चास : आवास में न शौचालय, न रंगरोगन फिर भी करा दिया गृह प्रवेश

NewsCode Jharkhand | 14 November, 2017 7:13 PM
newscode-image

चास (बोकारो)। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बन रहे लाभुकों का गृह प्रवेश आज बोकारो जिले के चास प्रखंड के टूपरा पंचायत में मंत्री अमर बाउरी और चास प्रखंड के बीडीओ द्वारा कराया गया। जिसमें कुल 48 लाभुकों का गृह प्रवेश कराया गया। आवास में न ही शौचालय बना है और न ही पुरे आवास रंगरोगन कराया गया था। मौके पर मंत्री ने कहा पहले जब आवास बन रहे थे तब गरीबों को अहसास होता था कि वो गरीब है तब एक रुम होते थे उसी में रहना और अगर कोई आता था तो रहने में बहुत कठिनाई होती थी लेकिन आज आवास में रहने के साथ किचन आदि की भी सुविधा होती है। पंचायत के अलोकडीह टोला में बिजली जल्द से जल्द पहुचाने की बात कही उन्होंने कहीं।

लाभुक मुलभूत सुविधा से वंचित 

टुपरा पंचायत के लाभुकों के आवास तो बन गया लेकिन शौचालय,गैस कनेक्शन आदि की सुविधाए नहीं है जिसके बावजूद भी टारगेट पूरा करने के लिए गृह प्रवेश करा दिया गया।

उप मुखिया को नहीं दिया गया गृह प्रवेश की सुचना

टुपरा पंचायत में हुए लाभुकों के गृह प्रवेश की सुचना पंचायत के उपमुखिया को नहीं दिया गया। उपमुखिया पति लक्षमण सिंह चौधरी ने बताया कि पंचायत के आवास के लाभुकों को सभी सुविधाए उपलब्ध नहीं कराया गया है और जल्दी जल्दी गृह प्रवेश करा दिया गया। उन्होंने बताया कि जब तक शौचालय के बिना आवास का काम अधूरा है। जिले में टारगेट पूरा करने के जल्दबाजी में लाभुकों का गृह प्रवेश कराये जाने को लेकर अधिकारी पर भी सवाल उठने लगे है आखिर इसके दोषी कौन है और क्या दोषियों पर कोई कार्रवाई होगी।

बोकारो : प्रभारी मंत्री करती रही बैठक, अधिकारी व्यस्त दिखे सोशल मीडिया में

NewsCode Jharkhand | 20 September, 2018 2:36 PM
newscode-image

बोकारो। आखिर अधिकारी कब सुधरेंगे जिले के अधिकारी, यह एक सवाल बन गया है। जिले के विकास योजनाओं को तेजी पर लाने के लिए जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. नीरा यादव समाहरणालय के सभागर में समीक्षा कर रही थी और अधिकारी इतने व्यस्त की उन्हे विकास की चिंता जैसे हैं ही नहीं।

सदन मे चल रही व्यवस्था को छोड़कर व्हाट्ंसअप और फेसबुक में अधिकारी व्यस्त दिखे। इसमें बरेमो के एसडीओ समेत जिले के कई अधिकारी शामिल थे। बिजली, पानी, सड़क, शिक्षा समेत कई अहम मुद्दो को लेकर सदन में गरमागरम चर्चा चल रही थी।

चास : महिला ने फांसी लगाकर की आत्‍महत्‍या, छानबीन में जुटी पुलिस

अधिकारीयों को पता था कि  जिले की नयी प्रभारी मंत्री नीरा यादव है जो पहली बार जिला योजना समिति और जिला 20 सूत्री की बैठक कर रही थी, फिर भी अधिकारी सोशल मीडिया में व्यस्त थे।इससे पहले तक प्रभारी मंत्री लुईुस मरांडी बोकारो की प्रभारी मंत्री रही थी और इस बार सरकार ने कोडरमा की विधायक व शिक्षा मंत्री नीरा यादव को बोकारो की कमान सौपी है।

सदन में बिजली को लेकर सत्ता और विपक्ष दोनों एक साथ दिखे। जहां विधायक जगरनाथ महतो और सासंद गिरिडीह रविन्द्र पांडेय और विधायक गोमिया प्रतिनिधि योगेन्द्र महतो डीवीसी के अधिकारियों को जमकर फटकार लगा रहे थे।

बेरमो : संवेदनशील व अतिसंवेदनशील इलाको में रहेगी पुलिस की पैनी नजर- इंस्पेक्टर

रघुवर सरकार अधिकारियों के बल पर राज्य का विकास करने को लेकर बड़ी घोषणा कर रही है, ऐसे में ये अधिकारी कितना अमली जामा पहनाने का कार्य करेंगे ये तो आप खुद समझ सकते है।

विधायक जगरनाथ महतो अधिकारियों के कारगुजारियों से खासे नाराज दिखे कहा कि सिर्फ अधिकारी बात बनाने बैठक में आते है।वहीं प्रभारी मंत्री को जब व्हाट्सअप और फेसबुक में खेलने की जानकारी दी तो इसे गंभीरता से लिया और कहा कि आने वाले समय में ऐसे अधिकारियों पर कारवाई की जाएगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

चक्रधरपुर : 292 बच्चों का भविष्य अंधकारमय, उग्र आंदोलन की दी चेतावनी

NewsCode Jharkhand | 20 September, 2018 2:21 PM
newscode-image

 चक्रधरपुर(मंझगांव)। एक तरफ केंद्र व राज्य सरकार शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कई प्रकार की योजनाएं चला रही है, एवं लगातार घोषणा कर रही है। पर सरकार के नीति के कारण ही आज मंझगांव  प्रखंड के खुड़पोस  गांव के दो 292  बच्चों का भविष्य अंधकार में दिखाई पड़ रहा है।

चक्रधरपुर : उत्क्रमित मध्य विद्यालय खड़पोस का विलय हुआ तो करेंगे उग्र प्रदर्शन – ग्रामीण

उत्क्रमित मध्य विद्यालय खड़पोस  का विलय बीएमसी मकतब में किए जाने का जोरदार विरोध जारी है। साथ ही स्कूल भी  बच्चे नहीं जा रहे हैं इसको लेकर नाराजगी भी सड़क पर उतर आई है। लोग अब धरना प्रदर्शन सड़क जाम जैसे कार्य भी कर विरोध जता रहे हैं। इसी कड़ी के तहत प्रखंड कार्यालय घेराव व प्रदर्शन भी स्कूली बच्चे एवं अभिभावकों के द्वारा किया गया।

इसके बावजूद भी अब तक किसी प्रकार की सुनवाई नहीं होने से ग्रामीणों में एवं अभिभावकों में आक्रोश देखा जा रहा है। अब उग्र आंदोलन की चेतावनी भी अभिभावक के द्वारा दी जा रही है। बच्चे भी कहते है कि इसके लिए भले ही स्कूल नहीं जाएंगे पर इसको स्वीकार नहीं करेंगे पूरे इलाके में इस बात की चर्चा ही नहीं इसको कई प्रकार की चर्चाएं से जोड़कर लगातार आक्रोश देखा जा रहा है।

चक्रधरपुर : पारंपरिक नृत्य के साथ करमा उत्‍सव मनाया गया

स्थानीय ग्रामीणों ने कहा कि एक साजिश के तहत इसे बिलाई किया गया है।इसको हर हाल में रद्द होना चाहिए प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी को पर भी आरोप लगाया गया कि बिना ग्रामीणों की सहमति या स्थिति को नजाकत को जानकारी लिए बिना ही इस को स्वीकृति दे दी।

अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

गिरीडीह : गांधी जयंती से पहले ओडीएफ करने की तैयारी ,युद्ध स्तर पर कार्य जारी 

NewsCode Jharkhand | 20 September, 2018 2:11 PM
newscode-image

 गिरिहीह। महात्मा गांधी के स्वच्छता के संकल्पना को जल्द ही गिरिडीह में भी आकर मिल जाएगा। जिले भर में युद्ध स्तर पर काम चल रहा है। गांधी जयंती पर पूरा जिला खुले में शौच जैसे अभिशाप से मुक्त होने की राह पर निकल पड़ने वाला है।

गिरिडीह : केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए स्‍कूल ने दी सहायता राशि

जिला भी खुले में शौच मुक्ति की ओर अग्रसर है। आगामी 02 अक्टूबर तक हर हाल में इस जिले को ओडीएफ करना है। इसको लेकर जिले भर की शेष  पंचायत जो अब तक ओडीएफ नहीं हुई हैं, उनमें दिन रात एक कर सभी पदाधिकारी, कर्मी, स्वयंसेवी एवं जनप्रतिनिधि सभी छूटे घरों में शौचालय का निर्माण करावाने में लगे हैं और निर्माण करने के लिए ग्रामीणों को भी प्रेरित कर रहें हैं।

गिरिडीह : हथियारबंद अपराधियों ने पेट्रोल पंप में दिया वारदात को अंजाम

फिलवक्त इसको लेकर जिले के वरीय अधिकारी भी गंभीर हैं। स्वच्छता ही सेवा है अभियान को सफल बनाने को लेकर सभी नोडल पदाधिकारी व संबंधित लोग पूरी तन्मयता से लगे हुए हैं। इस बाबत डीसी डॉ नेहा अरोड़ा ने कहा कि पूरा झारखंड राज्य ही 2 अक्टूबर को ओडीएफ होगा। ऐसे में किसी भी सूरत में गिरिडीह को भी गांधी जयंती से पहले खुले में शौच मुक्त क्षेत्र घोषित कर देना है।

वहीं ओडीएफ की तैयारी पर बात करते हुए उपायुक्त ने कहा कि ग्रास रुट लेवल के तमाम टास्क पूरे कर लिए गए हैं। सभी वेंडरों के साथ टाइम टू टाइम मीटिंग की गई है। उन्हें रॉ मेटेरियलस भी समय पर उपलब्ध कराए गए हैं। वहीं इसकी मोनिटरिंग का जिम्मा प्रखंड स्तर के पदाधिकारियो को दिया गया है।

गिरिडीह : मुहर्रम को लेकर मुकम्मल तैयारी, सीसीटीवी और ड्रोन से होगी निगहबानी

असल में गिरिडीह में शौचालय निर्माण में पूर्व में भी अच्छा काम हुआ है। उपायुक्त डॉ नेहा अरोड़ा ने कहा कि फाइनल स्टेज का टाइम फ्रेम तय किया गया है। ज्यादातर प्रखंडों में निर्माण कार्य आखरी चरण में है। तयसुदा वक्त में निश्चित ही सारे काम पूरे कर लिए जाएंगे।  कुलमिलाकर, ओडीएफ को लेकर गिरिडीह पूरी तरह कमर कस चुका है। देखना होगा प्रशासन की उम्मीद कितनी कसौटी पर खरी उतर पाती है।

अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

10 रन पर 8 विकेट, झारखण्ड के स्पिनर शाहबाज नदीम...

more-story-image

साहेबगंज : अनिय‍मित बिजली आपूर्ति से लोगों का फूटा गुस्‍सा