चाईबासा : सांसद लक्ष्मण गिलुआ के 4 साल का कार्यकाल बेमिसाल- दिनेश नन्दी

Anubhuti | 17 May, 2018 5:55 PM
newscode-image

चाईबासा (पश्चिमी सिंहभूम)। सांसद लक्ष्मण गिलुआ के 4 साल के बेमिसाल कार्यकाल की उपलब्ध्यिां जिला भाजपा के अध्यक्ष व जिला परिषद सदस्य  दिनेश नन्दी ने गिनायी। 4 साल के कार्यकाल के दौरान संसदीय क्षेत्र में महत्वपूर्ण  सड़कें चेक डैम, रेल ओवर ब्रिज के अलावे कल्याणकारी योजनाओं का लाभ भी जन जन तक पहुंचाने का काम हुआ है। स्कूलों के विलय के मामले में भी रोक लगाने में सांसद के प्रयास  से सफल हुआ है।

चक्रधरपुर रेलवे ओवरब्रिज का सपना पूरा

उन्होंने कहा सांसद लक्ष्मण गिलुआ का कार्यकाल सही मायने में ऐतिहासिक रहा है। विगत 35 वर्षों से चली आ रही चिर प्रतीक्षित मांग चक्रधरपुर रेलवे ओवरब्रिज का सपना पूरा हो चुका है। जल्द ही जनता को समर्पित की जाएगी। इसी तरह चाईबासा व  नोवामुंडी में भी रेलवे ऊपरी पुल निर्माण कार्य की स्वीकृति सांसद ने दिलाई। जबकि जिले के अलावा पूरे संसदीय क्षेत्र में सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों को जोड़ने वाली सड़कों का निर्माण भी सांसद जी के अनुशंसा से हुआ है।

कई सड़कों  को स्वीकृति

चाहे बांझी कुसुम से झरझरा टोकलो पथ  की बात करें चक्रधरपुर से मनोहरपुर एवं उड़ीसा तक जाने वाली सड़क की बात करें या जगन्नाथपुर विधानसभा क्षेत्र जिला से सीधा संपर्क के लिए कई सड़को  की स्वीकृति भी सांसद द्वारा दिलाई गई है।

Read More:- . रांची : झारखंड में एक तिहाई लड़कियों को सार्वजनिक स्थान पर हमले या उत्पीड़न का डर- रिपोर्ट 

गांवों में पहुंची बिजली

इसके अलावे आजादी के बाद से  जिन गांव में बिजली नहीं पहुंची थी वैसे गांव में बिजली की रोशनी पहुंचाने का काम भी सांसद  के द्वारा हुआ है।  पूर्ण रुप से नक्सल प्रभावित इलाका गुदड़ी  में भी बिजली की रोशनी पहुंचाई गई है।

ग्रामीण जलापूर्ति योजना के तहत बड़े पैमाने पर हुआ कार्य

जिला भाजपा अध्यक्ष नन्दी ने कहा कि जिले में ग्रामीण जलापूर्ति योजना के तहत बड़े पैमाने पर कार्य हुआ है चाईबासा व चकरध्रपुर में नगर पर्षद इलाके में भी कई ऐतिहासिक कार्य हुए है। जिले के दर्ज़नों नए प्रखण्ड भवन निर्माण की दिशा में कार्य हुए हैं।

चकरध्रपुर शहरी जलापूर्ति योजना, जेनासाई जलाशय, सोनुआ जलाशय के नहर का पक्की करण समेत जिले के सभी प्रखण्ड मुख्यालय को पँचायत व गांव से जोड़ने के 8 दिशा में भागीरथ प्रयास में सांसद सफल हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

धनबाद : एनडीए सरकार में श्रम मंत्री रही रीता वर्मा ने की वाजपेयी से जुड़ी यादें साझा

NewsCode Jharkhand | 16 August, 2018 6:56 PM
newscode-image

धनबाद। एनडीए सरकार में श्रम मंत्री रही प्रो. रीता वर्मा ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़े यादों को साझा कर भावुक हो गई। प्रो. वर्मा ने बताया कि अमेरिका के विरोध के बावजूद वाजपेयी ने पोखरण परमाणु परीक्षण कराया।

उनके इस अटल फैसले से दूसरे देशों ने भारत को सहयोग देने बंद कर दिए। वे इससे तनिक भी विचलित नहीं हुए। परमाणु परीक्षण के बाद का इतिहास भारत के लिए काफी गौरवमय रहा है।

परमाणु परीक्षण को अटल सरकार का साहसी निर्णय करार देते हुए प्रो. वर्मा ने बताया कि इस परीक्षण के वजह से भारत की पूरे विश्व में अच्‍छी साख बनी। वाजपेयी हमेशा अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ शिक्षक की भूमिका में पेश आते थे तथा सिखाने की भरपूर कोशिश करते थे।

धनबाद : वासेपुर से रणधीर वर्मा तक निकाली गई भव्य तिरंगा यात्रा

अपने सांसद काल का जिक्र करते हुए उन्‍होंने बताया कि जब मैं धनबाद से सांसद बनी उस समय यह जिला बिहार में हुआ करता था। उस समय लालू यादव बिहार के मुख्‍यमंत्री थे। लालू की भाषा शैली के कारण वाजपेयी जी मुझे भी उसी भाषा के समझ बैठें, लेकिन मेरी हिंदी सुनने के बाद वे बेहद प्रभावित हुए।

डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय के असामायिक निधन के बाद भारतीय जनता पार्टी के सामने शून्‍यता की जो स्थिति पैदा हो गई थी उसे वाजपेयी ने अकेले भरने का काम किया। बाद में लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी ने पार्टी को मजबूत बनाने के लिए उनेक साथ कंधे से कंधा मिलाया।

वर्मा ने आगे बताया कि संसद में विपक्षी पार्टी के नेता भी वाजपेयी के भाषण सुनने को लालायित रहते थे। वे जैसे ही बोलने केा खड़े होते संसद शांत हो जाता। कोई कांग्रेसी यदि शोर गुल करते थे तो दूसरे कांग्रेसी उसे शांत कराकर बैठा देते थे।

अपने पति एसपी स्वर्गीय रणधीर प्रसाद वर्मा की प्रतिमा अनावरण से जुड़ी यादों का जिक्र करते हुए प्रो. वर्मा ने बताया कि वाजपेयी ने ही प्रतिमा का अनावरण किया था। उस समय वे देश के प्रधानमंत्री नहीं थे। प्रतिमा अनावरण के लिए उनसे कहने पर उन्‍होंने तुरंत हामी भर दी थी।

वे दिल्‍ली से कोलकाता हवाई जहाज में आए। हावड़ा स्‍टेशन से ब्लैक डायमंड ट्रेन में सवार होकर 3 जनवरी 1994 को रणधीर वर्मा चौक  पर प्रतिमा का अनावरण किया। धनबाद पहुंचने में उन्हें काफी कष्ट हुआ था, लेकिन अपने कष्ट को उन्होंने कभी जाहिर नहीं किया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गावां (गिरिडीह) : विभिन्न विभागों में झंडोत्‍तोलन को लेकर तालमेल का दिखा अभाव

NewsCode Jharkhand | 16 August, 2018 7:12 PM
newscode-image

 स्वतंत्रता दिवस समारोह पर दिखी अनुशासनहीनता

गावां गिरिडीह। गावां में स्वतंत्रता दिवस समारोह में इस बार पूर्वाभ्यास की पूरी कमी देखी गई। नतीजतन विभिन्न विभागों में झंझोत्‍तोलन को लेकर तालमेल का अभाव दिखा। इस कारण प्रखंड मुख्यालय में झंडोत्‍तोलन के वक्त झंडे को सलामी देने के लिए पुलिस जवान मौजूद नहीं रहे।

जबकि बीडीओ मोनी कुमारी सलामी दल को बुलाने के लिए थाना में फोन करती रहीं। वहीं गावां थाना द्वारा निर्गत आमंत्रण पत्र में दिये गये समय सारणी से एक घंटा पूर्व ही ध्‍वजारोहण कर दिया गया।

बोकारो : खेल के मामले में सरकार का रवैया उदासीन : मयूर शेखर झा

इस कारण थाना परिसर में झंडोत्‍तोलन देखने से लोग चूक गये। बता दें कि थानेदार द्वारा निर्गत आमंत्रण पत्र में झंडोत्‍तोलन का समय दिन के 10:10 बजे निर्धारित था, लेकिन तय समय से एक घंटा 4 मिनट पूर्व ही 09:06 बजे ही थाना में झंडोत्‍तोलन कर दिया गया। इस कारण तय समय पर थाने में झंडोत्तोलन में शामिल होने पहुंचे लोगों को मायूस होना पड़ा।

बैंक प्रबंधक को झंडोत्‍तोलन के बजाय घर भागना आया रास

वैसे तो तिरंगा फहराना गर्व की बात मानी जाती है और इसके लिए लोग लालायित भी रहते हैं, लेकिन समाज में कुछ ऐसे भी लोग हैं, जो स्वतंत्रता दिवस को महज एक सरकारी बंदिशों वाला कार्यक्रम मान लेते हैं। ऐसा ही नजारा गावां के इलाहाबाद बैंक में देखने को मिला।

प्रबंधक ने झंडोत्‍तोलन करने के बजाए 15 अगस्त को घर भागना ज्यादा मुनासिब समझा। फलत: गावां इलाहाबाद बैंक में एक आम सीनियर सिटीजन उमाशंकर अवस्थी ने झंडोत्‍तोलन किया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

चाईबासा : जिले के चार प्रखंडों में लगाए गए जनता दरबार

NewsCode Jharkhand | 16 August, 2018 7:01 PM
newscode-image

 चाईबासा । पश्चिमी सिंहभूम के उपायुक्त अरवा राजकमल के निदेशानुसार गुरूवार को जिले के चार प्रखण्डों में जनता दरबार का अयोजन किया गया। नोवामुंडी प्रखण्ड मुख्यालय जनता दरबार में विभिन्न विभागों के द्वारा शिविर का लगाया गया।

जिसमें मुख्य रूप से वृद्धा पेंशन, विधवा पेंशन,विकलांग पेंशन, दिव्यांग पेंशन, जाति, आवासीय, आय प्रमाण पत्रों, स्वास्थ्य, चिकित्सा, कृषि, पशुपालन, समाज कल्याण सहित अन्य विभागों के प्रखण्ड स्तरीय पदाधिकारियों ने लोगों के समस्या का समाधान किया।

जनता दरबार में बच्चों का आधार पंजीकरण भी कराया गया। जनता दरबार का आयोजन प्रखण्ड विकास पदाधिकारी नोवामुण्डी समरेश प्रसाद भण्डारी, तथा अंचलाधिकारी गोपी उरॉव के निर्देशन में सम्पन्न हुआ। वहीं जगन्नाथपुर प्रखंण्ड कार्यालय में लगे जनता दरबार में सूचना के अभाव में लोग नहीं पहुंचे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

More Story

more-story-image

पाकुड़ : अज्ञात वाहन की चपेट में आने एक की...

more-story-image

गोड्डा : सांस्कृतिक संध्या पर रंगारंग प्रस्तुतियों ने मोहा