बोकारो : पीपुल फ्रेंडली पुलिसिंग पर रहेगा जोर, अपराधियों को सजा दिलाना पहली प्राथमिकता- कार्तिक एस

NewsCode Jharkhand | 1 December, 2017 11:48 AM

बोकारो के निवर्तमान एसपी को दी गई विदाई, नए एसपी का स्वागत

newscode-image

बोकारो। बोकारो में पुलिसिंग करना एक सुखद अनुभव रहा है, अपने सवा दो साल के कार्यकाल में मेरे ऊपर कोई दाग नहीं लगा यह सबसे बड़ी उपलब्धि है। यह बातें निवर्तमान एसपी वाईएस रमेश ने अपने विदाई समारोह सह नए एसपी कार्तिक एस के स्वागत समारोह में उपस्थित लोगों और अपने विभाग के अधिकारियों को संबोधित करते हुए कही।

जिले नव पदस्थापित एसपी कार्तिक एस ने जिले में पीपुल फ्रेंडली पुलिसिंग पर जोर देने की बात कही। एसपी ने कहा कि अपराधियों को अधिक से अधिक सजा दिलाई जा सके इसपर काम करना मेरी प्राथमिकता होगी।

Read More : बोकारो : अनुसूचित जाति व जनजाति थाना में लंबित मामले शीघ्र निपटाएं – उपायुक्‍त

कल देर रात ये विदाई सह स्वागत समारोह का आयोजन किया गया था। जिसमें जिले के डिस्ट्रिक्ट जज संजय प्रसाद, डीसी राय महिमापत रे, डीआईजी प्रभात कुमार, डीआईजी सीआईएसएफ और डीआईजी सीआरपीएफ बतौर अतिथि उपस्थित थे।

उपस्थित लोगों और पुलिस अधिकारियों को संबोधित करते हुए वाईएस रमेश ने कहा कि जिले में जिस तरह से जिला प्रशासन के साथ मिल कर जिला पुलिस ने काम किया है इसी का  नतीजा है कि मेरे इस कार्यकाल में जिले की विधिव्‍यवस्‍था सुचारू रूप से चल पाई है। उन्होंने कहा कि बोकारो लोह, कोयला चोरी के लिए जाना जाता रहा है। लेकिन मैंने अपने इस कार्यकाल में अपने ऊपर कोई दाग लगने नहीं दिया।

उन्होंने इस दौरान कहा कि वे दावा तो नहीं कर सकते हैं की पूर्ण रूप से इस आर्थिक अपराध पर लगाम लगाया जा सका है, लेकिन इसमें खुली छूट कभी नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि टीम भावना से काम कर सभी बड़े मामलों का खुलासा हुआ है।

उन्होंने कहा कि वे पीपी और एपीपी के साथ न्याय नहीं कर पाए जिसका उनको दुःख है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से वे सभी टूटे कार्यालय में बैठ कर पुलिस का सहयोग करते हैं वो कहीं से ठीक नहीं है।

एसपी कार्तिक एस ने कहा कि जिले में अपराध करने वालों को सजा दिलाना उनकी पहली प्राथमिकता होगी। उन्होंने कहा कि जिस लकीर को वाईएस रमेश खिंच कर जा रहे हैं उसको आगे बढ़ना उनकी जिम्मेवारी होगी। उन्होंने जनता के साथ मिलकर काम करने की बात भी कहीं। उन्होंने कहा कि एक छोटे से जिले से वे इस जिले में आये हैं लेकिन वे अपने अनुभव से इस जिले को सफल संचालन का काम करेंगे।

इस मौके पर डीसी राय महिमापत रे ने कहा कि उन्हें एक भाई से बिछड़ने का दर्द सता रहा है। उन्होंने कहा कि जिले में जिस तरह से एक एसपी के तौर पर प्रशासन के साथ मिल कर विधिव्‍यवस्‍था का काम किया है वह दूसरों के लिए अनुकरणीय है। उन्होंने उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

धनबाद : पानी-बिजली की किल्‍ल्‍त से परेशान ग्रामीण उतरे सड़क पर

Baidyanath Jha | 24 June, 2018 5:45 PM
newscode-image

धनबाद। जिले में पानी व बिजली की समस्या से परेशान आम लोग अब सड़क पर उतरकर प्रशासन का विरोध करने लगे हैं। ताजा मामला धनबाद केंदुआ का है जहां लोगों ने आज एनएच 32 को घंटों जाम कर पानी व बिजली की मांग की।

मिली जानकारी के अुनसार एनएच 32 सड़क का निर्माण कार्य चल रहा है, जिसके कारण रोड निर्माण कंपनी द्वारा पाईप लाइन क्षतिग्रस्त कर दिए जाने के कारण केंदुआ, करकेंद और कुसुंडा क्षेत्र में घोर पानी की किल्लत कई दिनों से बनी हुई है।

धनबाद : क्विक रिस्पांस टीम करेगी बिजली व पानी की समस्‍या का समाधान

पानी नहीं मिलने से परेशान स्‍थानीय महिलाओं ने हाथ में बर्तन लेकर एनएच 32 को जाम कर पानी देने की मांग करने लगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

कोडरमा : कला की धरा पर कलाकृतियों की बारीकियां बच्चों को सिखा रहे हैं अमर घोष

NewsCode Jharkhand | 24 June, 2018 5:47 PM
newscode-image

कोडरमा। कला की धरा पर कलाकृतियां बिखेरना 68 वर्षीय अमर घोष की खासियत है। अब तक कोडरमा जिले के तकरीबन 500 बच्चों (छात्र-छात्राओं) को ये पेंटिंग, ड्राइंग, मूर्तिकला, पेपरमसवर्क, थर्मोकोल वर्क, पलास्टर ऑफ़ पेरिस, हैंडीक्राफ्ट के क्षेत्र में सभी स्तर की बारिकियों से परिपूर्ण बना उस क्षेत्र में दक्ष बना चुके है। इनका यह अभियान अनवरत जारी है।

कोडरमा : प्रतिदिन सड़क दुर्घटना में जा रही है लोगों की जान, यह है कारण

मौजूदा समय में कला क्षेत्र के धनी अमर घोष तिलैया शहर में रेलवे क्रांसिग के निकट मधुबन काप्लेक्स परिसर में चित्रलिपि के नाम से एक प्रशिक्षण संस्थान चला रहे है। जहाँ सप्ताह में तीन दिन बच्चों को आर्ट क्लास के दौरान उन्हें जानकारियां देकर गढने का काम करते हैं। जिले के कई निजी स्कूलों में भी वे बतौर आर्ट शिक्षक बच्चों को जानकारी देते हैं। ये छात्रों को रिजेक्टेड वाटर बोतल से घर सजाने के हैंडीक्राफ्ट की जानकारी भी देते हैं।

बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि बचपन से ही उनके भीतर आर्ट की बारिकियों को समझने की ललत थी। इस सफर के दौरान उन्होंने इंडियन आर्ट कालेज पश्चिम बंगाल के गोल्ड मेडल प्राप्त प्रध्यापक अजय दास से भी इसके गुर सीखे, बाद के दिनों में 1974-75 में रविन्द्र भारती बंगीय संगीत परिषद धनबाद से उन्होंने आर्ट में डिप्लोमा भी प्राप्त किया है।

मौजूदा समय में उनकी इच्छा है वे ज्यादा से ज्यादा बच्चों को आर्ट की बारिकियां सिखा सके। वे कहते है खासतौर पर छोटे-छोटे नौनिहालों की प्रतिभा निखारने में उन्हें ज्यादा खुशी मिलती है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

दिल्ली : सेना के अफसर की पत्नी की हत्या, आरोपी मेजर मेरठ से गिरफ्तार

NewsCode | 24 June, 2018 5:43 PM
newscode-image

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के छावनी इलाके में बरार स्क्वायर के निकट आर्मी के मेजर अमित की पत्नी की हत्या के मामले में आरोपी को मेरठ से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी का नाम निखिल हांडा है और वह भी सेना में मेजर है।

आपको बता दें कि दिल्ली के बेहद ही संवेदनशील कैंट इलाके मेजर के पद पर कार्यरत की पत्नी शैलजा द्विवेदी की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना के बाद इलाके में हड़कंप मच गया। शैलजा सुबह 10 बजे आर्मी के बेस अस्पताल फिजियोथेरेपी कराने आई थी। लेकिन करीब 1 बजकर 28 मिनट पर दिल्ली कैंट मेट्रो स्टेशन के पास वरार स्केयर में सड़क पर शैलजा का शव मिला।

पुलिस ने आरोपी निखिल हांडा को उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के दौराला से गिरफ्तार किया है। मृतका के मोबाइल फोन की जांच की गई तो अखिरी कॉल डिटेल निखिल हांडा की मिली। इसके आधार पर ही पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है।

पुलिस जांच में मेजर की पत्नी के दूसरे मेजर से प्रेम प्रसंग होने की बात सामने आ रही थी। पुलिस से पूछताछ में मेजर अमित द्विवेदी ने पत्नी का एक दूसरे मेजर से संबंध होने का शक जताया था।

रविवार सुबह को पूछताछ में अमित ने बताया कि दिल्ली आने से पहले दीमापुर में उनकी पोस्टिंग थी, यहां पर उनकी पत्नी की नजदीकियां एक दूसरे मेजर से बढ़ गई थीं। दिल्ली आने के बाद भी उनकी पत्नी की उस मेजर से बातचीत होती थी। पुलिस को सीसीटीवी से पता चला है कि घटना वाले दिन निखिल ने शैलजा को अपनी हॉडा सिटी कार में बैठाया कर कहीं ले गया था और उसके बाद उसकी हत्या कर फरार हो गया।

निखिल रात भर अपनी लोकेशन बदलता रहा और आखिरकार उसको मेरठ से गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं पता ये भी लगा है कि अमित कुछ ही दिनों में यूएन मिशन में सूडान जाने वाला था। उसके साथ पत्नी शैलजा की भी जाने की तैयारी थी।

किसान से बोला बैंक मैनेजर – लोन चाहिए तो पहले बीवी को मेरे पास भेजो

More Story

more-story-image

दुमका : ताइक्‍वांडो व कुश्‍ती प्रतियोगिता आयोजित, प्रतिभागियों ने दिखाया...

more-story-image

रांची : सामूहिक शादी समारोह का आयोजन, मुख्यमंत्री ने 351...