कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

NewsCode | 15 November, 2017 1:34 PM

बॉम्बे विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में कानून की पढ़ाई करने वाली प्रथम भारतीय महिला होने का गौरव भी हासिल।

newscode-image

इंटरनेट पर गूगल का पन्ना खोलते ही आज आपको एक खास डूडल दिखेगा। गूगल का ये डूडल आज समर्पित है भारत की पहली महिला बैरिस्टर कार्नेलिया सोराबजी को। कार्नेलिया सोराबजी के 151वें जन्मदिवस को गूगल अपने अंदाज में सेलिब्रेट कर रहा है।  15 नवंबर, 1866 में नासिक की एक पारसी परिवार में जन्मी कार्नेलिया सोराबजी वकील होने के साथ-साथ एक समाज सुधारक और लेखिका भी थीं।

कार्नेलिया को देश की प्रथम महिला वकील होने के अलावा बॉम्बे विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में कानून की पढ़ाई करने वाली प्रथम भारतीय महिला होने का गौरव भी हासिल है।

कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

कार्नेलिया 1892 में नागरिक कानून की पढ़ाई के लिए विदेश गयीं और 1894 में वापस भारत लौटीं। तत्कालीन समाज में महिलाएं पर्दाप्रथा की शिकार थीं और खुद पर हो रहे अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना उनके लिए कतई संभव नहीं था। लेकिन कार्नेलिया ने इन रूढ़िवादी बंधनों को तोड़ने का निर्णय किया और अपनी प्रतिभा और जुनून के बलबूते महिलाओं को कानूनी परामर्श देना प्रारंभ कर किया और फिर वकालत का पेशा महिलाओं के लिए भी खोलने की मांग उठाने लगी।

कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

अंतत: 1907 के बाद कार्नेलिया को बंगाल, बिहार, उड़ीसा और असम की अदालतों में सहायक महिला वकील का पद दिया गया। एक लंबी जद्दोजहद के बाद 1924 में महिलाओं को वकालत से रोकने वाले कानून को खत्म कर उनके लिए भी यह पेशा खोल दिया गया। 1929 में कार्नेलिया हाईकोर्ट की वरिष्ठ वकील के तौर पर सेवानिवृत्त हुईं, लेकिन उस समय तक महिलाएं इतनी जागरूक हो चुकी थीं कि वे वकालत को एक पेशे के तौर पर अपनाकर अपनी आवाज मुखर करने लगी थीं।

कौन हैं कार्नेलिया सोराबजी ? आखिर क्यों गूगल ने आज उनके लिए बनाया डूडल ?

अपने 20 साल के करियर में कार्नेलिया ने 600 महिलाओं और बच्चों के लिए काम किया। इस नेक कर्म के लिए उन्होनें किसी से भी फीस तक नहीं ली। वकालत से इतर उन्होनें कई किताबें भी लिखी हैं। इसी में उनकी आत्मकथा ‘बिटवीन द ट्विलाइट्स’ भी शामिल है।

वर्ष 1954 में कार्नेलिया ने इस संसार को अलविदा कह दिया, लेकिन आज भी वकालत जैसे जटिल और प्रतिष्ठित पेशे में महिलाओं की उपस्थिति व प्रसिद्धि का श्रेय उन्हीं को जाता है। ज्ञात हो कि कोर्नेलिया के सम्मान में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने पिछले साल उनकी 150वीं वर्षगांठ पर ‘कोर्नेलिया सोराबजी स्कॉलरशिप प्रोग्राम’ प्रारंभ किया है।

रांची : खुले में मूत्र विसर्जन करने पर कब शर्मिंदा होंगे लोग ?

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 9:15 PM
newscode-image

रांची। ये नजारा है राजधानी रांची के स्टेशन रोड का। जहां पर दो युवक एक दीवार के किनारे खुले में मूत्र विसर्जन करते हुए दिख रहे हैं। वे चाहते तो इस आवश्‍यक कार्य के लिए, पास के सुलभ शौचालय का भी उपयोग कर सकते थे। लेकिन उन्‍होंने इसकी आवश्‍यकता महसूस नहीं की। आने-जाने वाले राहगीरों की नजर भी इन पर पड़ी लेकिन किसी ने उन्‍हें मना करने की कोशिश नहीं की। देश को स्‍वच्‍छ बनाना क्‍या सिर्फ सरकार का काम है? अगर ऐसा है तो आम लोगों का कर्तव्‍य क्‍या सिर्फ गंदगी फैलाना रह गया है? जबतक आम लोग स्‍वच्‍छता अभियान को लेकर अपने कर्तव्‍य के प्रति जागरूक नहीं होंगे, तब तक ऐसे सरकारी अभियान सफल नहीं हो पाएंगे।

रांची : प्रदेश कुशवाहा महासभा के अध्यक्ष ने बाबूलाल मरांडी से की मुलाकात

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गिरिडीह : गौरव यात्रा निकालकर मनाया गया ओडीएफ उत्सव

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 9:32 PM
newscode-image

देवरी (गिरिडीह)देवरी प्रखंड के भेलवाघाटी पंचायत में  ग्रामीणों ने गौरव यात्रा निकालकर खुले में शौच  से मुक्ति का जश्न मनाया। ओडीएफ  उत्सव में  शामिल एसबीएम के कर्मियों, पंचायत प्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने आसपास के लोगों को शौचालय का उपयोग करने से होने वाले लाभ की जानकारी दी।

देवरी बीडीओ केडी द्विवेद्वी ने पंचायत के गरंग, घाटा, बरमसिया, लोही, जकसिमर, नोनियातरी,  रमनीटांड़, हरकुंड आदि गांवों का दौरा कर लाभुकों को गुणवत्तापूर्ण ढंग से शौचालय का निर्माण कार्य करवाकर समुचित ढंग से उसका उपयोग करने की अपील की।

उन्होंने गुणवत्ता पूर्ण कार्य करने वाले कई गावों की जलसहियाओं को उत्कृष्ट कार्य के लिए पुरूस्कृत भी किया।

मौके पर भेलवाघाटी थाना प्रभारी एस के सिंह, सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट अजय कुमार,  भेलवाघाटी पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि विकास कुमार, गुनियाथर के जागेश्वर प्रसाद यादव, उसमान अंसारी, विजय साव, अनवर अंसारी सहित सभी गांवों की जलसहियाएं, वार्ड सदस्य सहित कई लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

चांडिल : पारगामा मेंं इंद मेला का आयोजन

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 9:28 PM
newscode-image

चांडिल। शुक्रवार को कुकड़ू प्रखंड के पारगामा मेंं इंद मेला का आयोजन किया गया।कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि सिल्ली के पूूर्व विधायक  अमित महतो व विशिष्ट अतिथि झामुमो नेता लालटु महतो उपस्थित  हुए।

मौके पर उपस्थित हजारो हजार की संख्या महिला- पुरुषोंं को अमित महतो ने संबोधित किया। इस अवसर पर   मेला अध्यक्ष स्वपन महतो, युवा छात्र मोर्चा जिलाध्यक्ष नेता सुदामा हेम्ब्रम, चाण्डिल युवा  प्रखण्ड अध्यक्ष राहुल वर्मा, छात्र नेता सुमित टुडू, दीनबंधु महतो, रुपेश वर्मा, सतीश हासदा, सुकेन्दर हेम्ब्रम आदि उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

लातेहार : पीएलएफआइ उग्रवादी गुड्डन गंझू गिरफ्तार, गया जेल

more-story-image

सरायकेला : मुहर्रम जुलूस में अखाड़ा कमिटियों ने दिखाये हैरतंगेज...