बाघमारा : रेलवे साइडिंग बनाने का विरोध, डीसी लाइन चालू करने की मांग

NewsCode Jharkhand | 17 May, 2018 7:45 PM

बाघमारा : रेलवे साइडिंग बनाने का विरोध, डीसी लाइन चालू करने की मांग

बाघमारा (धनबाद)। डीसी रेल लाइन को पुनः चालू करने की मांग को लेकर पार्षद डॉ. विनोद गोस्वामी का महाधरना आंदोलन रेल दो या जेल दो का आज गुरुवार को 322वें दिन अनवरत जारी है। आंदोलनकारियों ने कलाली फाटक से लेकर सेलेक्टेड गोविंदपुर, छाताबाद पुल तक बीसीसीएल द्वारा रेलवे साइडिंग बनाये जाने का विरोध किया।

वहां मौजूद अधिकारियों से वस्तु स्थिति की जानकारी ली और उनसे आग्रह पूर्वक  आंदोलनकारियों ने कहा कि डीसी लाइन को चालू करने की मांग को लेकर हमलोग 322 दिनों से आंदोलनरत हैं। रेलवे प्रबंधन और बीसीसीएल प्रबंधन  सिर्फ ये बताने का काम करे कि  डीसी लाइन कब चालू होगी।

पार्षद डॉ. विनोद गोस्वामी ने कहा कि हमलोग 10 महीने से लागातार डीसी लाइन को चालू करने की मांग को लेकर लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन कर रहे हैं। हमलोगों की मांग है कि मालगाड़ी के साथ-साथ डीसी लाइन पर  यात्री ट्रेनों का परिचालन हो। किसी भी कीमत पर सिर्फ मालगाड़ी नहीं चलने दिया जाएगा।

बाघमारा : डीसी रेल चालू करवाने के लिये आंदोलनकारी ने सांसद को सौंपा ज्ञापन

मौके पर बीसीसीएल अधिकारियों में सुरक्षा पदाधिकारी चंद्रप्रकाश, प्रबंधक मोहन मुरारी, सीनियर ओवरमैन मनोज कुमार सिंह, सर्वे ऑफिसर एमपी चौधरी के अलावा दर्जनों प्रबंधन के अधिकारी मौजूद थे।

वहीं आंदोलन करने वालो में राजेन्द्र प्रसाद राजा, रामु शर्मा, ललित सिंह, नुरुल अंसारी, विजय गुप्ता, उत्तम बाउरी, संतोष यादव, अजय सिंह, किशन पंडित, राजा अंसारी, जमील अंसारी, प्रभात केडिया, मुन्ना खान, ललिता देवी, नागिया देवी, मंजू देवी, सरिता देवी, राजेश कुमार, चंदन भुइंया, नेपाल रजवार, छोटका तुरी, मनोज भुइंया, दसरथ भुइंया सहित सैकड़ों महिला व पुरुष मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

धनबाद : 11 सूत्री मांग को लेकर स्वंय सेवक संघ मुख्यमंत्री आवास का करेंगे घेराव

NewsCode Jharkhand | 27 May, 2018 10:06 PM

धनबाद : 11 सूत्री मांग को लेकर स्वंय सेवक संघ मुख्यमंत्री आवास का करेंगे घेराव

पांच जून को मुख्यमंत्री आवास घेरने का स्वंय सेवक संघ ने लिया निर्णय

धनबाद। प्रोत्साहन राशि के बजाय मानदेय देने, स्वंय सेवकों की सेवा अवधि 60 वर्ष करने, स्वास्थ्य बीमा का लाभ दिया जाने समेत 11 सूत्री मांग को लेकर राज्य भर के स्वंय सेवक ने 5 जून को रांची में मुख्यमंत्री आवास घेरने का निर्णय लिया है।

रविवार को गोल्फ ग्राउंड में जिला स्तरीय पंचायत सचिवालय स्वंय सेवक संघ की एक बैठक हुई। झारखंण्ड प्रदेश स्वंय सेवक संघ के आह्वाहन पर जिले के सभी 10 प्रखंडों के स्वंय सेवक ने भी आंदोलन में भागेदारी देने का निर्णय लिया है।

बाघमारा : बाइक चोर चढ़ा ग्रामीणों के हत्‍थे, खातिरदारी कर  पुलिस को सौंपा

संघ के अध्यक्ष तरुण कुमार मुर्मू ने कहा कि शहीद हुए स्वंय सेवको के आश्रित परिवारों को पांच लाख का मुआवजा सरकार को देना चाहिए। सरकार के द्वारा चलायी जा रही सभी तरह की योजनाओं में स्वंय सेवको को शामिल किया जाना चाहिए। स्वंय सेवको के लिए डिजिटल पहचान पत्र जारी किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बैठक में प्रखंड कोर कमिटी तथा महिला कोर कमिटी का गठन किया गया है।

बैठक का संचालन प्रदीप मंडल तथा सूरज दे ने किया। बैठक में राधेश्याम, नित्यानंद रॉय, मनोज सेन, सुरेश रविदास, राधिका कुमारी, नवीन राम आदि उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

लोहरदगा : बाजारटांड की जमीन बिक्री का ग्रामीणों ने किया विरोध

NewsCode Jharkhand | 27 May, 2018 9:21 PM

लोहरदगा : बाजारटांड की जमीन बिक्री का ग्रामीणों ने किया विरोध

लोहरदगा। कुडू थाना क्षेत्र के जीमा बाजार टांड़ की जमीन बिक्री का ग्रामीणों ने विरोध किया। ग्रामीणों ने मामले को लेकर आंदोलन की चेतावनी भी दी है। सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण महिलाओं ने बाजार टांड़ की जमीन में झंडा गाड़ते हुए विरोध जताया है। साथ ही मामले को लेकर डीसी को भी आवेदन दिया गया है।

जीमा गांव स्थित बाजार टांड़ की जमीन को बेचने और जमीन में बाजार और मेला नहीं लगने देने के विरोध में सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण जमा हो गए। जीमा, चंडू, चिरी, चटकपुर, गोपी टोला, जीमा बरवाटोली आदि गांव के महिला-पुरुष बाजार टांड़ में जमा हो गए थे। महिलाओं ने बाजार टांड़ में झंडा गाड़ते हुए जमीन बिक्री का विरोध किया।

सिल्‍ली : प्रत्‍याशियों की किस्‍मत कल बंद होगी इवीएम में

महिलाओं ने कहा कि यदि जमीन की बिक्री पर रोक नहीं लगी तो जोरदार आंदोलन किया जाएगा। इस तीन एकड़ जमीन पर वर्षों से रामनवमी, दुर्गा पूजा का मेला लगता आ रहाहै। प्रत्येक शनिवार को बाजार भी लगता है। जमीन की बिक्री हो जाने से परंपरा ही खत्म हो जाएगी। बिहार सरकार द्वारा जमीन के खतियान और पंजी टू में जमीन को बाजार की जमीन बताया गया है।

अब दो साल से निजी जमीन बताकर इसे बेचने की कोशिश की जा रही है। प्रदर्शन कर रही महिला रूकमनी देवी, लीला देवी, सुंदरी देवी, सरस्वती देवी, शकुंतला देवी, चुनौती देवी, सावित्री देवी, सविता देवी आदि ने विरोध करते हुए प्रशासन से मामले में पहल करने का अनुरोध किया है। इधर ग्रामीणों के विरोध की जानकारी मिलने पर डीएसपी, पुलिस निरीक्षक भी जीमा पहुंचे थे। सभी ने ग्रामीणों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

देवघर : बीजेपी नेता दे रहा था जबरन शादी का दबाव, युवती ने की आत्‍महत्‍या

NewsCode Jharkhand | 27 May, 2018 8:29 PM

देवघर : बीजेपी नेता दे रहा था जबरन शादी का दबाव, युवती ने की आत्‍महत्‍या

पुलिस ने बीजेपी नेता विष्णुकांत झा को किया गिरफ्तार

देवघर। देवघर नगर थाना के बम्पास टाउन मुहल्ले में एक 20 वर्षीय युवती ने फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली। पुलिस के अनुसार युवती के इस कदम के पीछे की वजह एक बीजेपी नेता था, जो उस पर लगातार शादी करने का दबाव बना रहा था। वह इससे परेशान चल रही थी। युवती ने घर में अकेली पा कर फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली। आरोपी बीजेपी नेता विष्णुकांत झा को गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी के मुताबिक मृतक खुशबू कुमारी के पिता श्‍यामसुंदर दास जो की बिहार के चांदन में मध्यविद्यालय के हेडमास्टर हैं। वे देवघर के बम्पास टॉउन में किराए के मकान में रहते हैं।

मृतक के पिता श्यामसुंदर दास ने कहा कि विष्णुकांत झा जो बीजेपी के नेता है। इनका दो बच्चा भी है। जो मेरी बेटी खुशबू कुमारी के पास कुछ दिनों से ट्यूशन पढ़ाने के लिए लाते ओर ले जाते थे। कुछ दिन बीत जाने के बाद बिष्णुकांत झा अपने बच्चों और मृतक खुशबू के साथ ट्यूशन के समय बैठ जाता था और खुशबू पर शादी के लिए जबरन दबाव बनाता था।

मृतक के पिता श्यामसुंदर दास के अनुसार बीजेपी नेता कहता था कि अगर तुम कहीं शादी करोगी तो तुम्हारे पूरे परिवार को जान से मार देंगे। इसकी शिकायत जब खुशबू द्वारा अपने परिजनों को दी गयी तो परिजनों ने विष्णुकांत झा के बच्चों को पढ़ाने से मना कर दिया गया। जिसके बाद खुशबू ने विष्णुकांत झा के बच्चों को पढ़ाना बंद कर दिया।

वहीं कल शाम में खुशबू के माता-पिता बाजार गए थे, तभी विष्णुकांत झा खुशबू के घर पर आए और खुशबू के साथ अभद्र व्यवहार करने लगे। अपनी आबरू बचाने के लिए खुशबू ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

इस घटना के बाद पूरा परिवार सहमा हुआ है। नगर थाना इंस्पेक्टर विनोद कुमार ने बताया कि यह मामला आत्महत्या और उत्पीड़न का है। नामजद अभियुक्त बिष्णुकांत झा हैं, जिसके दो बच्चे है। मृतक खुशबू ट्यूशन पढ़ाती थी और विष्णुकांत झा शादी के लिये दवाब दे रहा था। इससे लड़की काफी क्षुब्ध थी, इसके साथ छेड़खानी भी की गई थी जैसा की आरोप लगाया गया है।

रांची : ट्रस्ट ने नि:शक्त बच्चों को भोजन कराया, पाठ्य सामग्री भी बांटे

मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपी विष्णुकांत झा की गिरफ्तारी भी हो चुकी है। उन्होंने बताया कि विष्णुकांत झा पूर्व में भी एक प्राइवेट स्कूल में गार्ड के साथ मारपीट के मामले में आरोपी हैं। इस कांड में भी विष्णुकांत झा को रिमांड किया जा रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने