चतरा : उज्जवला योजना से महिलाओं को मिला सम्मान- सदर विधायक

NewsCode Jharkhand | 17 June, 2018 6:23 PM
newscode-image

केंद्र सरकार के चार साल रहे बेमिसाल- जयप्रकाश सिंह भोक्ता

चतरा। शहर के नगर भवन में रविवार को केंद्र सरकार के चार साल के उपलक्ष्य में उज्जवला योजना के लाभार्थियों का एक दिवसीय सम्मेलन आयोजित किया गया। सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में सदर विधायक जयप्रकाश सिंह भोक्ता व विशिष्ट अतिथि में नगर परिषद अध्यक्ष गूंजा देवी उपस्थित थे।

सम्मेलन की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष ने किया। जबकि संचालन उपाध्यक्ष बिंदेश्वरी यादव ने किया। सम्मेलन की विधिवत शुरूआत पंडित दीनदयाल दयाल उपाध्याय व डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर किया गया। जबकि इस दौरान कार्यकर्ताओं ने वंदे मातरम गीत गाकर कार्यक्रम प्रारंभ किया।

चतरा : वाहन जाँच अभियान के दौरान पुलिस ने 40 किलो डोडा किया बरामद

सम्मेलन को संबोधित करते हुए बतौर मुख्य अतिथि विधायक जयप्रकाश सिंह भोक्ता ने कहा कि केंद्र सरकार के चार साल अपने आप में बेमिसाल हैँ। उन्होंने उज्जवला योजना व शौचालय निर्माण योजना को महिलाओं का सम्मान बताया। सम्मेलन के दौरान उज्जवला योजना के लाभार्थियों से सीधी संवाद किया गया।

लाभार्थियों ने केंद्र सरकार द्वारा चलाए गए सभी जनकल्याणकारी योजनाओं का जमकर सराहना किया। सम्मेलन को जिला परिषद सदस्य निशा कुमारी, शिवकुमार चौबे, मिडिया प्रभारी परशुराम शर्मा, पंकज साह, किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष भूपेंद्र मिश्रा, अनुसूचित जाति के प्रदेश मंत्री जितेंद्र रजक सहित अन्य लोगों ने भी संबोधित किया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : अपराध पर अंकुश लगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 19 November, 2018 1:08 PM
newscode-image

दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन

रांची। झारखंड की राजधानी रांची में सोमवार को दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन का शुभारंभ हुआ। सम्मेलन का उदघाटन मुख्यमंत्री रघुवर दास ने किया। जबकि समापन समारोह में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू शामिल होंगी।

झारखंड पुलिस और राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के संयुक्त तत्वावधान में रांची के धुर्वा स्थित न्यायिक अकादमी स्थित डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ऑडिरियम में आयोजित 8वीं राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराध पर अंकुश लगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज 19नवंबर के दिन इस सम्मेलन का उदघाटन होना और भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि 19नवंबर को ही महिला शक्ति को पूरी दुनिया में स्थापित करने वाली पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और स्वतंत्रता की लड़ाई में अग्रणी भूमिका निभाने वाली रानी लक्ष्मीबाई की जयंती के रूप में मनाया जाता है।

उन्होंने कहा कि महिलाएं कैसे सशक्त बने और अपराध पर अंकुश के लिए चिंतनन-मनन जरूरी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत ही दुनिया में एकमात्र ऐसा देश है, जहां नारी शक्ति की पूजा-अर्चना की जाती है, सबसे खतरनाक जीव सिंह और बाघ को माना जाता है, लेकिन इस पर सवार हो कर मां दुर्गा और मां काली ही आती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी समाज और राष्ट्र में महिला शक्ति को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए करने का काम किया है। झारखंड की बेटी और तीरंदाज दीपिका, पर्वतारोही प्रेमलता समेत अन्य मातृ शक्ति ने झारखंड और भारत का नाम  पूरी दुनिया में रौशन किया है।

प्रधानमंत्री ने भी मातृ शक्ति पर विश्वास करते हुए देश की सुरक्षा और विदेश मामलों का प्रभार महिलाओं के हाथों सौंपा है। रघुवर दास ने कहा कि राज्य सरकार ने भी झारखंड पुलिस में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की है और महिला पुलिस अधिकारियों-कर्मियों के लिए आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने के लिए कई कदम उठाये हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार में भी महिलाओं की भूमिका केंद्र बिन्दु में होती है, समाज में भी महिलाओं की भूमिका अहम है,ऐसा नहीं होने पर पूरी व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो जाएगी। उन्होंने वर्तमान परिस्थिति में अपराध का स्वरूप भी बदा है, साइबर अपराध पर अंकुश लगाने के लिए प्रशिक्षण जरूरी है, अन्य अपराध भी चुनौतीपूर्ण है, इसके लिए प्रशिक्षण की जरूरत है।

इस सम्मेलन में देशभर की 149 प्रतिभागी शामिल हो रही है, जिनमें सिपाही से लेकर पुलिस महानिदेशक स्तर की महिला पुलिस पदाधिकारी भी हो रही है। सम्मेलन  में यौन उत्पीड़न, आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल, सेंट्रल पारा मिलिट्री फोर्स में महिलाओं की समस्या सेफ सिटी बनाने में महिला पुलिसकर्मियों की भूमिका और योगदान पर चर्चा की जा रही है।

सम्मेलन का उद्देश्य पुलिस के समक्ष नई चुनौतियों के बीच सशक्त कार्य स्थल तथा अनुकूल कार्य वातावरण, स्मार्ट सिटी, सेफ सिटी और कम्युनिटी पुलिसिंग पर चर्चा हो रही है। प्रथम राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन की सफलता से उत्प्रेरित होकर राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो द्वारा देश के विभिन्न हिस्सों में इससे पहले सात सम्मेलनों का आयोजन सफलतापूर्वक किया जा चुका है।

वक्ताओं ने बताया कि राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा आयेजित राष्ट्रीय स्तर पर एकमात्र ऐसा मंच है, जो वर्दीधारी महिलाओं के मुद्दों से संबद्ध है तथा उनके पेशेवर क्षमता को महत्तम और अनुकूल बनाने के लिए एक सक्रिय वातावरण उपलब्ध कराता है।

सम्मेलन में राजस्थान से 7, एसवीपी अकादमी हैदराबाद से 5, मेघालय से 4, आरपीएफ से 7, नेपा मेघालय से 2, मणिपुर से 2, प. बंगाल से 8, उत्तराखंड से 6, आईटीबीपी से 3, आईटीबीपी अकादमी से 5, सीआईएसएस से 3, केरल से 4, बीएसएफ से 6, एनडीआरएफ से 1, असम से 5, हरियाणा से 3, गुजरात से 5, तेलंगाना से 1, एसएसबी से 4, कर्नाटक से 11, तमिलाडु से 6, उत्तर प्रदेश से 2, त्रिपुरा, अगरतल्ला से 1, एनडीआरएफ से 3, एनएसजी से 1, असम राइफल से 6, महाराष्ट्र से 5, पंजाब से 6, ओड़िशा से 6 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे है। जबकि वक्ताओं में अध्यक्ष रेखा शर्मा, न्यायमूर्ति ज्ञान सुधा मिश्रा, महानिदेशक डॉ. एपी महेश्वरी समेत अन्य विशेषज्ञ शामिल है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

अध्यक्ष विहीन है JPSC, तीन माह पहले ही आयोग ने सरकार को दी थी अध्यक्ष पद खाली होने की सूचना

Om Prakash | 19 November, 2018 1:37 PM
newscode-image

Ranchi : झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) के अध्यक्ष के विद्यासागर का कार्यकाल 13 नवंबर को समाप्त हो गया. के विद्यासागर के बाद वर्तमान में जेपीएससी अध्यक्ष पद रिक्त है. इसी दिशा में पहल करते हुए कार्मिक विभाग मुख्यमंत्री के पास जेपीएससी के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति का प्रस्ताव भेज चुका है. मुख्यमंत्री सचिवालय द्वारा तीन नामों पर स्वीकृति होने के बाद इसे अंतिम रूप से निर्णय लेने के लिए राज्यपाल को भेजा जायेगा.

विगत 13 नवंबर को के विद्यासागर का कार्यकाल खत्म होने के बाद जेपीएससी अध्यक्ष के रूप में किसी ने योग्यदान नहीं दिया है. हालांकि, आयोग ने तीन माह पूर्व ही सरकार को अध्यक्ष पद के खाली होने की जानकारी दे दी थी. सूचना के बाद भी सरकार की ओर से इस दिशा में पहल नहीं की गयी. वहीं, किसी को अध्यक्ष पद का प्रभार भी नहीं सौंपा गया. नियमत: अध्यक्ष के हटने पर आयोग के ही वरीय सदस्य को अध्यक्ष का प्रभार दिया जाता है, लेकिन सरकार की तरफ से इस दिशा में पहल नहीं की गयी है. आयोग के वरीय सदस्य के रूप में डॉ एके चट्टोराज एवं डॉ सुखी उरांव कार्य कर रहे हैं. चार सदस्यों में से दो सदस्य ही कार्य रहे हैं, दो सदस्य के पद रिक्त हैं. वहीं, आयोग के सचिव जगजीत सिंह की चुनाव प्रक्रिया में शामिल होने  के लिए तेलंगाना में पदस्थापना कर दी गयी है, जो संभवत: 13 दिसंबर तक तेलंगाना में चुनाव डयूटी में रहेंगे.

 

के विद्यासागर के अध्यक्ष बनने के बाद यह उम्मीद की जा रही थी कि उनके कार्यकाल में ही छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा संपन्न होगी, लेकिन उनका कार्यकाल खत्म होने के बाद ही छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा जनवरी में होनी है. सबसे कमाल की बात रही कि तमाम विवाद के बाद के विद्यासागर द्वारा छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा की तिथियों की घोषण की गयी. अब देखना है कि नये जेपीएससी अध्यक्ष छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा के सफल आयोजन में कितने सफल होते हैं, साथ ही आयोग की कई परीक्षा को सुचारू रूप से कैसे आयोजन करते हैं.

 

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को फिर एक्सटेंशन, मार्च तक बने रह सकते हैं चीफ सेक्रेटरी

Om Prakash | 19 November, 2018 1:32 PM
newscode-image

Ranchi: वर्तमान मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को दूसरी बार एक्सटेंशन मिल सकता है. सूत्रों के अनुसार, केंद्र से इसकी हरी झंडी भी मिल गई है. फिलहाल सुधीर त्रिपाठी को दिसंबर तक का एक्सटेंशन मिला हुआ है. सूत्रों की मानें तो अगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए उन्हें दोबारा एक्सटेंशन दिया जायेगा. इससे पहले पूर्व मुख्य सचिव एसके चौधरी को तीन महीने का एक्सटेंशन मिला था.

सूत्रों के अनुसार, पीएमओ की पसंद सुधीर त्रिपाठी है. इससे पहले भी जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 23 सिंतबर को झारखंड आये थे, उसी दिन मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को एक्सटेंशन देने की पटकथा लिखा जा चुकी थी. पीएमओ में कार्यरत वरिष्ठ आइएएस अफसर नृपेंद्र मिश्रा से चर्चा होने के बाद सुधीर त्रिपाठी का एक्सटेंशन कंफर्म हुआ था. सत्ता के गलियारों में चर्चा यह भी है कि पीएमओ में कार्यरत वरिष्ठ आइएएस अफसर नृपेंद्र मिश्रा मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी के संबंधी भी हैं.

वहीं नवंबर-दिसंबर तक केंद्र में भी कई महत्वपूर्ण पद खाली हो रहे हैं. चीफ इंफोरमेशन कमिश्नर(सीआइसी) का 24 नवंबर को कार्यकाल समाप्त हो रहा है. नेशनल कमिश्न फॉर वूमन के भी पांच पद खाली हो रहे हैं. वहीं पीएन संकुल को डिफेंस कंट्रोलर जनरल बनाये जाने की संभावना है.

राजीव गौबा, राजीव कुमार, बीके त्रिपाठी, यूपी सिंह, अलका तिवारी, अमित खरे और एनएन सिन्हा केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में हैं. वहीं राज्य में इंदू शेखर चतुर्वेदी, डीके तिवारी, सुखदेव सिंह, केके खंडेलवाल, एल खियांग्यते और अरूण कुमार सिंह सीएस रैंक के अफसर हैं.

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

गुमला : अलग-अलग घटनाओं में तीन की मौत

more-story-image

रिश्ता लेकर आए तीन मानव तस्करों को ग्रामीणों ने पकड़ा

X

अपना जिला चुने