चंद्र ग्रहण के दिन पैदा होना अशुभ नहीं, फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग हैं जीते-जागते सबूत

NewsCode | 31 January, 2018 8:03 PM

फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग का जन्म 14 मई, 1984 को हुआ था। इस दिन चंद्र ग्रहण था।

newscode-image

नई दिल्ली। साल के पहले चंद्र ग्रहण को लेकर पूरी दुनिया में उत्सुकता बनी हुई है। हर जगह इसी के चर्चे हो रहे हैं। अपने देश में चंद्र ग्रहण को लेकर बहुत सारी धार्मिक मान्यताएँ हैं, जिसकी वजह से तरह-तरह की बातें होती रही हैं। अमूमन ग्रहण काल को अशुभ माना जाता है। इस दिन खाने-पीने से लेकर पूजा-पाठ करने और बच्चों के जन्म लेने को लेकर भी कई भ्रांतियां हैं।

लेकिन इतिहास में ऐसी कई मिसालें हैं जिन्होंने पुरानी रूढ़ियों और मान्यताओं को ध्वस्त करने का काम किया है। इसकी मिसाल फेसबुक के संस्थापक मार्क जकरबर्ग हैं। आपको बता दें कि जकरबर्ग का जन्म चंद्र ग्रहण के दिन ही हुआ था। हॉलीवुड ‘द सोशल नेटवर्क’ के नाम से मार्क जकरबर्ग की जिंदगी पर फिल्म भी बना चुका है।

लग चुका है चंद्र ग्रहण, ग्रहण के दौरान बरतें ये सावधानियां!

दरअसल, फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग का जन्म 14 मई, 1984 को हुआ था। इस दिन चंद्र ग्रहण था। मार्क जकरबर्ग ने फेसबुक की शुरुआत 4 फरवरी, 2004 को हारवर्ड यूनिवर्सिटी के अपने डोरमिटरी रूम से की थी। इस काम में उनके कॉलेज के दोस्तों ने साथ दिया था। पहले फेसबुक की शुरुआत उन्होंने कैंपस में ही की थी, लेकिन 2012 में फेसबुक के एक अरब यूजर हो गए। जनवरी, 2018 में उनकी नेट वर्थ 7.66 अरब डॉलर बताई गई है। इस तरह वे दुनिया के पांचवें सबसे अमीर शख्स हैं। दिसंबर, 2016 में फोर्ब्स ने मार्क जकरबर्ग को दुनिया के 10 सबसे ताकतवर लोगों की सूची में शामिल किया था।

 

आज रात चांद पहले की अपेक्षा ज्यादा चमकीला दिखेगा और चांद के सुपर मून (Super Moon) और ब्लू मून (Blue Moon) रूप नजर आएंगे। यह 2018 का पहला ग्रहण होगा। इस खगोलीय घटना को सुपर ब्लू ब्लड मून (Super Blue Blood Moon) के नाम से पहचाना जाता है। बताया जा रहा है कि यह संयोग 150 साल बाद बन रहा है। ये शाम 5.58 मिनट पर शुरू होगा और 8.41 तक चलेगा। पूर्ण चंद्र ग्रहण 77 मिनट तक रहेगा।

Chandra Grahan Live: 150 साल बाद लगा है ऐसा चंद्र ग्रहण, देखें दुनियाभर में कैसा दिखा चांद

आज दिखेगा साल का पहला नीला चांद, देखने लायक होगा नजारा

पितृ पक्ष 2018: श्राद्ध क्रिया में इन खास बातों का रखें ख्याल

NewsCode | 23 September, 2018 5:27 PM
newscode-image

हिंदू कर्मकांड में श्रद्धा और मंत्र के मेल से पूर्वपुरुषों (पितरों) की आत्मा की तृप्ति के निमित्त जो विधि होती है उसे श्राद्ध कहते हैं। हमारे जिन सगे-संबंधियों का देहांत हो गया है, वे पितृलोक में या यत्र-तत्र विचरण करते हैं, उनके लिए पिंडदान किया जाता है। बच्चों एवं संन्यासियों के लिए पिंडदान नहीं किया जाता। गणेश विसर्जन और अनंत चतुर्दशी के बाद शुरू होते हैं श्राद्ध। हर साल श्राद्ध भाद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक चलते हैं।

अगर पंडित से श्राद्ध नहीं करा पाते तो सूर्य नारायण के आगे अपने दोनों हाथ ऊपर करके ये बोलें : “हे सूर्य नारायण ! मेरे पिता (नाम), अमुक (नाम) का बेटा, अमुक जाति (नाम), (अगर जाति, कुल, गोत्र नहीं याद तो ब्रह्म गोत्र बोल दें) को आप संतुष्ट/सुखी रखें। इस निमित्त मैं आपको अर्घ्य व भोजन करता हूं।” इसके पश्चात् आप भगवान सूर्य को अर्घ्य दें और भोग लगायें।

 इन बातों का रखें खास ख्याल –

– श्राद्ध में कपड़े और अनाज दान करना ना भूलें। इससे पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलती है।

– बताया जाता है कि श्राद्ध दोपहर उपरांत ही किया जाना चाहिए। जानकारों के अनुसार जब सूर्य की छाया पैरों पर पड़ने लगे तो श्राद्ध का समय हो जाता है। दोपहर या सुबह में किये गए श्राद्ध का कोई मतलब नहीं होता है।

– जिस दिन श्राद्ध करना हो उससे एक दिन पूर्व ही उत्तम ब्राह्मणों को निमंत्रण दे दें। परंतु श्राद्ध के दिन कोई अनिमंत्रित तपस्वी ब्राह्मण घर पर पधारें तो उन्हें भी भोजन कराना चाहिए।  ब्राह्मण भोज के वक्त खाना दोनों हाथों से परोसें, एक हाथ से खाने को पकड़ना अशुभ माना जाता है।

– श्राद्ध के दिन घर में सात्विक भोजन ही बनना चाहिए। इस दिन खाने में लहसुन और प्याज का इस्तेमाल  नहीं होना चाहिए। गौर करने वाली बात यह भी है कि पितरों को जमीन के नीचे पैदा होने वाली सब्जियां नहीं चढ़ाई जाती हैं। इनमें अरबी, आलू, मूली, बैंगन और अन्य कई सब्जियों शामिल हैं।

– पूरे विधान में मंत्र का बड़ा महत्व है। श्राद्धकर्म में आपके द्वारा दी गयी वस्तु कितनी भी बेशकीमती क्यों न हो, आपके द्वारा यदि मंत्र का उच्चारण ठीक न हो तो काम व्यर्थ हो जाता है। मंत्रोच्चारण शुद्ध होना चाहिए और जिसके निमित्त श्राद्ध करते हों उसके नाम का उच्चारण भी शुद्ध करना चाहिए।

– श्राद्ध के दिन अपने पितरों के नाम से ज्यादा से ज्यादा गरीबों को दान करें।

– पिंडदान करते वक्त जनेऊ हमेशा दाएं कंधे पर रखें।

 पिंडदान करते वक्त तुलसी जरूर रखें।

– कभी भी स्टील के पात्र से पिंडदान ना करें, बल्कि कांसे या तांबे या फिर चांदी की पत्तल इस्तेमाल करें।

– पिंडदान हमेशा दक्षिण दिशा की तरफ मुंह करके ही करें।

– पिता का श्राद्ध बेटा ही करे या फिर बहू करे। पोते या पोतियों से पिंडदान ना कराएं।

– श्राद्ध करने वाला व्यक्ति श्राद्ध के 16 दिनों में मन को शांत रखें।

– श्राद्ध हमेशा अपने घर या फिर सार्वजनिक भूमि पर ही करे। किसी और के घर पर श्राद्ध ना करें।


बकरीद में क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी, जानें पूरी कहानी

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 24-09-2018 का अपना राशिफल

NewsCode | 24 September, 2018 7:05 AM
newscode-image

सुप्रभात मित्रों! परिवार में प्यार से लेकर तक़रार, व्यापार में मुनाफा से लेकर उधार, सेहत में बुखार से लेकर सुधार, करियर, रोजगार, कार इत्यादि के लिए कैसा रहेगा आज आपका दिन। पढ़ें अपना राशिफल :

मेष/Aries (मार्च 21-अप्रैल 20) – मन को शांत रखना जरूरी है, कार्य स्थल पर दबाव महसूस करेंगे, कार्य व्यवसाय भी प्रभावित हो सकता है, वाहन चलाने में सावधानी रखें।

वृष/Taurus (अप्रैल 21–मई 21) – जोखिम उठाएंगे तो लाभ भी मिलेगा, कार्य व्यवसाय में लाभ के संकेत हैं, वाहन खरीदने का योग है, दाम्पत्य सुख उत्तम है।

मिथुन/Gemini (मई 22–21 जून) – दुविधा और दबाव से निजात पाना होगा, कार्य व्यवसाय सामान्य है, अन्य लोगों के सहयोग से रुका धन प्राप्त होगा, खर्च पर नियंत्रण रखना होगा।

कर्क/Cancer (जून 22–जुलाई 23) – एकाग्रचित्त होकर काम करने का लाभ भी मिलेगा, घर में मांगलिक कार्यक्रमों की बात होगी, प्रेम करने वाले के लिए दिन अनुकूल है, यात्रा करते समय सावधानी रखें।

सिंह/Leo (जुलाई 24–अगस्त 23) – सुख-सुविधा के विस्तार के विषय में सोचेंगे, पार्टनर का सहयोग मिलेगा, छोटे भाई के ऊपर दबाव बनाएंगे, पारिवारिक सुख उत्तम है।

कन्या/Virgo (अगस्त 24–सितंबर 23) – मानसिक रूप से मजबूत रहेंगे, सहकर्मियों का सहयोग मिलेगा, अधिकारियों से मुलाकात का लाभ मिलेगा, बच्चे खेल-कूद में तरक्की करेंगे।

तुला/Libra (सितंबर 24–अक्टूबर 23) – भविष्य की चिंता करेंगे, पारिवारिक समस्या का कोई समाधान नजर नहीं आएगा, दूसरों के ऊपर विशेष भरोसा करना उचित नहीं होगा, पत्नी का सहयोग मिलेगा।

वृश्चिक/Scorpio (अक्टूबर 24–नवंबर 22) – स्वस्थ मानसिकता से काम करना लाभप्रद होगा, कार्य के लिए किया जा रहा प्रयास सफल होगा, किसी भी तरह का निवेश नुकसान दे सकता है, सुख में कमी महसूस करेंगे।

धनु/Sagittarius (नवंबर 23–दिसंबर 21) – वाणी पर नियंत्रण रखना मुश्किल होगा, खर्च के ऊपर नियंत्रण रखना चाहिए, कार्य व्यवसाय सामान्य है, स्वास्थ्य में परेशानी हो तो डाo से मिलें।

मकर/Capricorn (दिसंबर 22–जनवरी 20) – तार्किक बातें बोलेंगे, अनुभव का लाभ मिलेगा
कार्य व्यवसाय में तरक्की होगी, लाभ के भी संकेत हैं।

कुंभ/Aquarius  (जनवरी 20–फरवरी 19) – मन प्रसन्न रहेगा, सुख सुविधा के सामग्री खरीदने के योग हैं, कार्य व्यवसाय उत्तम है, दाम्पत्य जीवन में दबाव महसूस करेंगे।

मीन/Pisces (फरवरी 20–मार्च 20) -धार्मिक व सामाजिक कार्यों में रुचि लेंगे, कार्य व्यवसाय सामान्य से अच्छा रहेगा, निवेश करने से बचें, प्रेम संबंधों के ऊपर ध्यान देने की जरूरत है।

Asia Cup: रोहित और धवन का डबल धमाल, भारत ने पाकिस्तान को 9 विकेट से पीटा

NewsCode | 24 September, 2018 2:06 AM
newscode-image

नई दिल्ली। टीम इंडिया ने दुबई में खेले जा रहे एशिया कप के सुपर-4 मुकाबले में पाकिस्तान को 9 विकेट से करारी मात दे दी है। सलामी बल्लेबाजों शिखर धवन (114) और कप्तान रोहित शर्मा (नाबाद 111) की शानदार शतकीय पारियों के दम पर भारत ने पाकिस्तान को आसानी से हरा दिया।इससे पहले भारत ने शुक्रवार को बांग्लादेश को हराया था। मौजूदा टूर्नामेंट में यह भारत की लगातार चौथी जीत है। इस जीत के साथ ही टीम इंडिया एशिया कप के फाइनल में पहुँच गयी है।

इस महामुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान की टीम ने 50 ओवर में 7 विकेट पर 237 रन का स्कोर बनाया और भारत को जीत के लिए 238 रनों का लक्ष्य दिया। जवाब में टीम इंडिया ने इस आसान से लक्ष्य को 39.3 ओवर में ही हासिल करते हुए पाकिस्तान को परास्त किया।

शिखर धवन ने 100 गेंदों की पारी में 16 चौके और दो छक्के जबकि रोहित शर्मा ने 119 गेंदों की पारी में सात चौके और चार छक्के लगाए। शिखर धवन को मैन ऑफ द मैच भी घोषित किया गया। जब टीम इंडिया जीत के बिलकुल करीब थी तो शिखर धवन रन आउट हो गए। इसके बाद बर्थ डे बॉय रायडू ने 18 गेंदों पर एक चौके की मदद से नाबाद 12 रन बनाए।

रोहित शर्मा के 7000 रन पूरे

शिखर धवन के करियर का यह कुल 15वां और टूर्नामेंट में दूसरा शतक है। उन्होंने हांगकांग के खिलाफ भी शतक बनाया था। वहीं रोहित शर्मा का टूर्नामेंट में यह पहला और कुल 19वां शतक है। रोहित ने दो जीवनदान का पूरा फायदा उठाते हुए वनडे करियर में अपने 7000 रन पूरे किए। भारत को अगला मुकाबला मंगलवार को अफगानिस्तान के खिलाफ खेलना है। वहीं पाकिस्तान बुधवार को बांग्लादेश से भिड़ेगा।

भारतीय गेंदबाजों ने पाकिस्तान को 237 रनों पर ही रोका

टॉस हारकर पहले गेंदबाजी करते हुए भारत ने अपने गेंदबाजों की शानदार गेंदबाजी की बदौलत पाकिस्तान को 237 रन के साधारण स्कोर पर रोक दिया। पाकिस्तान के अनुभवी बल्लेबाज शोएब मलिक ने सर्वाधिक 78 रन बनाए। मलिक के अलावा कप्तान सरफराज अहमद ने 44, फखर जमान ने 31 और आसिफ अली ने 30 रन का योगदान दिया।

पाकिस्तान की टीम एक समय 58 रन पर तीन विकेट गंवाकर संकट में फंसती दिखाई दे रही थी। लेकिन, शोएब मलिक (78) और कप्तान सरफराज अहमद (44) ने चौथे विकेट के लिए 107 रन साझेदारी कर टीम को संकट से बाहर निकाला। सरफराज 66 गेंदों पर दो चौके लगाकर टीम के 165 के स्कोर पर आउट हुए। मलिक ने इसके बाद आसिफ अली (30) के साथ पांचवें विकेट के लिए 38 रन जोड़े। मलिक टीम के 203 के स्कोर पर आउट हुए।

मलिक का विकेट भारत के लिए टर्निग प्वाइंट साबित हुआ। उन्होंने 90 गेंदों पर चार चौके और दो छक्के लगाया। मलिक का वनडे में यह 43वां अर्धशतक है। पाकिस्तान की टीम आखिरी पांच ओवरों में केवल 26 रन ही बना सकी जिसके कारण वह सात विकेट पर 237 रन तक ही पहुंच सकी। मोहम्मद नवाज ने नाबाद 15 रन बनाए। भारत की ओर से युजवेंद्र चहल ने 46 रन दो विकेट, कुलदीप यादव ने 41 रन पर दो विकेट और जसप्रीत बुमराह ने 29 रन पर दो विकेट हासिल किए।


Asia Cup : रोहित और जडेजा का जलवा, भारत ने बांग्लादेश को 7 विकेट से हराया

10 रन पर 8 विकेट, झारखण्ड के स्पिनर शाहबाज नदीम ने तोड़ा 21 साल पुराना विश्व रिकॉर्ड

Asia Cup: भारत ने पाक को 8 विकेट से दी पटखनी

More Story

more-story-image

सरायकेलाः जिला पुलिस को मिली कामयाबी, चोर गिरोह के पांच...

more-story-image

चंदनकियारी : पीएम मोदी की सोच है स्वास्थ्य का लाभ...