आरबीआई ने किया खुलासा- नोटबंदी में जमा नहीं हुए 1000 के 8.9 करोड़ नोट, पी चिदंबरम ने बताया शर्मनाक

NewsCode | 30 August, 2017 7:28 PM
newscode-image

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने बुधवार को अपनी सालाना रिपोर्ट में खुलासा किया कि 8 नवंबर को नोटबंदी के ऐलान के बाद बैंकों के पास 1000 रुपये की 8 करोड़ 90 लाख यानि 1.3 फीसदी प्रतिबंधित नोट अब तक वापस नहीं आए।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को देश में नोटबंदी का ऐलान करते हुए सर्वाधिक प्रचलित 500 और 1000 रुपये की करेंसी को प्रतिबंधित कर दिया था। इसके बाद केन्द्रीय बैंक ने पहले 2000 रुपये की नई करेंसी का संचार शुरू किया और कुछ दिनों बाद नई सीरीज की 500 रुपये की करेंसी का संचार शुरु किया।

नोटबंदी के बाद नोट प्रिंटिंग की लागत में हुआ इज़ाफा
रिपोर्ट के मुताबिक नोटबंदी के बाद नोट की प्रिंटिंग की लागत में बड़ा इजाफा हुआ है। जहां वित्त वर्ष 2016 में रिजर्व बैंक को करेंसी छापने के लिए 3,421 करोड़ रुपये खर्च किए थे वहीं नोटबंदी के बाद वित्त वर्ष 2017 में यह खर्च बढ़कर 7,965 करोड़ रुपये हो गया।
क्या कहती है आरबीआई की रिपोर्ट?

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने इसे शर्मनाक बताया
आरबीआई के इस आंकड़े पर कांग्रेस ने हमला बोला है। कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने इसे आरबीआई के लिए शर्मनाक बताया। पी चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा कि नोटबंदी के बाद 15,44,000 करोड़ के नोटों में से केवल 16000 करोड़ नोट नहीं लौटे। यह एक फीसदी है। नोटबंदी की सिफारिश करने वाले आरबीआई के लिए यह शर्मनाक है।

Rs 16000 cr out of demonetised notes of Rs 1544,000 cr did not come back to RBI. That is 1%. Shame on RBI which ‘recommended’ demonetisation

— P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) August 30, 2017

पांच जिलों में पाईप लाइन गैस आपूर्ति की आधारशिला

NewsCode Jharkhand | 22 November, 2018 3:55 PM
newscode-image

रांची/नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार को नई दिल्ली से झारखंड के पांच जिले समेत देश के एक सौउनतीस जिलों में नगर गैस वितरण परियोजना की आधारशिला रखेंगे। इससे देश के छब्बीस राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों की लगभग आधी आबादी को सुविधाजनक, पर्यावरण अनुकूल और सस्ती प्राकृतिक गैस उपलब्ध हो पाएगी।

परियोजना में झारखंड के बोकारो, हजारीबाग, रामगढ़, धनबाद और गिरिडीह जिले भी शामिल हैं। इन शहरों मे घरेलू, औद्योगिक और व्यवसायिक परिसरों में गैस की आपूर्ति के लिए पाइपलाइनों का नेटवर्क तैयार किया जायेगा।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी आज नई दिल्‍ली से देश के 129 जिलों में नगर गैस वितरण परियोजना की आधारशिला रखेंगे। इससे देश के छब्‍बीस राज्‍यों और केन्‍द्रशासित प्रदेशों की लगभग आधी आबादी को सुविधाजनक, पर्यावरण अनुकूल और सस्‍ती प्राकृतिक गैस उपलब्‍ध हो पाएगी।

इस दौरान प्रधानमंत्री चौदह राज्‍यों के 124 जिलों में दसवें नगर गैस बिडिंग दौर का भी शुभारंभ करेंगे। नगर गैस वितरण परियोजना का उद्देश्य देश के नागरिकों को सुविधाजनक, पर्यावरण अनुकूल और सस्‍ती प्राकृतिक गैस उपलब्‍ध कराना है।

नगर गैस वितरण सीजीडी के माध्‍यम से निर्बाध प्राकृतिक गैस आपूर्ति सुनिश्चित होगी तथा वाणिज्‍य को भी इससे लाभ मिलेगा। इस साल सितम्‍बर माह तक देश के 96 शहरों में सीजीडी की सुविधा दी जा चुकी है। 46 लाख पांच हजार घर और 32 लाख सीएनजी वाहन सीजीडी से स्‍वच्‍छ ईंधन प्राप्‍त कर रहे हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने