बोकारो: नक्सली हिंसा से पीडित परिजनों को मरहम मिलेगी नौ‍करी

NewsCode Jharkhand | 23 March, 2018 6:52 PM

विशेष सचिव तदाशा मिश्र ने की समीक्षा

newscode-image

बोकारो। गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग, झारखण्ड सरकार, रांची की विशेष सचिव तदाशा मिश्र के द्वारा नक्सली हमले में मारे गए आम जनता के आश्रितों को नौकरी देने से संबंधित मामलों की समीक्षा वीडियो संवाद के माध्यम से की गई।

गोड्डा : तस्करों के खिलाफ पुलिस ने चलाया सर्च अभियान, मिली सफलता

वीडियो संवाद के दौरान बोकारो से 04 मामलों की समीक्षा की गई, जिसमें 02 मामले मृतक कजरू ठाकुर एवं अजय मांझी के आश्रितों को नौकरी देने हेतु विभाग को जिला के द्वारा पूर्व में ही प्रतिवेदन भेजा जा चुका है। वहीं 02 अन्य मामलें मृतक डुमर साव एवं रूपु निषाद के मामलों को विभाग द्वारा पुर्नविचार हेतु जिला को वापस किया गया।

विशेष सचिव के द्वारा जिला को इसे त्वरित गति से जांच कर पुनः विभाग को भेजने का आदेश दिया गया। वीडियो संवाद के दौरान उपायुक्त  मृत्युंजय कुमार बर्णवाल, पुलिस अधीक्षक  कार्तिक एस, उप विकास आयुक्त  रवि रंजन मिश्रा, पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय  पुनम मिंज, कार्यपालक दण्डाधिकारी  विजय राजेश बारला सहित अन्य उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गुमला : एसपी के आश्‍वासन पर हटा जाम, अपराधियों की फायरिंग से गुस्‍से में ग्रामीण

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 6:47 PM
newscode-image

गुमला। भरनो थाना क्षेत्र में बीते रात करमा उत्सव के दौरान अपराधियों द्वारा फायरिंग के विरोध में डोम्बा गांव के ग्रामीणों ने एनएच 23 को दिन के 11.30 बजे जाम कर दिया। आक्रोशित ग्रामीणों ने इस दौरान भरनो प्रशासन के खिलाफ जमकर नारे लगाये और अपराधी पवन साहू की गिरफ्तारी की मांग की। ग्रामीण, गुमला एसपी को मौके पर बलाने की मांग पर अड़े थे। बाद में मौके पर पहुंचे एसपी ने ग्रामीणों को आश्‍वासन दिया कि जल्‍द ही इस मामले के दोषी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। जिसके बाद ग्रामीणों ने जाम हटा लिया।

गुमला : एसपी के आश्‍वासन पर हटा जाम, अपराधियों की फायरिंग से गुस्‍से में ग्रामीण

आ धमके पांच हथियारबंद अपराधी

भरनो के डोम्बा गांव में बस्ती के अखरा में ग्रुरूवार की रात ग्रामीण करमा पूजा कर रहे थे। उसी दौरान पड़ोसी गांव के पांच हथियारबंद अपराधी वहां आ धमके और महिलाओं को नृत्य करने से मना करने लगे। जिसके बाद महिलाएं एक तरफ हो गई। अपराधियों में से एक ने  वहां बंदूक निकालकर फायरिंग कर दी जिससे विकास महतो नामक युवक घायल हो गया। इसके बाद गांव के ही राहुल कुमार की कनपटी पर बंदूक सटाकर उसे जान से मारने की धमकी देने लगे।

गुमला : एसपी के आश्‍वासन पर हटा जाम, अपराधियों की फायरिंग से गुस्‍से में ग्रामीण

ग्रामीणों ने दिखाया हौसला, तीन अपराधियों को पकड़ा

इस घटना से गुस्‍साए ग्रामीणों ने उनमें से तीन अपराधियों को पकड़ लिया जबकि दो अपराधी भागने में सफल रहे। घायल लड़के को हॉस्पिटल ले जाने के बाद विकास साहू नामक अपराधी फायरिंग करते हुए गांव में पहुंचा और ग्रामीणों के कब्‍जे से तीनों युवकों को छुड़ाकर ले गया। पवन साहू ने फायरिंग करते हुए गणेश महतो के घर का दरवाजा एवं टीवी तोड़ दिया।

ग्रामीणों के मुताबिक जो पांच अपराधी हथियार के साथ गांव पहुंचे थे उनमें परवल निवासी ओंतिष साहू,  डोडिया निवासी विकास सिंह एवं पवन साहू शामिल थे। ग्रामीणों के मुताबिक ये लड़की शांति सेना के सदस्य हैं। झड़प के क्रम में ग्रामीणों ने, हथि‍यारबंद युवकों से 2 पिस्‍टल , 2 मोबाइल और एक बाइक जब्‍त कर लिया था जिसे मुखिया को सौंप दिया गया।

गुमला : कश्यप मुनि की जयंती धूमधाम से मनाई गई

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

चास : पिंड्राजोरा के डाबर गांव में धूमधाम से मनाया गया मुहर्रम

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:14 PM
newscode-image

चास(बोकारो)। पिंड्राजोरा थाना क्षेत्र के केलिया डाबर में मुहर्रम के अवसर पर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने लाठी खेल का आयोजन किया।

तेनुघाट : गंदगी में ही बीमारियां पनपती है-रामकिशुन

लाठी खेल में 3 क्लब 5 स्टार क्लब, सनराइज क्लब, लक्की स्टार क्लब ने खेल दिखाया। लक्की स्टार क्लब ने भारत के सैनिक किस तरह से दुश्मन के इलाके में घुस कर आतंकवादियों को मरते है और अपना भारत का झंडा फहराते है ये दिखाया गया है।

चास : पिंड्राजोरा के डाबर गांव में धूमधाम से मनाया गया मुहर्रम

लक्की स्टार क्लब ने देश भक्ति गानों के साथ अपना खेल दिखाया देश कि शान तिरंगा को दुश्मन के इलाके में फहराकर दिखाया। लाठी खेल में दोनों समुदाय के लोगों ने बढ़चढ़कर भाग लिया। डाबर में लाठी खेल का आयोजन लगभग 20 वर्षो से किया जाता है।

बोकारो : कंपनीकर्मी के साथ दबंगो ने नंगाकर किया मारपीट

इस मौके पर अजीत सिंह चौधरी, कामदेव सिंह चौधरी, सुबलचंद्र महतो, यकीन अंसारी, अकबर अंसारी, लतीफ़ अंसारी, आवेदिन अंसारी, यकीन अंसारी, रहमगोल अंसारी, बदल सिंह चौधरी, मिहिर महतो आदि मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

कोडरमा : मुहर्रम में कई हिन्दू परिवार पूरी श्रद्धा से निकालते है ताजिया और निशान

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:07 PM
newscode-image

कोडरमाकोडरमा जिले में मुहर्रम के मौके पर कई हिन्दू परिवारों द्वारा पिछले कई पीढियों से ताजिया और निशान (झंडा) निकालने की परंपरा वर्षों से चली आ रही है। समाजिक सौहार्द की प्रतिमूर्ति इन परिवारों में चाराडीह इलाके के उमाशंकर उर्फ तुफानी सिंह गुलशन कुमार, गाँधी स्कूल रोड़ निवासी गजाधर भारती, भादेडीह निवासी जयप्रकाश वर्मा के परिवार शामिल है।

सभी परिवारों को आसपास के ग्रामीण इस कार्य में निष्ठा भाव से परंपरा निर्वहन और क्षेत्र परिभ्रमण के दौरान पुरा सहयोग देते हैं। इस बावत पूछे जाने पर उमाशंकर उर्फ तुफानी सिंह ने बताया कि उनका परिवार पिछले कई पीढ़ियों से यह परंपरा निभा रही है।

कोडरमा : केरल में लापता हुए परिजन को खोजने की लगायी गुहार

उन्होंने कहा कि उनके पुर्वजों ने अपनी किसी मन्नत के पूरा होने के बाद इसकी शुरूआत की थी जो आज जारी है। हालाकि इस परिवार द्वारा बीती रात तक इसकी सारी तैयारी पूरी कर ली गई थी मगर उमाशंकर के बड़े भाई निर्मल सिंह का आज सुवह निधन हो जाने के कारण इस वर्ष इस परिवार द्वारा आज ताजिया नही निकाला गया।

गांधी स्कूल रोड निवासी गजाधर भारती ने बताया कि उनके दादा स्व. गुरूचरण राम (उत्पाद विभाग में जमादार थे) ने श्रद्धा से 1924 में इस मौके पर निशान (सरकारी झंडा) निकाला था जिस परंपरा का उनके पिता स्व. रामेश्वर राम और अब वे और उनका परिवार निर्वहन कर रहे हैं।

भादेडीह निवासी जयप्रकाश वर्मा ने बताया कि उनके दादा स्व. बुधन सोनार ने ताजिया निकालाना शुरू किया था। फिर उनके पिता स्व. सुखदेव प्रसाद और अब वे इस परंपरा को निभा रहे है। इन दोनों परिवारों के द्वारा आज ताजिया और झंडा निकाला गया।

इसी परिवार के द्वारा यहाँ के इमामबाड़े के लिए भूमि उपलब्ध करा इसकी स्थापना की थी। जहाँ सभी लोग जुटते हैं। उन्होंने बताया कि मुहर्रम के दिन उनके घर चुल्हा नही जलता वे मातम मनाते है। और तीजा के दिन ही सारी औपचारिकताए पूरी की जाती है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

बोकारो : कंपनीकर्मी के साथ दबंगो ने नंगाकर किया मारपीट

more-story-image

जामताड़ा : ग्रामीण चिकित्सक सेवा संघ की बैठक संपन्न