुडा सिटी सेंटर) पर मेट्रो की सुविधा उपलब्ध है।

वाराणसी फ्लाईओवर हादसा: बचाव एवं राहत कार्य पूरा, 4 अधिकारी सस्पेंड

मजेंटा लाइन पर परिचालन शुरू होने से नोएडा से गुरुग्राम जाने वाले लोग हौज खास मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन बदलकर हुडा सिटी सेंटर आसानी से पहुंच सकेंगे। मौजूदा समय में यात्रियों को बोटेनिकल गार्डन से राजीव चौक जाकर ट्रेन बदलना पड़ता है, जिससे समय अधिक लगता है।

कर्नाटक: जनता-जनार्दन ने इन 8 अरबपति उम्मीदवारों की किस्मत का क्या फैसला किया!

बिछड़ी बहनों की तरह मिलीं सोनिया-मायावती, बढ़ेगी बीजेपी की बेचैनी !

NewsCode | 23 May, 2018 5:58 PM

बिछड़ी बहनों की तरह मिलीं सोनिया-मायावती, बढ़ेगी बीजेपी की बेचैनी !

नई दिल्ली। कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस की गठबंधन सरकार के मुखिया के तौर पर एचडी कुमारस्वामी ने बुधवार को शपथ ली। उनके साथ दलित नेता और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी. परमेश्वर ने उपमुख्यमंत्री की शपथ ली।

इस दौरान मंच पर विपक्षी एकजुटता की झलक भी दिखी। मंच पर यूपीए प्रमुख सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री और एचडी कुमारस्वामी के पिता एचडी देवेगौड़ा, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायवती भी दिखीं। इनके अलावा बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, आरएलडी प्रमुख अजीत सिंह, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबु नायडू और एनसीपी प्रमुख शरद पवार भी नजर आए।

लेकिन, इन सबके बीच यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी और बसपा सुप्रीमो मायावती का एक-दूसरे का हाथ पकड़ना और उनका ऐसा बर्ताव चर्चा में है। सोनिया गांधी ने मंच पर ही मायावती को गले लगा लिया, दोनों देर तक एक दूसरे का हाथ पकड़ रहीं और हंस-हंस के बातें करती रहीं। इस दौरान राहुल गांधी भी पास में खड़े रहे और बीच-बीच में मुस्कुराते रहे।

आज का यह नजारा इसलिये भी खास था क्‍योंकि कुछ दिन पहले तक बसपा सुप्रीमो मायावती, बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस पर भी हमला करती रहीं। दोनों नेता जिस प्रकार मिले इससे बीजेपी की बेचैनी बढ़नी तय है। इसके साथ ही मंच पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और ठीक निकट वाली सीट पर मायावती बैठीं। दोनों के बीच कुछ देर कुछ बातचीत भी हुई।

बुआ-बबुआ के बीच स्टेज साझा करने से पहले भी करीब 45 मिनट की मुलाकात हुई। उत्तर प्रदेश के कैराना में होने वाले लोकसभा उपचुनाव और आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर भी दोनो नेताओं में चर्चा हुई। मायावती और अखिलेश की ये मुलाकात फूलपुर और गोरखपुर में हुए उपचुनावों के बाद दूसरी मुलाकात है।

कुमारस्वामी ने ली सीएम पद की शपथ, एक साथ दिखे अखिलेश-मायावती, विपक्षी एकता की झलक

एक ओर जहां यूपी में बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन में सपा-बसपा साथ आ चुके हैं। कांग्रेस के शामिल होने न होने को लेकर ऊहापोह की स्‍थिति है लेकिन आज के बाद ऐसा लग रहा है कि महागठबंधन में सभी मिलकर बीजेपी के सामने चुनौती पेश करेंगे।

कर्नाटक सीएम पद की शपथ से पहले ही बोले कुमारस्वामी- पांच साल गठबंधन सरकार चलाना बड़ी चुनौती

Read Also

कुमारस्वामी ने ली सीएम पद की शपथ, एक साथ दिखे अखिलेश-मायावती, विपक्षी एकता की झलक

NewsCode | 23 May, 2018 3:48 PM

कुमारस्वामी ने ली सीएम पद की शपथ, एक साथ दिखे अखिलेश-मायावती, विपक्षी एकता की झलक

बेंगलुरु। कर्नाटक में एचडी कुमारस्‍वामी के नेतृत्‍व में कांग्रेस-जेडीएस की गठबंधन सरकार   बन चुकी है। एचडी कुमार स्वामी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने उन्हें सीएम पद की शपथ दिलाई। वहीं, कांग्रेस के जी परमेश्वर ने भी उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

शपथ ग्रहण समारोह के लिए विपक्ष के नेताओं का पहुंचना शुरू हो गया है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू बेंगलुरु पहुंच गए हैं, जबकि तेजस्वी यादव, मायावती, ममता बनर्जी, शरद पवार और अखिलेश यादव भी बेंगलुरु पहुंचे हैं। इनके साथ ही अभी विपक्ष के कई और नेताओं के आने की संभावना है।

LIVE UPDATES: 

 

दूसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने एचडी कुमारस्वामी.

उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेते कांग्रेस जी परमेश्वर.

सीएम पद की शपथ लेते कुमारस्वामी.

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक की नवनिर्वाचित विधानसभा को संबोधित किया

इस क्रम में बैठेंगे सभी नेतागण

एचडी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने बेंगलुरू पहुंचे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, एनसीपी प्रमुख शरद पवार और अरविंद केजरीवाल भी

हम एचडी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने और अपनी एकजुटता दिखाने के लिए यहां आए हैं: चंद्रबाबू नायडू, मुख्यमंत्री आंध्र प्रदेश

भविष्य में हम राष्ट्रीय हितों की रक्षा के लिए मिलकर काम करेंगे। हम सभी क्षेत्रीय दलों की मजबूत दिखाने के लिए यहां आए हैं: चंद्रबाबू नायडू, मुख्यमंत्री आंध्र प्रदेश

कर्नाटक में कुल 34 मंत्रियों में से 22 मंत्री कांग्रेस पार्टी से होंगे। वहीं, मुख्यमंत्री समेत 12 मंत्री जेडीएस के होंगे। वेणुगोपाल ने कहा कि ‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गठबंधन सरकार में उप मुख्यमंत्री के तौर पर परमेश्वर के नाम पर मुहर लगा दी है।’ इसके अलावा वेणुगोपाल ने कहा, ‘विधानसभा का स्पीकर कांग्रेस से होगा और डिप्टी स्पीकर जेडीएस से होगा।”

कर्नाटक सीएम पद की शपथ से पहले ही बोले कुमारस्वामी- पांच साल गठबंधन सरकार चलाना बड़ी चुनौती

25 रुपए तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल लेकिन 1 से 2 रुपये कम करके धोखा देगी मोदी सरकार: पी.चिदंबरम

25 रुपए तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल लेकिन 1 से 2 रुपये कम करके धोखा देगी मोदी सरकार: पी.चिदंबरम

NewsCode | 23 May, 2018 2:11 PM

25 रुपए तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल लेकिन 1 से 2 रुपये कम करके धोखा देगी मोदी सरकार: पी.चिदंबरम

दिल्ली। पिछले कई दिनों से लगातार बढ़ रही पेट्रोल की कीमतों पर कांग्रेस सांसद और पूर्व वित्तमंत्री पी.चिदंबरम ने केंद्र सरकार को घेरा। चिदंबरम ने बुधवार सुबह ट्वीट कर केंद्र को आड़े हाथों लिया और बताया कि सरकार चाहे तो एक लीटर पेट्रोल की कीमतों में 25 रुपये लीटर तक की कमी की जा सकती है।

पी चिदंबरम ने बताया कि कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आने से केंद्र सरकार प्रति लीटर पेट्रोल पर 15 रुपये बचा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार एक लीटर पेट्रोल पर 10 रुपये का अतिरिक्त टैक्स लगा रही है।

चिदंबरम के अनुसार सरकार एक लीटर पेट्रोल की कीमत 25 रुपये तक कम कर सकती है। लेकिन सरकार यह करना नहीं चाहती। अगर सरकार इस कदम को उठाती है तो इससे आम आदमी को काफी राहत मिलेगी। सरकार पेट्रोल की कीमत में 1 से 2 रुपये प्रति लीटर की कटौती करके लोगों के साथ धोखा करेगी।

तूतीकोरिन हिंसा में 12 की मौत, स्टरलाइट प्लांट के विस्तार पर मद्रास हाईकोर्ट ने लगाई रोक

बता दें कि बुधवार को दिल्ली में पेट्रोल 30 पैसे और महंगा होकर 77 रुपए प्रति लीटर को पार कर गया, जबकि वहीं मुम्बई में पेट्रोल के दाम 85 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गए। चारों बड़े महानगरों में पेट्रोल की सर्वाधिक कीमत मुम्बई में है। मुम्बई में पेट्रोल की कीमत बुधवार को 22 पैसे प्रति लीटर और बढ़कर 84.99 रुपए प्रति लीटर हो गई। यहां डीजल भी सबसे महंगा 72.76 रुपये प्रति लीटर है।

जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, 4 नागरिकों की मौत

X

अपना जिला चुने