बुराड़ी केस: फांसी से ही हुई थी परिवार के 10 सदस्यों की मौत, 11वीं पे अभी भी संशय कायम

NewsCode | 11 July, 2018 6:59 PM
newscode-image

नई दिल्ली। दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों की मौत के मामले में 10 सदस्यों की पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आ गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, संत नगर में रहने वाले भाटिया परिवार के सभी 10 सदस्यों की मौत फांसी पर लटकने से हुई थी। इनमें कुछ लोगों की गर्दन की हड्डी टूट गई थी।

इससे यह साफ हो गया है कि सभी लोगों ने फांसी लगाकर खुदकुशी की है। अभी इस मामले में घर की सबसे बुजुर्ग महिला नारायणी देवी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है। इस मामले में नारायणी देवी की पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट अभी आनी है और उनकी रिपोर्ट पर डॉक्‍टर्स की राय एक नहीं है जिससे इस मामले की पुलिस की जांच उलझ गई है।

पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों ने बताया कि नारायणी देवी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट एक-दो दिन में मिलने की संभावना है। सभी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद मामले में पुलिस की कार्रवाई तेज होगी। साथ ही पुलिस जांच की दिशा तय कर सकेगी।

जांच में जुटी टीम अबतक इस बात पर सहमत है कि मनोवैज्ञानिक बीमारी से ये परिवार जूझ रहा था. परिवार ने धार्मिक अनुष्ठान के जरिए सामूहिक आत्महत्या को अंजाम दिया। इस परिवार के वीडियो फुटेज में दिख रहा है कि परिजनों ने अपने घर के करीब के दुकान से पांच स्टूल और बैंडेज खरीदे और जिसका प्रयोग धार्मिक क्रियाकलापों में किया गया।

उन्‍नाव गैंगरेप केस : सीबीआई ने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट

यही समान घटनास्थल से भी प्राप्त हुए, जहां ये 11 शव बरामद हुए थे। ललित भाटिया और उसकी भतीजी प्रियंका ने रजिस्टर में कुछ नोट लिखे हैं जिसमें धार्मिक अनुष्ठानों के बारे में बताया गया, इसे सुसाइड नोट की तरह लिया गया।

मध्‍यप्रदेश: एंबुलेंस नहीं मिली तो मां के शव को बाइक पर लेकर अस्पताल पहुंचा बेटा

जम्मू-कश्मीर: कॉन्स्टेबल की अगवा कर आतंकियों ने की हत्या, 2 माह में तीसरा मामला

NewsCode | 21 July, 2018 7:40 PM
newscode-image

कुलगाम। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में शुक्रवार रात जिस जवान का आतंकियों ने अपहरण किया था, उसके गोलियों से छलनी क्षत-विक्षत शरीर को कैमोह घाट क्षेत्र से बरामद कर लिया गया है। पुलिस कॉन्स्टेबल का नाम मोहम्मद सलीम है।

शनिवार शाम उनका गोलियों से छलनी शव मिला है। पिछले दो महीनों में आतंकियों ने मोहम्‍मद सलीम खान समेत तीन जवानों की अगवा करने के बाद हत्या कर दी है। इससे पहले दो जवानों औरंगजेब और जावेद डार की हत्‍या कर दी गई थी।

इस आतंकी वारदात की सूचना मिलते ही जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस, सीआरपीएफ और भारतीय सेना के जवानों की संयुक्‍त टीम ने कॉन्‍स्‍टेबल सलीम की सुरक्षित वापसी के लिए सघन तलाशी अभियान शुरू किया है। सुरक्षाबलों ने संयुक्‍त टीम ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर डोर टू डोर सर्च ऑपरेशन चला रही है।

पश्चिम बंगाल: शहीद दिवस पर गरजीं ममता बनर्जी, ‘बीजेपी हटाओ, देश बचाओ’ का दिया नारा

बता दें कि सेना और पुलिस द्वारा ऑपरेशन ऑलआउट से बौखलाए आतंकी लगातार जवानों को निशाना बना रहे हैं। इससे पहले शोपियां के कचडूरा इलाके के निवासी जम्मू-कश्मीर पुलिस के कॉन्स्टेबल जावेद हमीद डार को अगवा कर हत्या कर दी थी। उनका शव कुलगाम के परिवान में सुबह स्थानीय लोगों द्वारा पाया गया।

LIVE: चाहे साइकिल हो या हाथी, कोई भी हो साथी, स्वार्थ के इस पूरे स्वांग को देश समझ चुका है: पीएम मोदी

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

राँची : मुख्यमंत्री ने जूस पिलाकर तुड़वाया विधायक शिवपूजन मेहता का अनशन

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:18 PM
newscode-image

राँची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने विधायक शिवपूजन मेहता को जूस पिलाकर उनका अनशन तुड़वाया। मुख्यमंत्री, विधायक सुखदेव भगत के साथ सदन के बाहर पहुंचे और शिवपूजन मेहता को जूस पिलाया। आपको बता दें कि शिवपूजन मेहता जपला सीमेंट फैक्ट्री को पुनर्स्थापित करने की मांग को लेकर, झारखंड विधानसभा के मुख्य गेट पर विगत 3 दिनों से आमरण अनशन पर बैठे थे।

रांची : भाजयुमो के खेलो भारत दिल्ली में हिस्सा लेंगे झारखंड के 65 खिलाड़ी

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

धनबाद : सगे भाई-बहन ने किया रक्‍तदान, पेश की मिसाल  

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:09 PM
newscode-image

धनबाद। पीएमसीएच के रक्त अधिकोष में सगे भाई-बहन ने थैलीसीमिया रोग से पीड़ित दो बच्चों के लिए रक्तदान कर मानवता की मिसाला पेश की। समाजसेवी शालिनी खन्ना के कहने पर पीएमसीएच के थैलीसिमिया वार्ड में भर्ती करीब 3 साल की बच्‍ची आराध्या के लिए पल्‍लवी पायल ने रक्‍तदान किया। वे बीएसएस कॉलेज की पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष रह चुकी है।

रक्‍तदान करने जैसे की वह सामाजिक कार्यकर्ता सौरभ सिंह के साथ पीएमसीएच के रक्त अधिकोष  में रक्तदान के लिए  पहुंची वहां पहले से मौजूद थैलीसीमिया से ग्रस्‍त लगभग 5 वर्ष के मोहित कुमार महतो की मां उषा देवी ने भी पल्लवी से अपने बच्चे के लिए रक्त उपलब्ध कराने का आग्रह किया।

झरिया : आजसू पार्टी की बैठक, महिला सशक्तिकरण पर जोर

पल्लवी ने उस महिला की बात सुनकर अपने बड़े भाई राकेश रंजन को फोन कर रक्‍तदान करने पीएमसीएच आने को कहा। कुछ ही समय में राकेश भी वहां पहुंच गए और दोनों भाई-बहन ने दोनों बच्‍चों के लिए रक्‍तदान किया।

रक्‍तदान करने पर शालिनी खन्‍ना ने दोनों भाई-बहन की प्रशंसा और धन्‍यवाद दिया। उन्‍होंने कहा कि पल्लवी की तरह बेटियां व महिलाएं भी रक्‍तदान करने आगे आएगी तो कई लोगों की जान बचायी जा सकेगी। सौरभ सिंह ने भी युवाओं से अपील की है कि वो अधिक से अधिक रक्तदान करें  ताकि जरूरतमंदों को समय पर खून मिल सके।

रक्त अधिकोष में रक्त की कमी को देखते हुए इस बार स्वतंत्रता दिवस पर शिविर लगाकर रक्‍तदान करने का निर्णय लिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

कोलेबिरा : लचरागढ़ में संदिग्ध हालत में मिला नाबालिग बच्ची...

more-story-image

दुमका : लाभुकों के बीच मुख्य न्यायाधीश ने परिसंपति का...