ईज ऑफ डूइंग बिजनेस लिस्‍ट में टॉप पर आया आंध्र प्रदेश, झारखंड की रैंकिग में सुधार

NewsCode | 10 July, 2018 7:19 PM
newscode-image

नई दिल्ली। व्यापार करने में आसानी के लिए शुरू की गई ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ रैंकिंग में गुजरात, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे बड़े राज्यों को पीछे छोड़ते हुए आंध्र प्रदेश ने बाजी मारी है। वहीं तेलंगाना दूसरे, हरियाणा तीसरे और झारखंड चौथे स्थान पर रहे हैं।

रैकिंग की पहली लिस्‍ट में केवल 7 राज्‍यों ने सरकार द्वारा सुझाए गए केवल 50 प्रतिशत सुधारों को ही लागू किया था, जबकि दूसरी लिस्‍ट में बताया गया है कि 18 राज्‍यों ने इस स्‍तर से ज्‍यादा सुधार किया है। इस साल की लिस्‍ट में केवल 21 राज्‍यों को शामिल किया गया है।

वर्ल्‍ड बैंक की ताजा डूइंग बिजनेस रिपोर्ट में भारत की रैंकिंग सुधरकर 100वीं हो गई है। वर्ल्‍ड बैंक ने 190 देशों की लिस्‍ट जारी की है, जिसमें भारत का स्‍थान अब 100वां है। सरकार चाहती है कि ओवरऑल ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत टॉप 50 देशों में शामिल हो।

क्यों खास है यह इंडेक्स?

ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग शुरू करने की सबसे बड़ी वजह यह है कि सरकार राज्यों में एक प्रतियोगिता चाहती थी। सरकार चाहती थी कि बिजनेस के लिए बेहतर माहौल मुहैया कराने में राज्य एक दूसरे से होड़ करें। इसके अलावा इन रैंकिंग से यह भी पता चलता है कि जो सुधार केंद्र लागू करता है उसे राज्य अपनाकर बिजनेस हासिल कर सकते हैं।

2016 में तेलंगाना और आंध्रप्रदेश संयुक्त रूप से इंडेक्स में अव्वल आए थे। ये राज्य पहली बार गुजरात से ऊपर थे। पीएम नरेंद्र मोदी का होम टाउन गुजरात 2015 में नंबर वन था।

मुंबई: मुसीबत बनी बारिश, देरी से उड़े विमान, 90 ट्रेनें रद्द, डिब्बेवालों की सेवाएं ठप्प

इस रैंकिंग लिस्‍ट को बनाने में निर्माण मंजूरी, श्रम नियमन, पर्यावरण रजिस्‍ट्रेशन, सूचनाओं तक पहुंच, जमीन की उपलब्‍धता, सिंगल विंडो सिस्‍टम आदि जैसे मापदंडों को परखा गया। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में सुधार से अधिक निवेश आकर्षित करने में मदद मिलती है साथ ही साथ निवेशकों को बेहतर कारोबारी माहौल उपलब्‍ध होता है।

समलैंगिकता अपराध है या नहीं, धारा 377 पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी

LIVE: पीएम मोदी का कांग्रेस पर तंज, कहा- मेरी शुभकामनाएं 2024 में आप फिर से अविश्वास प्रस्ताव लाएं

NewsCode | 20 July, 2018 9:39 PM
newscode-image

संसद के मॉनसून सत्र का तीसरा दिन है और आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी. बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था.

संसद के मॉनसून सत्र का तीसरा दिन है और आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी. बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था.

अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने भी भाषण दिया. राहुल गांधी अपना भाषण खत्‍म करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास गए और उनके गले लगकर हाथ मिलाया.

LIVE UPDATES:

पीएम मोदी ने बोलना शुरू किया-

प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान लोकसभा में जमकर हंगामा,  विपक्षी नेताओं लगा रहे वी वांट जस्टिस के नारे

-जब हम डिजिटल लेनदेन की बात करने लगे तो सदन में बैठे लोग बताने लगे कि हमारे देश में लोग अनपढ़ हैं.

-ऐसे लोगों को हमारे देश की जनता ने तमाचा मारा है. इनकी यही मानसिकता गलत है

-यह अच्छा मौका है कि हमें अपनी बात कहने का बात मिल ही रहा है लेकिन देश को यह चेहरा भी देखने का मौका मिला है कि कैसे नकारात्मक राजनीति ने कुछ लोगों को घेर कर रखा हुआ है और उन सब का चेहरा निखर कर बाहर आया है.

-कई लोगों के मन में यह सवाल आया कि यह प्रस्ताव आया क्यों? विपक्ष के पास बहुमत नहीं है फिर भी यह प्रस्ताव लाया गया. सरकार को गिराने के लिए इतना ही उतावलापन था तो इसे 48 घंटे और टालने की कोशिश क्यों की गई. अगर चर्चा की तैयारी ही नहीं थी तो इसे लाया ही क्यों?

पिछले दो वर्ष में पांच करोड़ लोग गरीबी से बाहर आए : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– किसानों की आय 2022 तक दोगुनी कर देंगे : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में कहा, ”हम ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मंत्र पर काम करते रहे.”

– अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा : प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान लोकसभा में जमकर हंगामा

– लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं पर भरोसा ज़रूरी, सवा सौ करोड़ देशवासियों पर अविश्वास न करें : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– साथियों की परीक्षा लेने के लिए अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जाना चाहिए : लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– न मांझी, न रहबर, न हक में हवाएं, है कश्ती भी जर्जर, यह कैसा सफर है : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– न संख्या है, न बहुमत, फिर भी अविश्वास प्रस्ताव लाया गया, देश देख रहा है, कैसी नकारात्मकता है : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.

– अविश्‍वास प्रस्‍ताव के बहाने अपने कुनबे को जमाने की कोशिश की गई है.

– राहुल गांधी के गले मिलने पर पीएम मोदी बोले- कुर्सी पर पहुंचने की जल्‍दबाजी है.

– पीएम मोदी ने कहा , संसद में बहुमत नहीं फिर भी अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाया गया है.

 -तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी ने कहा, “आप राम पर भी अपनी मनॉपली (एकाधिकार) करना चाहते हैं.”

-हमें रूस-अमेरिका नहीं, हिन्दू-मुस्लिम के बीच फैल रही नफरत मारेगी : नेशनल कॉन्फ्रेंस के सांसद फारुक अब्दुल्ला

– मॉब लिंचिंग सिर्फ 1984 में नहीं हुई थी, वह 2002 में भी हुई : AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : Low Rank वाले न हों हताश, Dr.S.S. Singh से लें सलाह

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:56 PM
newscode-image

रांची। JEE Mains में 1 लाख से ऊपर रैंक वालों के लिए Self Financed Technical Institute (SFTIS)  के लिए काउंसिल शुरू।

माननीयों की लड़ाई सदन से लेकर सड़क तक, जिम्मेदार कौन ?

Low Rank  वाले हताश न हों , जानिए करियर सलाहकार Dr.S.S. Singh से कि किन संस्थानों में एडमिशन लेना चाहिए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गुमला : दिल्ली ले जायी जा रही छः लड़कियां रांची रेलवे स्टेशन से बरामद

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:56 PM
newscode-image

गुमला। दिल्ली ले जायी जा रही छः लड़कियों को पुलिस ने रांची रेलवे स्टेशन से बरामद किया है। ये सभी लड़कियां गुमला जिले के रायडीह थाना क्षेत्र की रहने वाली हैं और आनंद विहार ट्रेन से रांची स्टेशन से नई दिल्ली जाने वाली थी। रायडीह थाना प्रभारी राजेश कुमार सिंह की पहल पर, राँची रेलवे स्टेशन से गुप्त सूचना के आधार पर इन लड़कियों की बरामदगी की गई। सभी लड़कियों को cwc रांची को सौंप दिया गया है।

लोहरदगा : भूमि विवाद में वृद्ध को मारी गोली, हालत गंभीर, रिम्स रेफर 

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

दुमका : मामूली विवाद को लेकर शिक्षक ने छात्र को...

more-story-image

 पलामू : भू-माफियाओं से परेशान ग्रामीण अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर