बोकारो : कैदी बसंत गुप्ता की मौत मामले में जेल अधीक्षक सहित अन्‍य पर FIR दर्ज

NewsCode Jharkhand | 28 April, 2018 3:39 PM
newscode-image

साल 2014 में जेल में हुई थी बसंत की मौत

बोकारो। उपायुक्त मृत्युंजय कुमार बरणवाल ने कैदी बसंत कुमार गुप्ता की मौत मामले में न्यायिक जांच के बाद चास जेल के सुपरिटेंडेंट को तत्कालीन जेल सुपरिटेंडेंट प्रवीण कुमार (पलामू में पदस्थापित) व तत्कालीन  जेलर सहित अन्य कर्मियों पर विभन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश दिया है।

न्यायिक जांच के बाद प्राथमिकी का आदेश

इस मामले में जिला प्रधान न्यायाधीश संजय प्रसाद ने एसीजेएम देवाशीष महापात्रा को मामले की न्यायिक जांच कराने के लिए नियुक्त किया था। न्यायिक जांच में जेल के अंदर हुई मौत की अधिकारियों ने बारीकी से जांच  की। जिसके बाद प्राथमिकी का आदेश जारी किया गया।

न्यायिक जांच में यह बात सामने आयी कि रिलीज ऑर्डर में बसंत का हस्ताक्षर नहीं है और ना ही उसके हाथ में जेल का मुहर था। रिलीज आर्डर पर अंगूठे के निशान लगाया गया गया है। ऐसी स्थिति में शक बढ़ता गया, जबकि बसंत हमेशा हस्ताक्षर करता था।

क्‍या है पूरा मामला

चास जेल के कैदी बसंत कुमार गुप्ता (45 वर्ष) की मौत 25 सितंबर 2014 को जेल में हो गयी थी। मृतक बेरमो थाना क्षेत्र के नया मोड़, श्याम भंडार गली का रहने वाला था। उसका फुसरो-चंद्रपुरा रोड में वसंत फ्रूट नामक दुकान थी।

उस पर बेरमो थाना में कांड संख्या 131/14 के तहत एनडीपीएस एक्ट (गांजा बेचने के आरोप) का मामला दर्ज था। उसने 27 अगस्त 2014 को कोर्ट में आत्मसमर्पण किया था। उसके बाद से न्यायिक हिरासत में वह चास जेल बंद था।

उसे तत्कालीन प्रधान जिला व सत्र न्यायाधीश अमिताभ कुमार की अदालत से बेल मिल गयी थी, लेकिन जेल से निकलने के पहले ही उसकी मौत हो गयी थी।

भाई ने की थी शिकायत

भाई त्रिभुवन ने जेल प्रशासन पर आरोप लगाया था कि बसंत से अक्सर प्रताड़ित कर पैसा मांगा जाता था। दो बार जेल में पैसा दिया गया था। तीसरी बार भी पैसे की मांग हो रही थी इसी बीच उसे बेल मिल गयी थी।

जेल कर्मचारियों पर हत्‍या का आरोप

बेल मिलने से आक्रोशित होकर जेल के कर्मचारियों ने मारपीट की। इस कारण उसकी मौत हो गयी। बसंत के भाई ने इसकी शिकायत राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से की थी।

25 सितंबर 2014 को बसंत को जेल से ले जाने के लिए उसका भतीजा शंकर व भाई त्रिभुवन आया था। दोनों ने जेल प्रशासन पर मारपीट कर हत्या करने का आरोप लगाया था। बसंत के सिर पर चोट के निशान थे।

जेल अधिकारियों ने दी थी झूठी जानकारी

जेल के पदाधिकारियों का कहना था कि बसंत को अचानक चक्कर आने से वह जमीन पर गिर कर बेहोश हो गया था। तत्काल जेल प्रशासन बसंत को लेकर चास रेफरल अस्पताल गया। जहां चिकित्सकों ने उसे बीजीएच ले जाने की सलाह दी। वहां चिकित्सकों ने बसंत को मृत घोषित कर दिया था।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बोकारो : विज्ञापन होर्डिंग से बढ़ी लोगों की परेशानी, सुरक्षा का ख्याल नही

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 5:58 PM
newscode-image

बोकारो । चास शहर में इन दिनों बड़ी कंपनियों के विज्ञापन होर्डिंग के तौर पर पटे है, न तो इसमें सरकार को राजस्व ही प्राप्त हो रहा है औऱ न ही कंपनियों आम लोगों की सुरक्षा का ख्याल रख रही है। जो होर्डिंग लगाए जा रहे है उससे आने वाले गाड़ी चालकों को काफी परेशानी हो रही है।

होर्डिंग कई जगहों पर इतना नीचे है कि गाड़ी चलाने वाले चालकों को काफी परेशानी उठानी पड़ती है ऐसे में कोई बड़ी दुर्घटना की आशंका भी बनी रहती है। मामले में चास नगर निगम के डिप्टी मेयर अविनाश कुमार कहते है कि उनके सामने मामला आय़ा।

जांच में पाया कि चार कंपनियों को यह जिम्मेदारी सौपी गयी है लेकिन वे चास नगर निगम को होर्डिंग का कोई टैक्स जमा नहीं कर रही है और इसको लेकर कंपनी को निगम की ओर से पत्राचार किया गया तो दो कपंनियों ने 50 लाख की राशि टैंक्स के रुप मे जमा की।

दो अन्य कंपनियों से पत्राचार कर टैक्स जमा करने को कहा गया है। साथ ही होर्डिंग से किसी को दिक्कत न हो ऐसी व्यवस्था करने को भी कंपनियों को सख्त निर्देश दिया गया है।

वही जिले के डीसी मृत्युंजय वरणवाल कहते है कि बैठक में इस तरह की चर्चा होती है और इसके लिए बतौर के एक कमेटी का गठन भी किया गया है जो ऐेसे मामलो का समाय समय पर जांच कर अपनी रिपोर्ट देती है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने