महिन्द्रा TUV300 प्लस की कीमत से उठा पर्दा, जानें खासियत

NewsCode | 29 May, 2018 2:32 PM
newscode-image

नई दिल्ली। महिन्द्रा ने टीयूवी300 प्लस एमपीवी की कीमत से पर्दा उठा दिया है। टीयूवी300 प्लस केवल एक वेरिएंट पी4 में मिलेगी, इसकी कीमत 9.69 लाख रूपए (एक्स-शोरूम, दिल्ली) रखी गई है। टीयूवी300 प्लस को महिन्द्रा की सब 4-मीटर एसयूवी टीयूवी300 पर तैयार किया गया है। यह टीयूवी300 से करीब 1.4 लाख रूपए महंगी है।

Leaked Brochure

महिन्द्रा टीयूवी300 प्लस में नौ पैसेंजर बैठ सकते हैं। इसकी लंबाई 4400 एमएम, चौड़ाई 1835 एमएम और व्हीलबेस 2680 एमएम है। यह टीयूवी300 से 401 एमएम ज्यादा लंबी है। चौड़ाई और व्हीलबेस के मामले में यह टीयूवी300 के बराबर है। राइडिंग के लिए इस में 16 इंच के व्हील दिए गए हैं।

कयास लगाए जा रहे हैं कि महिन्द्रा कारों की रेंज में यह जायलो की जगह लेगी। कद-काठी के मामले में यह जायलो से 120 एमएम कम लंबी, 15 एमएम कम चौड़ी और 93 एमएम कम ऊंची है। जायलो का व्हीलबेस टीयूवी300 से 80 एमएम ज्यादा बड़ा है। महिन्द्रा जायलो कई वेरिएंट में उपलब्ध है। बेस वेरिएंट को टैक्सी सेगमेंट के लिहाज से तैयार किया गया है, वहीं टॉप वेरिएंट को पर्सनल यूज के लिहाज से तैयार किया गया है। टीयूवी300 प्लस की बात करें तो यह केवल एक वेरिएंट में उपलब्ध है।

Mahindra TUV 300 Plus

टीयूवी300 प्लस में 2.2 लीटर का एम-हॉक120 डीज़ल इंजन लगा है, जो 120 पीएस की पावर और 280 एनएम का टॉर्क देता है। यह इंजन 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से जुड़ा है। माइलेज को बेहतर बनाने के लिए कंपनी ने इस में माइक्रो-हाइब्रिड टेक्नोलॉजी का भी इस्तेमाल किया है।

वेरिएंट Vs वेरिएंट: नई होंडा अमेज़ का मुकाबला मारूति डिजायर से…

टीयूवी300 प्लस में बेसिक फीचर दिए गए हैं। इस लिस्ट में ऊपर-नीचे एडजस्ट होने वाला स्टीयरिंग व्हील, ऑल पावर विंडो, मैनुअल एसी, इंटरनल एडजस्टेबल बाहरी शीशे और 12 वॉट के दो चार्जिंग सॉकेट शामिल हैं। पैसेंजर सुरक्षा के लिए इस में इंजन इमोब्लाइज़र, सीट बेल्ट वार्निंग, डोर अज़ार वार्निंग और चाइल्ड लॉक दिए गए हैं।

पुरानी हुंडई क्रेटा से कितनी अलग है फेसलिफ्ट क्रेटा, जानिये यहां  

10 रन पर 8 विकेट, झारखण्ड के स्पिनर शाहबाज नदीम ने तोड़ा 21 साल पुराना विश्व रिकॉर्ड

NewsCode | 20 September, 2018 2:08 PM
newscode-image

नई दिल्ली। झारखण्ड के खब्बू स्पिनर शाहबाज नदीम ने नया कीर्तिमान रच दिया है। नदीम ने विजय हजारे ट्रॉफी में राजस्थान के खिलाफ खेलते हुए सिर्फ 10 रन पर 8 विकेट चटकाकर लिस्ट-ए क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का दो दशक पुराना विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया है।आईपीएल की दिल्ली डेयरडेविल्स टीम का हिस्सा शाहबाज नदीम की स्पिन के जाल में फंसकर राजस्थान की टीम 28.3 ओवर में केवल 73 रनों पर ढेर हो गई। नदीम ने 10 ओवर में 4 मेडन फेंकते हुए 10 रन देकर 8 विकेट हासिल किए और टीम इंडिया में जगह बनाने की मजबूत दावेदारी पेश कर दी है।

बता दें कि लिस्ट-ए क्रिकेट में इससे पहले का विश्व रिकॉर्ड भी भारत के ही बाएं हाथ के स्पिनर राहुल सांघवी के नाम था, जिन्होंने 1997-98 में हिमाचल प्रदेश के खिलाफ दिल्ली की ओर से खेलते हुए 15 रन देकर 8 विकेट चटकाए थे। सांघवी भारत की ओर से एकमात्र टेस्ट 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले।

लिस्ट-ए क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ बॉलिंग प्रदर्शन

8/10 शाहबाज नदीम, 2018

8/15 राहुल सांघवी, 1997/98

8/19 चामिंडा वास, 2001/02

8/20 थारका कोटेहेवा 2007/08

8/21 माइकल होल्डिंग, 1988

गौरतलब है कि 29 साल के नदीम ने अब तक 99 प्रथम श्रेणी मैचों में 29.74 की औसत से 375 विकेट चटकाए हैं। उन्होंने 87 लिस्ट ए मैचों में 124 विकेट, जबकि 109 टी-20 मैचों में 89 विकेट हासिल किए हैं।

लिस्ट-ए क्रिकेट में वनडे इंटरनेशनल के अलावा विभिन्न घरेलू मुकाबले शामिल होते हैं। वैसे अंतर्राष्ट्रीय मैच भी लिस्ट-ए के अंतर्गत आते हैं, जिनमें खेल रही टीमों को वनडे इंटरनेशनल का दर्जा प्राप्त नहीं है। लिस्ट-ए के तहत 40 से 60 ओवरों तक की एक पारी होती है।


Asia Cup: भारत ने पाकिस्तान को 8 विकेट से दी पटखनी, रविवार को फिर होगी भिड़ंत

IND vs PAK : पाक के खिलाफ ‘महाबली’ माही के आंकड़े हैं बेजोड़

महेंद्र सिंह धोनी को लेकर सौरव गांगुली का बड़ा बयान, कहा- काश मेरी 2003 वर्ल्‍डकप टीम में होते

सिर्फ 3 ओवर में जड़ दिया था शतक, क्रिकेट के ‘डॉन’ को समर्पित आज का गूगल डूडल

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बेरमो : हिन्दू परिवार दे रहे भाईचारा का सन्देश, 150 वर्षो से मना रहा मुहर्रम

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 5:19 PM
newscode-image

बेरमो(बोकारो)। आस्था और विश्वास के आगे सभी हो जाते हैं नतमस्तक, ऐसा ही देखने को हिन्दू परिवार मेँ मिला रहा है। नावाडीह प्रखंड के बरई गांव के एक हिन्दू जमींदार परिवार है, जहाँ पर एक भी घर मुस्लिम का नहीं होने के बावजूद बीते 150 वर्षों से प्रतिवर्ष उक्त हिन्दू जमींदार के वंशजों द्वारा मुस्लिम समुदाय का त्योहार मुहर्रम मनाया जाता है।

यहां तक कि इसके लिए अखाड़ा निकालने हेतु उस परिवार को प्रशासन से लाइसेंस भी प्राप्त है।जमींदार के वशंज सह लाइसेंस धारी सहदेव प्रसाद सहित उनके परिवार यह त्यौहार पिछले पांच पीढ़ी से निरंतर मनाते आ रहे है। सहदेव प्रसाद के अनुसार इनके पूर्वज स्व. पंडित महतो, घुड़सवारी व तलवारबाजी के शौकीन थे और बरई के जमींदार भी।

बोकारो : धूम-धाम से मनाया गया करमा पूजा

जबकि निकट के बारीडीह के गंझू जाति के जमींदार के बीच सीमा को लेकर विवाद हुआ था। यह मामला गिरीडीह न्यायालय में कई वर्षों तक मुकदमा चला। मामले में स्व. महतो को फांसी की सजा मुकर्रर कर दी गई थी। फांसी दिए जाने वाला दिन मुहर्रम था और महतो से जब अंतिम इच्छा पूछा गया तो उन्होंने श्रद्वापूर्वक गिरीडीह के मुजावर से मिलने की बात कहीं और उन्हें तत्काल मुजावर से उन्हें मिलाया गया।

जहाँ मुजावर से उन्होंने शीरनी फातिहा कराई। जिसके बाद स्व. महतो को ज्योंही फांसी के तख्ते पर लटकाया गया, लगातार तीनों बार फांसी का फंदा खुल गया और अंततः उन्हें सजा से मुक्त कर दिया गया। न्यायालय से बरी होते ही नावाडीह के खरपीटो गांव पहुंचे और ढोल ढाक के साथ सहरिया गए।

बोकारो : गेल इंडिया ने रैयतों को दिया जमीन का मुआवजा

सहरिया के मुजावर को लेकर बरई आए और स्थानीय बरगद पेड़ के समीप इमामबाड़ा की स्थापना कर मुहर्रम करने की परंपरा की शुरुआत की, जो आज तक जारी है। लोगों ने बताया कि यहां लंबे समय तक सहरिया के, फिर पलामू दर्जी मौहल्ला के मुजावर असगर अंसारी तथा फिलहाल लहिया के मुजावर इबरास खान द्वारा यहां शीरनी फातिहा की जा रही है ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

गुमला : कश्यप मुनि की जयंती धूमधाम से मनाई गई

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 5:08 PM
newscode-image

गुमला। झारखंड के राजकीय पर्व करमा के अवसर पर केशरवानी वैश्य समाज के तत्वावधान में डीएसपी रोड स्थित बजरंग केशरी के आवास में गोत्राचार्य कश्यप मुनि की जयंती धूमधाम से मनाई गई।

कार्यक्रम की शुरुआत गोत्राचार्य कश्यप मुनि के चित्र पर माल्यार्पण कर के किया गया। मौके पर झारखंड प्रदेश केशरवानी वैश्य सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रो. प्रेम प्रसाद केशरी ने गोत्र गुरु कश्यप मुनि की उत्पत्ति से लेकर उनके जीवनी के बारे में विस्तृत जानकारी दी।

इन्होंने कहा कि गोत्राचार्य कश्यप ऋषि के आशीर्वाद से ही केशरवनियों का सर्वागिण विकास हो रहा है एवं होता रहेगा। महर्षि कश्यप की प्रत्येक घर में पूजा अर्चना होनी चाहिए।

पाकुड़ : वन कर्मियों ने पौधा लगाकर करम महोत्‍सव मनाया

संरक्षक हरिओम लाल केशरी, बजरंग केशरी,रमेश केशरी दुर्गा केशरी ,राधा कृष्ण प्रसाद केशरी ने भी अपने विचार रखे। इस अवसर पर प्रदेश महिला सभा की मंजू केशरी ने भी अपना विचार रखा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

लोहरदगा : करमा पूजा धूमधाम से संपन्‍न, सुखदेव भगत ने...

more-story-image

रांची : 11 लाख शेष बचे परिवारों को भी स्वास्थ्य...