बोकारो : जिला को ओडीएफ बनाने में जनप्रतिनिधियों का सहयोग अनिवार्य – डीसी

newscode-image

मुखिया सदस्यों के साथ सर्किट हाउस में डीसी ने की बैठक

बोकारो। उपायुक्त  राय महिमापत रे की अध्यक्षता में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत एनसीजीजी कोलकाता एटीआई से प्रशिक्षण प्राप्त कर लौटे सभी मुखिया सदस्यों के साथ सर्किट हाउस बोकारो में बैठक की गई। उपायुक्त श्री रे ने सभी मुखिया सदस्यों को जल्द-से-जल्द नियत समय पर अपने पंचायत क्षेत्रों को ओडीएफ घोषित कराने एवं अपने पंचायत क्षेत्रों को खुले में शौचमुक्त कराने को कहा।

उपायुक्त श्री रे ने कहा कि बोकारो जिला को जून 2018 तक पूर्ण रूप से ओडीएफ करने के लिए जनप्रतिनिधियों का सहयोग अनिवार्य है। बैठक में कई मुखिया सदस्यों ने ओडीएफ का अर्थ मल से मुख तक की यात्रा को समाप्त कराना बताया। साथ ही इस उद्देश्य के साथ अपने-अपने पंचायतों को खुले में शौच मुक्त कराने का वादा भी किया।

सभी चयनित 54 मुखिया सदस्यों ने अपने-अपने विचार रखें तथा सभी सदस्यों ने जल्द से जल्द अपने-अपने पंचायत क्षेत्रों में जागरुकता अभियान चलाकर शौचालय निर्माण के कार्य में तेजी लाने तथा अपने पंचायत क्षेत्रों को शौच मुक्त करने की बात कही। बैठक के दरम्यान उपायुक्त श्री रे के द्वारा सभी मुखिया सदस्यों को स्वच्छता से संबंधित स्वच्छता शपथ भी दिलायी।

बैठक में उपविकास आयुक्त  दिगेश्वर तिवारी, नोडल पदाधिकारी एसबीएम  एसएन उपाध्याय, कार्यपालक दण्डाधिकारी  प्रभाष दत्ता, स्वच्छता प्रेरक मैत्री गांगुली, एपीओ  ब्रजेश कुमार, यूनिसेफ के घनश्याम सहित सभी मुखिया सदस्य उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

सरिया : तनाव मामले में 77 नामजद समेत 2 हजार अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज़

newscode-image

सरिया (गिरिडीह)। सरिया थाना क्षेत्र के मोकामो गांव में हुए विवाद को लेकर सरिया अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी दीपक कुमार शर्मा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मोकामा में पूरी तरह से शांति व्यवस्था बनी हुई है। वहीं क्षेत्र में शांति व्यवस्था बरकरार रखने को लेकर पुलिस के द्वारा मोकामो एवं आस-पास के गांव लगातार फ्लैग मार्च पुलिस के जवानों के द्वारा किया जा रहा है।

एसडीपीओ ने कहा कि उपद्रवी लोगों की धरपकड़ को लेकर भी पुलिस के द्वारा कार्रवाई की जा रही है। क्षेत्र के सभी लोगों से प्रशासन को शांति व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग करने की बात कही है।

गिरिडीह : मंदिर निर्माण पर उपजा विवाद मामला, अगले आदेश तक निषेधाज्ञा

एसडीपीओ ने कहा कि मोकामो की घटना को लेकर के बाद लगातार कुछ लोगों के द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से दुष्प्रचार किया जा रहा है। जिससे क्षेत्र में विधि व्यवस्था भंग हो सकती है। बताया कि प्रशासन ने वैसे लोगों को चिन्हित कर रखा है वैसे लोगों पर कार्रवाई की जाएगी।

इधर, सांप्रदायिक तनाव एवं निषेधाज्ञा उल्लंघन के आरोप में सोमवार को सरिया थाना में मामला दर्ज करते हुए उनचालीस को गिरफ्तार कर गिरिडीह जेल भेज दिया गया। मामले को लेकर प्रखंड विकास पदाधिकारी सह दंडाधिकारी शशि भूषण प्रसाद वर्मा के द्वारा थाना में दिए गए आवेदन पर मामला दर्ज हुआ है।

आवेदन में बताया गया है कि मोकामो गांव में पूर्व से दो समुदाय के बीच धार्मिक स्थल निर्माण को लेकर विवाद चला रहा था। जिसे लेकर अनुमंडल पदाधिकारी बगोदर सरिया पवन कुमार मंडल के द्वारा दंड प्रक्रिया संहिता 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाया गई थी। साथ ही मोकामो गांव में प्रशासन के द्वारा पांच बैरीकेटिंग की व्यवस्था की गई थी।

जिसे उन्मादी शक्तियों द्वारा तोड़कर विवादित स्थल पर पहुंच कर जबरन धार्मिक स्थल का निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया गया था। वहीं प्रशासनिक अधिकारियों के साथ भी झड़प की गई थी।

आवेदन पर 77 नामजद सहित 2 हज़ार अज्ञात व्यक्तियों के ऊपर भादवि की धारा 147,148,149,341,323, 337,338, 332,153,153(ए),295,295(ए)353,  186,181,307,120 (बी) के तहत मामला दर्ज किया गया है। वहीं पुलिस ने 77 नामजद अभियुक्तों में से 39 लोगों को गिरफ्तार कर गिरिडीह जेल भेज दिया है।

जिसमें वासुदेव मिस्त्री, घनश्याम शर्मा, कैलाश मिस्त्री, राजकुमार सिंह, नागेश्वर सिंह, मोहम्मद इरशाद, मोहम्मद हुसैन, जियाउद्दीन अंसारी, रहमान अंसारी, गुलाम अंसारी, गुलाम रसूल, अजमल अंसारी, मुनव्वर हुसैन, मोहम्मद इशाक, गुलाम रसूल, मोहम्मद इकबाल, आसिफ अंसारी, लखन सिंह, ब्रज किशोर पांडेय, मनोज सिंह, राजेश सिंह, मनीष कुमार सिंह, अरुण कुमार सिंह, जितेंद्र पटेल, विजय महतो व अजय शर्मा शामिल है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

इस हरकत की वजह से सोशल मीडिया पर हुई एयरटेल की फजीहत

newscode-image

नई दिल्ली। देश की मशहूर टेलीकॉम कंपनी एयरटेल एक नये विवाद में फँस गयी है। इस विवाद के कारण कंपनी सोशल मीडिया पर फजीहत झेल रही है। दरअसल, ट्विटर पर पूजा सिंह नाम के एक यूजर ने एयरटेल को टैग करते हुए कंपनी की सेवाओं से जुड़ी एक शिकायत ट्वीट की। जवाब में कंपनी की ओर से शोएब नाम के एक कर्मचारी ने यूजर की शिकायत को दूर करने का आश्वासन दिया। लेकिन मामला यहाँ खत्म नहीं हुआ।

इसके बाद शिकायतकर्ता पूजा ने एयरटेल कर्मचारी को जवाब देते हुए कहा कि, ” प्रिय शोएब, चूँकि तुम मुस्लिम हो, इसलिए मुझे तुम्हारी कार्य पद्धति पर भरोसा नहीं है। हो सकता है कि कुरान में अलग तरह की ग्राहक सेवा करना सिखाया गया हो, इसलिए किसी हिंदू ग्राहक सेवा अधिकारी से मेरी समस्या का समाधान कराओ।”

एयरटेल से यहीं बड़ी चूक हो गयी। कंपनी ने अपने मुस्लिम कर्मचारी और उसके अधिकारों का बचाव करने की बजाय उसके बदले गगनजीत नामक दूसरे ग्राहक सेवा अधिकारी को शिकायत सुलझाने के लिए आगे कर दिया।

ट्विटर पर कंपनी की इस शुतुरमुर्गी रवैये की कड़ी आलोचना शुरू हो गयी। कई लोगों ने एयरटेल को अपने कर्मचारी के पक्ष में खड़ा न होने के लिए दुत्कार और फटकार लगाई। कुछ लोगों ने यहाँ तक कह डाला कि वह एयरटेल की इस हरकत से नाराज हैं और अपना नंबर पोर्ट करने जा रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट करते हुए लिखा, “एयरटेल की इस हरकत को उन्होंने अपनी टाइमलाइन पर देखा है। मैं ऐसी कंपनी को एक भी पैसा देने से परहेज करूँगा जो धार्मिक आधार पर भेदभाव को रोकने की बजाय इसे बढ़ावा देती हो। मैं अपना नंबर दूसरी कंपनी में पोर्ट करवाने जा रहा हूँ। साथ ही डीटीएच और ब्रॉड बैंड कनेक्शन भी कटवा रहा हूँ।”

इसके बाद कई यूजर्स ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी और एयरटेल की निंदा और मलामत की।

सोशल मीडिया पर किरकिरी होने के बाद एयरटेल ने सफाई देते हुए कहा कि, “कंपनी कर्मचारियों, ग्राहकों और साझेदारों के साथ जाति और धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करती है। मैं आपसे (शिकायतकर्ता से) भी अनुरोध करता हूँ कि आप भी ऐसा न करें। शोएब और गगनजीत दोनों ही हमारी टीम का हिस्सा हैं और उपलब्धता के आधार पर लोगों की शिकायतों का निपटारा करते हैं। आपकी समस्या का समाधान जल्द किया जाएगा।”

इस्लाम विरोधी ट्वीट के लिए दुबई के होटल ने भारतीय शेफ को नौकरी से निकाला

कोडरमा : नाबालिग ने लगाया यौन शोषण का आरोप, मामला दर्ज

newscode-image

कोडरमा। तिलैया थाना क्षेत्र के झलपो ईदगाह मुहल्ला निवासी एक नाबालिग लड़की ने अपने परिचित पर बेहतर शिक्षा दिलाने के नाम पर मुंबई ले जाने व यौन शोषण, प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया है। आवेदन में पीड़िता ने कहा कि झलपो निवासी मो. अमजद व साबरा खातून ने उनके परिजनों को विश्वास में लेकर उसे उच्च शिक्षा दिलाने के बहाने अपने साथ मुंबई ले गये।

कोडरमा : आसनसोल-वाराणसी पैसेंजर ट्रेन का पुनः परिचालन शुरू

वहां दोनों आरोपियों ने उसको प्रताड़ित करते हुए दिन रात काम कराया। साथ ही आरोपी अमजद ने कई बार उसका शारीरिक शोषण भी किया। जिससे पीड़िता गर्भवती हो गई। इसके बाद आरोपियों ने उसे उसके माता-पिता के पास लाकर छोड़ दिया।

जिसके बाद पीड़िता ने पूरी घटना की जानकारी परिजनों को दी। इसके बाद स्थानीय समाज ने आरोपियों को मामले का दोषी पाते हुए तीन लाख रुपये का जुर्माना लगाया। जिसके बाद आरोपी ने 2 माह का समय मांगते हुए रुपये पीड़िता को देने की बात कही लेकिन बाद में आरोपी अपने वादे से मुकर गया और भाग गया। आवेदन के आधार पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

रांची। अडानी पावर को फायदा पहुंचाने के लिये सरकार ने...

more-story-image

चंदनकियारी : नवविवाहिता ने की आत्महत्या, जाँच में जुटी पुलिस