इस देश में बिल्लियों के लिए चलायी गयी एक स्पेशल ट्रेन, ये है वजह

NewsCode | 11 September, 2017 8:37 PM
newscode-image

पशुप्रेमी लोग अपने पसंदीदा पालतू पशुओं के लिए क्या कुछ नहीं करते! उनके नाज़-नखरे उठाने के लिए वह तरह-तरह के पापड़ बेलने को तैयार रहते हैं। यहां तक कि वह सफर में भी जानवरों को घर पर छोड़कर जाने के बजाय साथ ले जाते हैं।

लेकिन कुछ जगहें ऐसी भी होती हैं जहां जानवरों को लेकर जाना मना होता है। ऐसे में कैसा हो कि जानवरों के लिए अलग से ट्रेन ही चल जाए! जी हां, जापान में बहुतायत लोगों के बिल्लियों के प्रति लगाव को देखते हुए एक स्पेशल ट्रेन की शुरुआत की गई है।

इस देश में बिल्लियों के लिए चलायी गयी एक स्पेशल ट्रेन, ये है वजह
ट्रेन की खिड़की पर बैठी बिल्ली

बिल्लियों के लिए ट्रेन चलाने की ये है वजह

केंद्रीय जापान के ओगाकी की लोकल ट्रेन में बिल्लियां भी सफर कर सकती हैं। इस ट्रेन में पहले दिन 40 पैसेंजर्स ने सफर किया। खास बात यह है कि इन 40 यात्रियों में से 30 ने बिल्लियों के साथ सफर किया।

इस देश में बिल्लियों के लिए चलायी गयी एक स्पेशल ट्रेन, ये है वजह
बिल्ली के साथ सफर करती महिला

इस तरह की ट्रेन चलाने के पीछे एक खास तरह का मकसद भी जुड़ा हुआ था। इस यात्रा से लोगों को संदेश दिया जा रहा है कि बिल्लियों की हत्या न की जाए। इसी को रोकने के उद्देश्य से ये ट्रेन चलाई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस आयोजन से जो कमाई हुई, उसे शहर की बिल्लियों की देखभाल के लिए खर्च किए जाएगा।

पितृ पक्ष 2018: श्राद्ध क्रिया में इन खास बातों का रखें ख्याल

NewsCode | 23 September, 2018 5:27 PM
newscode-image

हिंदू कर्मकांड में श्रद्धा और मंत्र के मेल से पूर्वपुरुषों (पितरों) की आत्मा की तृप्ति के निमित्त जो विधि होती है उसे श्राद्ध कहते हैं। हमारे जिन सगे-संबंधियों का देहांत हो गया है, वे पितृलोक में या यत्र-तत्र विचरण करते हैं, उनके लिए पिंडदान किया जाता है। बच्चों एवं संन्यासियों के लिए पिंडदान नहीं किया जाता। गणेश विसर्जन और अनंत चतुर्दशी के बाद शुरू होते हैं श्राद्ध। हर साल श्राद्ध भाद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक चलते हैं।

अगर पंडित से श्राद्ध नहीं करा पाते तो सूर्य नारायण के आगे अपने दोनों हाथ ऊपर करके ये बोलें : “हे सूर्य नारायण ! मेरे पिता (नाम), अमुक (नाम) का बेटा, अमुक जाति (नाम), (अगर जाति, कुल, गोत्र नहीं याद तो ब्रह्म गोत्र बोल दें) को आप संतुष्ट/सुखी रखें। इस निमित्त मैं आपको अर्घ्य व भोजन करता हूं।” इसके पश्चात् आप भगवान सूर्य को अर्घ्य दें और भोग लगायें।

 इन बातों का रखें खास ख्याल –

– श्राद्ध में कपड़े और अनाज दान करना ना भूलें। इससे पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलती है।

– बताया जाता है कि श्राद्ध दोपहर उपरांत ही किया जाना चाहिए। जानकारों के अनुसार जब सूर्य की छाया पैरों पर पड़ने लगे तो श्राद्ध का समय हो जाता है। दोपहर या सुबह में किये गए श्राद्ध का कोई मतलब नहीं होता है।

– जिस दिन श्राद्ध करना हो उससे एक दिन पूर्व ही उत्तम ब्राह्मणों को निमंत्रण दे दें। परंतु श्राद्ध के दिन कोई अनिमंत्रित तपस्वी ब्राह्मण घर पर पधारें तो उन्हें भी भोजन कराना चाहिए।  ब्राह्मण भोज के वक्त खाना दोनों हाथों से परोसें, एक हाथ से खाने को पकड़ना अशुभ माना जाता है।

– श्राद्ध के दिन घर में सात्विक भोजन ही बनना चाहिए। इस दिन खाने में लहसुन और प्याज का इस्तेमाल  नहीं होना चाहिए। गौर करने वाली बात यह भी है कि पितरों को जमीन के नीचे पैदा होने वाली सब्जियां नहीं चढ़ाई जाती हैं। इनमें अरबी, आलू, मूली, बैंगन और अन्य कई सब्जियों शामिल हैं।

– पूरे विधान में मंत्र का बड़ा महत्व है। श्राद्धकर्म में आपके द्वारा दी गयी वस्तु कितनी भी बेशकीमती क्यों न हो, आपके द्वारा यदि मंत्र का उच्चारण ठीक न हो तो काम व्यर्थ हो जाता है। मंत्रोच्चारण शुद्ध होना चाहिए और जिसके निमित्त श्राद्ध करते हों उसके नाम का उच्चारण भी शुद्ध करना चाहिए।

– श्राद्ध के दिन अपने पितरों के नाम से ज्यादा से ज्यादा गरीबों को दान करें।

– पिंडदान करते वक्त जनेऊ हमेशा दाएं कंधे पर रखें।

 पिंडदान करते वक्त तुलसी जरूर रखें।

– कभी भी स्टील के पात्र से पिंडदान ना करें, बल्कि कांसे या तांबे या फिर चांदी की पत्तल इस्तेमाल करें।

– पिंडदान हमेशा दक्षिण दिशा की तरफ मुंह करके ही करें।

– पिता का श्राद्ध बेटा ही करे या फिर बहू करे। पोते या पोतियों से पिंडदान ना कराएं।

– श्राद्ध करने वाला व्यक्ति श्राद्ध के 16 दिनों में मन को शांत रखें।

– श्राद्ध हमेशा अपने घर या फिर सार्वजनिक भूमि पर ही करे। किसी और के घर पर श्राद्ध ना करें।


बकरीद में क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी, जानें पूरी कहानी

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

Asia Cup: रोहित और धवन का डबल धमाल, भारत ने पाकिस्तान को 9 विकेट से पीटा

NewsCode | 24 September, 2018 2:06 AM
newscode-image

नई दिल्ली। टीम इंडिया ने दुबई में खेले जा रहे एशिया कप के सुपर-4 मुकाबले में पाकिस्तान को 9 विकेट से करारी मात दे दी है। सलामी बल्लेबाजों शिखर धवन (114) और कप्तान रोहित शर्मा (नाबाद 111) की शानदार शतकीय पारियों के दम पर भारत ने पाकिस्तान को आसानी से हरा दिया।इससे पहले भारत ने शुक्रवार को बांग्लादेश को हराया था। मौजूदा टूर्नामेंट में यह भारत की लगातार चौथी जीत है। इस जीत के साथ ही टीम इंडिया एशिया कप के फाइनल में पहुँच गयी है।

इस महामुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान की टीम ने 50 ओवर में 7 विकेट पर 237 रन का स्कोर बनाया और भारत को जीत के लिए 238 रनों का लक्ष्य दिया। जवाब में टीम इंडिया ने इस आसान से लक्ष्य को 39.3 ओवर में ही हासिल करते हुए पाकिस्तान को परास्त किया।

शिखर धवन ने 100 गेंदों की पारी में 16 चौके और दो छक्के जबकि रोहित शर्मा ने 119 गेंदों की पारी में सात चौके और चार छक्के लगाए। शिखर धवन को मैन ऑफ द मैच भी घोषित किया गया। जब टीम इंडिया जीत के बिलकुल करीब थी तो शिखर धवन रन आउट हो गए। इसके बाद बर्थ डे बॉय रायडू ने 18 गेंदों पर एक चौके की मदद से नाबाद 12 रन बनाए।

रोहित शर्मा के 7000 रन पूरे

शिखर धवन के करियर का यह कुल 15वां और टूर्नामेंट में दूसरा शतक है। उन्होंने हांगकांग के खिलाफ भी शतक बनाया था। वहीं रोहित शर्मा का टूर्नामेंट में यह पहला और कुल 19वां शतक है। रोहित ने दो जीवनदान का पूरा फायदा उठाते हुए वनडे करियर में अपने 7000 रन पूरे किए। भारत को अगला मुकाबला मंगलवार को अफगानिस्तान के खिलाफ खेलना है। वहीं पाकिस्तान बुधवार को बांग्लादेश से भिड़ेगा।

भारतीय गेंदबाजों ने पाकिस्तान को 237 रनों पर ही रोका

टॉस हारकर पहले गेंदबाजी करते हुए भारत ने अपने गेंदबाजों की शानदार गेंदबाजी की बदौलत पाकिस्तान को 237 रन के साधारण स्कोर पर रोक दिया। पाकिस्तान के अनुभवी बल्लेबाज शोएब मलिक ने सर्वाधिक 78 रन बनाए। मलिक के अलावा कप्तान सरफराज अहमद ने 44, फखर जमान ने 31 और आसिफ अली ने 30 रन का योगदान दिया।

पाकिस्तान की टीम एक समय 58 रन पर तीन विकेट गंवाकर संकट में फंसती दिखाई दे रही थी। लेकिन, शोएब मलिक (78) और कप्तान सरफराज अहमद (44) ने चौथे विकेट के लिए 107 रन साझेदारी कर टीम को संकट से बाहर निकाला। सरफराज 66 गेंदों पर दो चौके लगाकर टीम के 165 के स्कोर पर आउट हुए। मलिक ने इसके बाद आसिफ अली (30) के साथ पांचवें विकेट के लिए 38 रन जोड़े। मलिक टीम के 203 के स्कोर पर आउट हुए।

मलिक का विकेट भारत के लिए टर्निग प्वाइंट साबित हुआ। उन्होंने 90 गेंदों पर चार चौके और दो छक्के लगाया। मलिक का वनडे में यह 43वां अर्धशतक है। पाकिस्तान की टीम आखिरी पांच ओवरों में केवल 26 रन ही बना सकी जिसके कारण वह सात विकेट पर 237 रन तक ही पहुंच सकी। मोहम्मद नवाज ने नाबाद 15 रन बनाए। भारत की ओर से युजवेंद्र चहल ने 46 रन दो विकेट, कुलदीप यादव ने 41 रन पर दो विकेट और जसप्रीत बुमराह ने 29 रन पर दो विकेट हासिल किए।


Asia Cup : रोहित और जडेजा का जलवा, भारत ने बांग्लादेश को 7 विकेट से हराया

10 रन पर 8 विकेट, झारखण्ड के स्पिनर शाहबाज नदीम ने तोड़ा 21 साल पुराना विश्व रिकॉर्ड

Asia Cup: भारत ने पाक को 8 विकेट से दी पटखनी

सरायकेलाः जिला पुलिस को मिली कामयाबी, चोर गिरोह के पांच सदस्य रंगे हाथ गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 9:43 PM
newscode-image

सरायकेला ।  आदित्यपुर थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े एक घर में चोरी की नीयत से घुसे 5 लोगों को पुलिस ने रंगे हाथों धर दबोचा है।

बताया जा रहा है कि आदित्यपुर थाना क्षेत्र के आवासीय कॉलोनी रोड नंबर 11 में शनिवार शाम एक घर में चोरी की नीयत से घुसे पांच युवकों को पुलिस ने प्राप्त सूचना के आधार पर घेरकर पकड़ लिया।

जमशेदपुर :  पुलिसकर्मियों व उनके परिजनों  ने किया अनुलोम-विलोम

वहीं घटना की जानकारी देते हुए थाना प्रभारी विजय सिंह ने बताया कि इस गिरोह के सदस्यों द्वारा दिनदहाड़े घरों में घुसकर चोरी की घटना को अंजाम दिया जाता है।

वहीं कल भी इसी फिराक में इस गिरोह द्वारा रोड नंबर 11 के एक घर में चोरी का प्रयास किया जा रहा था। इसी बीच घर में लगे सीसीटीवी कैमरे में सभी आरोपियों की तस्वीरें कैद हो गई जिसके बाद पुलिस ने फौरन कार्रवाई करते हुए मौके से चार युवकों को गिरफ्तार कर लिया।

जबकि एक युवक भागने में सफल रहा हालांकि टाईगर मोबाईल के जवानों ने घेरकर पकड़ लिया।हालांकि इससे पूर्व इस गिरोह द्वारा किन स्थानों पर चोरी की घटना को अंजाम दिया गया है पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

चंदनकियारी : पीएम मोदी की सोच है स्वास्थ्य का लाभ...

more-story-image

निरसा : दिव्यांगों को दिया जाएगा कृत्रिम अंग, शिविर शुरू