चक्रधरपुर : मां भगवती पीठ में जनेऊ उपनयन, अपनी जड़ से जुड़े रहने की अपील

NewsCode Jharkhand | 16 April, 2018 7:59 PM

चक्रधरपुर : मां भगवती पीठ में जनेऊ उपनयन, अपनी जड़ से जुड़े रहने की अपील

उपनयन का करेंगे प्रचार-प्रसार

चक्रधरपुर।  केरा मंदिर प्रांगण में माँ भगवती के पीठ में आचार्य गौरांग नन्दा के सानिध्य में ब्राह्मण समाज ने सामूहिक व्रतोपनयन (जनेऊ) किया। सरायकेला खरसावाँ टेटोंपोसी में इससे पहले सामूहिक व्रतोपनयन का कार्यक्रम हुआ था। जिससे दो ही ब्राह्मण बच्चे का व्रतोपनयन हुआ।

एक ब्राह्मण बच्चा गणेश्वर त्रिपाठी पिता स्व पशुपति त्रिपाठी थे। जबकि दूसरा सोमेन्द्र दीक्षित पिता भवानी शंकर दीक्षित थे। दोनों का व्रतोपनयन हुआ। गणेश्वर त्रिपाठी का व्रतोपनयन हो रहा था गांव के जो भी सुना देखने के लिए मंदिर दौड कर पहुंचा। गणेश्वर का व्रतोपनयन उसके  पिता का बड़े भाई धनेश्वर त्रिपाठी कर्ता बनकर जनेऊ कराया।

सुमिता होता फाउडेंशन के अध्यक्ष सदानन्द होता ने बताया की इस बार केरा मंदिर प्रांगण मे सामूहिक व्रतोपनयन कार्यक्रम प्रथम बार हुआ है । अगला वर्ष हम ये कार्यक्रम एक अप्रैल 2019  को व्यापक प्रचार प्रसार के साथ करेंगे।

गुमला : बंदुक की नोक पर आठवीं की छात्रा से सामूहिक बलात्कार

कार्यक्रम को सफल बनाने मे आचार्य प्रशान्त दास श्रीवन्त  षाड़गीं अभिजीत भट्टाचार्य टुटुल भट्टाचार्य,केरा मंदिर के पण्डित दुर्गा चरण कर, गौरी शंकर दीक्षित, भगवती दीक्षित, नरेश नन्दा, सुमन्त नन्दा, अजय षाड़गीं, भोलानाथ दीक्षित, गौरांग कर, सुभेन्दू कर, तपन त्रिपाठी, दीपक त्रिपाठी, अच्युता नन्दा, महिलाएं, व्रत धारी के रिश्तेदार सगे सम्बधी और गांव के लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बड़ा सवाल : अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो…

Rakesh Kumar | 20 April, 2018 11:48 PM

बड़ा सवाल : अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो…

रांची। हाल के दिनों में कुछ लोगों के जुबां से इस बात का जिक्र किया जा रहा है कि— अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो…. ।

इस मुद्दे पर अगर गहराई से बात की जाए तो कई सवाल खड़े हो गए हैं।

झारखंड में इस संदर्भ में जब हम चर्चा करते हैं तो इसपर बहस तेज हो जाती है। सवाल यह खड़ा होता है कि यहां युवतियां कितनी सुरक्षित हैं। हाल के दिनों झारखंड में जिस तरह से लड़कियों के साथ रेप और उसके बाद हत्या की घटनाएं सामने आ रही हैं, उससे समाज में असुरक्षा की भावना तेजी से पनपने लगी है। इसके साथ साथ मामलों के उद्भेदन और निष्पादन करने में कमी दिखाई पड़ी है, उससे पुलिसिया कार्रवाई पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं। युवतियों की हत्या के कई मामले ऐसे हैं, जिसमें पुलिस का निशाना उसके नजदीकी लोगों पर ही है। ऐसे में एक बड़ा सवाल यह खड़ा हो रहा है कि क्या युवतियां अपनों के बीच सुरक्षित हैं या नहीं ।

राजधानी की कुछ घटनाएं इस बात की ओर इशारा कर रही हैं कि लड़कियां खुद को सुरक्षित नहीं मान रही हैं। हाल के दिनों में अरगोड़ा के पास की रहनेवाली अफसाना परवीन की हत्या ने समाज के लोगों को हिला कर रख दिया है। हत्या के पीछे के कारणों को खंगालने में पुलिसिया तंत्र लगी हुई है लेकिन इस हत्या ने समाज के सामने एक बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। सवाल यह है कि आखिर अफसाना की हत्या उसके किसी अपने के ही हाथों तो नहीं की गई है। यह एक बड़ा सवाल है कि लड़कियां अपने नजदीकी लोगों पर कैसे भरोसा करे।

अजब-गजब : यहाँ 700 साल पुराने बरगद के पेड़ का हो रहा इंसानी इलाज

अफसाना का मामला पहला मामला नहीं है जिसकी गुत्थी सुलक्ष नहीं पाई है। बूटी मोड के एक इंजीनियंरिग कालेज की छात्रा जया की हत्या भी जांच एजेंसियों के लिए एक बड़ी चुनौती बन गई है। मामले की जांच अब सीबीआई के द्वारा की जा रही है, लेकिन एक साल के अधिक का समय बीतने के बाद भी इस हत्या के कारणों के साथ साथ हत्यारों का गिरफ्त में नहीं आना एक बड़ा सवाल है।

भारतीय होने पर गर्व लेकिन इस वजह से शर्मिंदा हैं शिल्पा शेट्टीभारतीय होने पर गर्व लेकिन इस वजह से शर्मिंदा हैं शिल्पा शेट्टी

अगर हम आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले राज्य एक साल में 1300 से अधिक रेप के के मामले पुलिस में दर्ज कराए गए। इस तरह से हर दिन एक बलात्कार की घटना जरुर हो रही है। इससे साफ है कि समाज में बड़ी विकृति आ रही है, जो लड़कियों को असुरक्षित कर रही हैं।

जानकार इस बात की जद्दोजेहद में लगे हुए हैं कि इस तरह की विकृति के क्या कारण हो सकते हैं। लेकिन समाज के सामने एक बड़ा सवाल है कि आखिर हम कैसे समाज का निर्माण करें, जिससे बेटियां सुरक्षित रह सके।

पिछले एक साल में रेप के मामलों के आंकड़े

मार्च 17         99

अप्रैल 17        120

मई 17         141

जून 17         122

जुलाई 17        138

अगस्त 17      103

सितंबर 17       112

अक्टूबर 17       106

नवंबर 17            62

दिसंबर 17       116

जनवरी 17       90

फरवरी 17        108

Read Also

डुमरी : भागवत कथा से होता है मन शुद्ध, मिलती है मनुष्य को शांति – रामशरण बाबा

NewsCode Jharkhand | 20 April, 2018 10:02 PM

डुमरी : भागवत कथा से होता है मन शुद्ध, मिलती है मनुष्य को शांति – रामशरण बाबा

डुमरी (गिरिडीह)। भागवत कथा से मन का शुद्धिकरण होता है। इससे संशय दूर होता है और शान्ति एवं मुक्ति मिलती है। उक्त बातें डुमरी प्रखंड अन्तर्गत भरखर गांव में चल रहे नवनिर्मित हनुमान मंदिर में एक तीन दिवसीय श्री श्री हनुमान मंदिर प्राण प्रतिष्ठा सह महायज्ञ में प्रवचन के दौरान श्री श्री 108 श्री गोस्वामी रामशरण गिरिबाबा आचार्य रजरप्पा लुगू पोना धाम ने कही ।

उन्होंने कहा कि कथा की सार्थकता तब ही सिद्ध होती है जब इसे हम जीवन में व्यवहार में धारण कर निरंतर हरि स्मरण करते हुए अपने जीवन को आनंदमय, मंगलमय बनाकर आत्म कल्याण करें। अन्यथा यह कथा केवल “मनोरंजन “, कानों के रस तक ही सीमित रह जायेगी।

भागवत कथा श्रवण से जन्म-जन्मान्तर के विकार नष्ट होकर प्राणी मात्र का लौकिक एवं आध्यात्मिक विकास होता है। जहां अन्य युगों में धर्म लाभ एवं मोक्ष प्राप्ति के लिए कड़े प्रयास करने पड़ते हैं, कलियुग में कथा सुनने मात्र से व्यक्ति भवसागर से पार हो जाता है।

डुमरी : भागवत कथा से होता है मन शुद्ध, मिलती है मनुष्य को शांति -रामशरण बाबा

सोया हुआ ज्ञान वैराग्य कथा श्रवण से जागृत हो जाता है। कथा कल्प वृक्ष के समान है ,जिससे सभी इच्छाओं की पूर्ती की जा सकती है।प्रवचन शुरू होने से पूर्व यज्ञ समिति के अध्यक्ष ब्रम्हदेव सिंह एवं भाजपा नेता कामाख्या गिरि ने गोस्वामी रामशरण का माला पहना कर स्वागत करते हुए मंच पर व्यास के गद्दी पर आसन ग्रहण कराते हुए रामचरित्र मानस एवं भागवत गीता का मंगल आरती उतारी गई।

बेंगाबाद : हर गांव को धुआं मुक्त कराना सरकार का उद्देश्य – जेपी वर्मा

यज्ञ में प्रवचन सुनने के लिए अपार भीड़ उमड़ रही है। वहीँ यज्ञ के दौरान यज्ञ स्थल में सुबह से आस पास के युवक-युवती, महिला-पुरूष का जन सैलाब यज्ञ स्थल के परिक्रमा करने के लिए उमड़ रहा है।

यज्ञ कर्ता के रूप में कामाख्या गिरी, ब्रह्मदेव सिंह, रामसेवक सिंह, सेवा रजक, बासुदेव सिंह, अरविंद गिरि, विनोद रजक, त्रिभुवन सिंह, अजय सिंह, मोहन रजक, भुवनेश्वर रजक, भुवनेश्वर रजक, गंगाधर महतो आदि लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

जमशेदपुर : कड़ी सुरक्षा के बीच पहुंचे अमेरिका के कॉउंसिल जेनरल

NewsCode Jharkhand | 20 April, 2018 9:49 PM

जमशेदपुर : कड़ी सुरक्षा के बीच पहुंचे अमेरिका के कॉउंसिल जेनरल

जमशेदपुर। अमेरिका के कॉउंसिल  जेनरल हावड़ा से दुरंतो एक्सप्रेस में जमशेदपुर पहुंचे,  टाटानगर स्टेशन में इसे लेकर सुरक्षा के पुख्ता किये गए थे। एक निजी कार्य से जमशेदपुर पहुंचे अमेरिका के कॉउंसिल जनरल को जिला प्रसाशन ने पूरी सुरक्षा के साथ बिष्टुपुर स्थित एक होटल में पहुंचाया।

आपको बता दें कोलकाता से रेल मार्ग से अमेरिका के कॉउंसिल जेनरल मिस्टर केरल एल  हॉल अपनी निजी काम से शहर पहुंचे। एक तरफ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के विधि व्यवस्था एवं बेरोजगारी को दूर करने एवं भारत में निवेश को लेकर  विदेश के दौरे पर हैं, वहीं दूसरी तरफ अमेरिका काऊंसिल के राजदूत झारखण्ड के जमशेदपुर में अपने निजी कार्य के लिए पहुंचे।

जमशेदपुर : छात्रों की मांग को लेकर ABVP ने कोल्हान विश्वविद्यालय को सौंपा ज्ञापन

जहां उन्हें रिसीव करने के लिए जिला प्रशासन के पदाधिकारी टाटानगर स्टेशन पर घंटो इन्तजार करते रहे, उसके बाद वे दुरंतो एक्सप्रेस से टाटानगर स्टेशन पहुंचे जहां से उन्हें बिस्टुपुर स्थित अल्कोर होटल में सुरक्षित पहुंचाया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.