आजीवन क्यों कुंवारे रह गए अटल बिहारी बाजपेयी?

NewsCode | 25 December, 2017 12:40 AM
newscode-image

भारत के राजनीतिक इतिहास में अटल बिहारी बाजपेयी का संपूर्ण व्यक्तित्व शिखर पुरुष के रूप में दर्ज है। उनकी पहचान एक कुशल राजनीतिज्ञ, प्रशासक, भाषाविद, कवि, पत्रकार व लेखक के रूप में है। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की विचारधारा में पले-बढ़े अटल जी राजनीति में उदारवाद और समता एवं समानता के समर्थक माने जाते हैं। उन्होंने विचारधारा की कीलों से कभी अपने को नहीं बांधा।

उन्होंने राजनीति को दलगत और स्वार्थ की वैचारिकता से अलग हट कर अपनाया और उसको जिया। जीवन में आने वाली हर विषम परिस्थितियों और चुनौतियों को स्वीकार किया। नीतिगत सिद्धांत और वैचारिकता का कभी कत्ल नहीं होने दिया। राजनीतिक जीवन के उतार चढ़ाव में उन्होंने आलोचनाओं के बाद भी अपने को संयमित रखा। राजनीति में धुर विरोधी भी उनकी विचारधारा और कार्यशैली के कायल रहे। पोखरण जैसा आणविक परीक्षण कर दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका के साथ दूसरे मुल्कों को भारत की शक्ति का अहसास कराया।

जनसंघ के संस्थापकों में से एक अटल बिहारी बाजपेयी के राजनीतिक मूल्यों की पहचान बाद में हुई और उन्हें भाजपा सरकार में भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

अटल बिहारी बाजपेयी का जन्म मध्य प्रदेश के ग्वालियर में 25 दिसम्बर 1924 को हुआ था। उनके पिता कृष्ण बिहारी बाजपेयी शिक्षक थे। उनकी माता कृष्णा जी थीं। वैसे मूलत: उनका संबंध उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के बटेश्वर गांव से है लेकिन, पिता जी मध्य प्रदेश में शिक्षक थे। इसलिए उनका जन्म वहीं हुआ। लेकिन, उत्तर प्रदेश से उनका राजनीतिक लगाव सबसे अधिक रहा। प्रदेश की राजधानी लखनऊ से वे सांसद रहे थे।

कविताओं को लेकर उन्होंने कहा था कि मेरी कविता जंग का एलान है, पराजय की प्रस्तावना नहीं। वह हारे हुए सिपाही का नैराश्य-निनाद नहीं, जूझते योद्धा का जय संकल्प है। वह निराशा का स्वर नहीं, आत्मविश्वास का जयघोष है। उनकी कविताओं का संकलन ‘मेरी इक्यावन कविताएं’ खूब चर्चित रहा जिसमें..हार नहीं मानूंगा, रार नहीं ठानूंगा..खास चर्चा में रही।

राजनीति में संख्या बल का आंकड़ा सर्वोपरि होने से 1996 में उनकी सरकार सिर्फ एक मत से गिर गई और उन्हें प्रधानमंत्री का पद त्यागना पड़ा। यह सरकार सिर्फ तेरह दिन तक रही। बाद में उन्होंने प्रतिपक्ष की भूमिका निभायी। इसके बाद हुए चुनाव में वे दोबारा प्रधानमंत्री बने।

राजनीतिक सेवा का व्रत लेने के कारण वे आजीवन कुंवारे रहे। उन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के लिए आजीवन अविवाहित रहने का निर्णय लिया था।

अटल बिहारी बाजपेयी ने अपनी राजनीतिक कुशलता से भाजपा को देश में शीर्ष राजनीतिक सम्मान दिलाया। दो दर्जन से अधिक राजनीतिक दलों को मिलाकर उन्होंने राजग बनाया जिसकी सरकार में 80 से अधिक मंत्री थे, जिसे जम्बो मंत्रीमंडल भी कहा गया। इस सरकार ने पांच साल का कार्यकाल पूरा किया।

अटल बिहारी बाजपेयी राजनीति में कभी भी आक्रमकता के पोषक नहीं थे। वैचारिकता को उन्होंने हमेशा तवज्जो दिया। अटलजी मानते हैं कि राजनीति उनके मन का पहला विषय नहीं था। राजनीति से उन्हें कभी-कभी तृष्णा होती थी। लेकिन, वे चाहकर भी इससे पलायित नहीं हो सकते थे क्योंकि विपक्ष उन पर पलायन की मोहर लगा देता। वे अपने राजनैतिक दायित्वों का डट कर मुकाबला करना चाहते थे। यह उनके जीवन संघर्ष की भी खूबी रही।

वे एक कवि के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहते थे। लेकिन, शुरुआत पत्रकारिता से हुई। पत्रकारिता ही उनके राजनैतिक जीवन की आधारशिला बनी। उन्होंने संघ के मुखपत्र पांचजन्य, राष्ट्रधर्म और वीर अर्जुन जैसे अखबारों का संपादन किया। 1957 में देश की संसद में जनसंघ के सिर्फ चार सदस्य थे जिसमें एक अटल बिहारी बाजपेयी थी थे। संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए हिंदी में भाषण देने वाले अटलजी पहले भारतीय राजनीतिज्ञ थे। हिन्दी को सम्मानित करने का काम विदेश की धरती पर अटलजी ने किया।

उन्होंने सबसे पहले 1955 में पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा। बाद में 1957 में गोंडा की बलरामपुर सीट से जनसंघ उम्मीदवार के रूप में जीत कर लोकसभा पहुंचे। उन्हें मथुरा और लखनऊ से भी लड़ाया गया लेकिन हार गए। अटल जी ने बीस सालों तक जनसंघ के संसदीय दल के नेता के रूप में काम किया।

इंदिरा जी के खिलाफ जब विपक्ष एक हुआ और बाद में जब देश में मोरारजी देसाई की सरकार बनी तो अटल जी को विदेशमंत्री बनाया गया। इस दौरान उन्होंने अपनी राजनीतिक कुशलता की छाप छोड़ी और विदेश नीति को बुलंदियों पर पहुंचाया। बाद में 1980 में जनता पार्टी से नाराज होकर पार्टी का दामन छोड़ दिया। इसके बाद बनी भारतीय जनता पार्टी के संस्थापकों में वह एक थे। उसी साल उन्हें भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष की कमान सौंपी गयी। इसके बाद 1986 तक उन्होंने भाजपा अध्यक्ष पद संभाला। उन्होंने इंदिरा गांधी के कुछ कार्यों की तब सराहना की थी, जब संघ उनकी विचारधारा का विरोध कर रहा था।

कहा जाता है कि संसद में इंदिरा गांधी को दुर्गा की उपाधि उन्हीं की तरफ से दी गई। उन्होंने इंदिरा सरकार की तरफ से 1975 में लादे गए आपातकाल का विरोध किया। लेकिन, बंग्लादेश के निर्माण में इंदिरा गांधी की भूमिका को उन्होंने सराहा था।

अटल हमेशा से समाज में समानता के पोषक रहे। विदेश नीति पर उनका नजरिया साफ था। वह आर्थिक उदारीकरण एवं विदेशी मदद के विरोधी नहीं रहे हैं लेकिन वह इमदाद देशहित के खिलाफ हो, ऐसी नीति को बढ़ावा देने के वह हिमायती नहीं रहे। उन्हें विदेश नीति पर देश की अस्मिता से कोई समझौता स्वीकार नहीं था।

अटल जी ने लालबहादुर शास्त्री जी की तरफ से दिए गए नारे जय जवान जय किसान में अलग से जय विज्ञान भी जोड़ा। देश की सामरिक सुरक्षा पर उन्हें समझौता गवारा नहीं था। वैश्विक चुनौतियों के बाद भी राजस्थान के पोखरण में 1998 में परमाणु परीक्षण किया। इस परीक्षण के बाद अमेरिका समेत कई देशों ने भारत पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिया। लेकिन उनकी दृढ़ राजनीतिक इच्छा शक्ति ने इन परिस्थितियों में भी उन्हें अटल स्तंभ के रूप में अडिग रखा। कारगिल युद्ध की भयावहता का भी डट कर मुकाबला किया और पाकिस्तान को धूल चटायी।

उन्होंने दक्षिण भारत के सालों पुराने कावेरी जल विवाद का हल निकालने का प्रयास किया। स्वर्णिम चतुर्भुज योजना से देश को राजमार्ग से जोड़ने के लिए कारिडोर बनाया। मुख्य मार्ग से गांवों को जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री सड़क योजना बेहतर विकास का विकल्प लेकर सामने आई। कोंकण रेल सेवा की आधारशिला उन्हीं के काल में रखी गई थी।

(प्रभुनाथ शुक्ल स्वतंत्र पत्रकार हैं और यह उनके निजी विचार हैं)

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 16-10-2018 का अपना राशिफल

NewsCode | 16 October, 2018 9:46 AM
newscode-image

सुप्रभात मित्रों! परिवार में प्यार से लेकर तक़रार, व्यापार में मुनाफा से लेकर उधार, सेहत में बुखार से लेकर सुधार, करियर, रोजगार, कार इत्यादि के लिए कैसा रहेगा आज आपका दिन। पढ़ें अपना राशिफल :

मेष/Aries (मार्च 21-अप्रैल 20) – आज मानसिक रूप से अशांत रह सकते हैं, हर कार्य को ध्यानपूर्वक करना होगा, कार्यक्षेत्र में परेशानी हो सकती है, दोपहर बाद राह चलने में सावधानी रखें।

वृष/Taurus (अप्रैल 21–मई 21) – साहस के साथ काम करेंगे, कार्य-व्यवसाय में तरक्की की संभावना है, प्रोपर्टी के क्षेत्र में निवेश कर सकते हैं, पारिवारिक सुख का आनंद मिलेगा।

मिथुन/Gemini (मई 22–21 जून) – मानसिक रूप से दबाव में रहेंगे, कार्य-व्यवसाय में लाभ होगा, अचानक नुकसान हो सकते हैं, पत्नी के सेहत का ख्याल रखें।

कर्क/Cancer (जून 22–जुलाई 23) – स्थिर मानसिकता से काम करेंगे, युवाओं के विवाह की बात हो सकती है, प्रेम करने वाले भी विवाह कर सकते हैं, विदेश यात्रा का लाभ मिलेगा।

सिंह/Leo (जुलाई 24–अगस्त 23) – घर-वाहन के खरीद पर ध्यान केन्द्रित हो सकता है, साझेदारी वाले व्यवसाय के लिए समय अनुकूल है, कर्मचारियों के ऊपर दबाव बनाना उचित नहीं होगा , खर्च की अधिकता होगी।

कन्या/Virgo (अगस्त 24–सितंबर 23) – हिम्मत के साथ काम करने का लाभ मिलेगा, छोटे कर्मचारियों का सहयोग मिलेगा, कार्य विस्तार के लिए किसी से मुलाकात हो सकती है, प्रेम करने वाले के लिए भी समय अनुकूल है।

तुला/Libra (सितंबर 24–अक्टूबर 23) – धन की चिन्ता होगी, पारिवारिक समस्या से मन परेशान हो सकता है , कार्य व्यवसाय में तरक्की के लिए दूसरे पर आश्रित हो सकते हैं, दाम्पत्य सुख भी सामान्य है।

वृश्चिक/Scorpio (अक्टूबर 24–नवंबर 22) – विचार स्वस्थ होंगे, साहस के साथ काम को आगे बढ़ाने का प्रयास करेंगे, प्रापर्टी के क्षेत्र में किसी प्रकार निवेश नुकसान दे सकता है, मां के सेहत का ध्यान रखना होगा।

धनु/Sagittarius (नवंबर 23–दिसंबर 21) – मन और वाणी दोनों पर नियंत्रण जरूरी है, मानसिक रूप से पीड़ित हो सकते हैं ,आमदनी के साथ-साथ खर्च की अधिकता है, अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना जरूरी है।

मकर/Capricorn (दिसंबर 22–जनवरी 20) – प्रभावपूर्ण वाणी बोलेंगे, आप अनुभवी हैं ऐसा प्रदर्शित करेंगे, धन लाभ की संभावना है, धन संचित करने का भी विचार करेंगे।

कुंभ/Aquarius  (जनवरी 20–फरवरी 19) – कार्य व्यवसाय के ऊपर ध्यान केन्द्रित रहेगा, सांसारिक सुखों को भोगने का समय है, कार्य व्यवसाय की तरक्की से प्रसन्नता होगी, निवेश का लाभ मिलेगा।

मीन/Pisces (फरवरी 20–मार्च 20) – धार्मिक कार्यों में रूचि लेंगे, कार्य व्यवसाय सामान्य है , नुकसान न हो इसका ध्यान रखना होगा, विवाह की बात टूट सकती है।


नवरात्रि में व्रत रखने वालों के लिए इन बातों पर ध्यान देना जरूरी

नवरात्र में भूलकर भी न करें ये काम, इन लोगों को नहीं रखना चाहिए उपवास

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 14-10-2018 का अपना राशिफल

NewsCode | 14 October, 2018 9:01 AM
newscode-image

सुप्रभात मित्रों! परिवार में प्यार से लेकर तक़रार, व्यापार में मुनाफा से लेकर उधार, सेहत में बुखार से लेकर सुधार, करियर, रोजगार, कार इत्यादि के लिए कैसा रहेगा आज आपका दिन। पढ़ें अपना राशिफल :

मेष/Aries (मार्च 21-अप्रैल 20) – चोट-चपेट से बचना चाहिए, सेहत का भी ध्यान रखें, पारिवारिक समस्याओं के ऊपर ध्यान देना होगा, माता के सेहत का ध्यान रखें।

वृष/Taurus (अप्रैल 21–मई 21) – मानसिक रूप से भावुक रहेंगे, लंबी यात्रा के योग हो सकते हैं, कार्य व्यवसाय उत्तम है, परिवार के साथ समय गुजारना पसंद करेंगे।

मिथुन/Gemini (मई 22–21 जून) – दृढ़तापूर्वक कार्य करने का लाभ मिलेगा, पार्टनर के साथ मिलकर व्यापार बढ़ाने का प्रयास करेंगे, युवाओं के विवाह की बात होगी, नये कार्य की योजना भी बना सकते हैं।

कर्क/Cancer (जून 22–जुलाई 23) – क्रोध करने से बचें, कार्य व्यवसाय उत्तम है, साझेदारी में काम प्रारंभ न करें, दाम्पत्य जीवन में दबाव महसूस करेंगे।

सिंह/Leo (जुलाई 24–अगस्त 23) – परिवार की चिंता होगी, प्रोपर्टी से संबंधित खरीद-बिक्री सावधानी से करें, युवा अपने दोस्तों पर विशेष भरोसा करेंगे, विशिष्ट व्यक्तियों का सहयोग मिलेगा।

कन्या/Virgo (अगस्त 24–सितंबर 23) – सामर्थ्य का विकास होगा, अपने मन के अनुकूल घर लेने में सफल हो सकते हैं, पारिवारिक सदस्यों का सहयोग मिलेगा, कार्य व्यवसाय उत्तम है।

तुला/Libra (सितंबर 24–अक्टूबर 23) – धन निवेश की चिंता होगी, आगे नयी नौकरी की तलाश होगी, शारीरिक रूप से थकान महसूस करेंगे, कार्य व्यवसाय की चिंता होगी।

वृश्चिक/Scorpio (अक्टूबर 24–नवंबर 22) – कार्य क्षेत्र में निवेश की योजना होगी, निवेश पर ध्यान भी रखना होगा, कर्मचारियों का सहयोग नहीं मिलेगा, भाई के साथ मनमुटाव हो सकता है।

धनु/Sagittarius (नवंबर 23–दिसंबर 21) – मानसिक रूप से चिंताग्रस्त हो सकते हैं, वाणी पर नियंत्रण जरूरी है, जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा, ईश्वर भक्ति में मन लगेगा।

मकर/Capricorn (दिसंबर 22–जनवरी 20) – गुस्सा करने से बचें, कार्य व्यसाय पर ध्यान देना होगा, अचानक कार्य क्षेत्र में दबाव महसूस करेंगे, अति आत्मविश्वास में न रहें।

कुंभ/Aquarius  (जनवरी 20–फरवरी 19) – कार्य व्यवसाय उत्तम है, अपेक्षा के अनुकूल लाभ की संभावना है, अनुभवी लोगों का सहयोग मिलेगा, प्रेम संबध प्रगाढ़ होंगे।

मीन/Pisces (फरवरी 20–मार्च 20) – धार्मिक कार्य करने वाले के लिए समय अनुकूल है, घर खरीदने का सपना पूरा हो सकता है, कार्य व्यवसाय सामान्य है, दाम्पत्य सुख उत्तम है।


नवरात्रि में व्रत रखने वालों के लिए इन बातों पर ध्यान देना जरूरी

नवरात्र में भूलकर भी न करें ये काम, इन लोगों को नहीं रखना चाहिए उपवास

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 13-10-2018 का अपना राशिफल

NewsCode | 13 October, 2018 7:20 AM
newscode-image

सुप्रभात मित्रों! परिवार में प्यार से लेकर तक़रार, व्यापार में मुनाफा से लेकर उधार, सेहत में बुखार से लेकर सुधार, करियर, रोजगार, कार इत्यादि के लिए कैसा रहेगा आज आपका दिन। पढ़ें अपना राशिफल :

मेष/Aries (मार्च 21-अप्रैल 20) – वाहन सावधानी से चलाना होगा, अपव्यय से बचना चाहिए, कार्य के क्षेत्र में किसी से लड़ाई-झगड़े न करें, लाभ अपेक्षा के अनुकूल होगा।

वृष/Taurus (अप्रैल 21–मई 21) – भावुकता से बाहर निकल कर कार्य विशेष पर ध्यान देना होगा, यात्रा का लाभ मिलेगा, आसपास के लोगों से सतर्क रहें, ईश्वर भक्ति में आनंद मिलेगा।

मिथुन/Gemini (मई 22–21 जून) – दिनभर कार्य में व्यस्त रहेंगे, शाम को दोस्तों के साथ समय गुजारेंगे, युवाओं को नौकरी की तलाश होगी, कार्य व्यवसाय सामान्य है।

कर्क/Cancer (जून 22–जुलाई 23) – किसी के लिए बुरा न बोलें , माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें, कार्य व्यवसाय उत्तम है, जीवनसाथी की भावनाओं को समझें।

सिंह/Leo (जुलाई 24–अगस्त 23) – नये कार्य के ऊपर ध्यान केन्द्रित रहेगा, विशेष लोगों से मिलने का कार्यक्रम हो सकता है, सामर्थ्य में वृद्धि होगी, भाई–बहन का साथ मिलेगा।

कन्या/Virgo (अगस्त 24–सितंबर 23) – व्यस्त कार्यक्रम के बाद धन की चिंता होगी, खर्च की अधिकता से परेशान हो सकते हैं, अधिकारी वर्ग नाराज हो सकते हैं, युवाओं के विवाह में बाधा के संकेत हैं।

तुला/Libra (सितंबर 24–अक्टूबर 23) – व्यर्थ की चिंताओं से मन अशांत होगा, अपने उन्नति की बात सोचेंगे, धार्मिक कार्यों में रूचि लेंगे, पिता का सहयोग मिलेगा।

वृश्चिक/Scorpio (अक्टूबर 24–नवंबर 22) – निवेश के ऊपर ध्यान केन्द्रित होगा, सोच–समझ कर ही निवेश करना चाहिए, लाभ अपेक्षा के अनुकूल होगा, कार्य क्षेत्र में विशेष परिश्रम करने होंगे।

धनु/Sagittarius (नवंबर 23–दिसंबर 21) – चिंता से मुक्ति मिलेगी, मन प्रसन्न रहेगा, कार्य क्षेत्र में मजबूती से कार्य करेंगे, दाम्पत्य सुख उत्तम है।

मकर/Capricorn (दिसंबर 22–जनवरी 20) – अपने कार्य क्षमता पर विशेष भरोसा होगा, कार्य व्यवसाय उत्तम है, लाभ अपेक्षा से कम होगा, पत्नी बीमार हो सकती है।

कुंभ/Aquarius  (जनवरी 20–फरवरी 19) – बड़े व्यापारी नये कार्य का प्रारंभ करेंगे, सरकारी सहयोग नहीं मिलने से परेशानी होगी, अपने अधिकारियों के साथ मंत्रणा करेंगे, प्रेम करने वाले के लिए दिन अनुकूल है।

मीन/Pisces (फरवरी 20–मार्च 20) – कार्य व्यवसाय की चिंता होगी, नौकरी में परिवर्तन की बात सोचेंगे, वाहन सुख उत्तम है, परिवार का सहयोग मिलेगा।


नवरात्रि में व्रत रखने वालों के लिए इन बातों पर ध्यान देना जरूरी

नवरात्र में भूलकर भी न करें ये काम, इन लोगों को नहीं रखना चाहिए उपवास

More Story

more-story-image

चक्रधरपुर : नहीं रहे पूर्व रात्रि प्रहरी जीत बहादुर थापा

more-story-image

रांची : व्‍यवसायी नरेंद्र सिंह होरा हत्याकांड का हुआ खुलासा