उप्र : अमित शाह व मुख्तार अब्बास नकवी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा

NewsCode | 31 October, 2017 12:49 PM

उप्र : अमित शाह व मुख्तार अब्बास नकवी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा

लखनऊ| भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के खिलाफ राजधानी लखनऊ में मानहानि का केस दर्ज किया गया है। अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए 4 नवबंर की तारीख तय की है। ज्ञात हो कि हिमाचल प्रदेश में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ‘कांग्रेस का हाथ, आतंकवाद के साथ’ का नारा देने के लिए भाजपा अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया गया है।

कांग्रेस कार्यकर्ता गंगा सिंह ने अदालत में अर्जी देकर बताया कि उन्हें समाचार पत्रों से पता चला कि भाजपा की ओर से वक्तव्य दिया गया है कि ‘कांग्रेस का हाथ, आतंकवाद के साथ।’

याचिका में कहा गया है कि किसी के लिए व्यक्तिगत बयान देना तो ठीक है, लेकिन कांग्रेस प्रतिष्ठित कार्यकर्ताओं का समूह है। समूची कांग्रेस को आतंकवाद समर्थक बताने पर कार्यकर्ताओं की भावनाएं आहत हुई हैं। इससे उनकी प्रतिष्ठा धूमिल हुई है।

(आईएएनएस)

BJP सांसदों और विधायकों से बातचीत में बोले मोदी, सरकार का जोर शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य पर

प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी मोबाइल एप के माध्यम से भाजपा सांसदों और विधायकों से बातचीत की।

NewsCode | 22 April, 2018 7:22 PM

BJP सांसदों और विधायकों से बातचीत में बोले मोदी, सरकार का जोर शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य पर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसदों और विधायकों द्वारा जमीनी स्तर पर किए जा रहे कार्यो की प्रशंसा की और कहा कि उनकी सरकार बच्चों की शिक्षा, युवाओं के लिए अवसरों और बुजुर्गो के लिए चिकित्सा पर ध्यान दे रही है। उन्होंने पार्टी के सभी विधायकों से गांवों के लिए कम से कम एक विकास कार्य को अपने हाथ में लेने को कहा, जो गांवों को आगे बढ़ने में मदद करेगा। साथ ही उन्होंने स्वच्छता अभियान पर ध्यान केंद्रित करते हुए महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर सुझावों को भी आमंत्रित किया।

प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी मोबाइल एप के माध्यम से भाजपा सांसदों और विधायकों से बातचीत के दौरान कहा, “लोगों के साथ आपका सीधा संबंध एक सकारात्मक बदलाव लाया है, जो यह सुनिश्चित करता है कि योजनाएं जमीनी स्तर तक पहुंची हैं और साथ ही लोगों की चिंताएं भी सांसदों तक पहुंची हैं। भाजपा नेताओं को लोगों के कल्याण के लिए समाज में किए जा रहे प्रत्येक कार्य में शामिल होना चाहिए।”

गांवों में लोगों की जिंदगियों को बेहतर बनाने के सवाल पर प्रधानमंत्री ने गांवों में रहने वालों की सामूहिक शक्ति पर जोर दिया।

उन्होंने कहा, “गांवों के विकास का कार्य केवल बजट या फिर सरकार का नहीं है..लोगों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों को लेकर जागरूक होने की जरूरत है। किसी भी गांव की सबसे बड़ी ताकत है उसकी एकता।”

उन्होंने सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के गांव का भी जिक्र किया, जहां उन्होंने स्वच्छता पर जोर दिया था और कैसे अब वह गांव दूसरे गांवों के लिए आदर्श बन गया है, जिसका उन्हें पालन करना चाहिए।

मुद्रा योजना के बारे में उन्होंने कहा कि 11 करोड़ लोग पहले ही योजना का लाभ उठा चुके हैं।

उन्होंने कहा, “स्वयं सहायता समूह में महिलाएं विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के नए अवसरों के साथ आ रही हैं।”

‘ग्राम स्वराज अभियान’ के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी कार्यकर्ताओं से मुद्रा योजना, उज्जवला योजना और बीमा योजनाओं के फायदों को जमीनी स्तर तक पहुंचाने का आग्रह किया। ‘ग्राम स्वराज अभियान’ 14 अप्रैल से पांच मई तक चलेगा।

उन्होंने पार्टी नेताओं से नियमित ग्रामसभा, सोशल मीडिया पहुंच को बेहतर बनाने, भीम एप के इस्तेमाल को प्रोत्साहित करने और कैशलैस लेनदेन के आंदोलन को आगे ले जाने का आग्रह किया।

एक घंटे तक चली बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री ने हाल ही में शुरू की गई ‘आयुष्मान भारत’ योजना पर अपने विचार साझा किए।

उन्होंने कहा, “सरकार गांवों के लिए कल्याण केंद्रों की स्थापना करना चाहती है, ताकि लोग अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त कर सकें। सरकार बच्चों की शिक्षा, युवाओं के लिए अवसरों और बुजुर्गो के लिए चिकित्सा पर ध्यान केंद्रित कर रही है।”

झारखंड में नगर परिषद, नगर पंचायत और नगर निगम चुनावों में भाजपा की हालिया जीत का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह जीत दिखाती है कि लोगों का विश्वास भाजपा की विकास की राजनीति में है।

बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विभिन्न मुद्दों पर देश भर में पार्टी के निर्वाचित प्रतिनिधियों के सवालों के जवाब भी दिए। इन मुद्दों में युवाओं को कौशल सिखाना, ग्रामीण विकास और किसान कल्याण शामिल थे।

बच्चों से दुष्कर्म पर मृत्युदंड के अध्यादेश को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, पीएम मोदी की ‘जिद्दी बेटी’ ने तोड़ा अनशन

आईएएनएस

Read Also

बच्चों से दुष्कर्म पर मृत्युदंड के अध्यादेश को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, पीएम मोदी की ‘जिद्दी बेटी’ ने तोड़ा अनशन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भगोड़े आर्थिक अपराधी अध्यादेश, 2018 को भी मंजूरी दे दी। यह अध्यादेश पंजाब नेशनल बैंक धोखाधड़ी मामले के बाद लाया गया है।

NewsCode | 22 April, 2018 6:41 PM

बच्चों से दुष्कर्म पर मृत्युदंड के अध्यादेश को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, पीएम मोदी की ‘जिद्दी बेटी’ ने तोड़ा अनशन

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 12 साल से कम आयु के बच्चों के साथ दुष्कर्म करने के दोषियों को मृत्युदंड के प्रावधान वाले अध्यादेश को रविवार को मंजूरी दे दी। इसके अलावा राष्ट्रपति ने भगोड़े साबित हुए आर्थिक अपराधियों की संपत्ति जब्त करने के अध्यादेश को भी मंजूरी दे दी।

राष्ट्रपति ने आपराधिक कानून (संशोधन) अध्यादेश, 2018 को लागू कर दिया, जिसे कैबिनेट ने शनिवार को मंजूरी दी थी। इसमें दुष्कर्म के खिलाफ सख्त सजा और महिलाओं, खास तौर से युवतियों के बीच सुरक्षा की भावना जगाने की कोशिश की गई है।

यह अध्यादेश जम्मू एवं कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची से दुष्कर्म व हत्या व देश के अन्य भागों में इसी तरह के अपराध को लेकर नाराजगी के बाद आया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी के बाद बाल यौन अपराध निवारण (पोक्सो), भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) व साक्ष्य अधिनियम संशोधित हो गया है।

इसके फलस्वरूप जांच के लिए दो महीने की समय सीमा, सुनवाई पूरी करने के लिए दो महीने का समय और अपीलों के निपटारे के लिए छह महीने सहित जांच में तेजी व दुष्कर्म की सुनवाई के लिए कई उपाय किए गए हैं।

इसमें 16 साल से कम उम्र की लड़की से दुष्कर्म या सामूहिक दुष्कर्म के आरोपी के लिए अग्रिम जमानत का कोई प्रावधान नहीं होगा।

इसका उद्देश्य देश भर में यौन अपराधियों के डेटाबेट बनाए रखने के अलावा हर राज्य में विशेष फोरेंसिक प्रयोगशालाओं व त्वरित अदालतों की स्थापना सहित जांच व अभियोजन को भी मजबूत करना है।

स्वाति मालीवाल ने 10वें दिन तोड़ा अनशन

मासूम बच्चियों से दुष्कर्म रोकने के लिए सख्त कानून की मांग पूरी होने पर राजघाट पर अनशन कर रहीं दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने 10वें दिन रविवार को दोपहर दो बजे छोटी बच्चियों के हाथों खाना खाकर अपना अनशन तोड़ा। फांसी की सजा वाले अध्यादेश पर राष्ट्रपति की मुहर लगने को उन्होंने देश की बच्चियों और महिलाओं व इनसे हमदर्दी रखने वाले करोड़ों लोगों की ‘ऐतिहासिक जीत’ बताया।

बेहद कमजोर दिख रहीं स्वाति ने कहा, “मैंने उम्मीद नहीं की थी कि हमारा आंदोलन इस तरह बड़ा रूप लेगा, हमें देशभर से समर्थन मिलेगा और महिलाओं की आवाज सुनी जाएगी। हमने दिल्ली महिला आयोग को मिले पांच लाख पत्र प्रधानमंत्री को भेजे थे, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। जब कठुआ और सूरत कांड पर समूचे देश में भारी आक्रोश पनपा, तब केंद्र सरकार जागी। प्रधानमंत्री ने विदेश दौरे से लौटते ही कैबिनेट की विशेष बैठक बुलाई और अध्यादेश पारित किया। यह हम सभी लोगों के लिए एक ऐतिहासिक जीत है।”

स्वाति (33) ने मीडिया से कहा, “मैं कानून का स्वागत करती हूं और अपना अनशन तोड़ती हूं। नरेंद्र बेटी की बात मान ली, इसलिए उन्हें शुक्रिया कहती हूं।”

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष काफी दिनों से ‘रेप रोको’ आंदोलन चला रही थीं। इसी आंदोलन के तहत उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि राजघाट पर आमरण अनशन शुरू किया था।

भगोड़ों की संपत्ति जब्त करने संबंधी अध्यादेश को भी मंजूरी

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भगोड़े आर्थिक अपराधी अध्यादेश, 2018 को भी मंजूरी दे दी। यह अध्यादेश पंजाब नेशनल बैंक धोखाधड़ी मामले के बाद लाया गया है। इस मामले में हीरा कारोबारी नीरव मोदी व उसके मामा मेहुल चोकसी मुख्य आरोपी हैं, जो बैंकों को 30,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की धोखाधड़ी कर देश से फरार हो गए हैं।

इससे देश छोड़कर भागने वाले बैंकों के बड़े बकाएदारों की संपत्तियों को जब्त किया जाएगा और बकाएदारों को वापस लाने का प्रयास किया जाएगा।

चिकित्सकों ने कठुआ दुष्कर्म की पुष्टि की, पुलिस ने मीडिया में फैलाई गयी खबर को बताया फर्जी

कठुआ दुष्कर्म पर फर्जी खबर छापने पर दैनिक जागरण के साहित्योत्सव का बहिष्कार

POCSO एक्ट में संशोधन के प्रस्ताव पर मंत्रिमंडल की मुहर, मासूम से रेप पर मिलेगी सजा-ए-मौत!

आईएएनएस

महाराष्ट्र : गढ़चिरौली में सुरक्षा बलों को मिली बड़ी कामयाबी, 14 नक्सली ढेर

वहीं, छत्तीसगढ़ के सुकमा से लगी आंध्रप्रदेश की सीमा पर नक्सलियों ने रविवार को जमकर उत्पात मचाया और बिजली के एक सब स्टेशन में विस्फोट कर उड़ा दिया। 

NewsCode | 22 April, 2018 6:18 PM

महाराष्ट्र : गढ़चिरौली में सुरक्षा बलों को मिली बड़ी कामयाबी, 14 नक्सली ढेर

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में सुरक्षा बलों द्वारा नक्सलियों के खिलाफ बड़ा ऑपरेशन चलाया गया। जिसमें पुलिस ने 14 नक्सलियों को ढेर कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। पुलिस की इस कार्रवाई में नक्सली नेता साईनाथ और सिनू भी मारे गए। गढ़चिरौली जिले के इटापल्ली के बोरीया वन क्षेत्र में महाराष्ट्र पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में ये नक्सली मारे गए। माना जा रहा है कि नक्सलियों के खिलाफ यह इस साल अब तक का सबसे बड़ा ऑपरेशन है। इससे पहले मार्च में छत्तीसगढ़ में 10 नक्सली मारे गए थे। इनमें छह महिला कमांडर थीं।

यह मुठभेड़ रविवार को सुबह 11 बजे हुई। मारे गए नक्सलियों में कुछ डीवीसी और कमांडर भी शामिल है। सूत्रों के अनुसार मारे गए नक्सलियों की संख्या अभी और बढ़ सकती है क्योंकि मुठभेड़ स्थल का सर्चिंग अभियान फिलहाल जारी है। पुलिस ने क्षेत्र मे सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। मुंबई से करीब 900 किमी पूर्व में गढ़चिरौली को नक्सलियों का एक गढ़ माना जाता है।

नक्सलियों ने उड़ाया बिजली सब स्टेशन

वहीं, छत्तीसगढ़ के सुकमा से लगी आंध्रप्रदेश की सीमा पर नक्सलियों ने रविवार को जमकर उत्पात मचाया और बिजली के एक सब स्टेशन में विस्फोट कर उड़ा दिया। 

सुकमा की सीमा से महज 4 किलोमीटर दूर आंध्रप्रदेश के चिंतूर थाना क्षेत्र के सरीवेला गांव में नक्सलियों ने बिजली के एक सब स्टेशन में विस्फोट कर उसे उड़ा दिया। विस्फोट के बाद नक्सलियों ने घटनास्थल पर पर्चे भी फेंके। हमले की जिम्मेदारी नक्सलियों की शबरी एरिया कमेटी ने ली है।

इस घटना की पुष्टि करते हुए सुकमा पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने कहा, “नक्सल प्रभावित इलाका होने के कारण जवान अलर्ट रहते हैं, लेकिन इस घटना के बाद सतर्कता और बढ़ा दी गई है। घटना के बाद जवानों को अलर्ट कर दिया गया है। तलाशी अभियान तेज कर दिया गया है।”

यूपी: ‘एनकाउंटर से बचना है, तो BJP नेता को मैनेज करो’, पुलिस अधिकारी का ऑडियो वायरल

आईएएनएस

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.