कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

NewsCode | 15 November, 2017 1:34 PM

बॉम्बे विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में कानून की पढ़ाई करने वाली प्रथम भारतीय महिला होने का गौरव भी हासिल।

newscode-image

इंटरनेट पर गूगल का पन्ना खोलते ही आज आपको एक खास डूडल दिखेगा। गूगल का ये डूडल आज समर्पित है भारत की पहली महिला बैरिस्टर कार्नेलिया सोराबजी को। कार्नेलिया सोराबजी के 151वें जन्मदिवस को गूगल अपने अंदाज में सेलिब्रेट कर रहा है।  15 नवंबर, 1866 में नासिक की एक पारसी परिवार में जन्मी कार्नेलिया सोराबजी वकील होने के साथ-साथ एक समाज सुधारक और लेखिका भी थीं।

कार्नेलिया को देश की प्रथम महिला वकील होने के अलावा बॉम्बे विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में कानून की पढ़ाई करने वाली प्रथम भारतीय महिला होने का गौरव भी हासिल है।

कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

कार्नेलिया 1892 में नागरिक कानून की पढ़ाई के लिए विदेश गयीं और 1894 में वापस भारत लौटीं। तत्कालीन समाज में महिलाएं पर्दाप्रथा की शिकार थीं और खुद पर हो रहे अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना उनके लिए कतई संभव नहीं था। लेकिन कार्नेलिया ने इन रूढ़िवादी बंधनों को तोड़ने का निर्णय किया और अपनी प्रतिभा और जुनून के बलबूते महिलाओं को कानूनी परामर्श देना प्रारंभ कर किया और फिर वकालत का पेशा महिलाओं के लिए भी खोलने की मांग उठाने लगी।

कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

अंतत: 1907 के बाद कार्नेलिया को बंगाल, बिहार, उड़ीसा और असम की अदालतों में सहायक महिला वकील का पद दिया गया। एक लंबी जद्दोजहद के बाद 1924 में महिलाओं को वकालत से रोकने वाले कानून को खत्म कर उनके लिए भी यह पेशा खोल दिया गया। 1929 में कार्नेलिया हाईकोर्ट की वरिष्ठ वकील के तौर पर सेवानिवृत्त हुईं, लेकिन उस समय तक महिलाएं इतनी जागरूक हो चुकी थीं कि वे वकालत को एक पेशे के तौर पर अपनाकर अपनी आवाज मुखर करने लगी थीं।

कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

अपने 20 साल के करियर में कार्नेलिया ने 600 महिलाओं और बच्चों के लिए काम किया। इस नेक कर्म के लिए उन्होनें किसी से भी फीस तक नहीं ली। वकालत से इतर उन्होनें कई किताबें भी लिखी हैं। इसी में उनकी आत्मकथा ‘बिटवीन द ट्विलाइट्स’ भी शामिल है।

वर्ष 1954 में कार्नेलिया ने इस संसार को अलविदा कह दिया, लेकिन आज भी वकालत जैसे जटिल और प्रतिष्ठित पेशे में महिलाओं की उपस्थिति व प्रसिद्धि का श्रेय उन्हीं को जाता है। ज्ञात हो कि कोर्नेलिया के सम्मान में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने पिछले साल उनकी 150वीं वर्षगांठ पर ‘कोर्नेलिया सोराबजी स्कॉलरशिप प्रोग्राम’ प्रारंभ किया है।

दुमका : लाभुकों के बीच मुख्य न्यायाधीश ने परिसंपति का किया वितरण

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:01 PM
newscode-image

दुमका। जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वावधान में आउटडोर स्टेडियम दुमका में राज्य स्तरीय चतुर्थ विशेष विधिक सशक्तिकरण शिविर का आयोजन शनिवार को किया गया। शिविर का आयोजन नालसा, दिल्ली एवं झालसा, रांची के निर्देशानुसार आयोजित हुई।

शिविर में मुख्य अतिथि कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश, हाईकोर्ट डीएन पटेल, विशिष्ट अतिथि न्यायाधीश, हाईकोर्ट सह लीगल सर्विसेज अध्यक्ष एच सी मिश्रा, हाई कोर्ट प्रशासनिक न्यायाधीश, दुमका न्यायमंडल अनिल कुमार चौधरी उपस्थित थे। इस अवसर पर कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल ने शिविर को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार द्वारा समाज के हर व्यक्ति को सशक्त बनाने के लिए कई सारी योजनाएं चलायी जा रही हैं।

दुमका : अबोध नन्ही अर्पिता ने चीत्कार भर शहीद पिता परमानंद चौधरी को मुखग्नि देकर अंतिम विदाई दी

केन्द्र सरकार और राज्य सरकार की सभी योजनाएं तभी सफल हो पायेंगी जब हर जरूरत मंद को सरकार की योजनाओं का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में लोगों में सरकार की योजनाओं की जानकारी का आभाव है। सरकार स्वास्थ्य, शिक्षा, आवास जैसी कई कल्याणकारी योजनाएं चला रही है। ऐसी योजनाओं का लाभ अगर हर जरूरतमंद को मिले तो उसे किसी के पास हाथ फैलाने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। सरकार के पैसों को सही कार्य में खर्च कर हम समाज में खुशहाली लाने का कार्य कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि आज का दिन दुमका जिले के लिए ऐतिहासिक दिन है। शिविर के माध्यम से 75.76 करोड़ रुपये की लागत से योजनाओं से संबंधित परिसंपति वितरण की जा रही है। लीगल सर्विस ऑथरिटी के द्वारा एक बुकलेट प्रिंट कराया गया है।

दुमका : सहकारिता सह प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को घूस लेते ACB ने दबोचा

 

जिसमें केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार की सभी योजनायों का लाभ तथा उनसे लाभ लेने की प्रक्रिया के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है,लोगों में जागरूकता फैलाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकार की योजनाओं का लाभ लेने के लिए अधिक से अधिक आवेदन देने का अपील किया। निश्चित रूप से प्रक्रिया के तहत सभी को लाभ मिलना सुनिश्चित है।

उन्होंने कहा कि सभी का दायित्व है कि मिलकर वंचितों को ऊपर उठाना है। उनके जीवन स्तर को एक ऊचाई देने के लिए उन्हें लाभ पहुंचाना सभी का दायित्व है। उन्होंने कहा कि लीगल एवेयरनस सभी के लिए आवश्यक है। सभी को कानून की जरूरी जानकारियां एवं उनका हक उन्हें पता होना चाहिये। इस अवसर पर विभिन्न लाभुकों के बीच समाज कल्याण द्वारा ट्राई साईकिल, बैसाखी वितरित किया गया।

दुमका : नवनिर्मित एडीआर भवन का उद्घाटन मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल ने किया

 

लक्ष्मी लाडली योजना के तहत छः हजार रुपये का नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट का वितरण किया गया। लाभुकों के बीच परिसंपति मत्सय बीज के पूरक आहार, जिला शिक्षा कार्यालय दुमका के द्वारा छात्राओं के बीच स्कूली किट, श्रम विभाग द्वारा पारिवारिक पेंशन योजना, साईकिल योजना के तहत प्रमाण पत्र का वितरण, सामाजिक सुरक्षा विभाग द्वारा पेंशन योजना के तहत लाभुक को प्रमाण पत्र, जेएसएलपीएस की तरफ से एक करोड़ एक लाख रूपये सखी मंडल की महिलाओं को स्वरोजगार के लिए, गव्य विकास की तरफ से 10 हजार रूपये के अनुदान की राशि लाभुकों के बीच वितरित की गई।

दुमका : लाभुकों के बीच मुख्य न्यायाधीश ने परिसंपति का किया वितरण

लाभुकों को मेडिकेटेड नेट दिया गया। इस दौरान उन्होंने लाभुकों से बात की एवं उनकी परेशानियों को भी जाना। कार्यक्रम स्थल पर विभिन्न विभागों द्वारा स्टॉल भी लगाये गये थे। जहां विभाग द्वारा चलायी जा रही योजनाओं की जानकारी उपलब्ध करायी जा रही थी। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल ने सभी से कहा कि इन स्टॉल पर जाने एवं सरकार की योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर योजनाओं का लाभ लेने को प्रेरित किया।

दुमका : अवैध शराब के साथ दो लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

 

इस दौरान सरकार के विभिन्न योजनाओं के लाभुकों ने अपने अनुभव को साझा किया। इस अवसर पर डीसी मुकेश कुमारए डीडीसी वरूण रंजन, प्रशिक्षु आईएएस शशि प्रकाश ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। इससे पूर्व कार्यक्रम स्थल पर परांपरितक रिति-रिवाज लोटा पानी से अतिथियों का स्वागत किया गया। अतिथियों ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की विधिवत शुरूआत किया। पुष्पगुच्छ देकर अतिथियों का स्वागत किया गया। कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन डीसी मुकेश कुमार ने किया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : शिक्षा न्यायाधिकरण संशोधन अधिनियम बिल पास, अभिभावकों में खुशी की लहर

NewsCode Jharkhand | 22 July, 2018 8:09 PM
newscode-image

रांची। झारखंड अभिभावक मंच या विभिन्न जिलों के अभिभावक संगठन के बैनर तले कर रहे अभिभावकों  ने मिठाइयां बाटकर खुशी मनाया। विधानसभा ने प्राइवेट स्कूल की शुल्क बढ़ोतरी को लेकर नियंत्रित करने हेतु शिक्षा न्यायाधिकरण संशोधन अधिनियम बिल पास कर दिया।

सिल्ली : लाभुको के बीच गैस कनेक्शन का वितरण

एक्ट पास होने की ख़ुशी में झारखंड अभिभावक मंच के अध्यक्ष अजय राय के नेतृत्व में स्थानीय अल्बर्ट एक्का चौक रांची में मंच के सदस्य रंग गुलाल के साथ साथ ही मिठाइयां बाटकर खुशी मनाया। मंच के सदस्यों ने आम जनता के साथ इसके लिये सभी अखबार, प्रिन्ट एवम इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का भी आभार प्रकट किया जिनके सहयोग से ये एक्ट पास हो पाया।

छात्र संघ चुनाव तय समय पर हो – अभिनव भगत

अजय राय ने बताया कि पिछले दिनों प्रवर समिति के अध्यक्ष स्टीफन मरांडी के साथ मिलकर हम लोगों ने जो उनसे सहयोग की अपेक्षा की थी, उसमें उनका सहयोग मिला। साथ ही शिक्षा मंत्री नीरा यादव से भी मिलकर आग्रह किया था और उन लोगों ने जो आश्वासन दिया था, उस आश्वासन पर प्रवर समिति के अध्यक्ष और मंत्री नीरा यादव खरी उतरी इसके लिए उनको अभिभावकों की ओर से बहुत-बहुत बधाई।

रांची : राज्‍य में शिक्षा रैकेट सक्रिय होने का गर्मागर्म बहस हुई विधानसभा में

अजय राय ने बताया कि यह आंदोलन लगभग 9 सालों से चल रहा था जो अब अपने मुकाम पर पहुंचा। इस आंदोलन को लेकर अलग-अलग फोरम पर हम लोगों की आलोचना भी हुई। ऐसे लोग जो हमारे आलोचक थे वे बार-बार कहते थे, निजी विद्यालय के विरुद्ध फीस वृद्धि का मामला या इनको लेकर आप लोगों का प्रयास ढकोसला है उनको भी एक जवाब मिल गया।

अजय राय ने इस आंदोलन के सहयोगी मंच के महासचिव मनोज कुमार मिश्रा, कोषाध्यक्ष अनूप कुमार पांडेय, डॉ. उमेश कुमार, शिवेंद्र कुमार सिंहा, मुकेश पांडे, सतपाल सिंह, संजय सराफ, तलत परवीन, सरवरी बेगम, नीरज भट्ट को भी धन्यवाद दिया जिनके सहयोग और इस आंदोलन को नेतृत्व प्रदान किया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

पलामू : बिजली के तार की चपेट में आने से तीन की मौत

NewsCode Jharkhand | 22 July, 2018 8:04 PM
newscode-image

पलामू। पहला मामला हुसैनाबाद प्रखंड का है जहाँ बेलबीघा गाँव निवासी जुगेश सिंह का निधन बिजली की तार के चपेट में आने से हो गई । जानकारी के अनुसार मृतक जुगेश सिंह मोटर स्टार्ट करने गए थे ,उसी क्रम में वह  बिजली के तार की चपेट में आ गए । ग्रामीणों की मदद  से आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हुसैनाबाद ले जाया गया जहाँ डॉक्टर ने उन्हें मृत घोसित कर दिया ।

वहीं दूसरा मामला सतबरवा प्रखंड के चेतमा की है जहाँ अपने खेत में काम कर रहे दंपती किसान की मौत बिजली प्रवाहित तार की चपेट में आने से हो गयी है । पुलिस मौके पर पहुँच कर दम्पति के शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए दलतीनगंज सदर अस्पताल भेज दिया है । इस घटना से पूरा गाँव शोकाकुल है , वहीं परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

धनबाद : जिला डेकोरेटर्स एसोसिएशन का 40 वां वार्षिक अधिवेशन...

more-story-image

रांची : अखिल भारतीय  बीएसएनएल शतरंज टूर्नामेंट एआरटीटीसी सभागार में ...