बेंगाबाद : पिछले साल बारिश में बहे पुल मरम्मती की मांग तेज, आंदोलन की दी चेतावनी

NewsCode Jharkhand | 17 May, 2018 4:20 PM

बेंगाबाद : पिछले साल बारिश में बहे पुल मरम्मती की मांग तेज, आंदोलन की दी चेतावनी

बेंगाबाद (गिरिडीह)। बेंगाबाद प्रखण्ड के विभिन्न क्षेत्रों में बीते साल 2017 के अक्टूबर माह में हुई तेज बारिश में कई पुल पुलिया बह गए थे। लागातर हुई तेज बारिश के कारण प्रखण्ड क्षेत्र के कई छोटी नदी एवं नाले पर बने पुल टूटकर क्षतिग्रस्त हो गये थे। पुल पुलिया के टूट जाने से कई गांवों का संपर्क टूट चुका है और ग्रामीणों को आवागमन में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लंबे समय तक इंतेजार करने के बाद ग्रामीणों के सब्र का बांध अब जवाब देने लगा है।

पुल मरम्‍मती कार्य की मांग

ग्रामीण क्षतिग्रस्त पुल एवं पुलिया के निर्माण की मांग को लेकर मुखर होकर आवाज बुलंद कर रहे हैं। इसी कड़ी में प्रखण्ड के भलकुद्दर पंचायत स्थित बांसजोर एवं जुड़पनिया ग्राम में नाला पर बने पुल की मरम्मती की मांग को लेकर ग्रामीणों ने झामुमो प्रखण्ड अध्यक्ष नुनुराम किस्कू उर्फ टाइगर की अगुवाई में प्रदर्शन कर अपना रोष प्रकट किया।

Read More:- चतरा : पत्थर लदा हाइवा ने बाइक को मारी टक्कर, ससुर-दामाद की दर्दनाक मौत

पदाधिकारियों ने नहीं की पहल

काफी संख्या में ग्रामीण पुल के निकट जमा होकर पुल निर्माण की मांग की। बताते चलें कि पुल के टूटने से बांसजोर और जुड़पनिया गावँ का संपर्क टूट गया है। साथ ही उक्त रास्ते से होकर गुजरने वाले अन्य गांवों के ग्रामीणों को भी आवागमन में काफी दिक्‍क्‍त हो रही है। इस संबंध में झामुमो प्रखंड अध्यक्ष नुनुराम किस्कू ने कहा कि पुल के बहने के बाद कई बार प्रखंड मुख्यालय एवं जिला स्तर के पदाधिकारियों को समस्या से अवगत कराया गया। मगर इतने महीने गुजरने के बाद भी कोई पहल नहीं की गई है।

बरसात से पहले दुरूस्‍त हो पुल नहीं तो होगा आंदोलन

उन्होंने कहा कि क्षेत्र के जनप्रतिनिधि भी मामले को लेकर गंभीर नही है। सत्ता पक्ष के विधायक एवम सांसद को लोगों की समस्याओं से कोई लेना देना नही है। कहा कि भाजपा सरकार के नुमाइंदे सिर्फ फीता काटने में मशगूल हैं और सरकार पूंजीपतियों को आगे बढ़ाने में व्यस्त है। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि बरसात शुरू होने से पहले पुल निर्माण का काम नहीं किया गया तो आम आवाम के साथ जोरदार आंदोलन किया जाएगा।

मौके पर मौजूद लोग

मौके पर शिवशंकर मंडल, सोनालाल सोरेन, जिबलाल मंडल, सोबान सोरेन, कांति देवी, चुड़का मुर्मू, रमेश किस्कू, चुन्नूलाल सोरेन सहित कई ग्रामीण मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : पोल-खोल, हल्ला- बोल अभियान के तहत भाकपा ने किया राजभवन मार्च

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 6:27 PM

रांची : पोल-खोल, हल्ला- बोल अभियान के तहत भाकपा ने किया राजभवन मार्च

रांची। भाकपा द्वारा बुधवार को राज भवन मार्च का आयोजन किया गया। मार्च जयपाल सिंह मुंडा स्‍टेडियम से निकल कर राजभवन तक गया। राजभवन के समक्ष मार्च जनसभा में बदल गया। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए वक्‍ताओं ने कहा कि कुशासन के खिलाफ पोल-खोल, हल्ला- बोल अभियान के तहत मार्च का आयोजन किया गया है।

रांची: झारखंड में बनी फिल्‍म लोहरदगा का प्रदर्शन 25 मई को

मार्च में बड़ी संख्या में किसान -मजदूर छात्र ,युवा महिलाएं भी शामिल थी। जनसभा के बाद एक शिष्टमंडल द्वारा 23 सूत्री मांगों पर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा। जनसभा का संबोधित करते हुए वक्‍ताओं ने केन्‍द्र और राज्‍य सरकार पर जमकर वार किया।

उन्‍होंने कहा कि मोदी सरकार ने युवाओं को 2 करोड़ नौकरी देने के नाम पर छलने का काम किया है। कार्यक्रम में काफी संख्‍या में लोग उपस्थित थें।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

बोकारो : जनता को बरगलाने का कार्य कर रहे हैं मुख्यमंत्री- विकास महतो

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 6:04 PM

बोकारो : जनता को बरगलाने का कार्य कर रहे हैं मुख्यमंत्री- विकास महतो

चंदनकियारी(बोकारो)। झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास झारखंड के जनता को ग्राम विकास समिति व आदिवासी विकास समिति के नाम पर बरगलाने का काम कर रही हैं। पूरे प्रदेश में एक हलचल सा आ गया हैं। उक्त बातें चंदनकियारी पश्चिमी पंचायत भवन में ग्राम विकास समिति व आदिवासी विकास समिति के खिलाफ चंदनकियारी प्रखंड मुखिया संघ द्वारा आयोजित बैठक के दौरान झारखंड प्रदेश मुखिया संघ के राज्य संयोजक विकास कुमार महतो ने कहा।

उन्होंने आगे कहा कि पंचायती राज व्यवस्था में ग्रामसभा का स्थान सबसे ऊपर होता है। परंतु रघुवर दास ने तानशाही रवैया अपनाकर ग्रामसभा के सारे नियमों को ताक पर रखकर ग्राम विकास समिति व आदिवासी विकास समिति का गठन कर रही है। अब इन समितियों के लिए फण्ड कहां से आएगा इसकी कोई जानकारी किसी को नहीं हैं।

झारखंड ही ऐसा पहला राज्य हैं जहां समितियों के नाम से जनता को जनता के बीच लड़ा रही है। प्रधानमंत्री ने मुखिया पर भरोसा कर, सीधे उनके खाता में विकास की राशि भेजते थे। चूंकि प्रधानमंत्री का नारा हैं ग्रामोदय से भारतोदय को साकार करना है।

चंदनकियारी : ग्राम समिति का मुखिया संघ ने किया विरोध

उन्होंने आगे कहा कि 25 मई को धनबाद आहूत प्रधानमंत्री को इस ग्राम विकास समिति को विरोध दर्शाने के लिए 24 मई को पूरे राज्य में मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया जाएगा। मौके पर प्रखंड अध्यक्ष देवाशीष सिंह, श्रीकांत चक्रबर्ती, कपूर सिंह, सरिता शिखर, नेमचंद महतो, बीरेन राजवार समेत अन्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गिरिडीह : आश्‍वासन पर खरी नहीं उतरी सरकार, सीएम आवास का होगा घेराव

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 5:58 PM

गिरिडीह : आश्‍वासन पर खरी नहीं उतरी सरकार, सीएम आवास का होगा घेराव

आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ ने निकाली रैली  

गिरिडीह।  झारखण्ड राज्य समाज कल्याण आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ ने बुधवार को रैली निकालकर अपनी 11 सूत्री मांगों को लेकर सांसद रविंद्र पांडेय के आवास का घेराव किया।

इस दौरान सवेरा हॉल में अपनी मांगों लेकर सांसद प्रतिनिधि उमेश पंडा को मांग पत्र सौंपा। मौके पर संघ सदस्यों ने मुख्यमंत्री हाय-हाय का नारा भी लगाए।

बेरमो : सरकार के रवैये से आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ नाराज, जायेंगे हड़ताल पर

इस क्रम में आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका,पोषण सखी आदि ने कहा कि मानदेय को लेकर सरकार एंव विभाग की ओर से सहमति पत्र निर्गत करते हुए आश्‍वस्‍त किया गया था।

लेकिन सरकार अपने आश्‍वासन पर खरी नहीं उतर सकी। बताया गया कि महिलाएं का शोषण व अन्य मुद्दे को लेकर आगामी 30 मई को मुख्यमंत्री आवास का घेराव कर अपने मांगों को पूरा करने के लिए आंदोलन छेड़ा जाएगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने