प्रद्युम्न हत्याकांड: रायन इंटरनेशनल स्कूल पहुंची CBI की टीम, जांच शुरू

NewsCode | 23 September, 2017 12:33 PM

प्रद्युम्न हत्याकांड: रायन इंटरनेशनल स्कूल पहुंची CBI की टीम, जांच शुरू

गुरूग्राम। भोंडसी के रायन इंटरनैशनल स्कूल में 7 साल के छात्र प्रद्युम्न की हत्या के मामले में सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है। शनिवार सुबह सीबीआई की टीम स्कूल पहुंची है। टीम मौका ए वारदात और स्कूल का निरीक्षण कर रही है।

इससे पहले शुक्रवार को सीबीआई ने इस हत्याकांड में एफआईआर दर्ज कर जांच अपने हाथ में ली थी। जांच के लिए सीबीआई की फरेंसिक टीम भी स्कूल पहुंच चुकी है। बता दें कि प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने सीबीआई जांच में हो रही देरी के लिए सरकारी तंत्र पर सवाल उठाया था।

सीबीआई के मुताबिक इस जांच के संबंध में उन्हें शुक्रवार को नोटिफिकेशन मिला है। सीबीआई ने शुक्रवार को ही इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली। सीबीआई की तीन सदस्यीय टीम स्कूल स्टाफ से इस मर्डर केस में पूछताछ कर सकती है। सीबीआई ने आर्म्स ऐक्ट, पोक्सो ऐक्ट और किशोर न्याय अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।

बता दें कि पुलिस ने इस मामले में 42 वर्षीय बस कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक अशोक ने पहले प्रद्युम्न के साथ दुष्कर्म करने की कोशिश की लेकिन जब प्रद्युम्न ने उसे ऐसा करने से रोका तो चाकू से वार कर के उसकी हत्या कर दी।

 

VIDEO: भीड़ से भिड़कर सिख पुलिसवाले ने बचाई मुस्लिम लड़के की जान, लोग कर रहे सलाम

NewsCode | 25 May, 2018 8:25 PM

VIDEO: भीड़ से भिड़कर सिख पुलिसवाले ने बचाई मुस्लिम लड़के की जान, लोग कर रहे सलाम

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर एक सिख पुलिसकर्मी का वीडियो तेजी से वायरल हुआ है। इस वीडियो में एक पगड़ी वाला पुलिसकर्मी एक मुस्लिम लड़के को आक्रोशित भीड़ से बचाता दिख रहा है। अगर ये पुलिसकर्मी नहीं होता तो शायद लड़का भीड़ की भेंट चढ़ जाता। बताया जा रहा है कि ये वीडियो उत्तराखंड के नैनीताल जिले का है और पुलिसकर्मी की पहचान सब इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह के रूप में हुई है। ये घटना 22 मई की बताई जा रही है।

मंदिर में बैठे थे मुस्लिम लड़का- हिंदू लड़की

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 22 मई को नैनीताल जिले के रामनगर से 15 किलोमीटर दूर गिरिजा गाँव में एक मंदिर में लड़का-लड़की बैठे हुए थे। उन्हें साथ बैठा देख वहां मौजूद कुछ लोगों ने उनसे पूछताछ करना शुरू कर दी। बातचीत में खुलासा हुआ कि लड़का मुस्लिम और लड़की हिंदू है। ये दोनों मिलने के लिए मंदिर पहुंचे थे।

लोगों को जैसे ही पता चला कि लड़का मुस्लिम है तो उन्होंने उसे घेरना शुरू कर दिया और देखते ही देखते भीड़ जमा हो गयी है। उन्होंने उसके साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी। इस बीच लड़की ने बचाव करने की कोशिश की तो लोगों ने उसे धक्का देकर साइड कर दिया।

भीड़ ने युवक को पीटा

लोगों की भीड़ बढ़ती गई और उन्होंने मुस्लिम लड़के के साथ मारपीट शुरू कर दी। इस बीच सूचना मिलने पर सब इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह और अन्य पुलिसकर्मी भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने स्थिति के नियंत्रित करने की कोशिश की लेकिन लोग बहुत गुस्से में थे। ऐसे में सबसे पहले गगनदीप ने मुस्लिम लड़के को अपने साथ ले जाने लगे।

इंस्पेक्टर ने खुद को बना लिया शील्ड

भीड़ में मौजूद लोग पुलिस के आने पर भी रुके नहीं और वो मुस्लिम युवक को मारते रहे। युवक को बचाने के लिए गगनदीप ने उसे अपने पास खींच लिया और सीने से चिपका लिया। वे उसे लोगों की मार से बचाते रहे और भीड़ के आगे अकेले वे डटे रहे और मुस्लिम युवक को खुद से अलग नहीं किया। जैसे-तैसे पुलिस युवक को भीड़ से बचाकर वहां से ले गई।

बताया जा रहा है कि लड़का और लड़की दोनों बालिग हैं। पुलिस ने थाने पहुंचकर लड़की के माता-पिता को सूचना दी और पूरी घटना के बारे में बताया। इसके साथ ही पुलिस ने युवक-युवती को भी समझाया, जिसके बाद उन्हें जाने दिया गया।

गगनदीप की बहादुरी की लोग जमकर तारीफ कर रहे हैं। खुद की परवाह किए बगैर चारों ओर भीड़ से घिरे होने के बावजूद उन्होंने युवक का बचाव करना नहीं छोड़ा। सोशल मीडिया पर लोगों ने राय दी कि इन जैसे पुलिसकर्मियों का सम्मान किया जाना चाहिए, ताकि वे एक मिसाल बन सकें।

रोजा तोड़कर जावेद ने कुछ यूं बचाई पुनीत की जिंदगी, पेश की कौमी एकता की मिसाल

पत्नी पर हुआ शक तो पति ने बेडरूम में लगवाया कैमरा, पता चलने पर बीवी ने कर दी एफआईआर

Read Also

निपाह वायरस से बचने के लिए WHO ने किया आगाह, भूलकर भी न खाएं ये 3 फल

NewsCode | 25 May, 2018 6:12 PM

निपाह वायरस से बचने के लिए WHO ने किया आगाह, भूलकर भी न खाएं ये 3 फल

नई दिल्ली। केरल में निपाह वायरस के कारण मरने वालों की संख्‍या बढ़ रही है। जबसे निपाह वायरस से जुड़ी खबरें आ रही हैं लोगों में डर का माहौल है। निपाह वायरस का सबसे बड़ा खतरा अब फलों से भी पैदा हो गया है।

क्‍या है निपाह वायरस?

निपाह वायरस को NiV इन्‍फेक्‍शन भी कहा जाता है। ये जूनोटिक बीमारी है। यानी ऐसी बीमारी जो जानवरों से इंसान में फैलती है। इस बार इसके फैलने का कारण फ्रूट बैट्स (चमगादड़) कहे जा रहे हैं।

कैसे फैलता है?

WHO के मुताबिक, निपाह वायरस चमगादड़ की एक नस्ल में पाया जाता है। यह वायरस उनमें प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है, चमगादड़ जिस फल को खाता है, उनके अपशिष्ट जैसी चीजों के संपर्क में आने पर यह वायरस किसी भी अन्य जीव या इंसान को प्रभावित कर सकता है। ऐसा होने पर ये जानलेवा बीमारी का रूप ले लेता है। ऐसे में केरल से आने वाले फलों को विशेषकर ध्‍यान से खाया जाएं।

शरीर में वायरस का प्रवेश कैसे होता है?

NiV शरीर में खाद्य पदार्थ के माध्‍यम से प्रवेश करता है। प्रभावित चमगादड़ द्वारा झूठे किए गए फलों, बेरी या फूलों के सेवन से ये वायरस शरीर में प्रवेश कर जाता है। या घरेलू पशु जिन्‍होंने ऐसे खाद्य पदार्थ का सेवन किया हो या चमगादड़ के संपर्क में आए हों, उनसे भी ये फैलता है। प्रभावित व्‍यक्ति के संपर्क में आने से ये वायरस दूसरे के शरीर में प्रवेश कर जाता है।

क्या हैं निपाह (NiV) के लक्षण मनुष्‍यों में निपाह वायरस, encephalitis से जुड़ा हुआ है, जिसकी वजह से ब्रेन में सूजन आ जाती है. बुखार, सिरदर्द, चक्‍कर, मानसिक भ्रम, कोमा और आखिर में मौत, इसके प्रमुख लक्षणों में शामिल हैं। 24-28 घंटे में यदि लक्षण बढ़ जाए तो इंसान को कोमा में जाना पड़ सकता है। कुछ केस में रोगी को सांस संबंधित समस्‍या का भी सामना करना पड़ सकता है।

इन तीन फलों से फैल सकता है निपाह वायरस

खजूर– धोकर खाएं खजूर और आम। रमजान के महीने में खजूर सबसे ज्यादा खाए जाते हैं। भारत में कई जगह बड़ी मात्रा में केले और खजूर केरल से मंगाए जाते हैं। निपाह वायरस से प्रभावित केरल के कालीकट और मल्लापुरम जिले में केले और खजूर की बड़ी मात्रा उत्‍पाद किए जाते है।

30-31 मई को बंद रहेंगे सभी बैंक, निबटा लें जरूरी काम

केला- निपाह वायरस लोगों में फलों के जरिए फैल सकता है इसलिए केरल से जो केले आ रहे हैं, उनको खाने से बचें। अगर खाना ही है तो अच्छे से धोकर खाएं। क्योंकि, उत्तर भारत में ज्यादातर केले, केरल से आते हैं। ऐसे में इन्हें खाना मौजूदा हालात में सही नहीं है।

अब फ्लाइट टिकट कैंसिल कराने पर मिलेगा पूरा रिफंड, जानें क्या है प्रक्रिया

CBSE 12th Result 2018: कल आएगा 12वीं का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

NewsCode | 25 May, 2018 5:49 PM

CBSE 12th Result 2018: कल आएगा 12वीं का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन CBSE बारहवीं कक्षा के रिजल्ट का ऐलान 26 मई यानी कल करेगा। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक सीबीएसई 12वीं के नतीजों की घोषणा कल ही करेगा। परीक्षा परिणाम की घोषणा सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट cbse.nic.in पर की जाएगी।

बता दें सीबीएसई की बारहवीं क्लास की परीक्षा 5 मार्च से 13 फरवरी के बीच आयोजित की गई थी, जबकि दसवीं क्लास के एग्जाम 5 मार्च से 4 अप्रैल के बीच आयोजित करवाए गए थे। सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट के अलावा स्टूडेंट्स cbseresults.nic.in या results.gov.in पर जाकर भी अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं।

ऐसे चेक करें CBSE Class 12 Result 2018

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के 12वीं का परिणाम चेक करने के लिए निम्नलिखित स्टेप को फालो करना होगा :
– केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ऑफिशल वेबसाइट cbse.nic.in पर लॉगिन करें
– होमपेज पर CBSE Class 12th Result 2018 या 10th Results 2018 लिंक पर क्लिक करें
– अपना रोल नंबर और अन्य डिटेल्स भरें
– स्क्रीन पर आपका रिजल्ट शो हो जाएगा
– इसे डाउनलोड कर लें और भविष्य में इस्तेमाल के लिए प्रिंट आउट ले लें

राजस्थान: 8वीं की किताब में बाल गंगाधर तिलक को बताया गया ‘फादर ऑफ टेररिज्म’, मचा बवाल

X

अपना जिला चुने