बीजेपी के स्थापना दिवस पर मोदी ने दी कार्यकर्ताओं को बधाई, कहा- ‘बीजेपी के लिए उनके कार्यकर्ता ही सबकुछ हैं’

NewsCode | 6 April, 2018 1:25 PM

बीजेपी के स्थापना दिवस पर मोदी ने दी कार्यकर्ताओं को बधाई, कहा- ‘बीजेपी के लिए उनके कार्यकर्ता ही सबकुछ हैं’

नई दिल्ली। बीजेपी के 38वें स्थापना दिवस के मौके पर पार्टी देश भर में जश्न मनाने की तैयारी में है। पीएम नरेंद्र मोदी इस मौके पर देश की 5 संसदीय सीटों के हजारों कार्यकर्ताओं से संवाद करेंगे, वहीं अमित शाह मुंबई में 3 लाख लोगों की जनसभा को संबोधित करेंगे।

कार्यकर्ताओं की तारीफ करते हुए पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘बीजेपी न्यू इंडिया की पार्टी है। हम आभारी हैं कि हमें समाज के सभी आयु वर्गों के लोगों का समर्थन मिला है। हम वह पार्टी हैं, जो भारत की विविधता, यूनिक कल्चर और 125 करोड़ भारतीयों की ताकत में विश्वास रखती है।’

एक अन्य ट्वीट में पीएम मोदी ने लिखा, ‘मैं स्थापना दिवस के विशेष मौके पर बीजेपी के सभी कार्यकर्ताओं का विनम्रता से आभार प्रकट करता हूं। अपने सभी कार्यकर्ताओं के त्याग, बलिदान पर हमें गर्व है, जिन्होंने बीजेपी का निर्माण किया और एक मजबूत एवं बेहतर भारत के निर्माण के लिए प्रतिबद्धता जताई।’

LIVE:आज भी सलाखों के पीछे रहेंगे सुल्तान, सलमान खान की जमानत पर कल आएगा फैसला

आपको बता दें कि 6 अप्रैल 1980 में आज ही के दिन देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी का गठन हुआ। अटल बिहारी वाजपेयी इसके पहले अध्यक्ष थे। 1984 के अपने पहले आम चुनाव में लोकसभा की केवल दो सीटें जीतने वाली बीजेपी 2014 में दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बन गई।

जम्मू एवं कश्मीर : युवक का सिर कटा शव बरामद

UP: बीजेपी विधायक की दादागिरी, सरकारी कर्मचारी को ‘मुर्गा’ बनाया, फिर बेहोश होने तक कराई उठक-बैठक

NewsCode | 21 April, 2018 10:07 AM

UP: बीजेपी विधायक की दादागिरी, सरकारी कर्मचारी को ‘मुर्गा’ बनाया, फिर बेहोश होने तक कराई उठक-बैठक

बांदा। उत्तर प्रदेश में भाजपा विधायकों और नेताओं की दबंगई के नमूने लगातार सामने आ रहे हैं। बांदा के सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने पेयजल संकट के बहाने जल संस्थान के टैंकर प्रभारी को सरेआम पहले ‘मुर्गा’ बनाया, फिर तब तक उठक-बैठक करवाई, जब तक वह बेहोश होकर जमीन पर गिर न गया।

गुरुवार को हुआ यह था कि बांदा शहर में पेयजल संकट को लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेता व सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी जल संस्थान के अभियंताओं के साथ कई मुहल्लों का दौरा किया, जहां लोगों ने टैंकरों से पानी उपलब्ध कराने में गड़बड़ी की शिकायत की। लोगों की शिकायत से ‘माननीय’ का पारा चढ़ गया और जल संस्थान के टैंकर प्रभारी/लिपिक को अधिकारियों और आम जनता के सामने पहले मुर्गा बनाया, फिर बेहोश होने तक उठक-बैठक करवाई।

पीड़ित लिपिक नरेंद्र कुमार ने शुक्रवार को बताया, “अधिकारी समय से टैंकर में पानी नहीं उपलब्ध करवाते, जिससे पानी वितरण में बाधा आती है। लेकिन, गुरुवार को विधायक जी ने पहले सरेआम मुझे मुर्गा बनाकर झुकाए रहे, बाद में तब तक कड़ी धूप में उठा-बैठक लगवाई, जब तक मैं बेहोशर होकर जमीन पर नहीं गिर गया।”

उसने कहा, “मेरे साथ बुरा बर्ताव किया गया है, जिससे मैं बेहद आहत हूं।”

भाजपा विधायक प्रकाश द्विवेदी ने शुक्रवार को एक बार फिर दोहराया, “अभी मुर्गा बनाया है और उठा-बैठक करवाई है। शहर का पेयजल संकट दूर न किया गया तो जनता अधिकारियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटेगी, मैं जनता के साथ हूं।”

उत्तर प्रदेश में महज पांच रुपये के लिए युवक की पीट-पीट कर हत्या

क्या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी चमक खोते जा रहे हैं?

आईएएनएस

Read Also

सामान्य मॉनसून की आहट से शेयर बाजार गुलजार

NewsCode | 21 April, 2018 9:40 AM

सामान्य मॉनसून की आहट से शेयर बाजार गुलजार

मुंबई। बीते सप्ताह शेयर बाजारों में तेजी का रुख रहा, जिसमें भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) द्वारा इस साल सामान्य मॉनसून के अनुमान लगाने का प्रमुख योगदान रहा। साथ ही मार्च में खाद्य कीमतों में नरमी के कारण थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित मुद्रास्फीति में भी गिरावट दर्ज की गई और यह 2.47 फीसदी रही। इससे भी निवेशकों के हौसले बुलंद हुए। साथ ही सकारात्मक वैश्विक संकेतों का भी निवेशकों के मनोबल को बढ़ाने में प्रमुख योगदान रहा। बीते सप्ताह साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 222.93 अंकों या 0.65 फीसदी की तेजी के साथ 34,415.58 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 83.45 अंकों या 0.80 फीसदी की तेजी के साथ 10,564.05 पर बंद हुआ। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 121.18 अंकों या 0.73 फीसदी की तेजी के साथ 16,798.94 पर तथा स्मॉलकैप सूचकांक 196.04 अंकों या 1.09 फीसदी की तेजी के साथ 18,178.03 पर बंद हुआ।

सोमवार को शेयर बाजारों की सकारात्मक शुरुआत हुई। सेंसेक्स 112.78 अंकों या 0.33 फीसदी की तेजी के साथ 34,305.43 पर तथा निफ्टी 47.75 अंकों या 0.46 फीसदी की तेजी के साथ 10,528.35 पर बंद हुआ। मंगलवार को सेंसेक्स 89.63 अंकों या 0.26 फीसदी की तेजी के साथ 34,395.06 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 20.35 अंकों या 0.19 फीसदी की तेजी के साथ 10,548.70 पर बंद हुआ।

बुधवार को शेयर बाजारों में पिछले 9 लगातार सत्रों की बढ़ोतरी के बाद सुधार देखा गया और सेंसेक्स 63.38 अंकों या 0.18 फीसदी की गिरावट के साथ 34,331.68 पर बंद हुआ तथा निफ्टी 22.50 अंकों या 0.21 फीसदी की गिरावट के साथ 10,526.20 पर बंद हुआ।

गुरुवार को एक बार फिर बाजार में तेजी आई और सेंसेक्स 95.61 अंकों या 0.28 फीसदी की तेजी के साथ 34,427.29 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 39.10 अंकों या 0.37 फीसदी की तेजी के साथ 10,565.30 पर बंद हुआ। शुक्रवार को सेंसेक्स 11.71 अंकों या 0.03 फीसदी की गिरावट के साथ 34,415.58 पर तथा निफ्टी 1.25 अंकों या 0.01 फीसदी की गिरावट के साथ 10,564.05 पर बंद हुआ।

बीते सप्ताह सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे – टीसीएस (8.11 फीसदी), इंफोसिस (0.79 फीसदी), विप्रो (1.70 फीसदी), हिन्दुस्तान यूनीलीवर (3.96 फीसदी), रिलायंस इंडस्ट्रीज (1.15 फीसदी) और महिद्रा एंड महिंद्रा (1.57 फीसदी)।

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे – एक्सिस बैंक (6.53 फीसदी), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (3.90 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (2.17 फीसदी), इंडसइंड बैंक (2.01 फीसदी), मारुति सुजुकी (1.11 फीसदी), टाटा मोटर्स (5.72 फीसदी), एचडीएफसी (0.49 फीसदी) और अडानी पोर्ट्स (0.51 फीसदी)।

व्यापक आर्थिक मोर्चे पर, भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने अनुमान लगाया है देश में इस साल मॉनसून सामान्य रहेगा और औसत बारिश 97 फीसदी होने की संभावना है।

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को यह घोषणा की है। इस मौसम अनुमान में बताया गया है कि इसमें दीर्घकालिक औसत (एलपीए) से पांच फीसदी कम-ज्यादा तक की गलती हो सकती है।

इन आंकड़ों में 96 से 104 फीसदी तक को सामान्य मॉनसून माना जाता है।

इससे पहले, चार अप्रैल को निजी मौसम अनुमान एजेंसी स्काईमेट ने भी सामान्य मॉनसून का अनुमान लगाया था और 100 फीसदी बारिश होने की संभावना जताई थी, जबकि इसमें पांच फीसदी की गलती की गुंजाइश बताई गई थी।

आईएमडी ने हालांकि कहा कि बारिश को लेकर स्पष्ट तस्वीर जून में ही सामने आएगी। बारिश का मौसम एक जून से 30 सितंबर तक होता है।

किसानों के लिए अच्छी खबर, इस साल सामान्य रहेगा मानसून, जानें किस माह में कितनी होगी बारिश

आईएएनएस

जरूरत से बहुत कम कैल्शियम खाते हैं भारतीय, एक दिन में कम-से-कम इतना खाना चाहिए

कम मात्रा में कैल्शियम की खुराक लेने से अस्थि कमजोर हो जाती है और ऑस्टियोपोरोसिस नामक बीमारी का खतरा बना रहता है।

NewsCode | 21 April, 2018 9:23 AM

जरूरत से बहुत कम कैल्शियम खाते हैं भारतीय, एक दिन में कम-से-कम इतना खाना चाहिए

भारत में आमतौर पर लोग कैल्शियम की उतनी खुराक नहीं लेते हैं जितनी शरीर की हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है। कैल्शियम की खुराक को लेकर जारी एक वैश्विक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में वयस्कों की खुराक में कैल्शियम तकरीबन जरूरत की आधी मात्रा होती है।

कैल्शियम अस्थि का प्रमुख अवयव है और स्वस्थ शरीर में इसकी मात्रा 30-35 फीसदी होती है जो हड्डी को मजबूती प्रदान करता है। कम मात्रा में कैल्शियम की खुराक लेने से अस्थि कमजोर हो जाती है और ऑस्टियोपोरोसिस नामक बीमारी का खतरा बना रहता है।

इंटरनेशनल ऑस्टियोपोरोसिस फाउंडेशन (आईओएफ) नामक गैर-सरकारी संस्था द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में लोग औसतन महज 429 मिलीग्राम कैल्शिय रोजाना अपने भोजन में लेते हैं जबकि शरीर को इसकी जरूरत 800-1000 मिलीग्राम रोजाना होती है।

रिपोर्ट में 74 देशों को शामिल किया गया है जिसमें सबसे कम कैल्शियम की खुराक 175 मिलीग्राम प्रतिदिन नेपाल के लोग लेते हैं जबकि आइसलैंड के लोग रोजाना अपने भोजन में 1233 मिलीग्राम कैल्शियम की खुराक लेते हैं।

कम मात्रा में कैल्शियम खाने वाले लोग एशिया, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका में बताए गए हैं, जहां औसतन खुराक 400 से 700 मिलीग्राम प्रतिदिन है।

इस शोध के सह लेखक और भारत से आईओएफ बोर्ड के सदस्य अंबरीश मित्तल ने कहा, “एशिया के कई हिस्सों, खासतौर से दक्षिण पूर्व एशिया में लोग 400-500 मिलीग्राम से भी कम कैल्शियम रोजाना अपनी खुराक में लेते हैं।”

अपनी हड्डियों और माँसपेशियों की मजबूती के लिए खायें ये 5 चीजें

सिर्फ स्वाद ही नहीं अच्‍छी सेहत के लिए भी रोज खाइए चटनी

चाय के चहेतों के लिए खुशखबरी, चाय पीने के हैं कई फायदे

आईएएनएस

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.