विश्रामपुर के कोड़िया गांव से दो माओवादी समर्थक गिरफ्तार

NewsCode | 22 July, 2017 8:13 PM

विश्रामपुर के कोड़िया गांव से दो माओवादी समर्थक गिरफ्तार

पलामू। विश्रामपुर थाना क्षेत्र के कोड़िया गांव से पुलिस ने दो माओवादी समर्थकों रामप्रवेश यादव और शिव कुमार पासवान को गिरफ़्तार किया है। दोनों पर माओवादी को समर्थन करने के साथ-साथ संरक्षण व लाभ पहुंचाने का आरोप है। जानकारी के अनुसार पलामू एसपी इंद्रजीत महथा व डीएसपी मुख्यालय हीरालाल रवि को लगातार इनके चहल कदमी की शिकायतें मिल रही थी। जिसके आलोक में पुलिस इन पर नजर लगाये हुई थी।

शनिवार को सूचना के आलोक में पलामू एचपी इंद्रजीत महथा के निर्देश पर छापेमारी की गई। जिसमें दोनों को उनके घर से ही गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस इन्हें गिरफ्तार कर मेदनीनगर जेल भेज दिया है।

जानकारी हो कि यह दोनों कई कांडों के वारंटी भी थे। जो लंबे समय से फरार चल रहे थे। कुमार ने बताया कि यह क्षेत्र के लिये एक बड़ी उपलब्धि है। इन दोनों की संलिप्तता की शिकायतें सदैव मिलती रही थी। क्षेत्र से लगातार समर्थकों व इनकी गिरफ्तारी से माओवादियों की क्षेत्र में पैठ कमजोर हो गई है।

रांची : कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पहुंचे रांची

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 8:00 PM

रांची : कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पहुंचे रांची

सभी जिलों में घूम कर ओबीसी की स्थिती का लेंगे जायजा

रांची। कांग्रेस के ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ताम्रध्वज साहू बुधवार को रांची पहुंचे। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रेस वार्ता में उन्‍होंने बताया कि वह राहुल गांधी के निर्देश पर पूरे देश में घूम कर ओबीसी की क्‍या हालत है। इसका पता लगा रहे हैं।

कांग्रेस पार्टी से उनकी क्या आशा है। वे कांग्रेस से किस प्रकार जुड़े। उनकी भागीदारी पार्टी में किस प्रकार हो। इस पर विचार विमर्श होगा। श्री साहू ने पत्रकारों को बताया कि झारखंड में ओबीसी की संख्‍या कितनी है और किस-किस क्षेत्र मे है। इसकी पूरी जानकारी लेने के बाद उन्‍हें पार्टी से कैसे जोड़ा जाए इस पर विचार किया जाएगा।

रांची : पीएम झारखंड को 25 मई को 28 हजार करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात

वह राज्‍य के सभी जिलों में जाएंगे। पूरी रिपोर्ट तैयार कर लेने के बाद पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुज गांधी को इससे अवगत कराया जाएगा।

पत्रकार वार्ता में आलोक दूबे, अभिलाष साहू सहित अन्‍य लोग उपस्थित थें।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

बेंगाबाद : कीटनाशक खाने से महिला गंभीर, पति-पत्नी के बीच हुआ था विवाद

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 7:12 PM

बेंगाबाद : कीटनाशक खाने से महिला गंभीर, पति-पत्नी के बीच हुआ था विवाद

बेंगाबाद (गिरिडीह)। पति-पत्नी के बीच हुए विवाद के बाद एक महिला ने कीटनाशक खा कर आत्महत्या करने प्रयास किया है। गंभीर अवस्था में महिला को इलाज के लिए बेंगाबाद स्थित एक निजी क्लीनिक में भर्ती कराया गया है। मामला गांडेय थाना क्षेत्र के बुधुडीह गांव का है।

बताया गया कि बुधवार की दोपहर दोनों दंपति में किसी बात को लेकर नोंक-झोंक हो गयी, जिसके बाद पत्नी ने गुस्से में आकर घर में रखा कीटनाशक खा लिया। मामले की जानकारी घरवालों को मिलते ही परिजनों ने तत्परता दिखाते हुए महिला को फौरन बेंगाबाद लेकर पहुंचे और उसे एक निजी क्लीनिक में भर्ती कराया, जहां उसका इलाज चल रहा है।

बेंगाबाद : विवाहिता की मौत के बाद दहेज हत्या का मामला दर्ज, हत्‍या की आशंका

हालांकि परिजन घटना को लेकर कोई जानकारी नहीं होने की बात बता रहे हैं। इनका कहना है कि दोनों पति-पत्नी में ही आपसी विवाद हुआ था, जिसके बाद गुस्से में महिला ने ऐसा कदम उठाया है। फिलहाल मामले की सूचना थाना को भी नहीं दी गयी है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

जमशेदपुर : गरीबी के आगे बौनी पड़ी बाधा, बेटी को बनाया टीचर और बेटा इंजीनियर

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 7:07 PM

जमशेदपुर : गरीबी के आगे बौनी पड़ी बाधा, बेटी को बनाया टीचर और बेटा इंजीनियर

सड़क पर लगाते है ठेला

जमशेदपुर। कहते है मेहनत से सभी कुछ पाया जा सकता है। मेहनत करनेवालों की कभी हार नहीं होती। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है जमशेदपुर के कदमा राम नगर निवासी दिलीप साहू।

दिलीप अपने गरीबी को बाधक न बनने देते हुए अपने बच्चों को इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करवाई है। जबकि वह पेशे से ठेला में फल बेचा करते  है। कड़ी मेहनत कर अपनी बेटी को शिक्षिका और बेटे को दिल्ली में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करवा रहे है।

न्‍यूनतम कमाई होने के कारण किसी तरह से परिवार का गुजारा होता है लेकिन बच्‍चों की पढ़ाई में दिलीप ने कोई कमी नहीं किया।

गोड्डा : बुजुर्ग ने सुनायी बेबसी, कहां है सरकारी योजनाओं का लाभ?

दिलीप बताते है कि पहले ठेला पर फेरी कर वे अपनी दुकानदारी करते थे, लेकिन अब वे ई-रिक्शा में अपनी दुकानदारी करते है। पूरे परिवार को भरन पोषण कर रहे है।

कई बार दुकानदारी करने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और शहर के किसी भी स्थान पर ठेला लगाने पर पुलिसवालों को जुर्माना देना पड़ता है।

जिससे उनकी कमाई नहीं हो पाती थी। इन्‍होंने अपने बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए हर संभव कोशिश करते है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने