मासूमों की चीख और आत्मा की कराह का नाम है ‘पा लो ना’

NewsCode | 11 December, 2016 5:46 AM

मासूमों की चीख और आत्मा की कराह का नाम है ‘पा लो ना’

रांची: भ्रूण हत्या और नवजात बच्चों की हत्या झारखण्ड की ही नहीं बल्कि देश की सबसे बड़ी समस्यों में से एक समस्या और ज्वलंत मुद्दा है। भ्रूण हत्या, नवजात बच्चों को जन्म के बाद भगवान भरोसे छोड़ देना, नवजात को नालियों और झाड़ियों में फेंक देने की मानसिकता आज भी नहीं बदली है। क्या बीतता होगा वैसे मासूमों पर जिसे दुनिया देखने से पहले हीं आखें बंद कर दी जाती हैं और जो अपनी किस्मत से धरती पर आ तो जाता है पर मां-बाप के रहते अनाथ कहलाते हैं। अगर वैसे लोग मिलें तो एक सवाल जरुर किया जा सकता है कि ऐसा करते वक्त उनके दिमाग में कौन सी बात चल रही होती है। ऐसे में इस हालात से निजात दिलाने के लिए साकारात्मक उद्देश्य के साथ रांची के आड्रे हाउस में तस्वीरों के माध्यम से दो दिवसीय चित्र प्रदर्शनी आयोजन किया गया है। इस मौके पर राज्य के ख्याति प्राप्त चित्रकारों ने अपनी कुचियों से उन नवजात के दर्द को उकेरने की कोशिश की है। वहीं सच्ची तस्वीरों के माध्यम से राज्य सहित पुरे देश को इस टूटते रिश्तों के दर्द को परिचित कराने और उसके समाधान को ढूंढने की शानदार कोशिश की गयी है।

ये तस्वीरें रुला देती हैं, ये तस्वीरें झकझोर देती हैं, आंखे भर आती हैं, अपने मानव होने के गर्व को शर्मशार कर देती हैं। 11 दिसंबर तक चलनेवाली प्रदर्शनी नवजात बच्चों को बचाने की कोशिशों पर आधारित ‘पा लो ना’ की ही तो हम बात कर रहे हैं जो कि सामाजिक कुरीतियों और संकीर्ण सोच पर एक तमाचा है। ममता का गला घोंटने के साथ-साथ बच्चों के हर उस दर्द को पिरोने की नायाब कोशिश किया है झारखण्ड के प्रख्यात चित्रकारों ने। आश्रयणी मीडिया की मुहिम, एस्पोवा और ज़िला कल्याण के सहयोग से आड्रे हाउस के कला दीर्घा में जागरूकता फैलाने के मकसद से चित्र प्रदर्शनी का आयोजन किया गया है, जिसका उद्घाटन संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय, उपायुक्त मनोज कुमार, बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष आरती कुजूर और एस्पोवा की अध्यक्षा पूनम पाण्डेय ने संयुक्त रूप से किया।

11 दिसंबर को झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ने भी आड्रे हाउस की ओर रुख किया और पहुंचे प्रदर्शनी को देखने के लिए। उन्होंने संवेदना जताते हुए कहा कि यह बहुत ही संवेदनशील मामला है और इसकी जागरुकता के लिए यह एक बेहतर कदम है। साथ ही उन्होंने गहन चिंतन और अपनी कला को उभारकर सामने लाने वाले चित्रकारों को अपनी कला के माध्यम से समाज में फैली हुई इस मानसिकता को दूर करने का प्रयास किया है मुंडा ने धन्यवाद दिया। इस मानसिकता से लड़ने के लिए सभी को साथ मिलकर काम करने पर बल दिया।

सिमडेगा : राज्य के 247 जनजाति गांव में सोलर लाइट से पहुंची बिजली- रघुवर दास

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 4:09 PM

सिमडेगा : राज्य के 247 जनजाति गांव में सोलर लाइट से पहुंची बिजली- रघुवर दास

सिमडेगा। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि राज्य के 247 जनजाति गांव में सोलर लाइट के माध्यम से बिजली पहुंचाई गई है। मुख्यमंत्री आज सिमडेगा के विद्युत ग्रिड का उद्घाटन करने आए थे। सीएम ने विधिवत पूजा अर्चना कर व फीता काटकर 132 केवीए विद्युत ग्रिड का उद्घाटन किया।

इस अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा की राज्य में 15 लाख लोग बिजली का बिल नहीं देते हैं। सभी ईमानदारीपूर्वक बिजली का कनेक्शन ले और बिजली बिल का भुगतान करें।

श्री दास ने कहा की 2018 तक झारखंड के सभी गांव के घर घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। उज्ज्वला योजना के माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा गैस एवं राज्य सरकार द्वारा मुफ्त में चूल्हा का वितरण किया जा रहा है। हमारी सरकार ने महिलाओं पर विशेष ध्यान दिया है। महिला विकास के लिए सरकार विशेष तौर पर काम कर रही है।

रांची : कोल इंडिया बोर्ड के अधिकारियों की वेतन पुनरीक्षण प्रस्‍ताव को मिली मंजूरी

झारखंड एक समृद्ध राज्य है और समृद्ध राज के गोद में पल रही गरीबी को अब समाप्‍त करना है। अब गांव-गांव में बिजली जाएगी। शहर की तरह गांव भी रोशन होगा। गांव में बिजली होगी तो शिक्षा का स्तर बढ़ेगा, छोटे-छोटे कल-कारखाने लगेंगे। इससे गांव में रोजगार का सृजन होगा। गांव में लोगों को रोजगार मिलेगा तो पलायन पर भी अंकुश लगेगा।

 

श्री दास ने कहा कि पहले केंद्र और राज्य से पैसा गांव में जाता था किंतु बीच में ही पैसों का बंदरबांट हो जाता था। अब ऐसा नहीं होगा। सरकार सीधे ग्राम विकास समिति के खाते में पैसा डालेगी

मुख्यमंत्री ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि 80% राशि सरकार द्वारा गांव के विकास के लिए दी जाएगी 20% राशि के बदले गांव के लोग श्रमदान करेंगे। इससे गांव का चहुमुखी विकास होगा। कार्यक्रम में विधायक विमला प्रधान सहित काफी संख्‍या में स्‍थानिय लोग उपस्थित थे।

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:56 PM

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

फिल्ट्रेशन से शिवगंगा का पानी 70 फीसदी हुआ साफ

देवघर। देवघर देव की  नगरिया है और यहां सालों भर आस्था का संगम देखने को मिलता है। देवघर का पवित्र शिवगंगा आस्था का केंद्र के साथ-साथ लोगों के जल का मुख्य स्रोत भी है। भक्त यहीं स्नान कर बाबा भोले को जल चढ़ाने के लिए जाते हैं, लेकिन रखरखाव और पानी को शुद्ध करने में प्रशासन नाकाम रहे। जिसके वजह से यहां का पानी दूषित हो गया। कुछ ही सालों में यहां का जल अशुद्ध हो गया, साथ ही पानी में कई तरह के कीटाणु भी पनपने लगे हैं।

रघुवर सरकार ने सबसे पहले शिवगंगा को शुद्ध करने के लिए फिल्ट्रेशन प्लांट को मंजूरी दी और अब यह फिल्ट्रेशन प्लांट काम भी करने लगा है। पिछले 6 महीनों से यह फिल्ट्रेशन प्लांट दिन-रात पानी को शुद्ध करने में लगा है और आज हालात ऐसे हैं कि शिवगंगा का 70 फीसदी जल शुद्ध हो चुका है।

आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे श्रद्धालु

अधिकारी बताते हैं कि सावन आते-आते शिवगंगा का पानी 90 फीसदी से ज्यादा शुद्ध हो जाएगा। इस बार के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे। इतना ही  जानकार बताते हैं कि अगर इसी गति से पानी शुद्ध होता रहा तो सरोवर का जल पीने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

बाबा भोलेनाथ की नगरी जहां पर सुल्तानगंज से जल लेकर श्रद्धालु बाबा भोले के शिवलिंग पर जल अर्पण करते हैं। जो भक्त सुल्तानगंज से नहीं आते वह इसी पवित्र शिवगंगा में डुबकी लगाकर यहां का जल बाबा भोले को चढ़ाते हैं, लेकिन रखरखाव और सही नीति नहीं रहने के कारण जल दूषित हो गया।

छह महीनों से जल की हो रही सफाई

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

 

आगामी श्रावणी मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी है। इस बार सरोवर में स्वच्छ जल से स्नान कर सकेंगे। नगर आयुक्त संजय कुमार सिंह ने बताया कि पिछले 6 महीनों से लगातार शिवगंगा के जल को साफ करने की प्रक्रिया जारी है। फिल्ट्रेशन प्लांट 24 घंटे काम कर रहा है और 70 फीसदी से ज्यादा पानी साफ हो चुका है और उम्मीद जताई जा रही है कि 2018 के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु स्वच्छ जल में आस्था की डुबकी लगाएंगे।

देवघर : सरदार पंडा के गद्दी पर आसीन होंगे गुलाबनंद ओझा

पहले से काफी बदलाव आया : स्‍थानीय

देवघर के स्थानीय लोग भी मानते हैं कि पहले और अभी की स्थिति में काफी बदलाव आया है। पहले इसका जल शुद्ध नहीं था और लोग इसमें स्नान करने से कतराते थे। साथ ही इसका जल बदबू भी देने लगा था जिससे कई तरह के चर्म रोग होने लगे थे। फिल्ट्रेशन प्लांट के काम करने के बाद अब जल के स्तर और इसकी शुद्धता में काफी परिवर्तन आया है और अब भक्त इसमें निसंकोच स्नान कर सकते हैं।

वहीं फिल्ट्रेशन प्लांट में काम कर रहे कर्मी का कहना है कि 70 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो चुका है और सावन के मेले के समय 90 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो जाएगा। शिवगंगा का जल शुद्ध करने में 8 कर्मचारी दिन रात लगे हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

गोमिया : देश व झारखंड के गरीबों को बर्बाद कर देगी बीजेपी- बाबूलाल मरांडी

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:52 PM

गोमिया : देश व झारखंड के गरीबों को बर्बाद कर देगी बीजेपी- बाबूलाल मरांडी

गोमिया(बोकारो)। विधानसभा उपचुनाव में सभी पार्टियां अपनी जोर आजमाईश में जुटी है। वहीं जेएमएम उम्मीदवार के पक्ष में चुनाव प्रचार करने पहुंचे जेवीएम सुप्रीमो सह झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने गरीबों को बचाने के लिये बीजेपी को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुये उन्होंने कहा कि बीजेपी प्रदेश के साथ-साथ देश को बर्बाद कर देगी और गरीबों को उजाड़ देगी। बीजेपी के शासन काल में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा। बाबूलाल ने बताया कि विकास का मतलब सिर्फ बिजली, सड़क नहीं, गरीबों को भरपेट भोजन मिलना चाहिये।

 बीजेपी पर आरोप लगाते हुये उन्होंने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री ने वर्ष 2016 में 11 हजार विधवा महिलाओं को आवास देने की घोषणा की थी लेकिन सिर्फ 69 ही आवास बनकर तैयार हुआ, बाकी बना ही नहीं। यही नहीं योजना भी स्वीकृत नहीं है।

 तेनुघाट : बीजेपी सरकार से जनता त्रस्‍त है, निजात पाना चाहती है- विधायक

25 मई को प्रधानंत्री के दौरे पर बाबूलाल ने चुटकी ली और जनता की ओर इशारा करते हुये उन्हें (पीएम को) याद दिलाने की बात कही कि एक साल पहले साहेबगंज में गंगा पुल का शिलान्यास किया गया था जो अब तक बनकर तैयार नहीं है, उसका क्या? प्रधानमंत्री को बाबूलाल ने झूठा करार देते हुये कहा कि जनता उनके झूठ को कितना झेलेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने