बोकारो : पुलिस ने युवक को बेरहमी से पीटा, अस्पताल में चल रहा है इलाज

NewsCode Jharkhand | 17 May, 2018 9:24 PM

बोकारो : पुलिस ने युवक को बेरहमी से पीटा, अस्पताल में चल रहा है इलाज

ग्रामीणों ने एसपी से की शिकायत

बोकारोपुलिस का बर्बर चेहरा सामने आया है। कसमार थाना पुलिस ने एक युवक को बिना किसी खास वजह के बेहरहमी से इस तरह से पिटाई कर दी कि उसे सदर अस्पताल में भर्ती करना गया है। पीड़ित के साथ स्थानीय लोगों ने बोकारो एसपी के पास इसकी शिकायत की है। एसपी ने पहले पीड़ित का इलाज कराने की बात कहीं है।

सदर अस्पताल के चिकित्सक ने पीड़ित का मेडिकल बोर्ड के द्वारा जांच रिपोर्ट तैयार किये जाने की बात कही है। वही पीड़ित के साथ आये प्रमुख और मुखिया ने घटना की निंदा करते हुए इसकी जांच कर करवाई की मांग की है।

बोकारो : ग्रामीणों को मिले सरकारी योजनाओं का लाभ- डीडीसी

जानकारी के मुताबिक बीते 15 मई की शाम कसमार थाना पुलिस और उत्पाद विभाग की टीम कसमार के तेलियाडीह में अवैध शराब की छापेमारी करने गए हुई थी। इसी दौरान पुलिस ने एक नाबालिक को पकड़ साथ ले जा रही थी, तो गांव के ही फूलचंद महतो ने बच्चे के बदले उसके पिता को साथ ले जाने की बात कह बच्चे को छोड़ने की  बात कही। इसी दौरान कसमार थाना के पदाधिकारी मनोज कुमार झा ने उक्त युवक को गाली-गलौज करने लगा। इस दौरान फूलचंद ने इसका विरोध किया।

16 मई की रात साढ़े 9 बजे मनोज कुमार झा पुलिस बल के साथ फूलचंद के घर पहुचे, फूलचंद ने दरवाजा खोला। इसके बाद पुलिस ने फूलचंद को अपने साथ लेकर थाने ले गई। रात भर उसकी मनोज झा ने बेहरहमी से उसकी पिटाई की। इस दौरान उसको तरह-तरह की यातनाएं भी दी गई। सुबह इसकी सूचना स्थानीय लोगों को मिली तो वे थाने पहुँचे। ग्रामीणों की उपस्थिति होता देख मनोज झा ने किसी से शिकयत नही करने की लिखित आवेदन लेकर उसे छोड़ दिया।

गोमिया : विधानसभा उपचुनाव को लेकर मंत्री अमर बाउरी ने चलाया जनसंपर्क अभियान

इसके बाद स्थानीय प्रखंड प्रमुख, मुखिया और जनप्रतिनिधियों को इसकी जानकारी मिली तो पीड़ित को लेकर एसपी बोकारो कार्तिक एस से मिले। उन्होंने करवाई करने का आश्वासन दिया। पीड़ित का इलाज सदर अस्पताल बोकारो में चल रहा है। पीड़ित के शरीर पर गंभीर चोट का निशान बना हुआ है।

चिकित्सक डॉ. एचडी सिंह ने बताया कि पीड़ित ने मामले की जानकारी दी है। शरीर में चोट देखा जा सकता है। इसकी सूचना स्थानीय थाना और सिविल सर्जन को दिया गया है। पीड़ित का मेडिकल बोर्ड के द्वारा इंजुरी की जांच कर रिपोर्ट दी जाएगी।

पीड़ित के साथ आये प्रमुख और मुखिया ने इस पुलिसिया बर्बरता की निंदा करते हुए कहा कि पुलिस जनता से पुलिस मैत्री की बात करती है और बिना किसी अपराध के निर्दोष के साथ बेहरहमी के साथ पिटाई की जाती है, ऐसे में लोग दूसरे रास्ते को चुनने को विवश हो जाएंगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पहुंचे रांची

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 8:00 PM

रांची : कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पहुंचे रांची

सभी जिलों में घूम कर ओबीसी की स्थिती का लेंगे जायजा

रांची। कांग्रेस के ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ताम्रध्वज साहू बुधवार को रांची पहुंचे। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रेस वार्ता में उन्‍होंने बताया कि वह राहुल गांधी के निर्देश पर पूरे देश में घूम कर ओबीसी की क्‍या हालत है। इसका पता लगा रहे हैं।

कांग्रेस पार्टी से उनकी क्या आशा है। वे कांग्रेस से किस प्रकार जुड़े। उनकी भागीदारी पार्टी में किस प्रकार हो। इस पर विचार विमर्श होगा। श्री साहू ने पत्रकारों को बताया कि झारखंड में ओबीसी की संख्‍या कितनी है और किस-किस क्षेत्र मे है। इसकी पूरी जानकारी लेने के बाद उन्‍हें पार्टी से कैसे जोड़ा जाए इस पर विचार किया जाएगा।

रांची : पीएम झारखंड को 25 मई को 28 हजार करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात

वह राज्‍य के सभी जिलों में जाएंगे। पूरी रिपोर्ट तैयार कर लेने के बाद पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुज गांधी को इससे अवगत कराया जाएगा।

पत्रकार वार्ता में आलोक दूबे, अभिलाष साहू सहित अन्‍य लोग उपस्थित थें।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

बोकारो : डीडीसी ने की समीक्षा बैठक, तीन पंचायत सेवक का रोका वेतन

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 7:55 PM

बोकारो : डीडीसी ने की समीक्षा बैठक, तीन पंचायत सेवक का रोका वेतन

रोजगार सेवकों  को शो कॉज

चंदनकियारी(बोकारो)। प्रखंड स्थित सभागार में बोकारों जिला के उपविकास आयुक्त रवि रंजन मिश्रा के अध्यक्षता में प्रखंड में चल रहीं विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का समीक्षात्मक बैठक किया। जहां उपविकास आयुक्त ने बैठक के दौरान कर्मियों द्वारा उनके सवालों का सकारात्मक जवाव नहीं दिए जाने पर कई कर्मियो को फटकार लगाई।

मौके पर डीडीसी श्री मिश्रा ने कहा कि जनकल्याणकारी योजनाओं में लापरवाही किसी भी हाल में बर्दास्त नहीं की जाएगी। बरसात के पहले सभी कच्चा कार्य को समय रहते हुए 15 दिनों के अंदर पूर्ण करें। उन्होंने एक एक पंचायत का मासिक प्रगति प्रतिवेदन का जांच किया।

इस अवसर पर अद्रकुड़ी, महाल पूर्वी व बोरियाडीह में योजनाओ का संतुष्ट जवाव नहीं मिलने पर उक्त तीनों पंचायत के पंचायतों के सचिव का वेतन अगले आदेश तक के लिए रोक लगाने का बीडीओ ने दिया आदेश।

वहीं उक्त पंचायत के रोजगार सेवकों को शो कॉज किया। साथ ही रूर्बन मिशन के तहत आबंटन प्राप्त 107 करोड़ रुपया के अनुसार रूप रेखा तैयार करने को भी कहा गया।

बोकारो : सरकार खेल एवं खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास के लिए संकल्पित- अमर बाउरी

इस अवसर पर प्रधानमंत्री आवास, स्वच्छ भारत मिशन, मनरेगा, विभिन्न प्रकार के पेंशन समेत कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा किया गया। मौके पर बीडीओ चंदनकियारी रविन्द्र प्रसाद गुप्ता समेत सभी पंचायत के पंचायत सेवक कान रोजगार सेवक मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

टुंडी : प्‍यास बुझाने के लिए जूझती हैं महिलाएं, जंगल पार कर के करती हैं व्‍यवस्‍था

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 7:32 PM

टुंडी : प्‍यास बुझाने के लिए जूझती हैं महिलाएं, जंगल पार कर के करती हैं व्‍यवस्‍था

विकास के नाम पर सिर्फ बिजली पहुंची

टुंडी (धनबाद)। टुंडी प्रखंड के नक्‍सल प्रभावित क्षेत्र रूपन पंचायत अंतर्गत धनारंगी गांव में लोगों को पेयजल की समस्या से जुझना पड़ रहा है। आलम यह है कि गांव की महिलाओं और बच्चियों को जंगलों के बीच जोरिया एवं डाड़ी से पानी की व्यवस्था करनी पड़ती है।

बुधवार को न्यूज़कोड के सहयोगी जब गांव पहुंचे तो ग्रामीण श्रीलाल मुर्मू ने बताया कि गांव में पेयजल की बहुत समस्या है। दो टोलों में बंटा यह गांव पहाड़ की तराई में बसा हुआ है। जिसमें से एक टोले में कुआं और चापानल है जबकि पहाड़ की तराई में सटे टोले में मात्र एक चापानल है। जिससे ग्रामीणों की प्यास नहीं बुझती है।

धनबाद : कोचिंग सेंटर पर पैसे ऐंठने का आरोप, छात्र मोर्चा ने किया प्रदर्शन

इस कारण ग्रामीणों को अपनी प्यास बुझाने के लिए गांव से लगभग एक किलोमीटर दूर जंगलों के रास्ते होते हुए सोनापानी जोरिया में बहने वाली पानी लाते हैं। गर्मी के दिनों में यह जोरिया भी सूख जाता है। ग्रामीणों की मदद से खेतों में बने एक डाड़ी चुआं से पानी लाकर अपनी प्यास बुझाते हैं। विकास के नाम पर गांव में सिर्फ बिजली पहुंची है और कुछ पीसीसी बनी है, परंतु गांव जाने वाली मुख्य सड़क बिल्कुल जर्जर हालत में है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

X

अपना जिला चुने