बांग्लादेश के खिलाफ T20 सीरीज जीतने के बाद अफगानी खिलाड़ियों ने किया ‘नागिन डांस’

NewsCode | 8 June, 2018 9:00 PM
newscode-image

नई दिल्ली। तीन टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों की सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच में गुरुवार को अफगानिस्तान ने बांग्लादेश को हराकर सीरीज 3-0 से अपने नाम कर ली। इस रोमांचक मैच का नतीजा अंतिम गेंद पर निकला, जिसमें अफगानिस्तान ने बांग्लादेश को 1 रन से हरा दिया। बांग्लादेश पर इस रोमांचक जीत के बाद अफगानिस्तान के खिलाड़ियों का जश्न देखने लायक था। अफगानिस्तान के खिलाड़ी इस जीत का जश्न मैदान पर नागिन डांस करके मना रहे थे। इस मैच में अफगानिस्तान टीम ने पहले बैटिंग करते हुए बांग्लादेश को 146 रन का लक्ष्य दिया था। बांग्लादेश इसे हासिल करने में 1 रन से पीछे रह गई। इस जीत की खुशी अफगानिस्तान टीम खिलाड़ियों ने नागिन डांस करके मनाई।

बांग्लादेश को मैच की अंतिम बॉल पर जीत के लिए 4 रन की दरकार थी और स्ट्राइक पर थे अरीफुल हक। हक ने राशिद की इस अंतिम बॉल पर लॉन्ग ऑन बाउंड्री की ओर तेज शॉट लगाया। इससे पहले गेंद छक्के के लिए बाउंड्री लाइन को पर करती कि यहां तैनात फील्डर ने उम्दा प्रयास करते हुए गेंद को सीमारेखा के अंदर ही रोक लिया। फील्डर इस कैच को नहीं लपक पाया, लेकिन बॉल को उसने तेजी से चौका या छक्का होने से रोक दिया। इस दौरान लॉन्ग ऑफ के क्षेत्र से दूसरे फील्डिर ने गेंद को तेजी से उठाकर विकेटकीपर की ओर फेंक दिया।

बांग्लादेश को मैच की अंतिम बॉल पर जीत के लिए 4 रन की जरूरत थी और स्ट्राइक पर थे अरीफुल हक। हक ने राशिद की इस अंतिम बॉल पर लॉन्ग ऑन बाउंड्री की ओर तेज शॉट लगाया। इससे पहले गेंद छक्के के लिए बाउंड्री लाइन को पर करती कि यहां तैनात फील्डर ने उम्दा प्रयास करते हुए गेंद को सीमारेखा के अंदर ही रोक लिया। फील्डर इस कैच को नहीं लपक पाया, लेकिन बॉल को उसने तेजी से चौका या छक्का होने से रोक दिया। इस दौरान लॉन्ग ऑफ के क्षेत्र से दूसरे फील्डिर ने गेंद को तेजी से उठाकर विकेटकीपर की ओर फेंक दिया।

अब क्या था बांग्लादेश के खिलाड़ी मैच को टाय कराने के इरादे से तीसरा रन दौड़ रहे थे, लेकिन फील्डर ने गेंद विकेटकीपर मोहम्मद शहजाद के पास फेंक दी और शहजाद ने बिना देर किए गिल्लियां बिखेर दीं। नतीजा 45 के स्कोर पर बैटिंग कर रहे महम्मदुल्ला रन आउट हो गए और बांग्लादेश की टीम 1 रन से यह मैच हार गई। अब मैदान पर अफगानिस्तान के खिलाड़ियों का जश्न देखने वाला था। टीम के ज्यादातर खिलाड़ी नागिन डांस कर अपनी जीत का जश्न मनाते नजर आए। बता दें अभी कुछ महीनों पहले ही श्री लंका में संपन्न हुई निदाहास ट्रोफी के दौरान क्रिकेट में नागिन डांस से जश्न मनाने का प्रचलन बांग्लादेश की टीम ने ही शुरू किया था।

अफगानिस्तान के खिलाफ खेले गए इस मैच में भी बांग्लादेशी गेंदबाज अफगानिस्तान के विकेट चटकाकर नागिन डांस कर के ही विकेट सेलिब्रेट कर रहे थे। जब मैच का परिणाम अफगानिस्तान के हक में गया, तो उसके खिलाड़ियों ने भी नागिन डांस कर अपनी जीत का जश्न मनाया। बता दें तीनों मैचों की इस टी20 इंटरनैशनल सीरीज में अफगानिस्तान ने बांग्लादेश को 3-0 से मात देकर सीरीज पर कब्जा जमाया है।

क्रिकेट के दीवानों के लिए अच्छी खबर, एक बार फिर साथ दिख सकते हैं द्रविड़-तेंदुलकर

देवघर : अनोखा कद्दू लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र, सब्‍जी बनते ही रंग काला हो जाता

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 2:18 PM
newscode-image

10 साल पूर्व लगाया गया था पौधा

देवघर। आप कद्दू तो जरूर देखे होंगे लेकिन एक कद्दू ऐसा भी है जिसे देखकर आप दंग रह जाएंगे। यह ऐसा कद्दू हो जो पेड़ में फला हुआ देखा गया। सुनने में थोड़ा अजीब जरूर लग रहा होगा लेकिन ये हकीकत है। यह फला हुआ कद्दू लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र है।

देवीपुर प्रखंड के शंकरपुर स्थित भोजपुर गांव में एक  अनोखा कद्दू का पेड़ है। इस कददू के पेड़ में कई सारे कददू निकलते है। देखने में बिल्कुल हरा ओर गोल आकार का है जो बिल्कुल आम कददू की तरह है।

पेड़ में निकले इस अनोखे कददू को आस पड़ोस के लोग भी तोड़ कर ले जाते है। उमा देवी बताती है कि इस कददू का सब्जी आम कददू की तरह ही बनाया जाता है लेकिन स्वाद में थोड़ा तितापन होता है और सब्जी बनते ही काला हो जाता है। 10 वर्ष पूर्व इस पेड़ को लगाई थी।

ऐसा कद्दू कहीं भी बाजार में नहीं मिलता है। वहीं पड़ोसी महिला बताती है जब इसको काटा जाता है तो पनीर की तरह रहता है और इसमें बीज नहीं होता है। बनाने के इसका रंग काला हो जाता है और खाने में थोड़ा तितापन रहता है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बेरमो : हिन्दू परिवार दे रहे भाईचारा का सन्देश, 150 वर्षो से मना रहा मुहर्रम

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 5:19 PM
newscode-image

बेरमो(बोकारो)। आस्था और विश्वास के आगे सभी हो जाते हैं नतमस्तक, ऐसा ही देखने को हिन्दू परिवार मेँ मिला रहा है। नावाडीह प्रखंड के बरई गांव के एक हिन्दू जमींदार परिवार है, जहाँ पर एक भी घर मुस्लिम का नहीं होने के बावजूद बीते 150 वर्षों से प्रतिवर्ष उक्त हिन्दू जमींदार के वंशजों द्वारा मुस्लिम समुदाय का त्योहार मुहर्रम मनाया जाता है।

यहां तक कि इसके लिए अखाड़ा निकालने हेतु उस परिवार को प्रशासन से लाइसेंस भी प्राप्त है।जमींदार के वशंज सह लाइसेंस धारी सहदेव प्रसाद सहित उनके परिवार यह त्यौहार पिछले पांच पीढ़ी से निरंतर मनाते आ रहे है। सहदेव प्रसाद के अनुसार इनके पूर्वज स्व. पंडित महतो, घुड़सवारी व तलवारबाजी के शौकीन थे और बरई के जमींदार भी।

बोकारो : धूम-धाम से मनाया गया करमा पूजा

जबकि निकट के बारीडीह के गंझू जाति के जमींदार के बीच सीमा को लेकर विवाद हुआ था। यह मामला गिरीडीह न्यायालय में कई वर्षों तक मुकदमा चला। मामले में स्व. महतो को फांसी की सजा मुकर्रर कर दी गई थी। फांसी दिए जाने वाला दिन मुहर्रम था और महतो से जब अंतिम इच्छा पूछा गया तो उन्होंने श्रद्वापूर्वक गिरीडीह के मुजावर से मिलने की बात कहीं और उन्हें तत्काल मुजावर से उन्हें मिलाया गया।

जहाँ मुजावर से उन्होंने शीरनी फातिहा कराई। जिसके बाद स्व. महतो को ज्योंही फांसी के तख्ते पर लटकाया गया, लगातार तीनों बार फांसी का फंदा खुल गया और अंततः उन्हें सजा से मुक्त कर दिया गया। न्यायालय से बरी होते ही नावाडीह के खरपीटो गांव पहुंचे और ढोल ढाक के साथ सहरिया गए।

बोकारो : गेल इंडिया ने रैयतों को दिया जमीन का मुआवजा

सहरिया के मुजावर को लेकर बरई आए और स्थानीय बरगद पेड़ के समीप इमामबाड़ा की स्थापना कर मुहर्रम करने की परंपरा की शुरुआत की, जो आज तक जारी है। लोगों ने बताया कि यहां लंबे समय तक सहरिया के, फिर पलामू दर्जी मौहल्ला के मुजावर असगर अंसारी तथा फिलहाल लहिया के मुजावर इबरास खान द्वारा यहां शीरनी फातिहा की जा रही है ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

गुमला : कश्यप मुनि की जयंती धूमधाम से मनाई गई

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 5:08 PM
newscode-image

गुमला। झारखंड के राजकीय पर्व करमा के अवसर पर केशरवानी वैश्य समाज के तत्वावधान में डीएसपी रोड स्थित बजरंग केशरी के आवास में गोत्राचार्य कश्यप मुनि की जयंती धूमधाम से मनाई गई।

कार्यक्रम की शुरुआत गोत्राचार्य कश्यप मुनि के चित्र पर माल्यार्पण कर के किया गया। मौके पर झारखंड प्रदेश केशरवानी वैश्य सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रो. प्रेम प्रसाद केशरी ने गोत्र गुरु कश्यप मुनि की उत्पत्ति से लेकर उनके जीवनी के बारे में विस्तृत जानकारी दी।

इन्होंने कहा कि गोत्राचार्य कश्यप ऋषि के आशीर्वाद से ही केशरवनियों का सर्वागिण विकास हो रहा है एवं होता रहेगा। महर्षि कश्यप की प्रत्येक घर में पूजा अर्चना होनी चाहिए।

पाकुड़ : वन कर्मियों ने पौधा लगाकर करम महोत्‍सव मनाया

संरक्षक हरिओम लाल केशरी, बजरंग केशरी,रमेश केशरी दुर्गा केशरी ,राधा कृष्ण प्रसाद केशरी ने भी अपने विचार रखे। इस अवसर पर प्रदेश महिला सभा की मंजू केशरी ने भी अपना विचार रखा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

लोहरदगा : करमा पूजा धूमधाम से संपन्‍न, सुखदेव भगत ने...

more-story-image

रांची : 11 लाख शेष बचे परिवारों को भी स्वास्थ्य...