केंद्र सरकार ने काटी कन्नी, कहा- सुप्रीम कोर्ट तय करे समलैंगिकता अपराध है या नहीं

NewsCode | 11 July, 2018 1:27 PM
newscode-image

नई दिल्ली। समलैंगिकता अपराध है या नहीं, इसे तय करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। मंगलवार से जारी सुनवाई में कई तरह की बातें आने के बाद बुधवार को केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय पीठ से कहा कि समलैंगिकता संबंधी धारा 377 की संवैधानिकता के मसले को हम कोर्ट के विवेक पर छोड़ते हैं।

इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ कर रही है। पीठ के पांच जजों में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के अलावा चार और जज हैं, जिनमें आरएफ नरीमन, एएम खानविलकर, डीवाई चंद्रचूड़ और इंदु मल्होत्रा शामिल हैं।

इससे पहले, देश की सर्वोच्च अदालत ने सोमवार को इस मामले की सुनवाई में देरी से इनकार कर दिया था। केंद्र सरकार चाहती थी कि इस मामले की सुनवाई कम से कम चार हफ्तों बाद हो। लेकिन सुप्रीम कोर्ट इसपर सहमत नहीं हुआ।

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार की ओर से एएसजी तुषार मेहता ने कहा हम ये मुद्दा कोर्ट के विवेक पर छोड़ते हैं। हदिया मामले में कहा गया कि पार्टनर चुनने का अधिकार है, लेकिन ये खून के रिश्ते में नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि हिंदू कानून में इस पर रोक है। अदालत सिर्फ ये देखे कि धारा 377 को अपराध से अलग किया जा सकता है या नहीं। बड़े मुद्दों पर विचार करने के दूरगामी परिणाम होंगे।

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा ने पूछा कि क्या ऐसा कोई नियम है जिससे समलैंगिकों को नौकरी देने से रोका जाता है? याचिकाकर्ताओं की ओर से ऐ़डवोकेट मेनेका गुरुस्वामी ने कहा कि समलैंगिकता से किसी के करियर या उन्नति में कोई असर नहीं पड़ता है। समलैंगिकों ने सिविल सर्विस कमीशन, आईआईटी और दूसरी शीर्ष प्रतियोगी परीक्षाएं पास की हैं।

दिल्ली: फीस जमा न कराने पर 40 बच्चियों को बेसमेंट में किया बंद, दर्ज हुई FIR

इस पर जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि हम यौन व्यवहारों के बारे में नहीं कह रहे। हम ये चाहते हैं कि अगर दो गे मरीन ड्राइव पर एक-दूसरे का हाथ पकड़कर टहल रहे हैं तो उन्हें अरेस्ट नहीं किया जाना चाहिए।

‘रेपिस्तान’ वाले ट्वीट पर कश्मीर के पहले IAS टॉपर शाह फैसल के खिलाफ कार्रवाई, ‘बॉस से मिला प्रेम पत्र’

पाक सैनिकों द्वारा BSF जवान की बर्बर हत्या से देश में गुस्सा, केजरीवाल बोले- कब बदला लेगी सरकार?

NewsCode | 20 September, 2018 12:47 PM
newscode-image

नई दिल्ली। पाकिस्तान ने एक बार फिर भारतीय सेना के जवान के साथ बर्बरता की है। जम्मू के सांबा सेक्टर में तैनात BSF जवान नरेंद्र सिंह को पाकिस्तान के सैनिकों ने अगवा कर घंटों तड़पाया और फिर मौत के घाट उतार दिया। बीएसएफ जवान की इस शहादत पर विपक्ष ने मोदी सरकार को घेरा है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर सीधा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जवाब मांगा है। केजरीवाल ने लिखा, ”प्रधानमंत्री जी जवाब दें कि आख़िर कब तक भारत के सैनिकों पर अत्याचार जारी रहेगा? कब तक भारत पाकिस्तान के सामने बेबस रहेगा? आख़िर क्या मजबूरियां हैं प्रधानमंत्री जी की?”

सिर्फ केजरीवाल ही नहीं बल्कि कांग्रेस ने भी मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने लिखा कि मोदी जी, जवान देश की आत्मा हैं और अगर आत्मा को इस तरह तड़पाया जाएगा। सवाल है कि कब तक पाकिस्तान को ‘क्रिकेट बैट’ भेजते रहेंगे, आप जवानों के लिए कब बैटिंग करना शुरू करेंगे?

क्या हुआ नरेंद्र सिंह के साथ?

जम्मू के सांबा जिले के रामगढ़ सेक्टर में शहीद हुए बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह का क्षत-विक्षत शव जब भारतीय सेना के जवानों को मिला तो उसे देख उनके रोंगटे खड़े हो गए। 51 वर्षीय नरेंद्र सिंह को पाकिस्तान रेंजरों और बैट ने बीएसएफ के एक जवान का अपहरण कर उसकी निर्मम हत्या कर दी।

बर्बरता का आलम यह है कि पहले जवान का गला रेता गया फिर पूरे शरीर पर कई स्थानों पर वार किए गए। शव पर कई स्थान पर काटने के निशान मिले हैं। आंखों को निकालने की कोशिश की गई है। नजदीक से तीन गोलियां भी मारी गई हैं। नरेंद्र कुमार कला गांव सोनीपत (हरियाणा) के निवासी थे।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार बीएसएफ ने इस बर्बर कार्रवाई पर पाकिस्तान से कड़ा विरोध जताया है। एक एजेंसी के साथ बातचीत में बीएसएफ का कहना है कि यह घटना तब हुई, जब बीएसएफ के जवान टैक्टिकल पेट्रोलिंग कर रहे थे।


नवाज शरीफ और मरियम को बड़ी राहत, सजा पर इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने लगाई रोक

कश्मीर : 24 घंटे में शहादत का बदला, तंगधार में सेना ने मार गिराए दो पाकिस्तानी जवान

बोकारो : भारत-पाक सीमा पर देश की रक्षा में शहीद हो गया जवान ब्रज कुमार

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गिरीडीह : गांधी जयंती से पहले ओडीएफ करने की तैयारी ,युद्ध स्तर पर कार्य जारी 

NewsCode Jharkhand | 20 September, 2018 2:11 PM
newscode-image

 गिरिहीह। महात्मा गांधी के स्वच्छता के संकल्पना को जल्द ही गिरिडीह में भी आकर मिल जाएगा। जिले भर में युद्ध स्तर पर काम चल रहा है। गांधी जयंती पर पूरा जिला खुले में शौच जैसे अभिशाप से मुक्त होने की राह पर निकल पड़ने वाला है।

गिरिडीह : केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए स्‍कूल ने दी सहायता राशि

जिला भी खुले में शौच मुक्ति की ओर अग्रसर है। आगामी 02 अक्टूबर तक हर हाल में इस जिले को ओडीएफ करना है। इसको लेकर जिले भर की शेष  पंचायत जो अब तक ओडीएफ नहीं हुई हैं, उनमें दिन रात एक कर सभी पदाधिकारी, कर्मी, स्वयंसेवी एवं जनप्रतिनिधि सभी छूटे घरों में शौचालय का निर्माण करावाने में लगे हैं और निर्माण करने के लिए ग्रामीणों को भी प्रेरित कर रहें हैं।

गिरिडीह : हथियारबंद अपराधियों ने पेट्रोल पंप में दिया वारदात को अंजाम

फिलवक्त इसको लेकर जिले के वरीय अधिकारी भी गंभीर हैं। स्वच्छता ही सेवा है अभियान को सफल बनाने को लेकर सभी नोडल पदाधिकारी व संबंधित लोग पूरी तन्मयता से लगे हुए हैं। इस बाबत डीसी डॉ नेहा अरोड़ा ने कहा कि पूरा झारखंड राज्य ही 2 अक्टूबर को ओडीएफ होगा। ऐसे में किसी भी सूरत में गिरिडीह को भी गांधी जयंती से पहले खुले में शौच मुक्त क्षेत्र घोषित कर देना है।

वहीं ओडीएफ की तैयारी पर बात करते हुए उपायुक्त ने कहा कि ग्रास रुट लेवल के तमाम टास्क पूरे कर लिए गए हैं। सभी वेंडरों के साथ टाइम टू टाइम मीटिंग की गई है। उन्हें रॉ मेटेरियलस भी समय पर उपलब्ध कराए गए हैं। वहीं इसकी मोनिटरिंग का जिम्मा प्रखंड स्तर के पदाधिकारियो को दिया गया है।

गिरिडीह : मुहर्रम को लेकर मुकम्मल तैयारी, सीसीटीवी और ड्रोन से होगी निगहबानी

असल में गिरिडीह में शौचालय निर्माण में पूर्व में भी अच्छा काम हुआ है। उपायुक्त डॉ नेहा अरोड़ा ने कहा कि फाइनल स्टेज का टाइम फ्रेम तय किया गया है। ज्यादातर प्रखंडों में निर्माण कार्य आखरी चरण में है। तयसुदा वक्त में निश्चित ही सारे काम पूरे कर लिए जाएंगे।  कुलमिलाकर, ओडीएफ को लेकर गिरिडीह पूरी तरह कमर कस चुका है। देखना होगा प्रशासन की उम्मीद कितनी कसौटी पर खरी उतर पाती है।

अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

10 रन पर 8 विकेट, झारखण्ड के स्पिनर शाहबाज नदीम ने तोड़ा 21 साल पुराना विश्व रिकॉर्ड

NewsCode | 20 September, 2018 2:08 PM
newscode-image

नई दिल्ली। झारखण्ड के खब्बू स्पिनर शाहबाज नदीम ने नया कीर्तिमान रच दिया है। नदीम ने विजय हजारे ट्रॉफी में राजस्थान के खिलाफ खेलते हुए सिर्फ 10 रन पर 8 विकेट चटकाकर लिस्ट-ए क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का दो दशक पुराना विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया है।आईपीएल की दिल्ली डेयरडेविल्स टीम का हिस्सा शाहबाज नदीम की स्पिन के जाल में फंसकर राजस्थान की टीम 28.3 ओवर में केवल 73 रनों पर ढेर हो गई। नदीम ने 10 ओवर में 4 मेडन फेंकते हुए 10 रन देकर 8 विकेट हासिल किए और टीम इंडिया में जगह बनाने की मजबूत दावेदारी पेश कर दी है।

बता दें कि लिस्ट-ए क्रिकेट में इससे पहले का विश्व रिकॉर्ड भी भारत के ही बाएं हाथ के स्पिनर राहुल सांघवी के नाम था, जिन्होंने 1997-98 में हिमाचल प्रदेश के खिलाफ दिल्ली की ओर से खेलते हुए 15 रन देकर 8 विकेट चटकाए थे। सांघवी भारत की ओर से एकमात्र टेस्ट 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले।

लिस्ट-ए क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ बॉलिंग प्रदर्शन

8/10 शाहबाज नदीम, 2018

8/15 राहुल सांघवी, 1997/98

8/19 चामिंडा वास, 2001/02

8/20 थारका कोटेहेवा 2007/08

8/21 माइकल होल्डिंग, 1988

गौरतलब है कि 29 साल के नदीम ने अब तक 99 प्रथम श्रेणी मैचों में 29.74 की औसत से 375 विकेट चटकाए हैं। उन्होंने 87 लिस्ट ए मैचों में 124 विकेट, जबकि 109 टी-20 मैचों में 89 विकेट हासिल किए हैं।

लिस्ट-ए क्रिकेट में वनडे इंटरनेशनल के अलावा विभिन्न घरेलू मुकाबले शामिल होते हैं। वैसे अंतर्राष्ट्रीय मैच भी लिस्ट-ए के अंतर्गत आते हैं, जिनमें खेल रही टीमों को वनडे इंटरनेशनल का दर्जा प्राप्त नहीं है। लिस्ट-ए के तहत 40 से 60 ओवरों तक की एक पारी होती है।


Asia Cup: भारत ने पाकिस्तान को 8 विकेट से दी पटखनी, रविवार को फिर होगी भिड़ंत

IND vs PAK : पाक के खिलाफ ‘महाबली’ माही के आंकड़े हैं बेजोड़

महेंद्र सिंह धोनी को लेकर सौरव गांगुली का बड़ा बयान, कहा- काश मेरी 2003 वर्ल्‍डकप टीम में होते

सिर्फ 3 ओवर में जड़ दिया था शतक, क्रिकेट के ‘डॉन’ को समर्पित आज का गूगल डूडल

More Story

more-story-image

साहेबगंज : अनिय‍मित बिजली आपूर्ति से लोगों का फूटा गुस्‍सा

more-story-image

झरिया : अखिल भारतीय किसान सभा व डीवाईएफआई की संयुक्त...