नाराज़ किसानों ने यूपी विधानसभा के बाहर रातभर फेंके आलू, प्रशासन ने जारी किए ऋण माफी के आंकड़े

NewsCode | 6 January, 2018 12:49 PM

किसानों के आलू प्रदर्शन के बाद प्रदेश सरकार ने बैकफुट पर आता देख आनन-फानन में किसानों की दी गयी मदद के आंकड़े पेश किए

newscode-image

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में आलू किसानों का आक्रोश सड़कों पर फूट पड़ा है। यूपी विधानसभा के बाहर नाराज किसानों ने कम कीमतों के विरोध में आलू फेंककर प्रदर्शन किया।

किसानों को इस समय प्रति किलो आलू की कीमत 4 रुपए मिल रही है जबकि उनकी मांग है कि कम से कम 10 रुपए प्रति किलो आलू के दाम मिले। बताया जा रहा है कि नाराज किसान रात भर आलू फेंकते रहे।

किसानों के आलू प्रदर्शन के बाद प्रदेश सरकार ने बैकफुट पर आता देख आनन-फानन में किसानों की दी गयी मदद के आंकड़े पेश किए। इन आकड़ों में  अन्य अनाज के मुकाबल आलू के लिए  महज 63 लाख भुगतान किया गया है।


रात में गश्त करने का दावा करने वाली पुलिस और खुफिया विभाग का नेटवर्क भी रात में सोता रहा। इस दौरान जिला प्रशासन को भी किसानो के आलू फेंकने की जानकारी नहीं हो पाई।

मामला सामने आने के बाद लखनऊ के एसएसपी दीपक कुमार ने कहा कि आलू फेंकने वालों किसानों और वाहनों की पहचान हो गई हैं। उन्होंने कहा कि उचित धाराओं के तहत इन लोगों के खिलाफ केस दर्ज करके कार्रवाई की जाएगी।

सीएम आवास, राजभवन और विधानसभा के बाहर की सड़कों पर आलू मिलने के बाद हड़कंप मच गया। जिला प्रशासन और नगर निगम के अफसर अपनी इज्जत बचाने के लिए आलू उठाते दिखे।

दरअसल पिछले साल आलू की बंपर पैदावार होने की वजह से किसानों ने पैदावार कोल्ड स्टोरेज में रखवा दी थी लेकिन पुराने आलू की तरफ लोगों का रुख कम होने से लोग इन्हें खरीदने से कतरा रहे हैं और स्टोरेज मालिकों के पास इसे फेंकने के अलावा कोई चारा नहीं है।

बड़कागांव : हाथियों के झुंड ने तीन लोगों को कुचल कर मारा

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 3:28 PM
newscode-image

बड़कागांव (हजारीबाग)। झारखण्ड में हाथियों का आतंक रुकने का नाम नहीं ले रहा है, आये दिन हाथी लोगों को अपना निशाना बना रहे है। हजारीबाग जिले के बड़कागांव में हाथियों के झुंड ने एक ही रात में तीन लोगों को मौत के घाट उतार डाला। झुंड के एक हाथी ने एक व्यक्ति को सूंड़ में लपेटकर पटक-पटककर मार डाला, तो दो लोगों को कुचल दिया, जिससे उनकी मौत हो गयी।

घटना से गुस्साये लोगों ने डोकाटांड़ में सड़क जाम कर वन विभाग के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया और मृतकों के परिजनों को मुआवजा दिये जाने की मांग की। मृतकों की पहचान तुलसी महतो, लीलू साव, हसीब अंसारी के रूप में हुई है।

दरअसल प्रखंड स्थित वन क्षेत्र के डूमारो जंगल के रानी तालाब से भागकर 22 हाथियों का झुंड बुधवार को सिमरतरी गांव पहुंच गया। खेत-खलिहान में जमकर उत्पात मचाया। फसलों को नष्ट कर दिया। अपनी फसल को बर्बाद होता देख लोगों से नहीं रहा गया। लोगों ने हाथियों को खदेड़ने का जतन शुरू कर दिया।

लोग मशाल लेकर निकले, ढोल-नगाड़े बजाकर हाथियों को खदेड़ने का प्रयास किया। इसी दौरान सिमरातरी गांव के तुलसी महतो (पिता रिजु महतो) को एक हाथी ने अपने सूंड़ में लपेट लिया। हाथी ने तुलसी महतो को पटक-पटक कर मार डाला।

वहीं, एक व्यक्ति रात के बाद से गायब था। सुबह उसका भी कुचला हुआ शव मिला। देर रात को हाथियों का यह झुंड सिमरतरी गांव से गोसाई बलिया की ओर भाग गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : राजकीय कार्यक्रम में हंगामा करने पर 216 पारा शिक्षक बर्खास्त

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:20 PM
newscode-image

600 अन्य की बर्खास्तगी को लेकर कार्रवाई, गिरफ्तार कर पारा शिक्षकों को कैंप जेल में रखा गया

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन पूरे राज्य भर से राजधानी रांची में आए पारा शिक्षकों ने सरकारी कार्यक्रम को बाधा पहुंचाने की कोशिश की। साथ ही विधि व्यवस्था को अपने हाथ में लेकर पत्थरबाजी भी की।

विधि व्यवस्था में लगे  पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों, वरीय पुलिस अधीक्षक, सिटी पुलिस अधीक्षक  एवम् ड्यूटी पर तैनात पदाधिकारियों पर  पारा शिक्षकों  ने  हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी और  पदाधिकारी गंभीर रूप से जख्मी हुए।

पारा शिक्षकों द्वारा सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान डालने, विधि व्यवस्था को तोड़ने एवम् सरकारी लोगो पर हमला करने की घटना को बेहद अशोभनीय एवम् गंभीर रूप से लेते हुए  वीडियो रिकॉर्डिंग एवम् कार्यक्रम स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरा से  लिए फुटेज एवम् अन्य प्रमाणों के आधार पर  16 प्रखंड के कुल 216 पर शिक्षकों को बर्खास्त किया गया।

साथ ही लगभग 600 पारा शिक्षकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई खेलगांव एवम् रेड क्रॉस अस्थायी जेल में गिरफ़्तार कर रखा गया है। जिन पर सीसीटीवी कैमरा एवम्  वीडियो रिकॉर्डिंग से मिले प्रमाण के आधार पर बर्खास्त करने की कारवाई चल रही है।

अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को भी यहां शामिल पारा शिक्षकों की सूची भेजी जा रही है जिसके आधार पर  चिन्हित कर अनुशासनात्मक कारवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।  स्थापना दिवस एक राजकीय दिवस है जी सम्पूर्ण राजवसियो के लिए सम्मान एवम् गौरव  का दिन है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

रांची : झारखंड स्थापना दिवस- संपूर्ण झारखंड खुले में शौच मुक्त घोषित, करीब 2100 को मिला नियुक्ति पत्र

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:02 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस मना रहा है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री ने संपूर्ण झारखंड को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की। समारोह में राज्य के तीन जिलों देवघर, हजारीबाग और लोहरदगा को पूर्ण विद्युतीकृत किये जाने की घोषणा की गयी।

इस मौके पर अरबों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन के साथ ही परिसंपत्तियों का वितरण भी किया गया। समारोह में करीब 2100 लोगों को नियुक्ति पत्र का भी वितरण किया गया।

झारखंड स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की जनता को कई सौगात दी। रांची में आयोजित मुख्य समारोह में उन्होंने राज्य को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की।  उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर लोगों की आदतों में भी अब बदलाव आया है।

मुख्यमंत्री ने हर घर तक बिजली पहुंचाने के अपने वायदों को पूरा करते हुए राज्य के तीन जिलों देवघर, लोहरदगा और हजारीबाग को पूर्ण रूप से विद्युतीकृत होने का भी ऐलान किया। इस दौरान श्री दास ने कहा कि वर्तमान सरकार  पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से काम कर रही  है और अब तक इस पर एक भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे है।

इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि देश के विकास में झारखंड का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि जनता को चुनी हुई सरकार से आकांक्षाएं होती है , जिसे पूरा करने में सरकार लगी है।

समारोह के दौरान अरबों रुपये की परिसंपत्तियों का वितरण किया गया और कई नई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन भी हुआ। करीब 2100 लोगों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण और झारखंड और देश के विकास में अपनी भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया। जिला मुख्यालयों में भी परिसंपत्तियों का वितरण हुआ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

विधानसभावार बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में लोगों को जोड़ने...

more-story-image

रांची : आम आदमी पार्टी ने निकाली झारखंड नवनिर्माण संकल्प...

X

अपना जिला चुने