ट्रेन में रिजर्वेशन के लिए नहीं लगाने पड़ेंगे बड़े स्टेशनों के चक्कर, यहाँ से बुक कर सकेंगे टिकट

NewsCode | 12 June, 2018 5:39 PM

यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे ने हाल ही में दो ऐप भी लॉन्च किये हैं।

newscode-image

नई दिल्ली। आज भी देश के अधिकतर गांवों में रेलवे रिजर्वेशन कराने में आने वाली समस्या आम है। रेलवे बुकिंग काउंटर पर टिकट कराने के लिए उन्हें कई मुश्किलें आती हैं, उन्हें इसके लिए मीलों दूर बड़े स्टेशन तक जाना होता है और तमाम तरह की परेशानियां उठानी पड़ती है। ग्रामीण लोगों के लिए रेलवे टिकट बुकिंग सुगम बनाने के उद्देश्य से अगले कुछ महीनों में साझा सेवा केंद्रों (सीएससी) के जरिए रेल टिकट बुक की जा सकेगी। ये ग्रामीणों को ऑनलाइन रेलवे टिकट कराने और अन्य सरकारी सेवाएं उपलब्ध कराने का काम करेंगे।

ग्रामीण इलाकों में इस सुविधा को उपलब्ध कराने के लिए रेल मंत्रालय तथा आईटी मंत्रालय ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है। जिसके तहत अगले कुछ महीनों में साझा सेवा केंद्रों (सीएससी) के जरिए रेल टिकट बुक की जा सकेगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस अवसर पर कहा कि देश के सभी 2.9 लाख सीएससी को तकनीक के जरिए जोड़ते हुए उन्हें रेल टिकट बुकिंग में सक्षम बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस समय लगभग 40,000 सीएससी कनेक्ट हैं और अगले 8-9 महीने में सभी सीएससी में टिकट बुकिंग की सुविधा मिल जाएगी।

यह समझौता ‘आईआरसीटीसी’ व ‘सीएससी इंडिया’ के बीच हुआ है। मालूम हो कि सीएससी इंडिया देश भर के ग्रामीण इलाकों में सरकारी सेवाओं के लिए साझा सेवा केंद्र (सीएससी) चलाती है। इस समझौते के तहत सीएससी आरक्षित व अनारक्षित दोनों तरह की टिकट बुकिंग कराने की सुविधा प्रदान करेगी। रेल मंत्री गोयल ने कहा कि वह 2.9 लाख सीएससी को बैंकिंग प्रतिनिधि के रूप में काम करने की अनुमति देने की दिशा में काम करेंगे।

इसके साथ ही सीएससी के बैंकों में विस्तारित काउंटर स्थापित करने की संभावना भी तलाशी जाएगी। उन्होंने आईटी मंत्री रवि शंकर प्रसाद से सीएससी के जरिए वित्तीय सेवा देने के उनके प्रस्ताव पर भी चर्चा की। अब ग्रामीण इलाकों में ट्रेन के टिकट बुक करवाने के लिए लोगों को स्टेशन नहीं जाना पड़ेगा। लोग कॉमन सर्विस सेंटर के जरिए जल्द ही ट्रेन टिकट भी बुक करवा सकेंगे।

यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे ने लॉन्च किये दो ऐप

आपको बता दें कि एक दिन पहले ही भारतीय रेलवे ने रेलवे में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए दो महत्वपूर्ण एप लांच किए हैं। इसमें पहला ट्रेन में यात्रियों की शिकायतें दूर करने के लिए ‘रेल मदद’ नाम का एप लॉन्च किया है। इसके जरिए ट्रेन में होने वाली किसी भी तरह की शिकायत की जा सकेगी। जबकि दूसरा है ‘मेन्यू ऑन रेल्स’ नाम का एप जिसके जरिए ट्रेन में खाना ऑर्डर करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके पहले यात्री रेलवे को टि्वटर के जरिए अपनी समस्या और शिकायतें बता रहे थे।

रांची से नई दिल्ली जाने वाली ट्रेनों की नई बोगियां कौन कर रहा गायब ?

ट्रेन में ज्यादा सामान लेकर सफर करने की आदत है तो इसे बदल डालिए, रेलवे ने बदला ये नियम

UGC का फरमान- 29 सितंबर को यूनिवर्सिटी मनाएं ‘सर्जिकल स्ट्राइक दिवस’, कांग्रेस ने की आलोचना

NewsCode | 21 September, 2018 5:34 PM
newscode-image

नई दिल्ली। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देशभर के विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों को 29 सितंबर को ‘सर्जिकल स्ट्राइक दिवस’ के तौर पर मनाने का आदेश दिया है। UGC ने सर्जिकल स्ट्राइक डे मनाने के लिए सशस्त्र बलों के बलिदान के बारे में पूर्व सैनिकों से संवाद सत्र, विशेष परेड, प्रदर्शनियों का आयोजन और सशस्त्र बलों को अपना समर्थन देने के लिए उन्हें ग्रीटिंग कार्ड भेजने समेत अन्य गतिविधियां आयोजित करने का सुझाव भी दिया है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक आयोग ने सभी कुलपतियों को गुरुवार को भेजे एक लेटर में कहा, ‘सभी विश्वविद्यालयों की एनसीसी की इकाइयों को 29 सितंबर को विशेष परेड का आयोजन करना चाहिए जिसके बाद एनसीसी के कमांडर सरहद की रक्षा के तौर-तरीकों के बारे में उन्हें संबोधित करें।’

यूजीसी ने कहा कि विश्वविद्यालय सशस्त्र बलों के बलिदान के बारे में छात्रों को संवेदनशील करने के लिए पूर्व सैनिकों को शामिल करके संवाद सत्र का आयोजन कर सकते हैं।

पत्र में कहा गया है, ‘इंडिया गेट के पास 29 सितंबर को एक मल्टीमीडिया प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा। इसी तरह की प्रदर्शनियों का आयोजन राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों, अहम शहरों, समूचे देश की छावनियों में किया जा सकता है। इन संस्थानों को छात्रों को प्रेरित करना चाहिए और संकाय सदस्यों को इन प्रदर्शनियों में जाना चाहिए।’

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने की आलोचना

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्विटर पर यूजीसी के इस निर्णय की आलोचना की है। उन्होंने लिखा है, ‘यूजीसी ने सभी यूनिवर्सिटीज को 29 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक डे के रूप में मनाने का आदेश दिया है। यह लोगों को शिक्षित करने के लिए बना है या बीजेपी के राजनीतिक हित साधने के लिए? क्या यूजीसी 8 नवंबर (नोटबंदी) को गरीबों का निवाला छीनने के सर्जिकल स्ट्राइक दिवस के रूप में मनाने की हिम्मत कर पाएगा? यह एक और जुमला है!

वहीं, मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि यूनिवर्सिटीज सर्जिकल स्ट्राइक दिवस को मनाने के लिए बाध्य नहीं हैं। जावड़ेकर ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक को समर्पित इस कार्यक्रम को मनाने का सुझाव हमें कई शिक्षकों और विद्यार्थियों से मिला था, इसलिए हमने इसके आयोजन का फैसला किया है।

गौरतलब है कि भारत ने 29 सितंबर 2016 को PoK में नियंत्रण रेखा के पार आतंकवादियों के सात अड्डों पर लक्षित कर हमले किए थे। सेना ने कहा था कि विशेष बलों ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से घुसपैठ की तैयारी में जुटे आतंकवादियों को भारी नुकसान पहुंचाया है।

18 सितंबर 2016 को पाकिस्तान से आए आतंकियों ने भारत के उरी कैंप पर हमला किया और भारत के 19 जवान शहीद हुए थे। उरी हमले के करीब दस दिन बाद 28-29 सितंबर 2016 की रात भारतीय सेना ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में घुसकर आतंकियों के ठिकानों को तहस-नहस कर दिया था।


सर्जिकल स्ट्राइक के नए वीडियो पर भड़की कांग्रेस, कहा-बलिदान को वोट में बदलने की कोशिश कर रही BJP

अब झूठ नहीं बोल पाएगा पाकिस्तान, पहली बार सामने आया PoK में टेरर कैंपों पर सर्जिकल स्ट्राइक का Video

जम्मू-कश्मीर: 3 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद 7 SPO का इस्तीफा, गृह मंत्रालय ने बताया- अफवाह

इमरान के खत पर बदला भारत का रुख, UN बैठक के दौरान पाक विदेश मंत्री से मिलेंगी सुषमा

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गावां : कागजों पर ही सीमित रहा कानून, बगैर लैब, लाइब्रेरी और शिक्षक के पढ़ रहे छात्र

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 5:47 PM
newscode-image

गावां (गिरिडीह)। राज्य सरकार ने पिछले कुछ सालों के भीतर प्राइमरी-मिडिल स्कूलों का उत्क्रमित कर उन्हें हाई और हाई स्कूलों को उपग्रेड कर हायर सेकंडरी में तब्दील कर के सिर्फ वाहवाही लूटी है।

स्कूलों को अपग्रेड कर सरकार ने कागजी तौर पर सूबे में उच्च शिक्षा के नाम पर जनता को बेवकूफ बनाया है। कागजी रिकॉर्ड में सरकार ने हर पांच किमी के दायरे में हाई स्कूल की व्यवस्था कर दी। लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है।

स्कूलों के अपग्रेड होने के वर्षो बाद भी आज तक हाई और हायर सेकंडरी के लिए ना तो भवन बनाया और न ही लैब और लाइब्रेरी की व्यवस्था की गई है। इतना ही नहीं कई स्कूलों में तो अब तक एक भी शिक्षक की नियुक्ती नही की गई है।

ऐसे में प्राईमरी और मीडिल स्कूल के शिक्षकों के भरोसे ही हाई और सेकंडरी स्कूलों के बच्चों के भविष्य का जिम्मा है।

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत गावां प्रखंड के छह प्राईमरी-मीडिल स्कूल को अपग्रेड कर हाई स्कूल में और दो हाई स्कूल को अपग्रेड कर हायर सेकंडरी में तब्दिल किया गया है। परंतु अपग्रेशन के चार-पांच वर्ष बाद भी अब तक इन न्यू अपग्रेड हायर सेकंडरी स्कूलों में ना तो भवन, ना ही लाइब्रेरी और ना लैब की व्यवस्था की गई है।

इतना ही नहीं गावां के नौ हाई स्कूल और दो प्लस टू स्कूल में से पांच हाई स्कूल और एक प्लस टू स्कूल शिक्षक विहीन है। ऐसे में प्रखंड की माध्यमिक शिक्षा की बदतर व्यवस्था का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

प्रखंड के नौ हाई स्कूलों में उत्क्रमित हाई स्कूल जमडार को छोड़कर बाकी के आठ हाई स्कूल और दो प्लस टू स्कूल में ना तो लैब और ना ही लाईब्रेरी की मुक्कमल व्यवस्था।

बगैर लैब के इन स्कूलों में अध्ययनरत्त नौवीं से बारहवीं के साईंस के छात्र-छात्राओं को कैसी शिक्षा मिल रही है इसका अंदाजा सहज लगाया जा सकता है। जबकि आलाधिकारी यहां के स्कूलों के संसाधनों से वाकिफ है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

लोहरदगा : जंगल छोड़ गांव में पहुंचे गजराज, ग्रामीणों में भय के साथ कौतूहल

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 5:37 PM
newscode-image

लोहरदगा। पिछले एक सप्ताह से जंगली हाथियों का दल जिले के विभिन्‍न क्षेत्रों में विचरण कर रहा है जिससे ग्रामीणों के बीच भय का वातावरण बना हुआ है। भंडरा थाना क्षेत्र के कचमची महुआटोली में शुक्रवार की सुबह हाथियों का दल पहुँच गया है। इस दल में करीब 18 हाथी हैं जिनमें कई बच्‍चे भी शामिल हैं।

जंगली हाथियों से जहां स्थानीय लोग भयभीत हैं वहीं उन्‍हें अपने आसपास विचरते देख उनके मन में कौतूहल भी उत्‍पन्‍न हो रहा है। हाथियों के झुंड को देखने के लिए भीठा, भंडरा, कचमची, चट्टी, कोटा, नागजुआ सहित दर्जनों गांव के ग्रामीण कचमची महुआटोली पहुंच रहे हैं। वहीं हाथियों के झुंड के साथ सेल्फी लेने की युवाओं में होड़ लगी है। भंडरा थाना की पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को वहाँ से हटा दिया ताकि किसी तरह की अप्रिय घटना को रोका जा सके।

इधर हाथियों के झुंड ने कई किसानों के खेत मे लगे मक्का व धान की फसल को क्षति पहुंचाई है। मामले की जानकारी मिलने के बाद भी, अभी तक वन विभाग की ओर से हाथियों को जंगल की ओर ले जाने का कोई प्रयास नहीं किया गया है जिससे ग्रामीणों में नाराजगी है।

लोहरदगा : करमा पूजा धूमधाम से संपन्‍न, सुखदेव भगत ने बजाया मांदर

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

बेंगाबाद :  या अली या हुसैन के नारों से गूंज...

more-story-image

तेनुघाट : गंदगी में ही बीमारियां पनपती है-रामकिशुन