चंद्र ग्रहण के दिन पैदा होना अशुभ नहीं, फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग हैं जीते-जागते सबूत

NewsCode | 31 January, 2018 8:03 PM

फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग का जन्म 14 मई, 1984 को हुआ था। इस दिन चंद्र ग्रहण था।

newscode-image

नई दिल्ली। साल के पहले चंद्र ग्रहण को लेकर पूरी दुनिया में उत्सुकता बनी हुई है। हर जगह इसी के चर्चे हो रहे हैं। अपने देश में चंद्र ग्रहण को लेकर बहुत सारी धार्मिक मान्यताएँ हैं, जिसकी वजह से तरह-तरह की बातें होती रही हैं। अमूमन ग्रहण काल को अशुभ माना जाता है। इस दिन खाने-पीने से लेकर पूजा-पाठ करने और बच्चों के जन्म लेने को लेकर भी कई भ्रांतियां हैं।

लेकिन इतिहास में ऐसी कई मिसालें हैं जिन्होंने पुरानी रूढ़ियों और मान्यताओं को ध्वस्त करने का काम किया है। इसकी मिसाल फेसबुक के संस्थापक मार्क जकरबर्ग हैं। आपको बता दें कि जकरबर्ग का जन्म चंद्र ग्रहण के दिन ही हुआ था। हॉलीवुड ‘द सोशल नेटवर्क’ के नाम से मार्क जकरबर्ग की जिंदगी पर फिल्म भी बना चुका है।

लग चुका है चंद्र ग्रहण, ग्रहण के दौरान बरतें ये सावधानियां!

दरअसल, फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग का जन्म 14 मई, 1984 को हुआ था। इस दिन चंद्र ग्रहण था। मार्क जकरबर्ग ने फेसबुक की शुरुआत 4 फरवरी, 2004 को हारवर्ड यूनिवर्सिटी के अपने डोरमिटरी रूम से की थी। इस काम में उनके कॉलेज के दोस्तों ने साथ दिया था। पहले फेसबुक की शुरुआत उन्होंने कैंपस में ही की थी, लेकिन 2012 में फेसबुक के एक अरब यूजर हो गए। जनवरी, 2018 में उनकी नेट वर्थ 7.66 अरब डॉलर बताई गई है। इस तरह वे दुनिया के पांचवें सबसे अमीर शख्स हैं। दिसंबर, 2016 में फोर्ब्स ने मार्क जकरबर्ग को दुनिया के 10 सबसे ताकतवर लोगों की सूची में शामिल किया था।

 

आज रात चांद पहले की अपेक्षा ज्यादा चमकीला दिखेगा और चांद के सुपर मून (Super Moon) और ब्लू मून (Blue Moon) रूप नजर आएंगे। यह 2018 का पहला ग्रहण होगा। इस खगोलीय घटना को सुपर ब्लू ब्लड मून (Super Blue Blood Moon) के नाम से पहचाना जाता है। बताया जा रहा है कि यह संयोग 150 साल बाद बन रहा है। ये शाम 5.58 मिनट पर शुरू होगा और 8.41 तक चलेगा। पूर्ण चंद्र ग्रहण 77 मिनट तक रहेगा।

Chandra Grahan Live: 150 साल बाद लगा है ऐसा चंद्र ग्रहण, देखें दुनियाभर में कैसा दिखा चांद

आज दिखेगा साल का पहला नीला चांद, देखने लायक होगा नजारा

जानिये कब लॉन्च होगी मासेराती लेवांते जीटीएस पेट्रोल

NewsCode | 21 July, 2018 4:47 PM
newscode-image

मासेराती लेवांते का पेट्रोल वेरिएंट जीटीएस भारत में दस्तक देने के लिए तैयार है। जानकारी मिली है कि लेवांते जीटीएस पेट्रोल को 2018 की चौथी तिमाही में भारत में लॉन्च किया जाएगा।

लेवांते जीटीएस पेट्रोल में 3.8 लीटर का वी8 इंजन मिलेगा, जो 550 पीएस की पावर देगा। 0 से 100 किमी प्रति घंटा की रफ्तार पाने में इसे 4.2 सेकंड का समय लगेगा।

भारत में उपलब्ध लेवांते डीज़ल से तुलना करें तो पेट्रोल वेरिएंट ज्यादा पावरफुल और ज्यादा फुर्तिला है। डीज़ल वेरिएंट में 3.0 लीटर का वी6 डीज़ल लगा है, जो 275 पीएस की पावर देता है। 0 से 100 किमी प्रति घंटा की रफ्तार पाने में इसे 6.9 सेकंड का समय लगता है। इस मामले में पेट्रोल वेरिएंट 2.7 सेकंड तेज है।

लेवांते डीज़ल तीन वेरिएंट स्टैंडर्ड, ग्रां स्पोर्ट और ग्रां लूस्सो में उपलब्ध है। इसकी कीमत 1.45 करोड़ रूपए है। कयास लगाए जा रहे हैं कि जीटीएस पेट्रोल वेरिएंट की कीमत डीज़ल वेरिएंट से ज्यादा हो सकती है।

ये भी पढ़ें:

BMW की पहली मेड इन इंडिया बाइक लॉन्च, जानें कीमत और खासियत

एक अगस्त से महंगी होंगी होंडा की कारें, जानें कितनी बढ़ेगी कीमत

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

राँची : मुख्यमंत्री ने जूस पिलाकर तुड़वाया विधायक शिवपूजन मेहता का अनशन

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:18 PM
newscode-image

राँची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने विधायक शिवपूजन मेहता को जूस पिलाकर उनका अनशन तुड़वाया। मुख्यमंत्री, विधायक सुखदेव भगत के साथ सदन के बाहर पहुंचे और शिवपूजन मेहता को जूस पिलाया। आपको बता दें कि शिवपूजन मेहता जपला सीमेंट फैक्ट्री को पुनर्स्थापित करने की मांग को लेकर, झारखंड विधानसभा के मुख्य गेट पर विगत 3 दिनों से आमरण अनशन पर बैठे थे।

रांची : भाजयुमो के खेलो भारत दिल्ली में हिस्सा लेंगे झारखंड के 65 खिलाड़ी

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

धनबाद : सगे भाई-बहन ने किया रक्‍तदान, पेश की मिसाल  

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:09 PM
newscode-image

धनबाद। पीएमसीएच के रक्त अधिकोष में सगे भाई-बहन ने थैलीसीमिया रोग से पीड़ित दो बच्चों के लिए रक्तदान कर मानवता की मिसाला पेश की। समाजसेवी शालिनी खन्ना के कहने पर पीएमसीएच के थैलीसिमिया वार्ड में भर्ती करीब 3 साल की बच्‍ची आराध्या के लिए पल्‍लवी पायल ने रक्‍तदान किया। वे बीएसएस कॉलेज की पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष रह चुकी है।

रक्‍तदान करने जैसे की वह सामाजिक कार्यकर्ता सौरभ सिंह के साथ पीएमसीएच के रक्त अधिकोष  में रक्तदान के लिए  पहुंची वहां पहले से मौजूद थैलीसीमिया से ग्रस्‍त लगभग 5 वर्ष के मोहित कुमार महतो की मां उषा देवी ने भी पल्लवी से अपने बच्चे के लिए रक्त उपलब्ध कराने का आग्रह किया।

झरिया : आजसू पार्टी की बैठक, महिला सशक्तिकरण पर जोर

पल्लवी ने उस महिला की बात सुनकर अपने बड़े भाई राकेश रंजन को फोन कर रक्‍तदान करने पीएमसीएच आने को कहा। कुछ ही समय में राकेश भी वहां पहुंच गए और दोनों भाई-बहन ने दोनों बच्‍चों के लिए रक्‍तदान किया।

रक्‍तदान करने पर शालिनी खन्‍ना ने दोनों भाई-बहन की प्रशंसा और धन्‍यवाद दिया। उन्‍होंने कहा कि पल्लवी की तरह बेटियां व महिलाएं भी रक्‍तदान करने आगे आएगी तो कई लोगों की जान बचायी जा सकेगी। सौरभ सिंह ने भी युवाओं से अपील की है कि वो अधिक से अधिक रक्तदान करें  ताकि जरूरतमंदों को समय पर खून मिल सके।

रक्त अधिकोष में रक्त की कमी को देखते हुए इस बार स्वतंत्रता दिवस पर शिविर लगाकर रक्‍तदान करने का निर्णय लिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

कोलेबिरा : लचरागढ़ में संदिग्ध हालत में मिला नाबालिग बच्ची...

more-story-image

दुमका : लाभुकों के बीच मुख्य न्यायाधीश ने परिसंपति का...